क्या यूक्रेन से भाग रहा है रूस:जाल बिछाकर यूक्रेन ने छीना 6,000 वर्ग किमी इलाका

15 दिन पहलेलेखक: अभिषेक पाण्डेय

05 सितंबर: उत्तर-पूर्व यूक्रेन में खार्किव प्रांत पर दोबारा कब्जे के लिए यूक्रेन ने काउंटर अटैक किया।
11 सितंबर: यूक्रेन ने खार्किव प्रांत के शहरों बालाक्लीया, कूपियांस्क और इजियम पर दोबारा कब्जा जमाया।
ये दोनों खबरें इसी महीने की हैं। 24 फरवरी को यूक्रेन के खिलाफ युद्ध शुरू होने के बाद से ये रूसी सेना के लिए सबसे बड़ा झटका है।

भास्कर एक्सप्लेर में जानते हैं कि कैसे यूक्रेन ने पलटवार कर रूस से छीना 6 हजार वर्ग किलोमीटर का इलाका और कैसे अमेरिका और पश्चिमी देशों के हथियार रहे मददगार...

यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की ने अपने बयान में कहा है- 'सितंबर की शुरुआत से हमारे सैनिकों ने पूर्वी और दक्षिण यूक्रेन में करीब 6 हजार किलोमीटर का इलाका आजाद करा लिया है। हम और आगे बढ़ रहे हैं।'

दरअसल यूक्रेन ने सबसे बड़ा पलटवार उत्तर पूर्वी यूक्रेन के खार्किव प्रांत में किया है। उसने बालाक्लीया, कूपियांस्क और इजियम शहरों पर फिर से कब्जा जमा लिया है।

11 सितंबर को रूस के सरकारी चैनल रशियन स्टेट टीवी ने माना था कि खार्किव में दुश्मन सेनाओं की भारी तादाद की वजह से रूसी सेनाओं को पीछे हटना पड़ा। यूक्रेन ने इन शहरों पर कब्जा जमा लिया है। इससे पहले रूस ने कूपियांस्क और इजियम से अपनी सेना के पीछे हटने पर कहा था कि उसने अपनी सेना खेरसॉन भेजी है।

कूपियांस्क और इजियम पर यूक्रेन का कब्जा अहम है। डोनबास में रूसी सेना की सप्लाई के लिए ये दोनों हब माने जाते हैं। इतना ही नहीं यूक्रेन ने डोनबास के लाइमैन में भी रूस के खिलाफ जोरदार मोर्चा खोल रखा है।

मैप के जरिए देखिए यूक्रेन ने किन इलाकों पर किया कब्जा

कुछ रिपोर्ट्स के अनुसार यूक्रेन ने सितंबर महीने में ही करीब 9 हजार वर्ग किलोमीटर इलाका रूस से छीन लिया है।
कुछ रिपोर्ट्स के अनुसार यूक्रेन ने सितंबर महीने में ही करीब 9 हजार वर्ग किलोमीटर इलाका रूस से छीन लिया है।

यूक्रेन की इस कामयाबी से रूस के पूर्वी यूक्रेन यानी डोनबास इलाके पर कब्जे की योजना को भी झटका लगा है। 2014 से ही डोनबास के लुहांस्क और डोनेट्स्क के एक बड़े इलाके पर रूसी समर्थित अलगाववादियों का कब्जा है।

इस जंग में रूस को सबसे ज्यादा कामयाबी डोनबास इलाके में ही मिली है, लेकिन यूक्रेन के हालिया जवाबी हमले ने उसके मिशन की रफ्तार रोक दी है। यूक्रेन ने दक्षिण में खेरसॉन में भी रूसी सेना के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है। वहां दोनों के बीच जंग जारी है। अप्रैल में राजधानी कीव से रूसी सेना को पीछे धकेलने के बाद ये यूक्रेन की सबसे बड़ी कामयाबी है।

यूक्रेनी राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की यूक्रेन के खार्किव प्रांत में रूस से इजियम शहर को छुड़ाने के बाद 14 सितंबर को अपने सैनिकों से मिलने पहुंचे।
यूक्रेनी राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की यूक्रेन के खार्किव प्रांत में रूस से इजियम शहर को छुड़ाने के बाद 14 सितंबर को अपने सैनिकों से मिलने पहुंचे।

यूक्रेन का पलटवार, जेलेंस्की की सेना की चाल को भांप नहीं पाया रूस

द इकोनॉमिस्ट की रिपोर्ट के मुताबिक, यूक्रेन ने पिछले कुछ दिनों से खेरसॉन इलाके में रूस के खिलाफ जबर्दस्त जंग छेड़ रखी है। वहां भारी संख्या में अपने सैनिकों की तैनाती की है। रूस को लगा कि यूक्रेन का एकमात्र मकसद फिलहाल खेरसॉन पर फिर से कब्जा करना है। इसलिए उसने पूर्वी यूक्रेन में खार्किव इलाके से अपनी ज्यादातर सेनाओं को हटाकर उन्हें दक्षिण में खेरसॉन की ओर भेज दिया।

इसके बाद यूक्रेन ने एक और चाल चली और खार्किव इलाके से HIMARS रॉकेट लॉन्चर्स जैसे अपने घातक हथियारों की संख्या घटा दी और उनकी जगह टैंक तैनात कर दिए।

इस तरह रूस यूक्रेन की चाल में फंस गया और उसका पूरा फोकस खेरसॉन की तरफ हो गया। इसके बाद रणनीति के तहत ही यूक्रेन ने खार्किव इलाके में रूस के खिलाफ जबर्दस्त हमला बोल दिया।

इस अचानक हमले के लिए रूसी सेनाएं तैयार ही नहीं थीं। साथ ही उनकी संख्या भी यूक्रेनी सैनिकों से काफी कम थी। नतीजा- महज 15 दिनों के अंदर यूक्रेन ने खार्किव के करीब 6 हजार वर्ग किलोमीटर से ज्यादा इलाके पर कब्जा जमा लिया।

BBC के मुताबिक, रूसी सेना के एक अधिकारी विटैली गैंचेव ने कहा- 'यूक्रेनी सेनाओं के जवाबी हमले में रूसी सेनाएं कम पड़ गई थीं। इस हमले में एक रूसी सैनिक के मुकाबले 8 यूक्रेनी सैनिक थे।'

कई एनालिस्ट का मानना है कि रूसी सेना ने खार्किव में अहम ठिकानों को खुला छोड़ दिया और अपनी सेना को खेरसॉन में भेजने की रणनीतिक गलती की।

एक अमेरिकी हथियार, जो यूक्रेन के लिए साबित हो रहा गेमचेंजर

जंग की शुरुआत से ही अमेरिका और पश्चिमी देशों ने यूक्रेन की मदद की है। अमेरिका का एक हथियार हाल के दिनों में यूक्रेन के लिए गेमचेंर साबित हुआ है। इस हथियार का नाम है HARM.

  • अमेरिका ने AGM-88 हाई स्पीड एंटी-रेडिएशन मिसाइल यानी HARM को 1980 के दशक में दुश्मन के रडार को नष्ट करने के लिए डेवलेप किया था।
  • HARM यानी एंटी-रेडिएशन मिसाइल HARM। ये एक एयर-टु-सरफेस मिसाइल है, जो रूसी एयर डिफेंस रडार को तबाह कर रही है।
  • इसे एयरक्राफ्ट से लॉन्च किया जाता है। यह दुश्मन के रडार सिस्टम को भेदने और तबाह करने में सक्षम है।
  • यह अपने लक्ष्य को खोजने और उसे खत्म करने के लिए दुश्मन के रडार से निकलने वाली रेडिएशन को डिटेक्ट करती है।
  • ये दुश्मन सेना के रडार सिस्टम को बंद होने के बाद भी उनका पता लगाने और उन पर हमला करने में सक्षम हैं।
  • HARM के वारहेड को दुश्मन के रडार को नुकीले छर्रों से भरने के लिए डिजाइन किया गया है, जिससे रडार इनएक्टिव हो जाता है।
  • ये मिसाइलें रूस के बेहतरीन माने जाने वाले S-400 एयर डिफेंस सिस्टम के लिए बड़ा खतरा बनकर उभरी हैं।
  • इनसे बचने के लिए रूसी सेना अपने रडार को बंद रख रही है। रडार के बंद होने का फायदा यूक्रेनी एयरफोर्स को मिल रहा है। वे पहले की तुलना में ज्यादा आजादी से उड़ान भरते हुए रूसी सेना पर हमला बोल पा रहे हैं।
  • हवा से जमीन पर मार करने वाली करीब 350 किलोग्राम वजन वाली HARM मिसाइल की रेंज 100-150 किमी तक है।
  • अमेरिका इसका इस्तेमाल लीबिया, इराक और युगोस्लोविया में कर चुका है।
  • शुरू में HARM की यूक्रेन में मौजूदगी से एक्सपर्ट्स हैरान रह गए थे, क्योंकि यूक्रेनी एयरफोर्स रूस में बने विमान उड़ाती है, जोकि अमेरिकी हथियारों के लिए लिहाज से नहीं बने हैं। HARM मिसाइल को आमतौर पर केवल F-16 या F-18 जैसे अमेरिकी फाइटर प्लेन में ही लगाया जा सकता है।
  • यूक्रेनी इंजीनियर कुछ टेक्निकल मोडिफिकेशन के साथ HARM मिसाइल को रूसी फाइटर प्लेन मिग-29 और सुखोई-27s में लगाने में कामयाब रहे। इन मिसाइलों ने ही यूक्रेन को रूस के खिलाफ हाल में जबर्दस्त कामयाबी दिलाने में अहम भूमिका निभाई है।

यूक्रेन में हार रहा है रूस? पुतिन के समर्थक भी उठाने लगे सवाल

यूक्रेन में रूसी सेना को मिली हालिया मात के बाद रूस के कट्टर समर्थक भी अपनी सेना की रणनीति पर सवाल उठा रहे हैं। रूस के सोशल मीडिया चैनलों में अपनी सेना की आलोचनाओं से भरे कमेंट्स की बाढ़ सी आ गई है। रूसी समर्थक अपनी सेना पर गलतियां करने के आरोप लगा रहे हैं।

रूस समर्थक और चेचेन्या के ताकतवर नेता रमजान कादिरोव ने कहा-’अगर जल्द ही रणनीति में कोई बदलाव नहीं किया जाता है, तो मैं डिफेंस मिनिस्ट्री के नेताओं और देश की लीडरशिप से बात करने के लिए मजबूर हो जाऊंगा।

2014 में डोनबास में रूस के आक्रमण की अगुवाई करने वाले एक रूसी समर्थक इगोर गिरकिन ने इस जंग में रूस की हार की भविष्यवाणी कर दी है। गिरकिन का कहना है, 'हम पहले ही हार चुके हैं, बाकी बस समय की बात है।'

कई रूसी समर्थक यूक्रेन में हालिया झटकों के लिए सीधे तौर पर रूसी जनरल्स, रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगु और पुतिन को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं।
कई रूसी समर्थक यूक्रेन में हालिया झटकों के लिए सीधे तौर पर रूसी जनरल्स, रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगु और पुतिन को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं।

पश्चिमी देशों के घातक हथियारों के दम पर रूस को टक्कर दे रहा यूक्रेन

HIMARS रॉकेट लॉन्चर सिस्टम: एनालिस्ट के मुताबिक, यूक्रेन को लॉन्ग रेंज रॉकेट्स की जरूरत थी, इसीलिए अमेरिका ने यूक्रेन को दर्जनों HIMARS दिए हैं। यूक्रेन के लिए ये हथियार बेहद मारक साबित हुए हैं।

रूस के खिलाफ यूक्रेन के लिए HIMARS रॉकेट लॉन्चर सिस्टम ने अहम भूमिका निभाई है।
रूस के खिलाफ यूक्रेन के लिए HIMARS रॉकेट लॉन्चर सिस्टम ने अहम भूमिका निभाई है।

M77 होवित्जर तोप: जुलाई में ऑस्ट्रेलिया, कनाडा और अमेरिका ने 100 से ज्यादा M77 होवित्जर तोपें यूक्रेन को भेजी हैं। हालांकि अभी यूक्रेन इस तोप के गोला-बारूद की कमी से जूझ रहा है।

यूक्रेन को मिलीं M777 तोपों की रेंज रूसी Giatsint-B howitzer तोपों के बराबर और रूसी D-30 तोपों से ज्यादा है।
यूक्रेन को मिलीं M777 तोपों की रेंज रूसी Giatsint-B howitzer तोपों के बराबर और रूसी D-30 तोपों से ज्यादा है।

TB2 ड्रोन: तुर्की के दिए ये हथियार यूक्रेन के सबसे मारक हथियारों में शामिल रहे हैं। इन ड्रोन की मदद से यूक्रेन ने रूसी सेना के हेलिकॉप्टरों, नेवी जहाजों और मिसाइल सिस्टम तक को तबाह किया है। इस ड्रोन का इस्तेमाल रूसी सेना का सटीक लोकेशन पता लगाकर उन पर हमले में भी किया गया है।

यूक्रेन को मिले TB2 ड्रोन करीब 25,000 फीट ऊंचाई पर उड़ान भरते हुए लेजर-गाइडेड बमों के साथ रूसी ठिकानों पर हमला करने में बेहद प्रभावी रहे हैं।
यूक्रेन को मिले TB2 ड्रोन करीब 25,000 फीट ऊंचाई पर उड़ान भरते हुए लेजर-गाइडेड बमों के साथ रूसी ठिकानों पर हमला करने में बेहद प्रभावी रहे हैं।

T-72M1 टैंक: यूक्रेन को पोलैंड और चेक रिपब्लिक से 230 से ज्यादा टैंक मिले हैं। यूक्रेन की सेना दशकों से T-72S टैंकों का इस्तेमाल कर रही है, इसलिए इन टैंकों के इस्तेमाल में उसे महारत हासिल है।

पोलैंड से मिले इस टैंक के वैकल्पिक हथियार के रूप में यूक्रेन को ब्रिटेन ने चैलेंजर-2 टैंक दिए हैं।
पोलैंड से मिले इस टैंक के वैकल्पिक हथियार के रूप में यूक्रेन को ब्रिटेन ने चैलेंजर-2 टैंक दिए हैं।

Nlaw लाइट एंटी-टैंक वेपन: ब्रिटेन ने यूक्रेन को कंधे से दागे जाने वाले 5 हजार Nlaw एंटी-टैंक वेपन दिए हैं। इससे एक ही शॉट में कई टैंक तबाह किए जा सकते हैं।

Nlaw लाइट एंटी-टैंक हथियारों ने युद्ध की शुरुआत में रूसी सेनाओं को राजधानी कीव की ओर बढ़ने से रोकने में यूक्रेन के लिए अहम भूमिका निभाई थी।
Nlaw लाइट एंटी-टैंक हथियारों ने युद्ध की शुरुआत में रूसी सेनाओं को राजधानी कीव की ओर बढ़ने से रोकने में यूक्रेन के लिए अहम भूमिका निभाई थी।

S-300 एयर डिफेंस सिस्टम: यूक्रेन को ये हथियार स्लोवाकिया ने दिए हैं। साथ ही अमेरिका ने उसे NASAMS नाम एडवांस्ड सरफेस-टु-एयर मिसाइल सिस्टम भी दिया है।

S-300 एयर डिफेंस की मदद से यूक्रेन, रूस को यूक्रेनी एयरस्पेस पर फुल कंट्रोल नहीं करने देने में सफल रहा है।
S-300 एयर डिफेंस की मदद से यूक्रेन, रूस को यूक्रेनी एयरस्पेस पर फुल कंट्रोल नहीं करने देने में सफल रहा है।

आपने खबर पढ़ ली, चलिए अब एक पोल में हिस्सा लेते हैं:

भास्कर एक्सप्लेनर के कुछ और ऐसे ही नॉलेज बढ़ाने वाले आर्टिकल नीचे लिंक पर क्लिक करके पढ़ सकते हैं...

1. 70 साल बाद भारत में चीतों की वापसी:छोटा सिर-बड़े नथुने, 3 सेकेंड में पकड़ता है 96 किमी/घंटे की रफ्तार; कैसे काम करता है शिकार मशीन

2. भारत बना रहा इलेक्ट्रिक हाईवे, दौड़ती गाड़ियां हो जाएंगी चार्ज:दिल्ली-जयपुर हाईवे और यमुना एक्सप्रेसवे पर ट्रायल; 5 सवालों में सब कुछ

3. ज्ञानवापी मस्जिद की पहली लड़ाई में हिंदू पक्ष जीता:काशी विश्वनाथ को चार बार तोड़ा गया, अवशेषों पर खड़ी हुई मस्जिद; जानिए पूरा विवाद

4. कभी ब्रिटिश साम्राज्य में सूरज ही नहीं डूबता था:3.5 करोड़ वर्ग किमी पर कब्जा था, अब उसका 1% भी नहीं बचा

खबरें और भी हैं...