पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Db original
  • Explainer
  • So Far 100 Players Of The Country Have Qualified In The Olympics; More Than One Medal Can Come In Shooting, Wrestling And Boxing

भास्कर एक्सप्लेनर:टोक्यो ओलिंपिक में अब तक देश के 100 प्लेयर्स ने क्वॉलीफाई किया; शूटिंग, रेसलिंग और बॉक्सिंग में आ सकते हैं एक से ज्यादा मेडल

2 महीने पहलेलेखक: जयदेव सिंह

टोक्यो ओलिंपिक को महज 49 दिन रह गए हैं। अब तक 14 इवेंट्स में 100 भारतीय खिलाड़ी इन खेलों के लिए क्वॉलीफाई कर चुके हैं। आने वाले दिनों में कुछ और खिलाड़ी भी क्वॉलीफाई कर सकते हैं। इनमें वेटलिफ्टिंग जैसे खेल शामिल हैं। जिसमें भारत की मीराबाई चानू पदक की दावेदार भी हैं।

ओलिंपिक से भारत को कितनी उम्मीद है? अब तक किन-किन खेलों में कौन से भारतीय खिलाड़ी ओलिंपिक के लिए क्वॉलीफाई कर चुके हैं? किन खेलों में भारत को पदक की उम्मीद है और क्यों? आइए जानते हैं...

इस बार के ओलिंपिक का आयोजन 23 जुलाई से 8 अगस्त तक होना है। हालांकि सॉफ्टबॉल और महिला फुटबॉल जैसे कुछ खेल 23 को होने वाली ओपनिंग सेरेमनी से दो दिन पहले 21 जुलाई से से ही शुरू हो जाएंगे। 23 जुलाई को इनॉगरेशन सेरेमनी होगी। ज्यादातर इवेंट्स 24 जुलाई से शुरू होंगे।

अब तक कितने भारतीय खिलाड़ी कर चुके हैं क्वॉलीफाई?

अब तक 14 इवेंट्स में 100 खिलाड़ी ओलिंपिक के लिए क्वॉलीफाई कर चुके हैं। इनमें 56 पुरुष और 44 महिलाएं हैं। महिला और पुरुष हॉकी के 16-16 खिलाड़ियों के बाद सबसे ज्यादा 15 खिलाड़ी शूटिंग के लिए क्वॉलीफाई हुए हैं। इनमें 8 पुरुष और 7 महिलाएं हैं। इसके बाद एथलेटिक्स में 14 खिलाड़ी क्वॉलीफाई हुए हैं। एथलेटिक्स में जेवलिन थ्रो में नीरज चोपड़ा और शिवपाल सिंह पदक की सबसे बड़ी उम्मीद हैं।

शूटिंग में सौरभ, मनु और इलावेनिल से पदक की उम्मीद

टोक्यो में भारत के रियो से बेहतर करने की उम्मीदें सबसे ज्यादा शूटिंग पर टिकी हैं। इस बार देश के 15 शूटर्स की टीम ओलिंपिक में जा रही है। ये भारत का अब तक का सबसे बड़ा शूटिंग दल होगा। इससे पहले सबसे बड़ा दल 2016 के रियो ओलिंपिक में भेजा गया था। तब 12 शूटर्स का दल रियो गया था।

इस टीम में अंगद बाजवा, सौरभ चौधरी, मेराज खान, दीपक कुमार, दिव्यांश पवार, संजीव राजपूत, ऐश्वर्य तोमर, अभिषेक वर्मा, मनु भाकर, यशस्विनी देसवाल, अपूर्वी चंदेला, राही सरनोबत, अंजुम मौदगिल, तेजस्विनी सावंत और इलावेनिल वालारिवन शामिल हैं।

10 मीटर एयर पिस्टल में भारत के अभिषेक वर्मा और सौरभ चौधरी वर्ल्ड रैंकिंग में टॉप थ्री में हैं। इसी इवेंट में यशस्विनी देसवाल और मनु भाकर महिलाओं में वर्ल्ड नंबर एक और दो है। ऐसे में इस इवेंट में भारत को एक से ज्यादा पदक की उम्मीद है। महिलाओं के 25 मीटर पिस्टल इवेंट में भी मनु भाकर और राही सरनोबत वर्ल्ड नंबर दो और तीन हैं। इस इवेंट में भी भारत को पदक की उम्मीद है। हालांकि इस इवेंट में वर्ल्ड नंबर वन और भारत को कोटा दिलाने वाली चिंकी यादव को टीम में नहीं चुने जाने से विवाद भी हुआ था। 50 मीटर राइफल थ्री पोजिशन में ऐश्वर्य प्रताप सिंह तोमर इस वक्त वर्ल्ड रैंकिग में नंबर वन हैं। तो 10 मीटर एयर राइफल में दिव्यांश सिंह पवार वर्ल्ड नंबर तीन हैं। इसी इवेंट में महिलाओं में इलावेनिल वालारिवन से भी पदक की उम्मीद है। जिन्हें चिंकी यादव की जगह टीम में शामिल किया गया है।

रेसलिंग में बजरंग और विनेश सबसे बड़ी उम्मीद

पिछले तीन ओलिंपिक से रेसलिंग भारत का सबसे सफल स्पोर्ट्स रहा है। इस खेल में अब तक देश को एक सिल्वर और चार ब्रॉन्ज समेत कुल 5 पदक मिल चुके हैं। इस बार भी इसमें पदक की उम्मीदें हैं। शूटिंग की तरह रेसलिंग में भी 8 खिलाड़ियों का अब तक का सबसे बड़ा दल ओलिंपिक में जा रहा है। इससे पहले 2016 में रियो में 7 रेसलर गए थे।

इस बार रवि कुमार दहिया, बजरंग पूनिया, दीपक पूनिया, सुमित मलिक, सीमा बिस्ला, विनेश फोगाट, अंशु मलिक और सोनम मलिक टोक्यो जा रहे हैं। इनमें बजरंग पूनिया, विनेश फोगाट और दीपक पूनिया वर्ल्ड रैंकिंग में टॉप थ्री में शामिल हैं। इन तीनों से पदक की उम्मीद की जा रही है।

बजरंग ने पिछले तीन साल से लगातार अच्छा प्रदर्शन किया है। वो पदक के सबसे बड़े दावेदार हैं। वहीं, 2016 के रियो ओलिंपिक में मिली असफलता के बाद विनेश फोगाट के प्रदर्शन में भी बहुत सुधार आया है। उनसे भी इस बार पदक की उम्मीद है।

बॉक्सिंग में भी आ सकते हैं एक से अधिक मेडल

बॉक्सिंग उन खेलों में शामिल है जिनमें भारत ने एक से ज्यादा मेडल जीते हैं। शूटिंग और रेसलिंग के साथ बॉक्सिंग में भी भारत को एक से ज्यादा मेडल की उम्मीद है। शूटिंग और रेसलिंग की तरह बॉक्सिंग में भी अब तक सबसे बड़ा भारतीय दल ओलिंपिक में जा रहा है।

इस बार 9 भारतीय मुक्केबाज अमित पंघाल, विकास यादव, मनीष कौशिक, आशीष कुमार, सतीश कुमार, मैरीकॉम, सिमरनजीत कौर, लवलीना बोरगोहेन और पूजा रानी पोडियम फिनिश के लिए उतरेंगे।

इनमें से अमित पंघाल, मैरीकॉम और पूजा रानी पदक के सबसे बड़े दावेदार हैं।

एथलेटिक्स, बैडमिंटन और हॉकी में भी आ सकता है मेडल

शूटिंग, रेसलिंग और बॉक्सिंग में जहां भारत को एक से ज्यादा मेडल की उम्मीद है वहीं, एथलेटिक्स, बैडमिंटन और हॉकी में भी मेडल मिलने की उम्मीद है। एथलेटिक्स में नीरज चोपड़ा, बैडमिंटन में पीवी सिंधु से पदक की उम्मीद है।

हॉकी में भारतीय पुरुष टीम ने जिस तरह से पिछले तीन साल से प्रदर्शन किया है उससे एक बार फिर से ओलिंपिक मेडल मिलने की उम्मीद की जा सकती है। वेटलिफ्टिंग में मीराबाई चानू देश को इस ओलिंपिक में पहला पदक दिला सकती हैं। हालांकि वेटलिफ्टिंग में क्वॉलीफाई करने वाले खिलाड़ियों की फाइनल लिस्ट आनी अभी बाकी है।

खबरें और भी हैं...