पाकिस्तानी ड्रोन को पंजा मारकर गिराएगा 'अर्जुन':बाज के सिर पर लगा चीनी कैमरा ही करेगा चीन की निगरानी

2 महीने पहलेलेखक: अनुराग आनंद

29 नवंबर 2022 यानी मंगलवार को उत्तराखंड के औली में भारतीय सेना और अमेरिकी सेना युद्धाभ्यास कर रही थी। इस दौरान चीनी कैमरे से लैस बाज कमांडो ‘अर्जुन’ ने आसमान में उड़ रहे एक ड्रोन को मार गिराया। अब चीन की निगरानी के लिए LAC पर इस बाज की तैनाती होनी है।

ऐसे में भास्कर एक्सप्लेनर में आज जानते हैं कि बाज के सिर में चीनी कैमरा ही क्यों लगाया गया? ये बाज दुश्मन देश के ड्रोन से भारत की रक्षा कैसे करेगा?

सबसे पहले इस वीडियो को देखिए….

सोशल मीडिया पर शेयर हो रहा ये वीडियो 1 दिसंबर 2022 का है। इसमें भारतीय सेना का ट्रेंड बाज अर्जुन एक ड्रोन को तबाह करते हुए नजर आ रहा है।

बाज के सिर में चीनी कैमरा और शरीर में GPS लगाया गया है
यूरेशियन टाइम्स ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि भारतीय सेना के ट्रेंड बाज अर्जुन के सिर में कैमरा और शरीर में GPS लगाया गया है। सबसे चौंकाने वाली बात ये है कि चीनी सीमा की निगरानी के लिए तैनात किए जाने वाले इस बाज के सिर पर एक चीनी कंपनी का कैमरा लगाया गया है।

सैन्य अधिकारियों ने बताया- मेरठ के रिमाउंट वेटरनरी कॉर्प्स ने इसे ट्रेनिंग दी है। ये बाज दुश्मन ड्रोन को गिराने के अलावा अपने सिर में लगे कैमरे के जरिए दुश्मन देशों के आसमान और जमीन की हर गतिविधियों की निगरानी करने में भी सक्षम है। उड़ान भरते हुए बाज की सही लोकेशन पता करने के लिए उसके शरीर में GPS लगाया गया है।

अब ग्राफिक्स में पढ़िए भारतीय सेना बाज के सिर में लगाने के लिए किस चीनी कैमरे का इस्तेमाल करती है..

सिर्फ भारत नहीं, अमेरिकी सेना भी चीन के साजो-सामान पर निर्भर
सितंबर 2022 में अमेरिकी रक्षा विभाग पेंटागन ने नए F-35 जेट्स की सप्लाई पर रोक लगा दी। दावा किया कि लड़ाकू विमान के इंजन में इस्तेमाल किए गए चुंबक को बिना मंजूरी के चीन से आयात किए गए मटेरियल से बनाया गया था।

इसके बाद इसे चोरी-छिपे अमेरिका के सबसे एडवांस फाइटर जेट में लगा दिया गया। यही वजह है कि खुफिया निगरानी के डर से अमेरिका ने इस पर पाबंदी लगाने का फैसला किया।

सिर्फ एक महीने बाद अमेरिका ने ये पाबंदी हटाते हुए कहा कि इसके जरिए कोई सूचना शेयर नहीं की गई है। इससे साफ हो गया कि अमेरिका भी चीन के इन साजो-सामान पर पूरी तरह से निर्भर है।

अब ग्राफिक्स में जानिए कि दुनिया के देशों को चीन में तैयार हो रहे साजो-सामान पर पूरी तरह से निर्भर क्यों होना पड़ रहा है…

डॉग्स के भौंकते ही बाज पंजा मारकर ड्रोन को गिरा देता है
मंगलवार को युद्धाभ्यास के दौरान बाज ‘अर्जुन’ एक भारतीय के हाथ पर बैठा हुआ था। उसके पास ही एक ट्रेंड डॉग बैठा हुआ था। तभी एक ड्रोन को आसमान में उड़ाया जाता है।

ड्रोन की आवाज सुनते ही ट्रेंड कुत्ते कमांडो ने ‘अर्जुन’ की तरफ देख कर भौंकना शुरू कर दिया।

फिर पलक झपकते ही अर्जुन ने उड़ान भरी और दुश्मन के ड्रोन को अपने पंजों से मारकर गिरा दिया। भारतीय सेना के अधिकारियों ने बताया कि अर्जुन और सेना के ट्रेंड डॉग्स मिलकर अब बॉर्डर से सटे इलाके की निगरानी करेंगे।

अब ग्राफिक्स में भारतीय सेना के बाज ‘अर्जुन’ के बारे में जानिए…

'एंटी ड्रोन सिस्टम की तरह ट्रेंड किया गया है ये बाज'
भारतीय सेना के प्रवक्ता कर्नल सुधीर चमोली ने कहा कि एंटी ड्रोन सिस्टम की तरह इस बाज को ट्रेंड किया गया है। दरअसल, पिछले कुछ सालों से चीन और पाकिस्तान के ड्रोन को लगातार घुसपैठ करते देखा जा रहा है।

इस वजह से 2020 में भारतीय सेना ने 'एंटी ड्रोन सिस्टम’ की तरह से बाज और डॉग्स को ट्रेंड करना शुरू किया था। उन्होंने कहा कि एक बार डॉग स्क्वायड किसी ड्रोन की आवाज सुन ले तो फिर उस ड्रोन का बाज अर्जुन के पंजों से बचना नामुमकिन है।

यह पहली बार नहीं है, इससे पहले भी कई जगहों पर निगरानी के लिए बाज का इस्तेमाल किया गया है। इसके कुछ उदाहरण यहां हैं...

तेलंगाना में VVIP सुरक्षा के लिए बना गरुड़ दस्ता
2020 में तेलंगाना सरकार ने VVIP यात्राओं के दौरान ड्रोन हमले को बेअसर करने के लिए ये गरुड़ दस्ता बनाया था। इस दस्ते को ट्रेंड करने की जिम्मेदारी इंटीग्रेटेड इंटेलिजेंस ट्रेनिंग एकेडमी यानी IIITA पर थी। इसके लिए डीजीपी के आदेश से 35,000 रुपए और 25,000 रुपए के मंथली वेतन पर दो ट्रेनर की भी नियुक्ति की गई थी।

नीदरलैंड ने भी निगरानी के लिए चील दस्ता बनाया
2016 में नीदरलैंड की पुलिस ने 'गार्ड फ्रॉम एबव' नाम की एक कंपनी के साथ मिलकर एक चील दस्ते को ट्रेंड करना शुरू किया था। तब इस कंपनी ने अपनी वेबसाइट पर ये दावा किया था कि पक्षियों को ट्रेंड करने वाली ये दुनिया की इकलौती कंपनी है। एनवाईटी ने डच पुलिस के सीनियर अधिकारियों के हवाले से बताया है कि कई मौकों पर दुश्मन देश के ड्रोन को पकड़ने में इन पक्षियों ने खास भूमिका निभाई थी।

फ्रांस ने ‘नो-फ्लाई जोन’ में उड़ रहे ड्रोन को उतारने के लिए पक्षियों को ट्रेंड किया
2017 में फ्रांस की सेना ने नो-फ्लाई जोन में उड़ने वाले रिमोट कंट्रोल ड्रोन को नीचे उतारने के लिए 4 चील को प्रशिक्षित करना शुरू किया।

फ्रांस एयरफोर्स के जनरल जीन-क्रिस्टोफ जिम्मरमैन ने एक इंटरव्यू में कहा था कि ये पक्षी हजारों मीटर दूर उड़ रहे ड्रोन के बारे में पता कर उसे बर्बाद करने में सक्षम थे। यही नहीं चील के सिर में लगे कैमरे के जरिए भीड़-भाड़ वाले इलाके की निगरानी करना भी आसान होता है।

स्कॉटलैंड पुलिस ने चील की मदद से तस्करी और आतंकी गतिविधियों पर लगाई रोक
नीदरलैंड और फ्रांस सेना के नक्शेकदम पर स्कॉटलैंड पुलिस ने भी अपने यहां होने वाली तस्करी और आतंकी गतिविधियों पर निगरानी रखने के लिए चील को ट्रेंड किया है। स्कॉटलैंड के मेट्रोपॉलिटिन पुलिस कमिश्नर सर बर्नाड होगन ने कहा था कि इंसानों के बिना ऑपरेट किए जाने वाले ड्रोन को गिराने में ये ट्रेंड पक्षी शानदार भूमिका निभाते हैं।

अब अंत में जानिए निगरानी के लिए पक्षियों का इस्तेमाल किया जाना किस हद तक सफल है…
'द हिंदू' ने अपनी एक रिपोर्ट में दावा किया है कि डेढ़ साल की ट्रेनिंग के बाद नीदरलैंड ने अपनी इन चीलों को रिटायर कर दिया। ऐसा इसलिए क्योंकि ये पक्षी उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर रहे थे।

रिपोर्ट में बताया गया है कि नीदरलैंड सरकार को पक्षियों के प्रशिक्षण और रख-रखाव पर होने वाला खर्च गैरजरूरी लग रहा था। यही वजह है कि नीदरलैंड सरकार अब ड्रोन को मार गिराने के लिए आधुनिक हथियार खरीद रही है।

इस बारे में केंट विश्वविद्यालय में लॉ प्रोफेसर एलन मैककेना ने न्यूयॉर्क टाइम्स से कहा, ‘मुझे शुरुआत से संदेह था कि पक्षियों के जरिए ड्रोन के अवैध इस्तेमाल को रोका जा सकेगा। आप किसी क्षेत्र में हफ्ते के सात दिन और 24 घंटे तैनात नहीं कर सकते हैं।’ हालांकि उन्होंने माना कि भीड़-भाड़ की निगरानी के लिए ये तरीका सही हो सकता है।

आपने पूरी खबर पढ़ ली है तो आइए अब इस पोल में हिस्सा लेते हैं...

भास्कर एक्सप्लेनर के नॉलेज बढ़ाने वाले कुछ और ऐसे ही रोचक आर्टिकल हम नीचे पेश कर रहे हैं...

1. शादीशुदा महिला से घरेलू काम करवाना क्रूरता नहीं:हाईकोर्ट ने कहा- लड़कियों को घर का काम नहीं करना, तो शादी से पहले बताएं

2. रूस की सड़कों से गायब हो रहे हैं पुरुष:कुछ जंग में गए तो कुछ डर से भागे; अकेली पड़ीं लाखों महिलाएं

3. यूक्रेन का ‘डर्टी बम’ क्या है: जिसके हमले की आशंका से डरा हुआ है रूस

4. पानी के अंदर से परमाणु हमला कर सकता है भारत:रेंज में चीन-पाक के कई अहम शहर; सिर्फ 6 देशों के पास है ये टेक्नोलॉजी