87% पाकिस्तानी इलाके की हर हलचल देख सकता है भारत:अब पाक खरीद रहा पावरफुल चीनी रडार, जिससे पता लगेगी हमारी चाल

3 महीने पहलेलेखक: अभिषेक पाण्डेय

भारतीय सैटेलाइट्स पाकिस्तान के 87% इलाके पर नजर रख सकते हैं। यानी कराची की किसी गली से पेशावर के किसी जंगल तक की हलचल भारत देख सकता है। स्पेस टेक्नोलॉजी में भारत की इस बादशाहत को अब चीन अपनी एक चाल से चुनौती देने में लगा है। भारतीय सैटेलाइट्स पर नजर रखने के लिए चीन अब पाकिस्तान को अपना सबसे ताकतवर और एडवांस रडार SLC-18 देने जा रहा है।

भास्कर एक्सप्लेनर में जानेंगे कि क्या हैं SLC-18 रडार और ये भारत के लिए मुसीबत कैसे बन सकता है…

द न्यूज वीक की रिपोर्ट के मुताबिक, चीन ने पाकिस्तान को अपना ताकतवर स्पेस सर्विलांस रडार SLC-18 देने का फैसला किया है। इस रडार को चीन की सरकारी कंपनी चाइना इलेक्ट्रॉनिक्स टेक्नोलॉजी ग्रुप कॉर्पोरेशन यानी CETC ने बनाया है। CETC इससे पहले भी चीनी सेना के लिए कई मिसाइलें, रडार और इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसेज बना चुकी है।

CETC के डिप्टी जनरल सुन लेई का कहना है, 'इस रडार से मित्र देशों को स्पेस में रॉकेट को लोकेट करने में मदद मिलेगी। मित्र देशों की मदद के लिए ये (रडार) स्पेस टारगेट्स की अपेक्षाकृत सस्ते में निगरानी की सुविधा देता है… इससे लो-ऑर्बिटिंग सैटेलाइट्स की स्थिति की जानकारी मिलती है। ये युद्ध के दौरान पावर बैलेंस में अहम भूमिका निभाएगा।'

लो अर्थ ऑर्बिट यानी LEO सैटेलाइट्स धरती से 200 किलोमीटर से 2000 किलोमीटर की ऊंचाई पर स्थित होते हैं। LEO सैटेलाइट्स का इस्तेमाल मुख्य रूप से डेटा कलेक्शन और मिलिट्री निगरानी में किया जाता है। LEO सैटेलाइट्स अपने छोटे साइज और फ्लेक्सिबल ऑर्बिट की वजह से सभी अहम ठिकानों की 360-डिग्री निगरानी कर सकते हैं।

SLC-18 रडार क्या काम करता है?

चीन का SLC-18 रडार बेहद पावरफुल और एडवांस रडार है। इस रडार का इस्तेमाल स्पेस के टारगेट खासतौर पर सैटेलाइट्स डिटेक्ट करने में होता है...

  • ये 24 घंटे, हर मौसम और हर कंडिशन में लो अर्थ ऑर्बिट सैटेलाइट्स को डिटेक्ट करने के साथ ही उनको ट्रैक कर सकता है। ये रडार किसी भी तरह के LEO सैटेलाइट और उसके रास्ते को ट्रैक करने में सक्षम है।
  • SLC-18 रडार दूर से ही सैटेलाइट्स को डिटेक्ट कर सकता है और सैटेलाइट के डेटा को कमांड सेंटर को भेज देता है, ताकि वह जरूरी फैसले ले सके।
  • ये रडार सैटेलाइट के ऑर्बिट पैरामीटर्स से ये पता लगा लेता है कि क्या ये नया सैटेलाइट है और इसके प्रमुख इस्तेमाल क्या हैं।
  • ये LEO सैटेलाइट्स और अन्य स्पेस टारगेट को खोजने के दौरान कई अन्य चीजों को भी ट्रैक कर सकता है। जैसे-हवाई जहाज या हवा में मौजूद कोई भी अन्य चीज।
  • सैटेलाइट को ट्रैक करने के बाद SLC-18 रडार सिग्नल के जरिए जमीन पर मौजूद अधिकारियों को ये बताता है कि किस समय सैटेलाइट उनके ऊपर से नहीं गुजरेगा।
  • SLC-रडार सैटेलाइट्स की पहचान करने और उसकी लिस्ट बनाने के बाद उनका डेटाबेस तैयार कर लेता है। इस डेटाबेस का इस्तेमाल अन्य इक्विपमेंट्स को जवाबी कार्रवाई करने में मदद के लिए किया जा सकता है।

भारत के खिलाफ पाकिस्तान की मदद कैसे करेगा SLC-18?

डिफेंस एक्सपर्ट और भारतीय सेना के रिटायर्ड लेफ्टिनेंट कर्नल जसिंदर सिंह सोढ़ी के मुताबिक, 'चीन का पाकिस्तान को SLC-18 खुफिया रडार बेचना भारत के लिए बड़ी चिंता का विषय है, क्योंकि ये रडार मिलिट्री और खुफिया डेटा कलेक्शन में इस्तेमाल होते हैं। ये रडार धरती की सतह से 2 हजार किलोमीटर ऊपर यानी लो अर्थ ऑर्बिट में स्थित सैटेलाइट्स को ट्रैक करने में सक्षम है। इसका मतलब है कि इस रडार की मदद से पाकिस्तान भारत के मिलिट्री उद्देश्यों समेत सभी सैटेलाइट्स को ट्रैक कर पाएगा।'

आधुनिक युग में दुश्मन देश की सेना और हथियारों की लोकेशन को ट्रैक करने में खुफिया सैटेलाइट्स अहम भूमिका निभाते हैं। सोढ़ी का कहना है, 'ये चीनी रडार इतना एडवांस है कि ये सैटेलाइट का डेटा धरती पर स्थित कमांड सेंटर को भेजता है, जिससे वो तुरंत फैसला ले सके, जो कि युद्ध की स्थिति में निर्णायक साबित हो सकता है।'

अब तक पाकिस्तान जैसे विकासशील देश सैटेलाइट डेटा हासिल करने के लिए चीन जैसे देश का सहारा लेते रहे हैं, लेकिन ये डेटा कई बार सटीक नहीं होता और बहुत महंगा भी होता है। ऐसे में सोढ़ी ने कहा, 'पाकिस्तान की अब तक कोई स्पेस रिसर्च नहीं है और इस मामले में वह पूरी तरह चीन पर निर्भर है। चीन स्पेस रिसर्च के मामले में दुनिया का लीडर बनकर उभरा है और 2045 तक इस सेक्टर में उसके अमेरिका से भी आगे निकल जाने की संभावना है।'

चीन से SLC-18 रडार मिलने के बाद पाकिस्तान की सैटेलाइट डेटा हासिल करने के लिए किसी बड़े देश पर निर्भरता खत्म हो जाएगी।
चीन से SLC-18 रडार मिलने के बाद पाकिस्तान की सैटेलाइट डेटा हासिल करने के लिए किसी बड़े देश पर निर्भरता खत्म हो जाएगी।

क्या भारत इससे निपटने में सक्षम है? जसिंदर सिंह सोढ़ी ने कहा, 'भारत स्पेस प्रोग्राम और हथियारों के मामले में पाकिस्तान से आगे है, लेकिन इस रडार के मिलने के बाद इसे काउंटर करने के लिए भारत को प्रभावशाली जरूरी कदम उठाने होंगे।'

अभी भारत के सैटेलाइट्स पाकिस्तान के हर कदम पर नजर रख सकते हैं, लेकिन पाकिस्तान के पास अभी ऐसी क्षमता नहीं है। चीन का SLC-18 रडार मिलने पर अब पाकिस्तान भारत की खुफिया सैटेलाइट्स पर नजर रखने में सक्षम हो जाएगा।

एक्सपर्ट का मानना है कि चीनी रडार मिलने पर पाकिस्तान उन्हें अलग-अलग जगहों पर तैनात करके भारतीय सैटेलाइट्स की मूवमेंट पर नजर रख पाएगा और भारतीय सैटेलाइट्स को अपनी खुफिया जानकारी लेने से भी रोक पाएगा।

रडार से सैटेलाइट्स को लेकर मिली जानकारी के अनुसार पाकिस्तान अपनी सेना के मूवमेंट यानी योजना में बदलाव कर पाएगा। कुछ रिपोर्ट्स के मुताबिक, भारतीय सैटेलाइट्स से निपटने के लिए चीन आने वाले समय में पाकिस्तान को एंटी-सैटेलाइट वेपंस भी दे सकता है।

पाकिस्तान को रडार देकर भारत की निगरानी है चीन का मकसद

एयरोस्पेस एंड डिफेंस एनालिस्ट गिरीश लिंगन्ना ने एक इंटरव्यू में कहा, 'SLC-18 रडार की कई टारगेट को ट्रैक करने, बड़ी सर्च रेंज और हर मौसम और 24 घंटे काम करने की क्षमता इसे खास बनाती है। SLC-18 रडार खुफिया सैटेलाइट्स को ट्रैक करने के साथ ही ड्रोन, जहाज और मिसाइलों के डेटा भी दे सकता है।'

लिंगन्ना का कहना है कि इस चीनी रडार को एलन मस्क के स्टारलिंक खुफिया सैटेलाइट्स का काउंटर भी माना जा रहा है। मस्क के खुफिया सैटेलाइट्स ने रूस के खिलाफ यूक्रेन को जानकारी और इंटरनेट उपलब्ध कराने में अहम भूमिका निभाई है।

लिंगन्ना का कहना है, 'अगर पाकिस्तान को ये रडार मिलता है, तो उसके लिए भारतीय सैटेलाइट्स को ट्रैक करना बहुत आसान हो जाएगा। ये पावरफुल रडार लगभग पूरा भारत कवर कर सकता है। इस रडार के जरिए पाकिस्तान के जरिए चीन भारत से जुड़े डेटा हासिल कर सकता है। इससे चीन को महंगी मिसाइल ट्रैकिंग शिप की टेक्नीक से छुटकारा मिल जाएगा, जिसका इस्तेमाल वो भारतीय सेना की संपत्तियों के आसपास की निगरानी के लिए करता है।'

एक्सपर्ट के मुताबिक, सैटेलाइट्स और मिसाइलों के लिए एक और खतरा बनकर उभरे हैं डायरेक्टर एनर्जी वेपंस यानी DEW, जिन्हें एंटी-सैटेलाइट या एंटी-मिसाइल वेपन भी कहा जाता है। अगर इन हथियारों को इस रडार सिस्टम में लगाया गया तो इससे न केवल सैटेलाइट्स की ट्रैकिंग बल्कि उन्हें नष्ट भी किया जा सकता है।

डायरेक्टर एनर्जी वेपंस याानी DEW ऐसे हथियार होते हैं, जिनमें सैटेलाइट्स, मिसाइलों और गाड़ियों जैसे टॉरगेट को तबाह करने के लिए सॉलिड हथियारों की जगह बहुत ही ताकतवर एनर्जी का इस्तेमाल किया जाता है, जैसे-लेजर किरणें।
डायरेक्टर एनर्जी वेपंस याानी DEW ऐसे हथियार होते हैं, जिनमें सैटेलाइट्स, मिसाइलों और गाड़ियों जैसे टॉरगेट को तबाह करने के लिए सॉलिड हथियारों की जगह बहुत ही ताकतवर एनर्जी का इस्तेमाल किया जाता है, जैसे-लेजर किरणें।

पाकिस्तान को मिसाइलें, फाइटर प्लेन देता रहा है चीन

चीन पाकिस्तान को SLC-18 रडार ही नहीं दे रहा है, बल्कि वह सालों से पाकिस्तान का सबसे बड़ा वेपन सप्लायर रहा है। स्वीडिश थिंकटैंक SIPRI की रिपोर्ट के मुताबिक, 2017 से 2021 के दौरान पाकिस्तान ने अपने कुल हथियारों में से करीब 72% हथियार चीन से खरीदे हैं। इस दौरान चीन के कुल हथियारों में से करीब 47% हथियार पाकिस्तान ने खरीदे।

पिछले साल चीन ने पाकिस्तान को HQ 9/P HIMADS यानी हाई टु मीडियम एयर डिफेंस सिस्टम दिया था, जिसे अक्टूबर 2021 में पाकिस्तान आर्मी ने अुने एयर डिफेंस सिस्टम में शामिल किया था। HQ9 ऐसा एयर डिफेंस सिस्टम है, जो 100 किलोमीटर की रेंज में आने वाले फाइटर प्लेन, क्रूज मिसाइलों और हथियारों समेत कई एयर टारगेट को इंटरसेप्ट कर सकता है।

भास्कर एक्सप्लेनर के कुछ और ऐसे ही नॉलेज बढ़ाने वाले आर्टिकल नीचे लिंक पर क्लिक करके पढ़ सकते हैं...

1. पुतिन को डर अमेरिकी कमांडो मार देंगे:हत्या, अपमान, आत्मसमर्पण, क्या हैं रूसी राष्ट्रपति के खिलाफ साजिश के 3 मॉडल

2.राजीव गांधी को PM नहीं बनने देना चाहता था प्रभाकरण:वीपी सिंह के पैर छूकर प्रैक्टिस, 9 दिन बाद चंदन की माला पहनाकर राजीव को उड़ाया

3.भारत ने बनाया सबसे ताकतवर रॉकेट का इंजन:अमेरिका की धमकी पर टेक्नीक देने से मुकर गया था रूस

4.फिर कोरोना से भी खतरनाक वायरस बना रहा चीन:पाकिस्तान के रावलपिंडी की सीक्रेट लैब में बन रहा 'बायो वेपन', 3 साल की डील