भास्कर एक्सप्लेनर:बच्चों का वैक्सीनेशन, 60+ की प्रिकॉशन डोज: किसे लगेगी, कैसे करें बुकिंग? जानिए हर जरूरी बात

एक वर्ष पहलेलेखक: अभिषेक पाण्डेय

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को देश में कोरोना की प्रिकॉशन डोज और 15-18 साल के बच्चों के कोरोना वैक्सीनेशन के लिए गाइडलाइन जारी कर दी। इन दोनों वैक्सीनेशन की घोषणा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 25 दिसंबर को की थी। 15-18 साल के बच्चों का वैक्सीनेशन अगले साल 3 जनवरी से और प्रिकॉशन डोज की शुरुआत 10 जनवरी से होनी है।

चलिए जानते हैं कि प्रिकॉशन डोज और 15-18 साल के बच्चों के वैक्सीनेशन के लिए जारी हुई है कौन सी गाइडलाइन? कहां, कब और कैसे कर सकते हैं प्रिकॉशन डोज और 15-18 साल के बच्चों के लिए वैक्सीन की बुकिंग?

किस उम्र के बच्चे हैं कोरोना वैक्सीन के लिए एलिजिबल?

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, वे सभी बच्चे जो 15 साल से ज्यादा उम्र के हैं वे वैक्सीनेशन के लिए एलिजिबल हैं। दूसरे शब्दों में कहें तो 2007 या उसके पहले जन्म लेने वाले बच्चे 15-18 साल के वैक्सीनेशन के लिए एलिजिबल होंगे।

15-18 साल के बच्चों को लगनी है कौन सी वैक्सीन?

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, 15-18 साल की उम्र के बच्चों को केवल भारत बायोटेक की कोवैक्सीन ही लगाई जाएगी।

15-18 साल के बच्चे कैसे कर सकते हैं वैक्सीन की बुकिंग?

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि बच्चों के वैक्सीन की बुकिंग कोविन (Co-WIN) प्लेटफॉर्म के जरिए होगी। इसमें लाभार्थी कोविन पर अपने पहले से मौजूद अकाउंट के जरिए वैक्सीन के लिए खुद को रजिस्टर कर सकते हैं।

साथ ही एक यूनीक मोबाइल नंबर के जरिए कोविन पर एक नया अकाउंट बनाकर भी लाभार्थी खुद को सेल्फ-रजिस्टर कर सकते हैं।

बच्चे अपने पेरेंट्स के कोविन अकाउंट का इस्तेमाल करके वैक्सीन के लिए स्लॉट बुक कर सकते हैं।

कोविन प्लेट के चीफ डॉ.आरएस शर्मा के अनुसार, ‘’वैक्सीन स्लॉट बुकिंग के लिए बच्चों को आधार और अन्य आइडेंटिटी प्रूफ के अलावा 10वीं के ID कार्ड के भी इस्तेमाल की अनुमति होगी।’’

15-18 साल के बच्चे कब से कर सकते हैं वैक्सीन बुकिंग?

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, बच्चे 1 जनवरी 2022 से कोविन के जरिए वैक्सीन स्लॉट की बुकिंग कर सकते हैं। देश में इस उम्र के बच्चों के वैक्सीनेशन की शुरुआत 3 जनवरी 2022 से होने जा रही है।

बच्चों के लिए कोविन के अलावा कैसे बुक कर सकते हैं वैक्सीन स्लॉट?

सरकार की गाइडलाइन के मुताबिक, 15-18 साल के बच्चों के लिए कोविन के अलावा वेरिफायर/वैक्सीनेटर के जरिए ऑन-साइट भी वैक्सीन स्लॉट की बुकिंग की जा सकती है।

क्या बच्चों के लिए मुफ्त है वैक्सीनेशन?

15-18 साल के सभी बच्चों का वैक्सीनेशन सरकारी वैक्सीन केंद्रों पर मुफ्त होगा। हालांकि, प्राइवेट हॉस्पिटल या निजी वैक्सीन केंद्रों पर जाने वालों को आवश्यक फीस का भुगतान करना होगा।

15-18 साल के बच्चों के वैक्सीनेशन बुकिंग की पूरी प्रक्रिया

  • सबसे पहले आरोग्य सेतु ऐप या Cowin.gov.in वेबसाइट पर जाएं।
  • अगर आप कोविन (CoWIN) पर रजिस्टर्ड नहीं हैं तो पहले रजिस्टर का विकल्प चुनें।
  • फिर रजिस्ट्रेशन पेज दिखाई देगा। आपको उस पर फोटो, ID टाइप, नंबर और अपना पूरा नाम दर्ज करना होगा। (यहां आप 10वीं का ID कार्ड सेलेक्ट कर सकते हैं)। साथ ही, यहां बच्चे का लिंग और आयु दर्ज करें।
  • एक बार पंजीकरण पूरा हो जाने के बाद, आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक कंफर्मेशन संदेश आएगा।
  • मेंबर के रजिस्टर्ड होने के बाद आप अपने एरिया का पिन कोड डालें। इससे वैक्सीनेशन सेंटर की लिस्ट आ जाएगी।
  • अब डेट, टाइम के साथ अपना वैक्सीन स्लॉट बुक करें और सेंटर पर जाकर वैक्सीनेशन कराएं।
  • वैक्सीनेशन सेंटर पर आपको अपना आइडेंटिटी प्रूफ और सीक्रेट कोड की जानकारी देनी होगी। जो आपको रजिस्ट्रेशन करने पर मिलती है।
  • अगर आप पहले से कोविन (CoWIN) पर रजिस्टर्ड हैं, तो साइन चुनें और अपना रजिर्स्ड मोबाइल नंबर डालें और गेट OTP पर क्लिक करें
  • फिर अपने मोबाइल नंबर पर आए OTP को दर्ज करें और वैरिफाई बटन पर क्लिक करें।
  • अब अपने एरिया का पिन कोड डालें और सेंटर के अनुसार अपना वैक्सीन स्लॉट बुक करें और वैक्सीनेशन कराएं।
  • अगर आप बुकिंग आरोग्य सेतु ऐप से कर रहे हैं, तो CoWIN टैब पर जाएं, और वैक्सीन टैब पर क्लिक करें। इसके बाद आगे बढ़ें पर क्लिक करें और ऊपर बताए गए तरीके से वैक्सीन स्लॉट बुक करें।
  • एक मोबाइल नंबर से अधिकतम चार लोगों का वैक्सीनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन किया जा सकता है।

प्रिकॉशन डोज के लिए जारी हुई है कौन सी गाइडलाइन?

चलिए जानते हैं कि हेल्थ वर्कर्स और 60+ लोगों के प्रिकॉशन डोज या कोरोना वैक्सीन की तीसरी डोज को लेकर जारी गाइडलाइन क्या है?

क्या है प्रिकॉशन डोज और कब से लगाई जाएगी?

केंद्र सरकार ने सोमवार को कोरोना से बचाव के लिए प्रिकॉशन डोज के लिए भी गाइडलाइन जारी कर दी है। देश में प्रिकॉशन डोज की शुरुआत 10 जनवरी 2022 से की जानी है।

प्रिकॉशन डोज के लिए कौन से लोग हैं एलिजिबल?

देश में प्रिकॉशन डोज तीन प्रॉयोरिटी ग्रुप-हेल्थ वर्कर्स, फ्रंटलाइन वर्कर्स और कोमॉर्बिडिटी (कई बीमारियों से ग्रसित) वाले 60 वर्ष से ज्यादा की उम्र के लोगों को दी जानी है।

कब लगवाई जा सकती है प्रिकॉशन डोज?

गाइडलाइन के मुताबिक, प्रिकॉशन डोज कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज लगवाने की तारीख से नौ महीने (39 हफ्ते) बाद ही ली जा सकती है।

क्या सरकार देगी प्रिकॉशन डोज लेने की सूचना?

गाइडलाइन के मुताबिक, जब भी संबंधित व्यक्ति प्रिकॉशन डोज के लिए एलिजिबल हो जाएगा, तो कोविन उसे टेक्स्ट मैसेज भेजकर ये सूचित करेगा कि उसकी तीसरा डोज या प्रिकॉशन डोज लगनी है।

क्या प्रिकॉशन डोज लगवाने के लिए कोई सर्टिफिकेट होगा जरूरी?

प्रिकॉशन डोज 60 साल से अधिक उम्र के केवल उन्हीं लोगों को लगाई जानी है, जो कोमॉर्बिडिटी (एक से अधिक बीमारियों) से पीड़ित हैं। सरकार ने कोमॉर्बिडिटी के तहत आने वाली 22 बीमारियों की लिस्ट जारी की है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने स्पष्ट किया है कि कोमॉर्बिडिटी वाले 60 वर्ष और उससे अधिक उम्र के सभी व्यक्तियों को प्रिकॉशन डोज लेने के लिए डॉक्टर से कोई सर्टिफिकेट देने/प्रस्तुत करने की जरूरत नहीं होगी। हालांकि ऐसे लोगों को प्रिकॉशन डोज लेने से पहले डॉक्टर से सलाह लेने को कहा गया है।

क्या वैक्सीन केंद्रों पर भी बुक हो सकेगी प्रिकॉशन डोज?

हां, प्रिकॉशन डोज लेने के लिए या तो ऑलनाइन स्लॉट बुक किए जा सकते हैं, या फिर वैक्सीन केंद्रों पर भी इसकी बुकिंग की जा सकती है।

यानी, प्रिकॉशन डोज के लिए केवल कोविन (CoWIN) पर ही स्लॉट बुक करना अनिवार्य नहीं है।

हालांकि, प्रिकॉशन डोज लेने वाले व्यक्ति को कोविन के जरिए ही ये डोज देने वाले वैक्सीन केंद्रों की जानकारी मिल पाएगी।

क्या सरकार जारी करेगी प्रिकॉशन डोज के लिए अलग से सर्टिफिकेट?

गाइडलाइन के मुताबिक, प्रिकॉशन डोज या तीसरी डोज लेने के बाद इसकी जानकारी लाभार्थी के वैक्सीन सर्टिफिकेट में दिखने लगेगी।

क्या प्रिकॉशन डोज के लिए देना होगा पैसा?

जी नहीं, सरकार ने कहा है कि प्रिकॉशन डोज सरकारी वैक्सीन केंद्रों पर मुफ्त होगा। हालांकि, प्राइवेट हॉस्पिटल या वैक्सीन केंद्रों पर इसके लिए पैसे देने पड़ेंगे।

सरकार ने कहा है कि सभी नागरिक मुफ्त कोरोना वैक्सीन के हकदार हैं, भले ही उनकी इनकम कितनी भी हो।

साथ ही, सरकार ने लोगों से आग्रह करते हुए कहा है कि जो भुगतान करने में सक्षम हैं, उन्हें प्राइवेट अस्पतालों के वैक्सीन केंद्रों का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।

60+ लोगों के लिए कोमॉर्बिटिडी में शामिल हैं कौन सी बीमारियां

सरकार ने 60+ लोगों के लिए कोमॉर्बिडिटी में शामिल बीमारियों की अलग से लिस्ट जारी नहीं की है, लेकिन कोविन के डॉ. आरएस शर्मा के अनुसार, स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा 45 से 60 की उम्र के लोगों के वैक्सीनेशन के लिए पहले ही जारी हो चुकी कोमॉर्बिटिडी के तहत 20 मेडिकल कंडिशन ही प्रिकॉशन डोज के लिए भी मान्य होंगी।

  • पिछले एक साल में हार्ट फेल्योर की वजह से अस्पताल में भर्ती होने पर
  • पोस्ट कार्डिएक ट्रांसप्लांट/लेफ्ट वेंट्रिकुलर असिस्ट डिवाइस
  • सिग्नफिकेंट लेफ्ट वेंट्रिकुलर सिस्टोलिक डिस्फंक्शन
  • मॉडरेट या सिविर वाल्वुलर हार्ट डिजीज
  • जन्मजात हार्ट डिजीज
  • हाइपरटेंशन/डायबिटीज के इलाज के साथ कोरोनरी आर्टरी रोग
  • ऐन्जाइन और हाइपरटेंशन/डायबिटीज का इलाज जारी हो
  • स्ट्रोक और हाइपरटेंशन का रिकॉर्ड/डायबिटीज का इलाज जारी
  • पल्मोनरी आर्टरी हाइपरटेंशन और हाइपरटेंशन/डायबिटीज का इलाज जारी
  • डायबिटीज (10 वर्ष से ज्यादा या जटिलताओं के साथ) और हाइपरटेंशन/डायबिटीज का इलाज जारी
  • किडनी/लिवर/स्टेम सेल ट्रांसप्लांट हो चुका हो/होने वाला हो
  • किडनी की लास्ट स्टेज बीमारी में डायलिसिस/CAPD पर हों
  • ओरल कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स / इम्यूनोसप्रेसेन्ट दवाओं का लंबे समय से उपयोग कर रहे हों
  • डीकाम्पन्सेटेड सिरोसिस
  • पिछले दो वर्षों में सांस की गंभीर बीमारी की वजह से अस्पताल में भर्ती होने पर
  • लिंफोमा / ल्यूकेमिया / माइलोमा
  • 1 जुलाई 2020 या उसके बाद किसी भी सॉलिड कैंसर की पहचान या वर्तमान में किसी भी कैंसर की थेरेपी पर।
  • सिकल सेल रोग/ बोन मैरो फेल्योर/अप्लास्टिक एनीमिया/ थैलेसीमिया मेजर
  • प्राइमरी इम्यूनोडिफिशिएंसी डिजीज/HIV इंफेक्शन।