परमाणु हमले से बचाएगी आयोडीन की छोटी गोली:अमेरिका ने 2,388 करोड़ में खरीदी, बाइडेन बोले- दुनिया आखिरी जंग के करीब

4 महीने पहलेलेखक: अनुराग आनंद

2 अक्टूबर 2022 को अमेरिकी सरकार ने 2,389 करोड़ रुपए की आयोडीन दवा खरीदने का ऐलान किया। अमेरिका के इतिहास में पहली बार एक साथ इतनी ज्यादा आयोडीन गोली की खरीदारी हुई है।

बाइडेन सरकार ने गोली खरीदने की सफाई में कहा है कि केमिकल, बायोलॉजिकल, रेडियोलॉजिकल और न्यूक्लियर हमले से बचने के लिए ये दवाइयां खरीदी गई हैं।

सिर्फ अमेरिका ही नहीं, यूरोप में भी बढ़ी एंटी रेडिएशन दवा की मांग
सिर्फ अमेरिका ही नहीं, यूरोप में भी तेजी से परमाणु दवाओं की बिक्री बढ़ी है। रूस और यूक्रेन से सटे देश पोलैंड की राजधानी वॉरसॉ में इस तरह की दवाइयों के वितरण के लिए 600 से ज्यादा डिस्ट्रीब्यूशन सेंटर बनाए गए हैं।

  • पोलैंड के सभी 16 प्रोविंस में इस तरह के डिस्ट्रीब्यूशन सेंटर बनाए गए हैं। मालोपोल्स्का प्रांत में 34 लाख आबादी के लिए सरकार ने 55 लाख आयोडीन की गोलियां भेजी हैं। पोमेरानिया में 23 लाख आबादी के लिए 40 लाख गोलियों का स्टॉक रखा गया है।
  • कमोबेश यही हाल ब्रिटेन का भी है। ऑक्सफोर्ड हेल्थ कंपनी ने बताया है कि यहां पोटैशियम आयोडाइड 150mg दवा की बिक्री काफी तेजी से बढ़ी है। दवा से जुड़ी जानकारी के लिए अक्टूबर की शुरुआत में कंपनी की वेबसाइट पर अचानक से पेज व्यूज में 15,000% की बढ़ोतरी हुई है।
  • यूरोपियन यूनियन ने भी प्रेस रिलीज कर यूक्रेन को 55 लाख पोटैशियम आयोडाइड की गोली भेजने की बात कही है।
  • रूस-यूक्रेन जंग शुरू होने के बाद फिनलैंड में मार्च 2022 में एक सप्ताह में 90 हजार से ज्यादा पैकेट पोटैशियम आयोडाइड की दवा बिक रही थीं। पुतिन और बाइडेन के बयान के बाद एक बार फिर से यहां आयोडीन दवा की बिक्री में वृद्धि हुई है।

अचानक अमेरिका और यूरोप को इतनी बड़ी संख्या में एंटी रेडिएशन दवा की जरूरत क्यों पड़ गई?

इसे समझने के लिए रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के 24 सितंबर 2022 के बयान की 4 बातों को जानना होगा…

1. पुतिन ने कहा, ‘हम निश्चित रूप से रूस और अपने लोगों की रक्षा के लिए अपने सभी खतरनाक हथियारों का इस्तेमाल करेंगे।’

2. उन्होंने कहा कि हमारे पास दुनियाभर में तबाही मचाने वाले सबसे खतरनाक हथियार हैं।

3. रूसी राष्ट्रपति ने इसे सेकेंड वर्ल्ड वॉर के बाद रूस की सबसे बड़ी सैन्य लामबंदी बताया है। मकसद- यूक्रेन से हर हाल में जंग जीतना और पश्चिमी देशों को जवाब देना है।

4. पुतिन ने कहा कि पश्चिमी देश किसी झांसे में नहीं रहे, यह कोई गीदड़ भभकी नहीं है।

पुतिन के बयान के 13 दिन बाद जो बाइडेन ने किया जबरदस्त पलटवार
व्लादिमीर पुतिन के बयान के 13 दिन बाद 7 अक्टूबर 2022 को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने जबरदस्त पलटवार किया। उन्होंने कहा, ‘दुनिया आखिरी जंग के करीब पहुंच गई है।’ उनके इस बयान के बाद ही परमाणु जंग को लेकर चर्चा तेज हो गई है।

जो बाइडेन के बयान से ठीक 5 दिन पहले अमेरिकी सरकार ने आयोडीन गोली की खरीदारी करने का ऐलान किया है। अमेरिकी सरकार इस दवा की खरीदारी बायोशिल्ड एक्ट के तहत कर रही है। दरअसल, 2004 में अमेरिकी संसद ने ये कानून बनाया था। इसके तहत रसायनिक और परमाणु हमले से बचने के लिए अगले 10 साल में दवाओं पर 41 हजार करोड़ रुपए खर्च करने का प्लान तैयार किया गया था।

अब सबसे जरूरी सवाल कि परमाणु हमले से छोटी आयोडीन की गोली कैसे बचाएगी…..

परमाणु विस्फोट होते ही हवा में तैरने लगता है रेडियोएक्टिव आयोडीन
किसी क्षेत्र में परमाणु विस्फोट होते ही हवा में रेडियोएक्टिव आयोडीन तैरने लगता है। इस आयोडीन का रासायनिक नाम I-131 होता है। रेडियोएक्टिव आयोडीन को न तो देख सकते हैं, न सूंघ सकते हैं और न ही इसके स्वाद का पता चलता है।

ऐसे में रेडियोएक्टिव आयोडीन सांस के जरिए या स्किन के जरिए शरीर में प्रवेश करता है। इसकी वजह से 5 तरह का असर लोगों के शरीर में देखने को मिलते हैं…

1. थायरॉयड कैंसर

2. गले व शरीर के दूसरे हिस्सों में ट्यूमर

3. ल्यूकेमिया

4. आंखों की बीमारी

5. मेंटल डिसऑर्डर

इतना ही नहीं परमाणु ब्लास्ट होने के बाद इस केमिकल के संपर्क में आने वाले लोगों की कुछ ही घंटों में मौत हो सकती है। इसी वक्त काम आती है आयोडीन की दवा।

एंटी-रेडिएशन दवा शरीर में I-131 को प्रवेश करने से रोककर बचाती है जान
I-131 से लोगों की जान बचाने का काम आयोडीन दवा करती है। इस दवा को 2 केमिकल पोटैशियम और आयोडीन को मिलाकर बनाया गया है। इसे पोटैशियम आयोडाइड भी कहा जाता है। यह दवा 3 तरह से हमले की स्थिति में लोगों की जान बचाती है..

पहला: अमेरिकी की सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन यानी CDC का कहना है कि पोटैशियम आयोडाइड दवा में नॉन-रेडियोएक्टिव आयोडीन काफी ज्यादा मात्रा में होती है। ऐसे में इस दवा के खाने के बाद ये और ज्यादा आयोडीन शरीर के अंदर प्रवेश करने से रोकती है।

दूसरा: परमाणु विस्फोट के बाद हवा में तैर रहा I-131 अगर शरीर के अंदर चला जाए, तो इससे थायरॉयड ग्लैंड में टिश्यूज बन जाता है। इसे खत्म करने का काम ये दवा करती है।

तीसरा: आयोडीन-131 के शरीर में प्रवेश करते ही कई अंगों में ट्यूमर बनने लगते हैं। ये दवा इस ट्यूमर को खत्म करने का काम करती है।

पोटैशियम आयोडाइड दवा परमाणु हमले से बचाने में 100% सुरक्षित है?
एंटी-रेडिएशन दवा यानी पोटैशियम आयोडाइड भी परमाणु हमले की स्थिति में 100% सुरक्षित नहीं है। CDC के मुताबिक, ‘दवा का प्रभाव इस बात पर निर्भर करता है कि विस्फोट के बाद शरीर में कितना रेडियोएक्टिव आयोडीन प्रवेश करता है।’

ये दवा 40 साल से कम उम्र के लोगों को सजेस्ट की जाती है। गर्भवती और बच्चों को दूध पिलाने वाली महिलाएं भी ये दवा ले सकती हैं।

पोटैशियम आयोडाइड शरीर में रेडियोएक्टिव आयोडीन के शरीर के अंदर जाने से होने वाले खतरे से तो लोगों की जान बचाती है, लेकिन ये परमाणु विस्फोट के बाद निकलने वाले दूसरे तरह के रेडिएशन से नहीं बचाती है।

11 साल में 2 बार पोटैशियम आयोडाइड दवा का हुआ है इस्तेमाल
पिछले 11 सालों में दुनिया में 2 बार पोटैशियम आयोडाइड दवा का इस्तेमाल हुआ है…

पहला: 1986 में उत्तरी यूक्रेन के प्रिपायत में चेर्नोबिल न्यूक्लियर प्लांट में विस्फोट हुआ था। तब हिरोशिमा में परमाणु हमले से निकले रेडिएशन के मुकाबले चेर्नोबिल में 400 गुना ज्यादा रेडिएशन हुआ था। तब लोगों की जान बचाने के लिए पोटैशियम आयोडाइड टैबलेट बांटे गए थे।

दूसरा: 2011 में जापान में आए भूकंप और सुनामी की वजह से फुकुशिमा न्‍यूक्लियर पॉवर प्‍लांट को नुकसान हुआ था। इस समय जापान के लोगों ने जान बचाने के लिए ये दवा खरीदी थी। सिर्फ जापान ही नहीं, अमेरिका में भी तब आयोडीन दवा की बिक्री बढ़ी थी।

आपने पूरी खबर पढ़ ली है तो अब इस पोल में हिस्सा लीजिए...

भास्कर एक्सप्लेनर के कुछ और ऐसे ही नॉलेज बढ़ाने वाले आर्टिकल नीचे लिंक पर क्लिक करके पढ़ सकते हैं...

1. EWS रिजर्वेशन पर सुप्रीम बहस:वकील बोले- सवर्णों को आरक्षण संविधान के सीने में छुरा घोंपने जैसा; SC ने कहा- जांचेंगे सही है या गलत

शिक्षा और सरकारी नौकरी में आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों को 10% EWS रिजर्वेशन मिलना चाहिए या नहीं, ये इन दिनों देश में बहस का हॉट टॉपिक बना हुआ है। 13 सितंबर, 14 सितंबर और 15 सितंबर को इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट में तीखी बहस हुई। इस दौरान संविधान, जाति, सामाजिक न्याय जैसे शब्दों का भी जिक्र हुआ। भास्कर एक्सप्लेनर में इस विषय पर सुप्रीम कोर्ट में चली बहस की रोचक दलीलें और न्यायाधीशों की सख्त टिप्पणियां पेश कर रहे हैं। ( पढ़िए पूरी स्टोरी)

2. क्या यूक्रेन से भाग रहा है रूस:जाल बिछाकर यूक्रेन ने छीना 6,000 वर्ग किमी इलाका, एक के मुकाबले उतारे 8 सैनिक

05 सितंबर: उत्तर-पूर्व यूक्रेन में खार्किव प्रांत पर दोबारा कब्जे के लिए यूक्रेन ने काउंटर अटैक किया।

11 सितंबर: यूक्रेन ने खार्किव प्रांत के शहरों बालाक्लीया, कूपियांस्क और इजियम पर दोबारा कब्जा जमाया।

ये दोनों खबरें इसी महीने की हैं। 24 फरवरी को यूक्रेन के खिलाफ युद्ध शुरू होने के बाद से ये रूसी सेना के लिए सबसे बड़ा झटका है।

भास्कर एक्सप्लेर में जानते हैं कि आखिर कैसे यूक्रेन ने किया पलटवार और इसमें कैसे अमेरिका और पश्चिमी देशों के हथियार कर रहे हैं मदद... (पूरी खबर यहां पढ़ें)