भास्कर एक्सप्लेनर:29 साल बाद पाकिस्तान को मिला कोई ICC इवेंट, लेकिन भारत नहीं गया तो कंगाल PCB हो जाएगा बर्बाद

12 दिन पहले

ICC ने 2024 से 2031 के दौरान होने वाले ICC इवेंट की लिस्ट जारी की है। इस दौरान 14 देश ICC के वाइट बॉल इवेंट्स की मेजबानी करेंगे। इनमें पाकिस्तान भी शामिल है। पाकिस्तान 2025 में चैम्पियन्स ट्रॉफी की मेजबानी करेगा। मंगलवार को हुए इस ऐलान के बाद इस बात की चर्चा है कि भारत को इसमें हिस्सा लेना चाहिए या नहीं।

भारत अगर इस इवेंट में शामिल नहीं होता है तो कंगाल पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (PCB) पूरी तरह से बर्बाद हो सकता है। इसी डर की वजह से ही PCB चेयरमैन रमीज रजा कह चुके हैं कि भारत चाहे तो PCB को बर्बाद कर सकता है।

8 साल में कितने ICC इवेंट कहां होंगे? इनमें से कितने भारत में होंगे? किन देशों में पहली बार कोई ICC इवेंट होगा? पाकिस्तान में होने वाली चैम्पियन्स ट्रॉफी में क्या भारत हिस्सा लेगा? अगर भारत पाकिस्तान में होने वाली चैम्पियन्स ट्रॉफी में हिस्सा नहीं लेता तो क्या होगा? पाकिस्तान क्रिकेट के लिए ये कितना बड़ा इवेंट हो सकता है? आइये जानते हैं...

8 साल में कितने ICC इवेंट कहां होंगे?

2024 से 2031 तक 8 ICC इवेंट्स का आयोजन होगा। इनमें 4 टी-20 वर्ल्ड कप, 2 वनडे वर्ल्ड कप और 2 चैम्पियन्स ट्रॉफी शामिल हैं। इन 8 ICC इवेंट्स की मेजबानी 14 देश करेंगे। 2025 और 2029 में होने वाली चैम्पियन्स ट्रॉफी की मेजबानी एक-एक देश करेंगे। वहीं, टी-20 और वनडे वर्ल्ड कप में दो या तीन देश सह-मेजबान होंगे।

सबसे पहले चैम्पियन्स ट्रॉफी की बात करते हैं। 2025 की चैम्पियन्स ट्रॉफी का मेजबान पाकिस्तान है। वहीं, 2029 की चैम्पियन्स ट्रॉफी की मेजबानी भारत को मिली है। इसी तरह 2027 के वनडे वर्ल्ड कप की मेजबानी साउथ अफ्रीका, जिम्बाब्वे और नामीबिया को मिली है। अफ्रीकी देशों में 24 साल बाद किसी ICC इवेंट का आयोजन होगा। इससे पहले 2003 का वनडे वर्ल्ड कप साउथ अफ्रीका, जिम्बाब्वे और केन्या में खेला गया था।

टी-20 वर्ल्ड कप का आयोजन हर दो साल में होना है। 2024 में ये वेस्टइंडीज और अमेरिका में होगा। 2026 में भारत- श्रीलंका, 2028 में ऑस्ट्रेलिया-न्यूजीलैंड और 2030 के टी-20 वर्ल्ड कप की मेजबानी इंग्लैंड, आयरलैंड और स्कॉटलैंड करेंगे।

पाकिस्तान में होने वाली चैम्पियन्स ट्रॉफी में क्या भारत हिस्सा लेगा?

खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने बुधवार को इस मामले में प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा- जब किसी इंटरनेशनल चैम्पियनशिप का आयोजन होता है तो कई पहलूओं पर विचार किया जाता है। पाकिस्तान में हालात सामान्य नहीं हैं। इसी वजह से कई देशों ने पाकिस्तान पहुंचने के बाद भी वहां खेलने से मना कर दिया है।

ठाकुर ने कहा कि जहां तक भारत के इस प्रतियोगिता में शामिल होने की बात है तो जब समय आएगा तो फैसला लिया जाएगा। भारत सरकार और गृह मंत्रालय हर पहलू पर विचार करके फैसला लेगा। ठाकुर ने कहा कि पाकिस्तान में टीमों पर आतंकी हमले हो चुके हैं। ये बड़ी चिंता का कारण है।

अगर भारत पाकिस्तान में होने वाली चैम्पियन्स ट्रॉफी में हिस्सा नहीं लेता तो क्या होगा?

BCCI क्रिकेट की सबसे ताकतवर संस्था है। ICC में भारत का कद वैसा ही है जैसा UN में अमेरिका का है। हाल ही में पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (PCB) चेयरमैन रमीज रजा भी इस बात को मान चुके हैं। रजा ने एक बयान में कहा था कि अगर भारत चाह ले तो वो PCB को भी बर्बाद कर सकता है, क्योंकि, ICC की 90% फंडिंग भारत से आती है। जो ये बताता है कि ये खेल भारत और यहां के बिजनेस घराने चला रहे हैं।

PCB चीफ ने कहा था कि PCB के बजट का 50% फंड ICC से आता है। रजा ने कहा था कि समय आ चुका है कि हम ICC पर निर्भरता कम करें और लोकल मार्केट से फंड जुटाएं। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि अगर भारत किसी ICC इवेंट से हाथ खींच ले तो उस इवेंट का क्या होगा। पाकिस्तान ही नहीं कई देशों के क्रिकेट की भारत पर निर्भरता है।

एक और बात 2007 में हुए वनडे वर्ल्ड कप के पहले राउंड से ही भारत बाहर हो गया था। उसके बाद ICC का ये इवेंट बुरी तरह फ्लॉफ रहा। वर्ल्ड कप के आयोजक वेस्टइंडीज बोर्ड को इससे भारी नुकसान हुआ था। भारत के बाहर होने से अगर बोर्ड घाटे में चले जाते हैं तो अगर भारत हिस्सा नहीं लेगा तो इसके आयोजक पाकिस्तान को कितना नुकसान होगा इसका अंदाजा लगाया जा सकता है।

पाकिस्तान क्रिकेट के लिए ये कितना बड़ा इवेंट हो सकता है?

1996 के बाद पाकिस्तान में कोई ICC इवेंट नहीं हुआ है। उस वक्त पाकिस्तान, भारत और श्रीलंका वनडे वर्ल्ड कप के सह-मेजबान थे। 29 साल बाद 2025 में पाकिस्तान में कोई ICC इवेंट होगा। 2009 में पाकिस्तान दौरे पर गई श्रीलंका टीम पर हुए आतंकी हमले के बाद से पाकिस्तान में क्रिकेट की गतिविधियां बुरी तरह प्रभावित रही हैं।

हाल के वर्षों में कुछ देशों ने पाकिस्तान के दौरे जरूर किए, लेकिन इसी साल पाकिस्तान दौरे पर गई न्यूजीलैंड टीम ने सुरक्षा कारणों का हवाला देकर सीरीज के पहले मैच से आधे घंटे पहले दौरा रद्द कर दिया था। इंग्लैंड को भी पाकिस्तान दौरे पर आना था। उसने भी सुरक्षा कारणों का हवाला देकर दौरा कैंसिल कर दिया था।

खबरें और भी हैं...