पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Db original
  • 24 year old Afreen Makes Creative Paintings On The Useless Feathers Of Birds, Demand In India As Well As Abroad

आज की पॉजिटिव खबर:पक्षियों के पंख पर पेंटिंग्स बनाती हैं 24 साल की आफरीन, भारत के साथ विदेशों में दिखा चुकी हैं अपना हुनर; सोशल मीडिया से करती हैं मार्केटिंग

नई दिल्लीएक महीने पहलेलेखक: मेघा

आसमान में उड़ती चिड़िया और उसके पंख तो आपने जरूर देखे होंगे, लेकिन क्या आप जानते हैं कि इन पंखों पर कलाकारी भी की जा सकती है। उत्तर प्रदेश के रामपुर जिले की रहने वाली 24 साल की आफरीन खान इन्हीं पंखों पर अपनी क्रिएटिव पेंटिंग्स से एक से बढ़कर एक चीजें तैयार कर रही हैं। देशभर में उनकी पेंटिंग्स की गूंज है। इतना ही नहीं भारत के बाहर भी कई देशों में वे अपनी क्रिएटिविटी दिखा चुकी हैं। बड़े लेवल पर उनकी पेंटिंग्स की डिमांड भी है। इससे उनकी अच्छी-खासी कमाई भी हो जाती है।

बचपन से ही बनाने लगी थीं पेंटिंग्स
आफरीन बचपन से ही पेंटिंग्स बनाने में माहिर थीं। 4 साल की उम्र में आफरीन ने रामपुर में इंटरस्कूल कॉम्पिटिशन में पहली बार अपनी कला का प्रदर्शन किया था, तब से लेकर अब तक उनके हुनर का जलवा बरकरार है। आफरीन को उनके घरवालों की तरफ से भी काफी सपोर्ट मिलता है। आफरीन के पापा ने बचपन में ही उनकी कला को पहचान लिया था और उन्हें रामपुर के लोकल आर्टिस्ट से मिलवाने लेकर जाया करते थे। उन्हीं को देखकर आफरीन को प्रेरणा मिलती रही।

आफरीन को बचपन से ही पेंटिंग्स बनाने का शौक है। वे जब 4-5 साल की थीं तब से ऐसे कॉम्पिटिशन में भाग लेती रही हैं।
आफरीन को बचपन से ही पेंटिंग्स बनाने का शौक है। वे जब 4-5 साल की थीं तब से ऐसे कॉम्पिटिशन में भाग लेती रही हैं।

अब आफरीन फाइन आर्ट्स की फील्ड में ही आगे बढ़ना चाहती हैं। उन्होंने अपनी पढ़ाई भी फाइन आर्ट्स के फील्ड में ही की है। आफरीन ने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी से अपने बैचलर्स तक की पढ़ाई पूरी की और फिर मास्टर्स जामिया मिलिया यूनिवर्सिटी से की।

आफरीन के परिवार में वे पहली ऐसी सदस्य हैं जिन्होंने कला के फील्ड में कदम रखा है। शुरुआत में उन्हें बहुत मुश्किल हुई, क्योंकि उन्हें गाइड करने वाला, इस फील्ड के बारे में समझाने वाला कोई नहीं था। जो भी किया आफरीन ने अपने दम पर किया और आज देशभर में वे फेदर आर्टिस्ट के नाम से फेमस हैं। बचपन से लेकर अब तक आफरीन ने नेशनल और इंटरनेशनल लेवल पर कई एग्जीबिशन में पार्टिसिपेट किया है।

कहां से कलेक्ट करती हैं पक्षियों के पंख?
आफरीन पंखों पर अपनी कला उकेरने के लिए पंख रोड से कलेक्ट करती हैं। साथ ही उन्होंने कुछ ऐसे लोगों से कॉन्टैक्ट कर रखा है, जिनके यहां पक्षी पाले जाते हैं। वे लोग पंख इकट्ठा कर आफरीन को दे देते हैं। आफरीन अपने कॉलेज के कैम्पस में गिरे हुए पंख भी कलेक्ट करती हैं। इसके साथ ही वे कहीं जाती हैं और उन्हें वहां पंक्षियों के पंख मिलते हैं, तो वहां से भी कलेक्ट कर लेती हैं।

आफरीन अपने हाथ से पक्षियों के बेकार पंख पर किसी की भी हूबहू तस्वीर उकेर देती हैं, जिसे देखकर आपको शायद यकीन नहीं होगा कि हाथ से ऐसी तस्वीर भी बन सकती है।
आफरीन अपने हाथ से पक्षियों के बेकार पंख पर किसी की भी हूबहू तस्वीर उकेर देती हैं, जिसे देखकर आपको शायद यकीन नहीं होगा कि हाथ से ऐसी तस्वीर भी बन सकती है।

पिछले साल यानी 2020 में आफरीन ने हुनर हाट में पार्टिसिपेट किया था। इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शामिल हुए थे। तब उन्होंने आफरीन की तारीफ की थी। आफरीन ने पंख पर PM की तस्वीर बनाई थी। कई मंत्रियों ने तो उनकी पेंटिंग्स भी खरीदी। रामपुर में कई जगहों पर भी आफरीन की बनाई हुई पेंटिंग्स लगाई गई हैं।

कैसे बनाती हैं पेंटिंग्स, किस पेंटिंग्स की सबसे ज्यादा डिमांड
आफरीन बताती हैं कि वे पेपर आर्ट से लेकर, कैनवास पेंटिंग, वॉटर पेंटिंग, लैंडस्केप पेंटिंग, एरेबिक कैलीग्राफी और पंख पर पेंटिंग बनाती हैं। फेदर आर्ट के लिए सबसे पहले वे पक्षियों के पंख कलेक्ट करती हैं। उसके बाद उसकी सफाई करती हैं। फिर अपने हाथ से उस पर कलाकारी करती हैं। इसके बाद जरूरत के मुताबिक अलग-अलग रंगों से उसे सजाती हैं। आफरीन के मुताबिक अभी सबसे ज्यादा डिमांड लोग फेदर पर खुद की बनी तस्वीर की कर रहे हैं।

सोशल मीडिया और एग्जीबिशन से करती हैं मार्केटिंग

आफरीन की पेंटिंग्स की अच्छी खासी डिमांड है। अलग-अलग एग्जीबिशन में वे अपने हुनर का जलवा बिखेरती रहती हैं।
आफरीन की पेंटिंग्स की अच्छी खासी डिमांड है। अलग-अलग एग्जीबिशन में वे अपने हुनर का जलवा बिखेरती रहती हैं।

आफरीन की बनाई पेंटिंग्स की अच्छी खासी डिमांड है। वे सोशल मीडिया के साथ ही ऑफलाइन एग्जीबिशन के जरिए भी अपने प्रोडक्ट की मार्केटिंग करती हैं। इंस्टाग्राम पर feather art by afreen नाम से उनका पेज है। जिसके जरिए लोग उनसे कॉन्टैक्ट करते हैं। इसके बाद वे कूरियर की मदद से कस्टमर तक प्रोडक्ट पहुंचाती हैं। इसके साथ ही आफरीन कस्टमर्स की डिमांड पर भी पेंटिंग्स बनाती हैं। आफरीन कहती हैं कि उनकी फेदर पेंटिंग की कीमत 500 से शुरू होती है। जबकि कैनवास पेंटिंग और ऑइल पेंटिंग 3000 से 20000 तक में बिकती है।

आप कैसे ले सकते हैं क्रिएटिव आर्ट और पेंटिंग्स की ट्रेनिंग
भारत में कई ऐसे संस्थान हैं जो पेंटिंग्स और आर्ट सिखाते हैं। जहां से आप भी ट्रेनिंग ले सकते हैं। इस क्षेत्र में करियर बनाने के लिए कम से कम 12वीं पास होना चाहिए। इसके बाद Drawing और Painting से जुड़े कोर्स किए जा सकते हैं। जैसे कि सर्टिफिकेट इन ड्रॉइंग एंड पेंटिंग, डिप्लोमा इन ड्रॉइंग एंड पेंटिंग, Bachelor in Fine Arts जैसे कोर्स कर इस फील्ड में एंट्री कर सकते हैं।

प्रधानमंत्री मोदी भी आफरीन की कलाकारी के मुरीद हैं। एक प्रदर्शनी में मिलने के बाद उन्होंने आफरीन की हौसला अफजाई की थी।
प्रधानमंत्री मोदी भी आफरीन की कलाकारी के मुरीद हैं। एक प्रदर्शनी में मिलने के बाद उन्होंने आफरीन की हौसला अफजाई की थी।

कई कॉलेजों में दाखिले के लिए एंट्रेंस एग्जाम देना होता है। जबकि कुछ कॉलेजों में सीधे दाखिला भी मिल जाता है। सर्टिफिकेट कोर्स की फीस 4 से 5 हजार रुपए तक होती है। डिप्लोमा कोर्स की फीस 10 से 40 हजार रुपए के बीच में हो सकती है। वहीं बैचलर डिग्री की फीस 30 हजार से लेकर 70 हजार सालाना या इससे भी ज्यादा हो सकती है। गवर्नमेंट कॉलेज में दाखिला मिल जाए तो वहां काफी कम फीस होती है। इसके अलावा इंटरनेट से भी आप बेसिक जानकारी ले सकते हैं।

भारत के इन कॉलेज से ले सकते हैं ट्रेनिंग

  • बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी
  • सिटी ऑफ बड़ोदरा
  • जामिया मिलिया इस्लामिया, दिल्ली
  • मुंबई यूनिवर्सिटी
  • कला भवन शांतिनिकेतन
  • कॉलेज ऑफ आर्ट दिल्ली

करियर के लिहाज से फेदर आर्ट में कितना स्कोप है

आफरीन अपनी पढ़ाई के साथ-साथ पंखों पर कलाकारी बिखेरती रहती हैं। उन्हें हर दिन कुछ नया करना पसंद है।
आफरीन अपनी पढ़ाई के साथ-साथ पंखों पर कलाकारी बिखेरती रहती हैं। उन्हें हर दिन कुछ नया करना पसंद है।

भारत में पिछले कुछ सालों से इस आर्ट की डिमांड बढ़ी है। कई बड़े ई कॉमर्स प्लेटफॉर्म पर फेदर आर्ट से बने प्रोडक्ट की बिक्री होती है। लोग अपने घरों को, दुकानों को और ऑफिस को सजाने या बेहतर लुक देने के लिए ऐसी पेंटिंग्स को अपना रहे हैं। अगर आप भी इस फील्ड में खुद का कुछ करना चाहते हैं तो यकीनन बेहतर स्कोप है। हालांकि सबसे जरूरी चीज है क्रिएटिविटी जो आपके अंदर होनी चाहिए। चीजों को नए सिरे से देखना और फिर उस पर कुछ अलग और बेहतर करने की ललक आपके अंदर है तो आप इस फील्ड में अपनी किस्मत आजमा सकते हैं।

जहां तक पेंटिंग्स के लिए बजट की बात है, इसको लेकर आफरीन कहती हैं कि इसमें बहुत अधिक लागत की जरूरत नहीं होती है। पंख भी आसानी से मिल जाते हैं। बाकी कलर और कुछ ड्रॉइंग की चीजों को खरीदना पड़ता है। यानी बहुत कम कीमत पर आप इस तरह की पेंटिग्स की शुरुआत कर सकते हैं।

आफरीन की पेंटिंग की कीमत 500 रुपए से शुरू होती है। जबकि कैनवास पेंटिंग और ऑइल पेंटिंग 3000 से 20000 रुपए तक में बिकती है।
आफरीन की पेंटिंग की कीमत 500 रुपए से शुरू होती है। जबकि कैनवास पेंटिंग और ऑइल पेंटिंग 3000 से 20000 रुपए तक में बिकती है।

अगर क्रिएटिव वर्क में आपकी दिलचस्पी है तो ये स्टोरी भी आपके काम की है
महाराष्ट्र के अमरावती जिले की रहने वाली बकुल खेतकडे एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं। करीब 7 साल तक अलग-अलग बड़ी कंपनियों में काम भी किया, लेकिन फिर जिंदगी में कुछ ऐसे मोड़ आए कि वे इंजीनियर से पेंटर बन गईं। 6 महीने पहले उन्होंने अपने पैशन को प्रोफेशन में बदल दिया। अभी बकुल मंडला आर्ट और मधुबनी पेंटिंग्स के जरिए हर महीने 50 हजार की कमाई कर रही हैं। (पढ़िए पूरी खबर)

खबरें और भी हैं...