• Hindi News
  • Db original
  • Explainer
  • Modi Vs Akhilesh; What Is Cycle Use? Ahmedabad Blast, Narendra Modi, BJP, SP, Akhilesh Yadav, Rocket Launch, Chandra Shekhar Azad

साइकिल सिर्फ धमाकों के लिए नहीं:देश का पहला रॉकेट साइकिल से लॉन्चपैड तक पहुंचा था, चंद्रशेखर आजाद भी करते थे साइकिल की सवारी

एक वर्ष पहलेलेखक: नीरज सिंह

राजनीति में साइकिल फिर चर्चा में है। यह किसी पार्टी का चुनाव चिह्न है, तो कोई इसे बम धमाके करने का जरिया बता रहा है।
बिना इंजन और धुएं वाली दो पहिए की इस सवारी के लिए कहा कुछ भी जाए, लेकिन हमारी तरक्की में इसकी भूमिका को नाकारा नहीं जा सकता।
1963 में केरल के थुंबा से छोड़ा गया देश का पहला रॉकेट टुकड़ों-टुकड़ों में साइकिल पर रखकर ही लॉन्च-पैड तक ले जाया गया था। चंद्रशेखर आजाद जैसे क्रांतिकारी भी साइकिल से ही सवारी किया करते थे।
अंग्रेज 1890 में पहली बार भारत में साइकिल लाए थे। तब तक इसे ईजाद हुए 73 साल हो चुके थे। जर्मन इन्वेंटर कार्ल वॉन द्रेस ने 1817 में दुनिया की पहली साइकिल बनाई थी।
तो आइये साइकिल से जुड़ी निगेटिव चर्चा के बीच भारत में इसके महत्व से जुड़ी बेहद दिलचस्प बातें जानते हैं...

भारत ने पहला रॉकेट 21 नवंबर 1963 को केरल के थुंबा से लॉन्च किया था। इस रॉकेट को अमेरिका से खरीदा गया था। सीमित संसाधन होने के चलते रॉकेट के हिस्सों को टुकड़ों-टुकड़ों साइकिल पर रखकर थुंबा के लॉन्च पैड तक ले जाया गया था।
भारत ने पहला रॉकेट 21 नवंबर 1963 को केरल के थुंबा से लॉन्च किया था। इस रॉकेट को अमेरिका से खरीदा गया था। सीमित संसाधन होने के चलते रॉकेट के हिस्सों को टुकड़ों-टुकड़ों साइकिल पर रखकर थुंबा के लॉन्च पैड तक ले जाया गया था।
चंद्रशेखर आजाद जैसे क्रांतिकारी भी साइकिल की ही सवारी करते थे। 27 फरवरी 1931 को चंद्रशेखर आजाद जब इलाहाबाद के अल्फ्रेड पार्क में शहीद हो गए थे, तो उस दौरान भी वहां साइकिल खड़ी थी।
चंद्रशेखर आजाद जैसे क्रांतिकारी भी साइकिल की ही सवारी करते थे। 27 फरवरी 1931 को चंद्रशेखर आजाद जब इलाहाबाद के अल्फ्रेड पार्क में शहीद हो गए थे, तो उस दौरान भी वहां साइकिल खड़ी थी।
साइकिल राजनीतिक दलों के बीच भी काफी लोकप्रिय रही है। चाहे बात सियासी विरोध की हो या पेट्रोल डीजल के खिलाफ रैली की इसका इस्तेमाल सभी राजनीतिक दल करते हैं। 20 सितंबर 2012 को पटना में पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ साइकिल रैली निकालते रविशंकर प्रसाद और BJP कार्यकर्ता।
साइकिल राजनीतिक दलों के बीच भी काफी लोकप्रिय रही है। चाहे बात सियासी विरोध की हो या पेट्रोल डीजल के खिलाफ रैली की इसका इस्तेमाल सभी राजनीतिक दल करते हैं। 20 सितंबर 2012 को पटना में पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ साइकिल रैली निकालते रविशंकर प्रसाद और BJP कार्यकर्ता।
दुनियाभर के कई नेता लग्जरी गाड़ियों के बजाय साइकिल की सवारी करना पसंद करते हैं। इनमें सबसे ज्यादा फेमस रहे हैं नीदरलैंड के PM मार्क रूट। मार्क संसद या अपने ऑफिस जाने के लिए साइकिल का ही इस्तेमाल करते हैं। ब्रिटेन के PM बोरिस जॉनसन कई बार साइकिल चलाकर ऑफिस जाते हैं। वहीं न्यूजीलैंड के पूर्व PM जॉन की भी साइकिल की सवारी पसंद करते थे।
दुनियाभर के कई नेता लग्जरी गाड़ियों के बजाय साइकिल की सवारी करना पसंद करते हैं। इनमें सबसे ज्यादा फेमस रहे हैं नीदरलैंड के PM मार्क रूट। मार्क संसद या अपने ऑफिस जाने के लिए साइकिल का ही इस्तेमाल करते हैं। ब्रिटेन के PM बोरिस जॉनसन कई बार साइकिल चलाकर ऑफिस जाते हैं। वहीं न्यूजीलैंड के पूर्व PM जॉन की भी साइकिल की सवारी पसंद करते थे।
देश के कई सांसद भी संसद जाने के लिए साइकिल की सवारी का पसंद करते हैं। इनमें सबसे ज्यादा फेमस नाम इस समय BJP सांसद अर्जुन राम मेघवाल का है। वे अक्सर साइकिल से ही संसद जाते हैं।
देश के कई सांसद भी संसद जाने के लिए साइकिल की सवारी का पसंद करते हैं। इनमें सबसे ज्यादा फेमस नाम इस समय BJP सांसद अर्जुन राम मेघवाल का है। वे अक्सर साइकिल से ही संसद जाते हैं।
2020 में जब देश में कोरोना की वजह से लॉकडाउन लगा था, तब हरियाणा के गुरुग्राम में रह रही ज्योति कुमारी बीमार पिता को साइकिल पर बिठाकर अपने घर बिहार लाई थीं। इस दौरान उन्होंने गुरुग्राम से दरभंगा तक 1200 किमी का सफर साइकिल से ही तय किया था।
2020 में जब देश में कोरोना की वजह से लॉकडाउन लगा था, तब हरियाणा के गुरुग्राम में रह रही ज्योति कुमारी बीमार पिता को साइकिल पर बिठाकर अपने घर बिहार लाई थीं। इस दौरान उन्होंने गुरुग्राम से दरभंगा तक 1200 किमी का सफर साइकिल से ही तय किया था।

और साइकिलों का यह इस्तेमाल भी...

क्या आप जानते हैं कि साइकिल के मशहूर ब्रांड BSA का पूरा नाम बर्मिंघम स्मॉल आर्म्स है। इसी कंपनी ने दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान पैराशूट से दुश्मन के इलाके में छलांग लगाने वाले ब्रिटिश और भारतीय जवानों के लिए 60 हजार से ज्यादा फोल्डिंग साइकिल बनाई थीं।
साइकिल से जुड़ी इन दिलचस्प बातों के बाद अब पोल में शामिल होने की बारी है। तो नीचे दिए सवाल को पढ़िए और अपनी पसंद के ऑप्शन को चुनिए...

खबरें और भी हैं...