भास्कर एक्सप्लेनर:यूक्रेन ने कंधे से दागी जाने वाली स्टिंगर मिसाइल से मार गिराए 6 रूसी विमान, भारत के खिलाफ भी हुआ था प्रयोग

9 महीने पहलेलेखक: नीरज सिंह

रैंबो का नाम तो आपने सुना ही होगा। हॉलीवुड सुपर स्टार सिल्वेस्टर स्टैलोन पर फिल्माया वही करैक्टर, जो अफगानिस्तान में रूसी सेना के खिलाफ लड़ता है। इसी दौरान मुजाहिद्दीन कंधे पर रखकर दागी जाने वाली मिसाइल से रूसी हमलावर हेलिकॉप्टरों को मार गिराते हैं।

असल में यह अमेरिकी स्टिंगर मिसाइल हैं। अफगानिस्तान में रूसी सेना की हार में सबसे बड़ी वजह बनी ये मिसाइल यूक्रेन में भी रूसी विमानों के आड़े आ गई हैं। यूक्रेन की सेना ने हमले के पहले ही दिन इन्हीं स्टिंगर मिसाइल के बूते रूसी एयरफोर्स के 5 फाइटर जेट और एक अटैक हेलिकॉप्टर मार गिराए हैं। स्टिंगर मिसाइल ने ही अफगानिस्तान युद्ध के दौरान भी रूस की वायुसेना को काफी नुकसान पहुंचाया था।

वहीं पाकिस्तानी सेना ने 1999 में कारगिल युद्ध में स्टिंगर मिसाइल का इस्तेमाल कर भारतीय वायुसेना के एक एमआई 17 हेलिकाप्टर को मार गिराया था।

ऐसे में आइए जानते हैं कि जेट विमानों और हेलिकॉप्टर के लिए कितनी घातक हैं स्टिंगर मिसाइल? रूस को इस मिसाइल ने कैसे अफगानिस्तान में नुकसान पहुंचाया था।

क्या है स्टिंगर मिसाइल और यह कैसे काम करती है?

  • स्टिंगर कंधे पर रख कर सतह से हवा में मार करने वाली अमेरिकी मिसाइल है। इसे आसानी से एक जगह से दूसरी जगह ले जाया जा सकता है।
  • इसे आसानी से एक जगह से दूसरी जगह ले जाया जा सकता है। 4,800 मीटर दूर हेलिकॉप्टर और जेट विमानों को मार गिराने में सक्षम है यह मिसाइल।
  • स्टिंगर को एक छोटी इजेक्शन मोटर से लॉन्च किया जाता है। स्टिंगर मिसाइल 5 फीट लंबी और 3.9 इंच चौड़ी होती है। मिसाइल का वजन 10 किग्रा होता है और लॉन्च ट्यूब का वजन 5.2 किग्रा होता है।

अफगानिस्तान के युद्ध में स्टिंगर मिसाइल से रूसी वायुसेना को कितना नुकसान हुआ था?

  • अफगान युद्ध के दौरान इस मिसाइल के उपयोग से रूसी वायुसेना के परखच्चे उड़ गए थे। एक्सपर्ट का कहना है कि अफगानिस्तान में रूसी सेना की हार का मुख्य कारण स्टिंगर ही थी।
  • माना जाता है कि अमेरिका ने 1986 से 1988 तक चले अफगान युद्ध के दौरान वहां 1000 स्टिंगर मिसाइलों को रूस के खिलाफ यूज करने के लिए भेजा था।
  • एक्सपर्ट बताते हैं कि इस दौरान अफगानिस्तान की तरफ से 340 स्टिंगर मिसाइलें दागी गई थीं जिसने रूस के 269 विमानों को मार गिराया था।
  • ये प्रदर्शन अमेरिकी मानकों से असामान्य रूप से अधिक था, क्योंकि मिसाइलों के अपने लक्ष्य को सटीक रूप से निशाना बनाने की क्षमता 79% थी।

यूक्रेन के खिलाफ हमले में रूस किन प्रमुख हथियारों का इस्तेमाल कर रहा है?
रूस ने पिछले कई महीनों से यूक्रेन की सीमा पर लगभग 2 लाख सैनिकों को तैनात कर रखा था। यही सैनिक अब यूक्रेन की सीमा में दाखिल हो रही हैं। रूसी सेना के इस जमावड़े में टैंक और गोला-बारुद तो है ही, उन्हें वायुसेना और नौसेना का भी सहयोग मिल रहा है। ऐसे में आइए जानते हैं कि यूक्रेन के खिलाफ हमले में रूस किन प्रमुख हथियारों का यूज कर रहा है...

यदि अमेरिका यूक्रेन का साथ देता है तो किन हथियारों का इस्तेमाल कर सकता है?
अमेरिका ने पूरे यूरोप में अलग-अलग सैन्य बेस पर करीब 1 लाख सैनिक तैनात कर रखे हैं। जर्मनी में यह संख्या 35 हजार के करीब है। इन सैन्य बेस पर अमेरिका ने अपने प्रमुख हथियार भी तैनात कर रखें हैं। ऐसे में यूक्रेन का साथ देने की स्थिति में अमेरिका रूस के खिलाफ अपने इन हथियारों का इस्तेमाल कर सकता है...

खबरें और भी हैं...