भास्कर एक्सप्लेनर:कोरोना के ताजा मामलों ने तोड़ा दोनों लहरों का रिकॉर्ड; एक दिन में 44.6% केस बढ़े, पिछला रिकॉर्ड 35.7% था

एक वर्ष पहलेलेखक: अभिषेक पाण्डेय

देश में कोरोना की तेज रफ्तार फिर से डराने लगी है। पिछले दो दिनों में ही भारत में कोरोना के डेली केसेज दोगुने से भी अधिक हो गए हैं। 30 दिसंबर को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले 24 घंटे में देश में कोरोना के 13,154 नए केस आए हैं, जो दो दिन पहले आए 6358 केसेज की तुलना में दोगुने से भी ज्यादा हैं। इस दौरान देश में ओमिक्रॉन के मामले भी 950 से अधिक हो गए हैं और ये नया वैरिएंट देश के 22 राज्यों/यूटी में पहुंच चुका है। उधर दो बड़े महानगरों दिल्ली और मुंबई में भी कोरोना केसेज नए रिकॉर्ड बना रहे हैं।

चलिए जानते हैं कि देश में कोरोना के बढ़ने की रफ्तार डरावनी क्यों है? क्यों पहली दो लहरों से भी ज्यादा बड़ी लहर आने का खतरा है? ओमिक्रॉन किस रफ्तार से बढ़ रहा है?

भारत में पहली दो लहरों से भी तेज रफ्तार से बढ़ रहे केस

देश में पिछले दो दिनों में कोरोना केस बढ़ने की रफ्तार ने पिछली दोनों लहरों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। केवल दो दिन (28, 29 दिसंबर) में ही बहुत तेजी से देश में डेली कोरोना केस दोगुने हो गए हैं।

  • ये पहली बार है, जब देश में लगातार दो दिनों तक डेली कोरोना केसेज 40-40% की दर से बढ़े हैं।
  • स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, भारत में 27 दिसंबर को 6358 कोरोना केस सामने आए थे, एक दिन बाद ही 28 दिसंबर को देश में 9195 मामले सामने आए, जो एक दिन पहले से करीब 45% ज्यादा है।
  • 29 दिसंबर को देश के डेली कोरोना केसेज में फिर उछाल देखने को मिला और ये बढ़कर 13,154 हो गए, जो पिछले दिन के केस से करीब 43% ज्यादा हैं।
  • अगर दो दिन में नए डेली कोरोना केसेज बढ़ने की रफ्तार की बात करें तो 28 दिसंबर और 29 दिसंबर को डेली केस क्रमश: 45% और 43% की दर से बढ़े।
  • ये 2020 में देश में कोरोना महामारी की शुरुआत के बाद से किसी दो दिन में सबसे तेजी से कोरोना केस बढ़ने का रिकॉर्ड है।
  • इससे पहले दूसरी लहर के दौरान 31 मार्च 2021 (72,144) और 1 अप्रैल 2021 (81,444 केस) को डेली केसेज क्रमश: 35% और 13.5% की रफ्तार से बढ़े थे।
  • 29 दिसंबर को आए 13,154 नए केस पिछले सात हफ्तों में सर्वाधिक डेली केस हैं, इससे पहले 11 नवंबर को 13,091 केस सामने आए थे।

भारत में 29 दिसंबर को सामने आए 13,154 नए कोरोना केसेज के साथ देश में कोरोना के कुल मामले बढ़कर 3 करोड़ 48 लाख 22 हजार 40 हो गए। पिछले 24 घंटे में 268 नई मौतों के साथ इस वायरस से अब तक कुल मौत का आंकड़ा 4 लाख 80 हजार 860 हो गया। देश में अब कोरोना के कुल एक्टिव केस 82 हजार 402 हो गए हैं।

दिल्ली और मुंबई में डराने लगी कोरोना की रफ्तार

देश के दो बड़े महानगरों राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और आर्थिक राजधानी मुंबई में कोरोना केस नए रिकॉर्ड बना रहे हैं। इन दोनों शहरों में नया वैरिएंट ओमिक्रॉन तेजी से फैल रहा है।

  • दिल्ली में मंगलवार के 496 केस बुधवार को लगभग दोगुने होकर 923 हो गए, जो 30 मई (946 केस) के बाद से दिल्ली में एक दिन के सर्वाधिक केस हैं।
  • इससे दिल्ली का पॉजिटिविटी रेट बढ़कर 1.29% हो गया। साथ ही दिल्ली के कुल कोविड केस भी बढ़कर 14 लाख 45 हजार 102 हो गए। दिल्ली में अब तक कोरोना से 25,107 लोगों की मौत हुई है।
  • महाराष्ट्र और इसकी राजधानी मुंबई में भी कोरोना केस तेजी से बढ़ रहे हैं। मुंबई में बुधवार को 2510 नए केस सामने आए, जो पिछले कई महीनों के दौरान किसी भी भारतीय शहर में आए सर्वाधिक केस हैं।
  • मुंबई में 20 दिसंबर को 283 केस सामने आए थे, जो 10 दिन के अंदर ही 80% बढ़कर बुधवार को 2510 हो गए। इससे पहले 8 मई 2021 को मुंबई में 2678 केस आए थे।
  • मंगलवार को मुंबई में 1377 केस सामने आए थे। मुंबई में कोरोना के कुल एक्टिव केस 8060 हो गए हैं।

देश के कई राज्यों में बढ़ रहे हैं कोरोना केसेज

दिल्ली और मुंबई ही नहीं बल्कि देश के अन्य राज्यों में भी नए कोरोना केस तेजी से बढ़ रहे हैं।

  • महाराष्ट्र में मंगलवार के 2172 की तुलना में बुधवार को देश में सर्वाधिक 3900 नए केस सामने आए।
  • केरल में भी एक दिन पहले के 2474 की तुलना में बुधवार को 2846 नए केस सामने आए। पश्चिम बंगाल में मंगलवार के 752 की तुलना में बुधवार को 1089 केस सामने आए।
  • वहीं, कर्नाटक में मंगलवार के 356 की तुलना में बुधवार को 566 नए केस, गुजरात में 394 की तुलना में 548 नए केस दर्ज किए गए।
  • झारखंड में 155 की तुलना में बुधवार को 344 केस दर्ज हुए जबकि हरियाणा के नए डेली केस भी 126 से बढ़कर 24 घंटे में ही 217 हो गए।

ओमिक्रॉन बढ़ा रहा है देश की टेंशन

देश में कोरोना का नया वैरिएंट ओमिक्रॉन का पहला केस 2 दिसंबर को कर्नाटक में सामने आया था। एक महीने से भी कम समय में ही ओमिक्रॉन देश के 22 राज्यों/यूटी में दस्तक दे चुका है। देश में ओमिक्रॉन संक्रमण के कुल मामलों के 50% से अधिक दिल्ली और महाराष्ट्र में हैं।

देश में ओमिक्रॉन के मामले बढ़कर 961 हो गए हैं। इनमें से दिल्ली में सर्वाधिक 263 केस जबकि महाराष्ट्र में 252 मामले हैं।

ओमिक्रॉन से सर्वाधिक प्रभावित अन्य राज्यों में गुजरात (97), राजस्थान (69), केरल (65), तेलंगाना (62), तमिलनाडु (45), कर्नाटक (34), आंध्र प्रदेश (16) और हरियाणा (12) शामिल हैं।

दिल्ली में बढ़ते कोरोना केसेज के पीछे कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन को जिम्मेदार माना जा रहा है। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन के मुताबिक, दिल्ली के नए कोरोना केसेज में से 46% मामले ओमिक्रॉन के हैं।

देश में कोरोना की सुनामी का खतरा?

अप्रैल-मई 2021 में देश में डेल्टा वैरिएंट की वजह से दूसरी लहर आई थी और डेली कोरोना केसेज 4 लाख का आंकड़ा पार कर गए थे। आईआईटी कानपुर की एक स्टडी के मुताबिक, ओमिक्रॉन वैरिएंट से भारत में जनवरी-फरवरी में तीसरी लहर आने की आशंका है।

हाल ही में नीति आयोग ने चेतावनी दी थी कि ब्रिटेन और फ्रांस जितना ओमिक्रॉन फैलने पर भारत में डेली कोविड केसेज 13-14 लाख तक जा सकते हैं। पिछले दो दिन में जिस तेजी से कोरोना रफ्तार बढ़ी है, उससे ये आशंका सच साबित होती दिख रही है।

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) ने भी दुनिया को ओमिक्रॉन की वजह से कोरोना सुनामी आने की चेतावनी दी है। अगर ये आशंका भारत के मामले में सही साबित हुई तो देश के लिए चिंता बढ़ाने वाली बात हो सकती है।

भारत में अभी वयस्क आबादी के 61 फीसदी को ही वैक्सीन की दोनों डोज लगी हैं, ऐसे में देश की एक बड़ी आबादी पर ओमिक्रॉन का खतरा मंडरा रहा है।