भास्कर एक्सप्लेनर:रावत का जो Mi-17 हेलिकॉप्टर क्रैश हुआ, उसमें PM मोदी भी करते हैं सफर, जानिए सबसे एडवांस हेलिकॉप्टर की खासियत

एक महीने पहलेलेखक: अभिषेक पाण्डेय

तमिलनाडु में बुधवार को सेना के Mi-17V-5 हेलिकॉप्टर क्रैश होने से चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत समेत 13 लोगों की मौत हो गई। इस क्रैश में हेलिकॉप्टर में सवार जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका समेत 13 लोगों की मौत हो गई, जबकि एक गंभीर रूप से घायल व्यक्ति का इलाज चल रहा है। जनरल रावत का ये हेलिकॉप्टर सुलूर स्थित आर्मी बेस से उड़ान भरने के कुछ देर बाद ही नीलगिरी जिले में कुन्नूर में क्रैश हो गया था।

आइए जानते हैं कि जनरल बिपिन रावत को ले जा रहा जो Mi-17V-5 हेलिकॉप्टर क्रैश हुआ, उसकी क्या खासियत है? भारत ने इसे कब खरीदा और आखिर क्यों ये दुनिया के सबसे मॉडर्न हेलिकॉप्टर्स में से एक है?

सबसे पहले Mi-17V-5 हेलिकॉप्टर के बारे में जानते हैं
Mi-17V-5 रूस में बना एक ट्विन इंजन मल्टीपर्पज हेलिकॉप्टर है। Mi-17V-5 (डोमेस्टिक डेजिगनेशन Mi-8MTV5) हेलिकॉप्टरों के Mi-8/17 फैमिली का एक मिलिट्री ट्रांसपोर्ट वैरिएंट है। इसे रूसी हेलिकॉप्टरों की सहायक कंपनी कजान हेलिकॉप्टर बनाती है।

इसका उत्पादन रूसी कंपनी मिल मॉस्को हेलिकॉप्टर प्लांट, कजान हेलिकॉप्टर प्लांट और उलान-उडे एविएशन प्लांट में होता है। Mi-17V-5 हेलिकॉप्टर MI-8 हेलिकॉप्टर का अपग्रेडेड वर्जन है।

रूस में बने इस हेलिकॉप्टर की इंडियन एयरफोर्स सबसे बड़ी फॉरेन ऑपरेटर है।
रूस में बने इस हेलिकॉप्टर की इंडियन एयरफोर्स सबसे बड़ी फॉरेन ऑपरेटर है।

कितना सक्षम है Mi-17V-5 हेलिकॉप्टर?
Mi-17V-5 ज्यादा ऊंचाई और एक्स्ट्रीम वेदर कंडीशंस में भी बेहतर तरीके से काम कर सकता है। यह Mi-8 का अपग्रेडेड वर्जन है। Mi-17V-5 को विशेष रूप से ज्यादा ऊंचाई पर और गर्म मौसम की स्थिति में बेहतर तरीके से ऑपरेट करने के लिए डिजाइन किया गया है।

Mi-17V-5 का VVIP से लेकर आर्मी तक करती है इस्तेमाल
Mi-17V-5 दुनिया का सबसे एडवांस ट्रांसपोर्ट हेलिकॉप्टर है। इसे सेना और हथियारों के ट्रांसपोर्ट, फायर सपोर्ट, रक्षक दल की गश्ती और सर्च-एंड-रेस्क्यू (SAR) मिशन में भी तैनात किया जा सकता है। साथ ही Mi-17V-5 को कार्गो ट्रांसपोर्ट के लिए डिजाइन किया गया है। इसका इस्तेमाल PM नरेंद्र मोदी, यानी VVIP के मूवमेंट से लेकर आर्मी ऑपरेशन तक में होता है। दुनिया के करीब 60 देश 12 हजार से ज्यादा Mi-17 हेलिकॉप्टर इस्तेमाल करते हैं।

इंडक्शन सेरेमनी के दौरान इंडियन एयर फोर्स के जामनगर एयर बेस पर Mi-17V-5 हेलिकॉप्टर। -फाइल फोटो
इंडक्शन सेरेमनी के दौरान इंडियन एयर फोर्स के जामनगर एयर बेस पर Mi-17V-5 हेलिकॉप्टर। -फाइल फोटो

जानिए Mi-17 हेलिकॉप्टर की खासियत

  • ये एक मीडियम टि्वन टर्बाइन हेलिकॉप्टर है।
  • इसका इस्तेमाल हैवी लिफ्ट, ट्रांसपोर्टेशन, VVIP मूवमेंट और रेस्क्यू मिशन में किया जाता है।
  • मिलिट्री के लिए तीन क्रू मेंबर्स के साथ ही 36 सैनिकों को ये ले जा सकता है।
  • 36 हजार किलो तक का भार उठा सकता है।
  • हालांकि, VVIP के लिए तैयार किए गए इस विशेष हेलिकॉप्टर में अधिकतम 20 लोग ही सवार हो सकते हैं।
  • VVIP के लिए मॉडिफाई किए गए हेलिकॉप्टर में टायलेट भी होता है।
  • दुनिया के करीब 60 देश 12 हजार से ज्यादा MI-17 हेलिकॉप्टर का इस्तेमाल करते हैं।

कितने हथियारों से लैस होता है Mi-17V-5
Mi-17V-5 Shturm-V मिसाइल, S-8 रॉकेट, एक 23mm मशीन गन, PKT मशीन गन और AKM सब-मशीन गन से लैस है। इसमें हथियारों को निशाना बनाने के लिए आठ फायरिंग पोस्ट हैं।इस हेलिकॉप्टर पर हथियारों की मौजूदगी क्रू को दुश्मनों, बख्तरबंद वाहनों, लैंड-बेस्ड टारगेट, और अन्य फिक्स्ड और मूविंग टारगेट पर निशाना लगाने में सक्षम बनाती है।

Mi-17 की स्पीड अधिकतम 1000 किमी/घंटा तक

  • Mi-17 8 मीटर/सेकेंड की रफ्तार से ऊंचाई पर जा सकता है।
  • Mi-17V-5 की अधिकतम गति 250 किमी/घंटे और स्टैंडर्ड रेंज 580 किमी है।
  • दो सहायक फ्यूल टैंकों के साथ फिट किए जाने पर स्पीड 1,065 किमी तक बढ़ाई जा सकती है।
  • यह अधिकतम 6,000 मीटर की ऊंचाई पर उड़ सकता है।
  • हेलिकॉप्टर का वजन लगभग 7,489 किलो है, जबकि इसका अधिकतम वजन 13,000 किलोग्राम है।
VVIP को लाने ले जाने के अलावा इसका इस्तेमाल रेस्क्यू मिशन में भी किया जाता है।
VVIP को लाने ले जाने के अलावा इसका इस्तेमाल रेस्क्यू मिशन में भी किया जाता है।

भारत ने कब दिया था Mi-17V-5 का ऑर्डर?
रक्षा मंत्रालय ने 80 MI हेलिकॉप्टर्स के लिए रूस के साथ दिसंबर 2008 में 1.3 अरब डॉलर का करार किया था। भारतीय एयरफोर्स को Mi हेलिकॉप्टर्स की डिलिवरी 2011 में शुरू हुई थी और 2013 में 36 Mi सीरीज के हेलिकॉप्टर्स मिले थे। हालांकि, रक्षा मंत्रालय ने 2012-2013 के दौरान 71 Mi-17V-5 हेलिकॉप्टर्स का ऑर्डर दिया था। भारत को Mi-17V-5 की आखिरी खेप जुलाई 2018 में मिली थी।

भारतीय एयरफोर्स ने अप्रैल 2019 में Mi-17V-5 हेलिकॉप्टर की रिपेयर और ओवरहॉल और फैसिलिटी का उद्घाटन किया था। अमेरिकी रक्षा विभाग ने 2011 में अफगान सेना को 63 Mi-17V-5 देने के लिए करार किया था, जिसकी डिलिवरी कजान हेलिकॉप्टर्स लिमिटेड ने अक्टूबर 2014 में की थी।

Mi-17 की कहानी, रिटायर्ड एयर वाइस मार्शल की जुबानी:इंडियन एयरफोर्स के लिए रीढ़ की हड्‌डी की तरह है Mi-17, ग्राउंड पर टारगेट्स को खत्म कर देता है