भास्कर एक्सप्लेनर:ओमिक्रॉन के खतरे के बीच जल्द जारी होगी बूस्टर डोज पर गाइडलाइन, तो क्या पहली दोनों डोज हो चुकी हैं बेअसर?

6 महीने पहले

देश में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन की एंट्री हो चुकी है। पहले से मौजूद वैरिएंट से कई गुना ज्यादा तेजी से फैलने की वजह से माना जा रहा है कि इस पर वैक्सीन भी बेअसर हो सकती है। साथ ही अलग-अलग स्टडी में ये बात भी सामने आई है कि समय के साथ शरीर में वैक्सीन द्वारा बनी एंटीबॉडी कम हो जाती है। इस वजह से कई देश लोगों को वैक्सीन का बूस्टर डोज दे रहे हैं। भारत सरकार भी जल्द ही बूस्टर डोज पर गाइडलाइन जारी कर सकती है।

समझते हैं, ओमिक्रॉन से निपटने क्या बूस्टर डोज लेना होगा? अभी किन-किन देशों में बूस्टर डोज दिए जा रहे हैं? वहां किन शर्तों के साथ लोगों को बूस्टर डोज लग रहे हैं? क्या कोरोना को रोकने में बूस्टर डोज कारगर है? और भारत सरकार बूस्टर डोज को लेकर क्या तैयारी कर रही है?...

ओमिक्रॉन आने के बाद बूस्टर डोज की चर्चा क्यों हो रही है?

  • दुनियाभर में इस वक्त कोरोना के ओमिक्रॉन वैरिएंट ने तहलका मचा रखा है। इस वैरिएंट से संक्रमित कई लोग ऐसे भी हैं, जो फुली वैक्सीनेटेड थे। इसके बाद भी वे संक्रमित हो गए।
  • ओमिक्रॉन को डेल्टा के मुकाबले ज्यादा संक्रामक माना जा रहा है, यानी ये ज्यादा तेजी से फैल रहा है। इस वजह से भी बूस्टर डोज की चर्चा होने लगी है।
  • माना जाता है कि वैक्सीन लेने के 9 महीने से 1 साल तक शरीर में एंटीबॉडी रहती है। उसके बाद यह कम होने लगती है। यानी शरीर में एंटीबॉडी लेवल बनाए रखने के लिए आपको बूस्टर डोज लेना होगा।
  • स्टडीज में सामने आया है कि कोरोना के अलग-अलग वैरिएंट्स पर समय के साथ वैक्सीन की इफेक्टिवनेस भी कम होती जाती है। ओमिक्रॉन पर वैक्सीन कितनी इफेक्टिव है, अभी इसकी कोई स्टडी नहीं है। अगर वैक्सीन की इफेक्टिवनेस कम होती है तो बूस्टर डोज देना होगा।

भारत सरकार बूस्टर डोज को लेकर क्या कर रही है?

  • देश की कोविड टास्क फोर्स के चेयरमैन डॉ. एनके अरोड़ा ने कहा है कि सरकार गंभीर रोगियों और कमजोर इम्यूनिटी वाले लोगों के लिए वैक्सीन की एडिशनल डोज (बूस्टर डोज) पर नई पॉलिसी लाने जा रही है।
  • नेशनल टेक्निकल एडवाइजरी ग्रुप (NTAG) इस पॉलिसी को 2 हफ्ते में तैयार करेगा। NTAG देश के 44 करोड़ बच्चों के वैक्सीनेशन के लिए भी नई पॉलिसी लाने जा रहा है।
  • 2 दिसंबर को सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) ने भारत में बूस्टर डोज के रूप में कोवीशील्ड वैक्सीन के लिए ड्रग रेगुलेटर से मंजूरी मांगी है। सीरम इंस्‍टीट्यूट ने वैक्‍सीन की पर्याप्त डोज का हवाला देते हुए बूस्टर डोज के रूप में वैक्सीन के लिए मंजूरी मांगी है।
  • केरल, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और कर्नाटक ने भी केंद्र सरकार से अपील की है कि वो ओमिक्रॉन के खतरे को देखते हुए बूस्टर डोज पर कोई फैसला ले। माना जा रहा है कि 15 दिन के भीतर सरकार बूस्टर डोज पर गाइडलाइन जारी कर सकती है।

तो क्या वैक्सीन की पहली दोनों डोज बेअसर हो चुकी हैं?

नहीं। दरअसल, समय के साथ शरीर में एंटीबॉडी की संख्या कम हो जाती है, इस वजह से ही बूस्टर डोज दिया जाता है। लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि पहले दोनों डोज बेअसर हो गए। बूस्टर डोज आपके शरीर में एंटीबॉडी लेवल को मेंटेन करने का काम करता है।

कहां-कहां दिया जा रहा है बूस्टर डोज?
Our World in Data के मुताबिक, दुनियाभर के 35 से भी ज्यादा देश अपने नागरिकों को बूस्टर डोज दे रहे हैं। अलग-अलग देशों में कोमोर्बिडिटी (एक समय में एक से ज्यादा बीमारियां होना) और अलग-अलग फैक्टर को ध्यान में रखते हुए लोगों को कोरोना वैक्सीन का बूस्टर डोज दिया जा रहा है।

इजराइल
इजराइल सबसे पहला देश है, जिसने बूस्टर डोज देने की शुरुआत की थी। इजराइल जुलाई से ही अपने नागरिकों को वैक्सीन का बूस्टर डोज लगा रहा है। अगस्त में सिर्फ 65 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को ही वैक्सीन का तीसरा डोज दिया जा रहा था, लेकिन फिलहाल 12 से ज्यादा उम्र के लोगों को बूस्टर डोज दिया जा रहा है।

अमेरिका
सितंबर में अमेरिका ने बूस्टर डोज के लिए अप्रूवल दिया था। कहा गया था कि दोनों डोज लगवाने के 6 महीने बाद लोग बूस्टर डोज ले सकेंगे। सितंबर में ये केवल फाइजर की वैक्सीन को ही बूस्टर शॉट के लिए अप्रूवल मिला था, लेकिन फिलहाल तीन वैक्सीन के बूस्टर शॉट लग रहे हैं। जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन के दोनों डोज लगवा चुके लोग 2 महीने बाद ही तीसरा डोज भी लगवा सकते हैं। फिलहाल 18 साल से ज्यादा उम्र को कोई भी अमेरिका में बूस्टर डोज लगवा सकता है।

यूरोप
24 नवंबर को यूरोपियन सेंटर फॉर डिसीज प्रिवेंशन एंड कंट्रोल (ECDC) ने सभी व्यस्कों के लिए बूस्टर डोज रिकमंड किया है। यूरोप के अलग-अलग देश अलग-अलग शर्तों के साथ लोगों को बूस्टर डोज दे रहे हैं। ऑस्ट्रिया, ब्रिटेन, चेक रिपब्लिक, जर्मनी, हंगरी, इटली जैसे कई देश बूस्टर डोज दे रहे हैं।

कनाडा
कनाडा ने नवंबर से बूस्टर डोज देने की शुरुआत की है। यहां पर मॉडर्ना और फाइजर की वैक्सीन के बूस्टर डोज दिए जा रहे हैं। कोमोर्बिडिटी और उम्र के हिसाब से डोज की क्वांटिटी को अलग-अलग रखा गया है। 18 साल से ज्यादा उम्र के सभी लोग फाइजर का बूस्टर डोज लगवा सकते हैं।

क्या सभी को लगाया जा रहा है बूस्टर डोज?

नहीं, अलग-अलग देशों में बूस्टर डोज के लिए अलग-अलग शर्ते हैं। कई देश केवल 40+ उम्र के लोगों को तो कई 18 से ज्यादा उम्र वालों को बूस्टर डोज दे रहे हैं।

  • अमेरिका में कोमोर्बिडिटी और रिस्क वाले एरिया में रहने/काम करने वाले 18+ उम्र के लोग बूस्टर डोज लगवा सकते हैं।
  • ब्रिटेन में केवल उन्हें ही बूस्टर डोज नहीं दिया जा रहा है, जिन्हें पहले दोनों डोज की वजह से गंभीर रिएक्शन हुआ था। बाकी लोगों को बूस्टर डोज लेने की सलाह दी गई है। कोमोर्बिडिटी वाली प्रेग्नेंट महिलाओं को भी बूस्टर डोज दिया जा रहा है।
  • कनाडा में उम्र और कोमोर्बिडिटी के हिसाब से अलग-अलग ग्रुप्स को बूस्टर डोज दिया जा रहा है।
  • इजराइल में 12 साल से ऊपर के सभी लोग बूस्टर डोज के लिए एलिजिबल हैं।
  • जापान ने नवंबर में फाइजर के बूस्टर डोज को मंजूरी दी है। दिसंबर में हेल्थकेयर वर्कर्स को भी बूस्टर डोज देने की शुरुआत हुई है। जनवरी से बुजुर्ग आबादी को बूस्टर डोज दिया जाएगा।

क्या कोरोना को रोकने में बूस्टर डोज कारगर है?

  • इजराइल में बूस्टर डोज की इफेक्टिवनेस को लेकर एक स्टडी की गई थी। 7.28 लाख लोगों पर की गई इस स्टडी में सामने आया था कि वैक्सीन का बूस्टर डोज कोरोना की वजह से हॉस्पिटलाइजेशन रोकने में 93% कारगर है। साथ ही कोरोना के गंभीर लक्षणों को रोकने में भी 92% इफेक्टिव है।
  • वैक्सीन के दोनों डोज लगवाने के 5-6 महीने बाद एंटीबॉडी लेवल में कमी आने लगती है। इंग्लैंड में फाइजर वैक्सीन की इफेक्टिवनेस को लेकर की गई स्टडी में सामने आया था कि दूसरा डोज लगवाने के 2 हफ्ते तक वैक्सीन इंफेक्शन को रोकने में 90% कारगर है, लेकिन 5 महीने बाद केवल 70% ही कारगर रह जाती है। इसी स्टडी में मॉडर्ना वैक्सीन की इफेक्टिवनेस भी समय के साथ कम होती गई थी।

बूस्टर डोज पर WHO का क्या कहना है?
बूस्टर डोज पर WHO का रुख देशों के विपरीत रहा है। नवंबर में WHO चीफ ने कहा था कि बूस्टर डोज एक धांधली है और इसे रुकना चाहिए। जो देश लोगों को बूस्टर डोज दे रहे हैं, वे इसकी बजाय गरीब देशों को वैक्सीन डोनेट करें।

क्या बूस्टर डोज से किसी तरह के रिएक्शन को कोई मामला सामने आया है?
नहीं। दुनिया में अभी तक ऐसा कोई मामला सामने नहीं आया है। हालांकि, बूस्टर डोज देने के बाद आपको हल्का बुखार, सिर दर्द, बदन दर्द जैसे सामान्य लक्षण दिखाई दे सकते हैं।