सुपरटेक ट्विन टावर्स की इनसाइड स्टोरी:9 साल तक अदालतों में सुनवाई चली, 181 दिन में सेट हुआ 12 सेकेंड का शो

3 महीने पहलेलेखक: आदित्य द्विवेदी

नोएडा के 32 मंजिला ट्विन टावर्स को ढहा दिया गया है। 28 अगस्त 2022 को घड़ी में दोपहर के 2.30 बजते ही ब्लैक बॉक्स का बटन दबा दिया गया। अगले 12 सेकेंड में 32 मंजिला इमारत में कई धमाके हुए और नोएडा में तनकर खड़ा सुपरटेक ट्विन टावर्स जमींदोज हो गया। ये पढ़ने में भले रोमांचक लग रहा हो, लेकिन यह सबकुछ बहुत ही मुश्किल भरा रहा, क्योंकि...

  • ट्विन टावर्स से महज 9 मीटर दूरी पर हाउसिंग सोसाइटी है, जिसमें 660 परिवार रहते हैं।
  • ट्विन टावर्स से महज 19 मीटर दूरी पर जमीन के नीचे गैस पाइपलाइन जाती है।
  • भारत में इससे पहले इम्प्लोसिव टेक्नीक से इतना बड़ा डिमोलिशन कभी नहीं हुआ था।

हम यहां इस टावर के बनने से लेकर डिमोलिशन तक की पूरी कहानी ग्राफिक्स में जानेंगे..

और धमाके के बाद बचा

  • धूल का गुबार, जिसके कण करीब 4 किमी. तक फैले
  • करीब 60 हजार टन कंक्रीट और लोहे का मलबा फैला
  • एक सबक- कानून से ऊपर कुछ भी नहीं है।

ग्राफिक्सः हर्षराज साहनी, अरविंद पटेल