• Hindi News
  • Db original
  • 5 Reasons Behind The Performance Of Pakistani Team In T20 World Cup, Tape Ball Cricket Is The Biggest Reason

जानना जरूरी है:टी-20 वर्ल्ड कप में पाकिस्तानी टीम के धमाल मचाने के पीछे हैं 5 वजहें, टेप बॉल क्रिकेट सबसे बड़ी वजह है

एक महीने पहले

कम लोगों को पता है कि पाकिस्तान की गलियों, मोहल्लों और मैदानों में इन दिनों ऐसा क्रिकेट जमकर खेला जा रहा है जो 20-20 से ज्यादा पुराना और ज्यादा तेज है। इसका नाम है- टेप बॉल क्रिकेट।

पाकिस्तान इन दिनों डे-नाइट चलने वाले इस टेप बॉल क्रिकेट में डूबा हुआ है। ये कितना पॉपुलर है? इसके जवाब में क्रिकेटर तैमूर मिर्जा कहते हैं पाकिस्तान में हर घर में कोई ना कोई टेप बॉल जरूर खेला होता है।

हसन अली समेत फिलहाल पाकिस्तानी टीम के ज्यादातर क्रिकेटर्स ने टेप बॉल क्रिकेट खेला हुआ है। यही नहीं दुबई में ऑस्ट्रेलिया के धाकड़ बल्लेबाज मैक्सवेल को भी गलियों में जाकर टेपबॉल क्रिकेट खेलते देखा गया था।

वजह 1: पाकिस्तानी टेनिस बॉल में प्लास्टिक टेप लगाकर डे-नाइड मैच खेल रहे हैं
टेप बॉल क्रिकेट में टेनिस बॉल को प्लास्टिक टेप (इंसुलेटिंग टेप) से ढक दिया जाता है। इससे गेंद भारी हो जाती है। फिर गेंद के बीचोबीच पट्टी बना दी जाती है। इससे तेज गेंदबाजों को दमदार स्विंग मिलती है और बैट्समैन के शॉट काफी दूर तक जाते हैं।

सबसे बड़ी बात कि ये सारे मैच 10 ओवर या अधिकतम 15 ओवर के होते हैं। इससे पाकिस्तानी खिलाड़ी पहले से ही तेज खेलने आदी हो जाते हैं और बॉलर्स बैट्समैन्स को छकाने के लिए पूरी तरकीब सीख जाते हैं। मौजूदा पाकिस्तानी टीम के हर खिलाड़ी ने कभी न कभी टेपबॉल क्रिकेट खेला हुआ है।

वजह 2: PCB का पूरा फोकस इन दिनों 20-20 मैच पर है
1 अक्‍टूबर 2020 से अब तक यानी बीते 1 साल में पाकिस्तान ने कुल 27 टी-20 मैच खेले हैं। ये दुनिया में सबसे ज्यादा है। भारत ने इतने ही समय में सिर्फ 14 मैच खेले हैं।

पाकिस्तान ने बीते एक साल में 7 अलग-अलग देशों में 20-20 मैच खेला है। इनमें UAE, साउथ अफ्रीका, न्यूजीलैंड, इंग्लैंड, वेस्टइंडीज, जिम्बाब्वे और पाकिस्तान शामिल है।

वजह 3: दुबई में पाकिस्तान ने यहां इतने मैच खेले हैं, जितना खुद दुबई की टीम नहीं खेली है
पाकिस्तान की टीम ने UAE में 40 इंटरनेशनल टी-20 मैच खेले हैं। जबकि इस देश की अपनी क्रिकेट टीम भी है, लेकिन उसने आज तक कुल मिलाकर 31 मैच ही खेले हैं। वहीं, अब तक पाकिस्तान यहां पर 40 मैच खेल चुका है।

चौंकाने वाली बात ये है कि इंडिया ने वर्ल्ड कप से पहले यहां एक भी इंटरनेशनल टी-20 मैच नहीं खेला था। हालांकि इंडिया ने दो बार IPL यहां जरूर खेला है, लेकिन अंतराष्ट्रीय टी-20 मैच नहीं खेला है।

वजह 4: बाबर-रिजवान की जोड़ी ने एक साल में इतने रन बनाए हैं, जितना आज तक कोई न बना सका
बाबर आजम और मोहम्मद रिजवान ने अभी टी-20 में आकर अच्छा खेलना नहीं शुरू किया है। इस जोड़ी ने बीते एक साल से पूरी दुनिया में तहलका मचा रखा है।

बाबर आजम और मोहम्मद रिजवान की जोड़ी इस साल टी-20 में 1000 रन बना चुकी है। दुनिया में किसी भी जोड़ी ने एक साल इतने रन नहीं बनाए हैं। ये भी नहीं कि सिर्फ ओपनिंग करते हुए बल्कि किसी भी जोड़ी ने किसी भी नंबर पर बैटिंग करते हुए इतने रन टी-20 में सालभर में नहीं बनाए हैं।

इस जोड़ी की जान हैं मोहम्मद रिजवान। इस साल रिजवान का औसत 95 है का और स्ट्राइक रेट 138 का। वो टी-20 में ऐसे खेल रहे हैं जैसे कभी डॉन ब्रेडमैन खेला करते थे।

वजह 5: टी-20 वर्ल्ड कप के ऐन पहले न्यूजीलैंड और इंग्लैंड का पाकिस्तान का दौरा कैंसिल करना
जैसे ही टी-20 के ऐन पहले न्यूजीलैंड और इंग्लैंड ने पाकिस्तान के दौरे को कैंसिल किया, उसी समय में PCB ने एक लोकल टूर्नामेंट शुरू करा दिया। ताकि टी-20 के जाने वाली टीम का अभ्यास हो जाए।

इससे हुआ ये कि अभ्यास के साथ-साथ टी-20 वाली पूरी टीम एकजुट हो गई। सबने मिलकर फैसला किया उन्हें सीनियर मोस्ट खिलाड़ी शोएब मलिक को भी टीम में लेना चाहिए।

दरअसल पाकिस्तानी टीम के बारे में एक बात बड़ी आम है वो बदला लेने में भरोसा रखती है। न्यूजीलैंड और इंग्लैंड के बर्ताव को उन्होंने अपमान के तौर पर लिया और पूरी टीम एक साथ हो गई।

इन पांच फॉर्मूलों की वजह से पाकिस्तानी टीम में इस टी-20 में विजेता की तरह खेल रही है। आज जानना जरूरी है कि में इतना ही। अगर आपका इस पर कोई सुझाव है तो खबर के नीचे सुझाव सेक्‍शन में लिख भेजिए।

खबरें और भी हैं...