भास्कर एक्सप्लेनर:कारोबारी, कलाकार से लेकर खिलाड़ी तक; चीन में क्यों गायब हो जाते हैं हाई-प्रोफाइल सेलिब्रिटी?

6 दिन पहले

चीन की एक टेनिस खिलाड़ी पेंग शुआई फिलहाल चर्चा में हैं। वजह है- उनका अचानक से गायब हो जाना। 2 नवबंर को उन्होंने सोशल मीडिया पर एक लंबी पोस्ट में चीन के पूर्व उप-प्रधानमंत्री पर यौन शोषण का आरोप लगाया था। उसके बाद से ही वे सोशल मीडिया और पब्लिक प्लेसेस से गायब थीं। हालांकि हाल ही में उनका बयान आया है, जिसके बाद उनके फैंस ने राहत की सांस ली है।

चीन में ऐसा पहली बार नहीं हुआ, जब कोई सेलिब्रिटी इस तरह गायब हो गई हो। इससे पहले चीन के बिलेनियर बिजनेसमैन जैक मा भी गायब हो गए थे।

आइए समझते हैं, पेंग शुआई कौन है? उन्होंने अपनी सोशल मीडिया पोस्ट में क्या लिखा था? वे कब से गायब हैं? इससे पहले और कौन-कौन पर्सनैलिटी चीन में गायब हो चुकी हैं? और आखिर चीन में सेलिब्रिटी अचानक गायब क्यों हो जाती हैं?...

पेंग शुआई कौन हैं? उनसे जुड़ा ताजा विवाद क्या है?

35 साल की पेंग शुआई चीन की स्टार टेनिस प्लेयर हैं। टेनिस डबल्स रैंकिंग में वे वर्ल्ड नंबर-1 रह चुकी हैं। साथ ही उन्होंने 3 ओलिंपिक खेलों में चीन का प्रतिनिधित्व भी किया है।

2 नवंबर को पेंग ने चीनी सोशल मीडिया विबो पर एक पोस्ट लिखी। इस पोस्ट में पेंग ने चीन के पूर्व उप-प्रधानमंत्री झांग गाओली पर यौन शोषण के आरोप लगाए थे। पोस्ट में लिखा था कि वाइस प्रीमियर झांग गाओली करीब 3 साल पहले मुझे अपने घर ले गए थे। फिर अपने कमरे में ले जाकर मेरे साथ सेक्‍स करना चाहते थे। मैं यकीन नहीं कर सकती कि उनकी बीवी भी इसके लिए राजी थी।

ये आरोप लगाने के बाद ही पेंग गायब हो गईं। साथ ही उनकी ये पोस्ट भी सोशल मीडिया से डिलीट हो गई। इसके बाद ये ही कयास लगाए जाने लगे कि पेंग को कम्युनिस्ट पार्टी ने डिटेन कर लिया है। वर्ल्ड टेनिस एसोसिएशन ने भी मामले की जांच करने की मांग की।

हालांकि, चीन के सरकारी मीडिया CGTN ने पेंग शुआई के नाम से एक बयान जारी किया। इसमें कहा गया, 'मैं गायब नहीं हूं, न ही असुरक्षित हूं। मैं बस घर पर आराम कर रही हूं और सब ठीक है।'

पेंग शुआई ने 21 नवंबर को अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति के अध्यक्ष के साथ एक वीडियो कॉल की और उन्हें बताया कि वह सुरक्षित हैं।

पेंग के गायब होने पर चीन ने क्या कहा था?

चीन ने आधिकारिक तौर पर अब तक कुछ नहीं कहा है। चीन की सरकार, कम्युनिस्ट पार्टी, पोलित ब्यूरो ने न तो मीडिया को कोई जवाब दिया, न ही कोई आधिकारिक स्टेटमेंट जारी किया। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि ये एक डिप्लोमेटिक मसला है, उन्हें इस संबंध में कोई जानकारी नहीं है।

चीन में क्यों गायब हो जाते हैं सेलिब्रिटी?

शहीद भगत सिंह कॉलेज, दिल्ली यूनिवर्सिटी में असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. ऋत्युषा मणि तिवारी के मुताबिक, चीनी सरकार के काम करने का तरीका बहुत अलग है। जब भी कोई फेमस पर्सनैलिटी व्हिसल ब्लोअर बनती है, तो चीनी सरकार उनको तुरंत डिटेन कर लेती है और उन्हें अनजान जगहों पर रखा जाता है। ह्यूमन राइट्स एक्टिविस्ट का कहना है कि ऐसी जगहों पर टॉर्चर का रिस्क भी ज्यादा होता है। मानव अधिकारों के लिहाज से ये बहुत ही खतरनाक स्थिति है। अगर किसी घटना के बारे में कोई नागरिक किसी को बता रहा है तो ये स्वतंत्रता, जागरूकता और फ्रीडम ऑफ स्पीच का मामला है। वुहान की लैब में से कोरोना वायरस लीक के केस में भी जितने भी व्हिसल ब्लोअर थे, धीरे-धीरे सब गायब हो गए। इससे समझ आता है कि चीनी सरकार के काम करने का तरीका दूसरी लोकतांत्रिक सरकारों के मुकाबले बिल्कुल अलग है।

  • चीन भले ही खुद को लोकतांत्रिक देश बताता हो, लेकिन वहां सत्ता के हर पक्ष पर चीनी कम्युनिस्ट पार्टी का बोलबाला है। मीडिया के साथ ही लोगों की भी अभिव्यक्ति की आजादी पर पल-पल सरकार का पहरा रहता है। चीन सरकार की विरोधी खबरें कठोरता से दबा दी जाती हैं। दुनिया को पता भी नहीं चलता कि चीन में क्या चल रहा है।
  • चीन में सरकारी सख्ती का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि पेंग की पोस्ट आधे घंटे से भी कम समय के भीतर सोशल मीडिया से डिलीट कर दी गई। लोग पेंग के बारे में सर्च न कर पाएं इसलिए उनसे जुड़ा कंटेंट इंटरनेट से हटा दिया गया। उनसे जुड़े ‘टेनिस’ जैसे पॉपुलर कीवर्ड्स भी बैन कर दिए गए। पेंग के अकाउंट पर कमेंट करने का ऑप्शन भी हटा दिया गया।
  • चीन में ऐसा पहली बार नहीं हो रहा है। 1949 में सत्ता संभालने के बाद से ही कम्युनिस्ट पार्टी का रवैया अपने विरोधियों और आलोचकों के प्रति दमन का रहा है। 1960 के दशक में चीनी सांस्कृतिक क्रांति के दौरान राजनेताओं, शिक्षकों और आलोचकों को बिना किसी आरोप के सालों तक जेलों में बंद कर दिया गया था।

अब तक कौन-कौन सेलिब्रिटी चीन में गायब हो गए?

चीन में गायब होने वाली लोगों की लिस्ट में एक्टर, एक्टिविस्ट से लेकर स्पोर्ट्सपर्सन तक के नाम शामिल हैं। चीन ने अपने नागरिकों के साथ ही दूसरे देशों के नागरिकों को भी कथित तौर पर डिटेन किया है।

जैक मा

दुनिया की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी अलीबाबा के फाउंडर और चीन के अमीरों में शुमार जैक मा भी पिछले साल अक्टूबर में गायब हो गए थे। अक्टूबर में ही उन्होंने चीन के सरकारी बैंकों और बिजनेस के लिए आर्थिक मॉडल की आलोचना की थी। जैक मा के गायब होने को उनके इस बयान से जोड़कर भी देखा जाता है। इसके बाद चीनी सरकार ने अलीबाबा के एंट ग्रुप की स्टॉक मार्केट लिस्टिंग पर भी रोक लगा दी थी।

फैन बिंगबिंग

फैन बिंगबिंग की गिनती चीन की सबसे ज्यादा कमाई करने वाली एक्ट्रेस में होती है। 2018 में चीनी अधिकारियों ने फैन और उनकी कंपनियों को 130 मिलियन डॉलर की राशि टैक्स चोरी के मामले में चुकाने का आदेश दिया था। इसके बाद ही फैन 3 महीने के लिए गायब हो गई थीं। लौटने के बाद उन्होंने लिखा था, "पार्टी और देश की अच्छी नीतियों के बिना, देश की जनता के प्यार के बिना फैन बिंगबिंग का अस्तित्व संभव नहीं है।"

डुआन वेईहांग

बिजनेस वुमन डुआन वेईहांग भी 2017 में लापता हो गई थीं। उनके पति एक किताब पब्लिश करने की तैयारी कर रहे थे, जिसमें वे चीन के समृद्ध वर्गों में भ्रष्टाचार का खुलासा करने वाले थे। 4 साल बाद डुआन ने अपनी पति को फोन कर कहा था कि वह किताब प्रकाशित नहीं करवाएं।

इनके अलावा कलाकार ऐ वेई वी, एक्ट्रेस झाओ वेई, इंटरपोल चीफ मेंग हेंगवी, बुकसेलर गुई मिन्हाई जैसे लोग भी गायब हो चुके हैं।

खबरें और भी हैं...