हिंदुओं के खिलाफ 10 गुना बढ़े नफरत के मामले:पाक-ईरान से रची जा रही साजिश; दुनियाभर के मंदिरों में तोड़फोड़ की घटनाएं बढ़ीं

2 महीने पहलेलेखक: अनुराग आनंद

इन 2 घटनाओं की हेडलाइन पढ़िए…

  • 15 सितंबर 2022: कनाडा के स्वामी नारायण मंदिर में कुछ लोगों ने तोड़फोड़ की। दीवारों पर भारत विरोधी नारे लिखे।
  • 19 सितंबर 2022: ब्रिटेन के लेस्टर शहर में शिव मंदिर में घुसकर कुछ लोगों ने वहां लगे धार्मिक झंडे को नीचे गिरा दिया। मंदिर में तोड़फोड़ की।

ये दो घटनाएं तो हिंदुओं के खिलाफ नफरत और हिंसा की बस बानगी हैं। दरअसल, पिछले 3 साल में दुनियाभर में हिंदुओं के खिलाफ हिंसा और नफरत के मामलों में 10 गुना तक इजाफा हुआ है। यानी 3 साल पहले अगर इस तरह की 10 घटनाएं होती थीं, तो अब ऐसी घटनाओं की संख्या बढ़कर 100 हो गई है।

ये बात अमेरिका की ‘नेटवर्क कॉन्टेजियन रिसर्च इंस्टीट्यूट’ यानी NCRI ने अपनी रिपोर्ट में बताई है।

आज भास्कर एक्सप्लेनर में NCRI संस्था और उसकी रिपोर्ट में बताई गई मुख्य बातों को जानते हैं….

सबसे पहले इस संस्था के बारे में जानिए…

‘सोशल मीडिया पर यहूदियों से मिलते-जुलते हिंदू विरोधी मीम्स शेयर हो रहे हैं’
NCRI ने जुलाई 2022 में हिंदुओं के खिलाफ सोशल मीडिया के जरिए दुनियाभर में फैलाई जा रही नफरत को लेकर रिसर्च की थी। 21 सितंबर 2022 को वाशिंगटन डीसी में आयोजित कार्यक्रम में NCRI के को-फाउंडर जोएल फिंकेलस्टीन ने इस रिपोर्ट की अहम बातें वहां मौजूद लोगों से शेयर की।

अब उस कार्यक्रम की तस्वीर यहां देख लीजिए…

Source: @hankjohnson
Source: @hankjohnson

ये तस्वीर 21 सितंबर को वॉशिंगटन डीसी में आयोजित उसी कार्यक्रम की है, जिसमें NCRI की रिपोर्ट साझा की गई। इसमें अमेरिकी सांसद हांक जॉनसन ने भी शिरकत की थी, तस्वीर में वे अपनी बात रखते नजर आ रहे हैं।

कार्यक्रम में जोएल फिंकेलस्टीन ने कहा, ‘3 साल में हिंदुओं के खिलाफ 1000% तक दुनियाभर में नफरत की घटना बढ़ी है। सोशल मीडिया पर यहूदियों से मिलते-जुलते हिंदू विरोधी मीम्स शेयर किए जा रहे हैं। दुनिया भर के कई देशों के इस्लामिक कट्टरपंथी इस साजिश में शामिल हैं। यही वजह है कि अमेरिका समेत कई देशों में हिंदुओं के खिलाफ हिंसा और नफरत बढ़ी है।’

NCRI ने 4 सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म और 3 तरीकों से किया एनालिसिस
NCRI ने इस रिपोर्ट को तैयार करने के लिए सबसे ज्यादा नफरत फैलाने वाले 4 सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का सिलेक्शन किया, जिनका नाम है..

  • Twitter: अमेरिकी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म जिसे दुनियाभर के 23.8 करोड़ लोग यूज करते हैं।
  • Telegram Messenger: ये एक मैसेंजर ऐप है। जिसे दुनियाभर में 70 करोड़ लोग इस्तेमाल करते हैं।
  • 4Chan: अमेरिका और यूरोप में 18 से 25 साल के युवाओं के बीच सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाली इमेजबोर्ड वेबसाइट है। इसके 2.2 करोड़ से ज्यादा यूजर्स हैं। इमेज और मीम्स को क्रिएट कर शेयर करने के लिए इसका यूज किया जाता है।
  • Gab: ये एक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म है। इसे 40 लाख से ज्यादा लोग इस्तेमाल करते हैं।

NCRI ने रिसर्च के लिए 3 तरीके अपनाए…

1. जनवरी 2019 से जनवरी 2022 के बीच हिंदुओं के खिलाफ नफरत फैलाने वाले पोस्ट के ‘कीवर्ड’ और ‘हैशटैग’ की पहचान की।

2. उस ‘कीवर्ड’ और ‘हैशटैग’ से किए जा रहे सोशल मीडिया पोस्ट का पता किया।

3. उस सोशल मीडिया पोस्ट का बिहेवियर और उसके प्रभाव का एनालिसिस।

दुनिया में 3 वजहों से हिंदुओं के खिलाफ बढ़ रही नफरत

रिपोर्ट में हिंदुओं के खिलाफ बढ़ती नफरत की 3 वजह सामने आईं हैं…

पहली वजह: भारत में होने वाली सांप्रदायिक घटनाओं पर प्रतिक्रिया।

24 फरवरी 2020 को डोनाल्ड ट्रंप दिल्ली आए और दिल्ली में सांप्रदायिक दंगे शुरू हो गए। इस समय विदेश में बैठे लोगों ने सोशल मीडिया पर #delhigenocide, #muslimgenocide जैसे कीवर्ड और हैशटैग को ट्रेंड कराए थे।

दूसरी वजह: भारत में होने वाले राजनीतिक फैसलों की वजह से।

2019 में आर्टिकल 370 खत्म होने के बाद #kashmirdeniesindia जैसे कीवर्ड और हैशटैग को विदेश में बैठे लोगों ने ट्रेंड कराए।

तीसरी वजह: दुनियाभर में हो रहीं घटनाओं की वजह से।

2018 में ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी भारत दौरे पर आए थे, तो उस समय भी 1053 बार ईरान के ट्रोल्स ने ‘human rights violations in Jammu and Kashmir’ ट्वीट किए थे।

नफरत फैलाने का माध्यम: फेक और हिंदू विरोधी सोशल मीडिया पोस्ट
NCRI के मुताबिक हिंदुओं और हिंदुस्तानियों के खिलाफ नफरती पोस्ट करने के लिए कुछ खास तरह के की-वर्ड और हैशटैग का इस्तेमाल किया जाता है। इनमें हिंदूनाजी, पाजीत, इंडियाआउट, फ्री कश्मीर जैसे प्रमुख की-वर्ड और हैशटैग शामिल हैं।

ग्राफिक्स में देखिए ईरान के ट्रोल्स ने हिंदुओं और भारतीयों के खिलाफ नफरत फैलाने वाली पोस्ट में सबसे ज्यादा ये हैशटैग इस्तेमाल किए हैं…

Source: NCRI
Source: NCRI

जब NCRI ने ट्विटर पर इन हैशटैग की पड़ताल आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) से की तो बड़ी जानकारी सामने आई। जैसे- 3 साल में 10 लाख से ज्यादा हिंदू विरोधी ट्वीट तो सिर्फ ईरान के ट्रोल्स ने किए हैं।

रिसर्च में इन सोशल मीडिया पोस्ट के नेचर हिंदुओं के खिलाफ हिंसा को भड़काने वाले हैं। इन पोस्ट में हिंदू देवता, प्रतीकों, संस्कृति और रहन-सहन के तरीकों को टारगेट किया गया है।

NCRI रिपोर्ट के आधार पर सोशल मीडिया पर शेयर किए गए एक मीम्स की तस्वीर आप नीचे देख सकते हैं। ये भड़काऊ हो सकती है, लेकिन कट्टरता दिखाने के लिए यहां लगाई गई है…..

इस भड़काऊ तस्वीर को भारतीय और हिंदुओं के खिलाफ शेयर किया जा रहा है। इसमें 26/11 मुंबई हमले की तर्ज पर घटना के लिए एक बार फिर से उकसाया जा रहा है। रिपोर्ट में धार्मिक भावनाएं आहत करने वाली ऐसी दर्जनों तस्वीरें हैं, जिसे हम यहां शेयर नहीं कर रहे हैं।

हिंदुओं के अपमान के लिए किया जा रहा है ‘Pajeet’ शब्द का इस्तेमाल
रिपोर्ट के मुताबिक हिंदुओं के अपमान के लिए ‘#Pajeet’ शब्द का इस्तेमाल हर दिन औसतन 250 से ज्यादा बार सोशल मीडिया पर हो रहा है। इसके लिए अंग्रेजी के दूसरे शब्द जैसे- Streetshitter, Poojeet, Dishonest, hindu are dirty का भी इस्तेमाल हो रहा है।

2020 में सोशल मीडिया पर इस शब्द का इस्तेमाल तेजी से बढ़ा। इसका इस्तेमाल भारतीयों और हिंदुओं को बुरा दिखाने के लिए हो रहा है।

रिपोर्ट के मुताबिक 2 तरह के लोग हिंदू विरोधी पोस्ट को बढ़ावा दे रहे हैं…

1. व्हाइट सुपरमेसिस्ट यानी पश्चिमी देशों के नस्लभेदी श्वेत समुदाय

2. इस्लामिक कट्टरपंथी

ईरान और पाकिस्तान के 44 शहरों से सबसे ज्यादा पोस्ट

  • पाकिस्तान के 4 शहरों से लाहौर, कराची, सियालकोट और रावलपिंडी से सबसे ज्यादा हिंदुओं और भारत के खिलाफ सोशल मीडिया पोस्ट शेयर किया गया। इनमें ज्यादातर ईरान के ट्रोल्स द्वारा फैलाए जा रहे पोस्ट थे।
  • हिंदुओं के खिलाफ ईरान ट्रोल्स के नफरती पोस्ट को गुजरात, दिल्ली और मुंबई में भी जमकर शेयर किया गया।
  • 8 जुलाई 2016 को हिजबुल मुजाहिद्दीन के आतंकी बुरहान वानी की मौत के बाद #kashmirdeniesindia ईरान और पाकिस्तान के ट्रोल्स ने ही सोशल मीडिया पर ट्रेंड कराया था।
ग्राफिक्स में देखा जा सकता है कि 2019 लोकसभा चुनाव से पहले सोशल मीडिया पर अचानक से हिंदू और भारत विरोधी पोस्ट की संख्या बढ़ी। इनमें इंडिया और हिंदू जैसे शब्द का इस्तेमाल किया गया था। ये ट्वीट ईरान के ट्रोल्स के थे।
ग्राफिक्स में देखा जा सकता है कि 2019 लोकसभा चुनाव से पहले सोशल मीडिया पर अचानक से हिंदू और भारत विरोधी पोस्ट की संख्या बढ़ी। इनमें इंडिया और हिंदू जैसे शब्द का इस्तेमाल किया गया था। ये ट्वीट ईरान के ट्रोल्स के थे।
  • ईरानी ट्रोल्स इंडिया का मतलब ही हिंदू देश मानते हैं। इसलिए वह हिंदू विरोधी भावना जताने के लिए भारत विरोधी हैशटैग भी इस्तेमाल करते हैं।
  • 7 मार्च 2017 को मध्य प्रदेश के शाजापुर में भोपाल-उज्जैन पैसेंजर ट्रेन में बम विस्फोट हुआ, जिसमें 9 लोग गंभीर रूप से जख्मी हुए थे। इसके तार ISIS आतंकी संगठनों से जुड़े थे। NCRI रिपोर्ट के मुताबिक इस घटना के बाद पाकिस्तान से #HinduExtremists को ट्रेंड कराया गया था। पोस्ट में कहा गया कि इस घटना को हिंदू कट्टरपंथियों ने अंजाम दिया।

अमेरिका में भी फैलाई जा रही हिंदुओं के खिलाफ नफरत
डेटा एनालिसिस के आधार पर NCRI ने बताया है कि पाकिस्तान और ईरान ही नहीं बल्कि अमेरिका, भारत, कनाडा, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया में भी सोशल मीडिया पर हिंदुओं के खिलाफ नफरत फैलाई जा रही हैं।

अब पहले NCRI के रिपोर्ट में शेयर किए गए इस ग्राफिक्स को देखिए…

NCRI के मुताबिक 4Chan पर हिंदुओं के खिलाफ पाजीत शब्द का इस्तेमाल पश्चिमी देशों में सबसे ज्यादा अमेरिका में किया गया है। टॉप 5 में से दूसरे स्थान पर भारत है, जहां सबसे ज्यादा पाजीत यूज हुआ है। रिसर्च में शामिल करीब 30 हजार से ज्यादा पाजीत शब्द वाले कमेंट में 12 हजार तो सिर्फ अमेरिका में इस्तेमाल हुए हैं।

1980 में भी हिंदुओं के खिलाफ पश्चिमी देशों में चलाया गया था 'डॉट बस्टर्स' मूवमेंट
ऐसा पहली बार नहीं है जब अमेरिका या दूसरे पश्चिमी देशों में हिंदुओं के खिलाफ इस तरह से नफरत फैलाने की बात सामने आई हो।

बात 1980 की है। इस समय अमेरिका के 'न्यू जर्सी' शहर में 'डॉट बस्टर्स' नाम से एक मूवमेंट चलाया गया था। इस मूवमेंट के जरिए बड़े पैमाने पर यहां रह रहे हिंदुओं के खिलाफ नफरत फैलाई गई थी।

1987 में जर्सी जनरल नाम की एक पत्रिका में एक आर्टिकल पब्लिश किया गया था, जिसमें हिंदुओं पर हमला करने के लिए उकसाने वाली बातें लिखी गई थीं। इतना ही नहीं हिंदुओं को अमेरिका छोड़कर जाने के लिए भी कहा गया था।

इस समय 3 तरह से हिंदुओं के खिलाफ अमेरिकी लोग नफरत फैला रहे थे..

1. हिंदुओं की कार और घरों के शीशे तोड़कर

2. हिंदुओं के घरों में होने वाली पार्टी और कार्यक्रमों में हमला कर

3. हिंदुओं से दूर रहने और दोस्ती नहीं करने की लोगों को हिदायत देकर

भास्कर एक्सप्लेनर के कुछ और ऐसे ही नॉलेज बढ़ाने वाले आर्टिकल नीचे लिंक पर क्लिक करके पढ़ सकते हैं...

1. EWS रिजर्वेशन पर सुप्रीम बहस:वकील बोले- सवर्णों को आरक्षण संविधान के सीने में छुरा घोंपने जैसा; SC ने कहा- जांचेंगे सही है या गलत

शिक्षा और सरकारी नौकरी में आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों को 10% EWS रिजर्वेशन मिलना चाहिए या नहीं, ये इन दिनों देश में बहस का हॉट टॉपिक बना हुआ है। 13 सितंबर, 14 सितंबर और 15 सितंबर को इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट में तीखी बहस हुई। इस दौरान संविधान, जाति, सामाजिक न्याय जैसे शब्दों का भी जिक्र हुआ। भास्कर एक्सप्लेनर में इस विषय पर सुप्रीम कोर्ट में चली बहस की रोचक दलीलें और न्यायाधीशों की सख्त टिप्पणियां पेश कर रहे हैं। ( पढ़िए पूरी स्टोरी)

2. क्या यूक्रेन से भाग रहा है रूस:जाल बिछाकर यूक्रेन ने छीना 6,000 वर्ग किमी इलाका, एक के मुकाबले उतारे 8 सैनिक

05 सितंबर: उत्तर-पूर्व यूक्रेन में खार्किव प्रांत पर दोबारा कब्जे के लिए यूक्रेन ने काउंटर अटैक किया।

11 सितंबर: यूक्रेन ने खार्किव प्रांत के शहरों बालाक्लीया, कूपियांस्क और इजियम पर दोबारा कब्जा जमाया।

ये दोनों खबरें इसी महीने की हैं। 24 फरवरी को यूक्रेन के खिलाफ युद्ध शुरू होने के बाद से ये रूसी सेना के लिए सबसे बड़ा झटका है।

भास्कर एक्सप्लेर में जानते हैं कि आखिर कैसे यूक्रेन ने किया पलटवार और इसमें कैसे अमेरिका और पश्चिमी देशों के हथियार कर रहे हैं मदद... (पूरी खबर यहां पढ़ें)

खबरें और भी हैं...