• Hindi News
  • Db original
  • Amarnath Yatra 2022 News; Kashmir Inspector General Vijay Kumar On Sticky Bomb And Drone Attack

उदयपुर मर्डर से अमरनाथ यात्रियों पर रिस्क बढ़ा:43 दिन की यात्रा पर दो बड़े खतरे, एंटी ड्रोन अटैक सिस्टम एक्टिव

7 महीने पहले

3,888 मीटर की ऊंचाई पर स्थित बाबा अमरनाथ की यात्रा पर इस बार मिनटों में तबाही मचाने वाले स्टिकी बम का खतरा है। 43 दिन लंबी चलने वाली यह यात्रा दो साल बाद हो रही है। जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल-370 के हटने के बाद भी यह पहली यात्रा है। एक दिन पहले राजस्थान के उदयपुर में हुई टेलर की हत्या से देश में आतंकी खतरे का रिस्क बढ़ गया है। ऐसे में अमरनाथ यात्रा को लेकर भी पुलिस प्रशासन हाई अलर्ट पर आ गया है।

कश्मीर के इंस्पेक्टर जनरल विजय कुमार ने भास्कर को कन्फर्म किया कि इस साल स्टिकी बम और ड्रोन अटैक दो बड़े खतरे हैं, लेकिन इन दोनों से बचने का पूरा प्लान भी तैयार है। ड्रोन का जवाब तो हवा में ही दिया जाएगा। मौके पर तैनात आर्मी अफसर ने ये भी कहा कि उदयपुर की घटना के बाद चैलेंज बढ़ गया है, लेकिन अभी सब कुछ कंट्रोल में है।

30 जून से 11 अगस्त तक चलने वाली अमरनाथ यात्रा के लिए अब तक 3 लाख से ज्यादा लोग रजिस्ट्रेशन करवा चुके हैं। यात्रा दो साल बाद हो रही है, इसलिए श्रद्धालुओं का आंकड़ा पुराने रिकॉर्ड तोड़ते हुए 8 लाख तक पहुंच सकता है।

पलहगाम से अमरनाथ तक यात्रियों को एक तरफ से करीब 46 किलोमीटर का सफर करना पड़ता है। इसमें तीन रातें रास्ते में बितानी होती हैं। वहीं बालटाल वाले दूसरे रूट से बाबा बर्फानी की गुफा तक की दूरी लगभग 14 किलोमीटर है। हालांकि इस रूट में बारिश और बर्फबारी का रिस्क होता है।
पलहगाम से अमरनाथ तक यात्रियों को एक तरफ से करीब 46 किलोमीटर का सफर करना पड़ता है। इसमें तीन रातें रास्ते में बितानी होती हैं। वहीं बालटाल वाले दूसरे रूट से बाबा बर्फानी की गुफा तक की दूरी लगभग 14 किलोमीटर है। हालांकि इस रूट में बारिश और बर्फबारी का रिस्क होता है।

यात्रा की कवरेज के लिए भास्कर की टीम मौके पर मौजूद है। पहली स्टोरी में अमरनाथ यात्रा से जुड़ी सिक्योरिटी की पूरी तस्वीर हम आपके सामने रख रहे हैं।

सबसे पहले जानिए, उन दो खतरों के बारे में जो इस बार चिंता का सबब हैं…

खतरों से निपटने के लिए तैयारी क्या है….

अमरनाथ यात्रा में पहली बार केंद्र की 350 कंपनियां तैनात की गई हैं। इनमें सेंट्रल आर्म्ड पुलिस फोर्सेज यानी CAPF के 40 हजार से ज्यादा जवानों को तैनात किया गया है।

अमरनाथ यात्रियों के लिए जम्मू के पहलगाम में बेस कैंप में सारे इंतजाम किए गए हैं। सुरक्षा का भी काफी कड़ा बंदोबस्त है।
अमरनाथ यात्रियों के लिए जम्मू के पहलगाम में बेस कैंप में सारे इंतजाम किए गए हैं। सुरक्षा का भी काफी कड़ा बंदोबस्त है।

तीन लेवल की सिक्योरिटी, पहाड़ और जंगल पर आर्मी

IG कुमार के मुताबिक यात्रा को तीन लेवल की सिक्योरिटी से कवर किया जाएगा। रोड ओपनिंग पार्टी (ROP) के लिए CAPF और जम्मू कश्मीर पुलिस ने मिलकर तैयारी की है।

ऊंची पहाड़ियों और घने जंगलों को सुरक्षित रखने का जिम्मा आर्मी का है। सभी लिंक रोड्स भी पूरी तरह सिक्योर होंगे।

यात्रा की निगरानी ड्रोन्स, CCTV कैमरे के जरिए की जा रही है। वहीं जरूरी ठिकानों पर शार्प शूटर्स और स्नाइपर्स की भी तैनाती की गई है।

NDRF, UTSDRF और MRT को भी क्रिटिकल लोकेशंस पर तैनात किया गया है। यात्रा में शामिल होने वाले व्हीकल्स और यात्रियों के लिए RFID टैग दिया गया है। जम्मू कश्मीर पुलिस के अलावा भी केंद्रीय बलों की 350 कंपनियां तैनात की गई हैं।

आज से शुरू हो रही अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू में बड़ी संख्या में तीर्थयात्री पहुंचे हैं। उनके रहने के लिए प्रशासन ने विशेष इंतजाम किए हैं।
आज से शुरू हो रही अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू में बड़ी संख्या में तीर्थयात्री पहुंचे हैं। उनके रहने के लिए प्रशासन ने विशेष इंतजाम किए हैं।

कौन सी फोर्स कहां तैनात?

  • आर्मी : आर्मी पहाड़ों पर तैनात है, क्योंकि घुसपैठ सीमापार से हो सकती है।
  • CRPF : यात्रा में सबसे ज्यादा जवान CRPF के ही तैनात हैं। यह आम भक्तों के बीच में होंगे और बेस कैंप से लेकर पैदल मार्ग तक की सुरक्षा करेंगे।
  • BSF : BSF की मुख्य जिम्मेदारी सीमापार से होने वाली घुसपैठ पर नजर रखने की होगी। वहीं BSF के जवान CRPF के साथ भी सुरक्षा में मुस्तैद रहेंगे। कैंप के आसपास और रोड ओपनिंग पार्टी, यानी ROP के तौर पर भी सिक्योरिटी देंगे।
  • जम्मू-कश्मीर पुलिस : लोकल इनपुट्स पुलिस को ही मिल रहे हैं। पूरे कोऑर्डिनेशन में सबसे बड़ी भूमिका पुलिस की है। पुलिस के आला अधिकारी बाकी एजेंसियों के साथ मिलकर सिक्योरिटी प्लान फाइनल कर रहे हैं।
  • ITBP : ITBP के साथ ही SSB के जवानों को भी ड्यूटी पर लगाया गया है। इन्हें खास तौर पर मार्ग की सुरक्षा का जिम्मा सौंपा गया है।
अमरनाथ यात्रा के मद्देनजर पुलिस प्रशासन लगातार मुस्तैद है। बड़े अधिकारी भी मौके पर पहुंच कर हालात का जायजा ले रहे हैं।
अमरनाथ यात्रा के मद्देनजर पुलिस प्रशासन लगातार मुस्तैद है। बड़े अधिकारी भी मौके पर पहुंच कर हालात का जायजा ले रहे हैं।

अलग-अलग ग्रिड की, अलग-अलग जिम्मेदारी

  • एंटी इन्फिल्ट्रेशन ग्रिड : सीमा पार से घुसपैठ को रोकने के लिए लखनपुर से जम्मू के बीच इस ग्रिड को तैनात किया गया है।
  • रोड ओपनिंग पार्टी और कॉन्वॉय ग्रिड : जम्मू से बनिहाल टनल तक ये ग्रिड तैनात की गई है, ताकि रास्ते में गाड़ियों के जत्थों को पूरी सुरक्षा के साथ पास कराया जा सके।
  • एंटी ड्रोन ग्रिड : ड्रोन अटैक के खतरे से निपटने के लिए इस ग्रिड को तैयार किया गया है। ये ग्रिड हवा में होने वाली हर एक्टिविटी पर नजर रखेगी और किसी भी संदिग्ध ड्रोन की पहचान करना और उसे काउंटर करना इस ग्रिड का काम होगा।
  • ड्राइवर/कंडक्टर्स की स्पेशल ट्रेनिंग : ट्रांसपोर्टेशन से जुड़े लोगों को मूवमेंट से जुड़ी खास ट्रेनिंग दी जा रही है। इसके तहत यात्रा रुकने के दौरान गाड़ी की निगरानी, देखरेख, स्टिकी बम के खतरों के बारे में आगाह किया जा रहा है। साथ ही व्हीकल के पास आने-जाने वालों पर भी सख्त निगरानी रखने के निर्देश दिए गए हैं।

हर जिले को अलग जोन और सेक्टर में बांटा

पुख्ता सिक्योरिटी के लिए हर जिले को अलग-अलग जोन और सेक्टर्स में बांट दिया गया है। जोन में एसपी रैंक के अफसर की तैनाती की गई है। सेक्टर में DSP रैंक के तीन से चार अफसर तैनात हैं। इमरजेंसी के लिए क्विक रिस्पॉन्स टीम (QRT) का गठन किया गया है।

किस सुरक्षाबल के पास कौन सी जिम्मेदारी?

  • यात्री कैंपों की जिम्मेदारी : CRPF + JKP
  • रोड ओपनिंग पार्टी और क्विक रिस्पॉन्स टीम : CRPF + आर्मी
  • लंगर, लोकल कैंप्स और लॉ एंड ऑर्डर : CISF + JKP
  • एरिया डॉमिनेशन और हाई एल्टीट्यूड सर्विलांस : आर्मी + BSF

एक्सपर्ट व्यू : पहलगाम या बालटाल के बाद असली चुनौती

जम्मू-कश्मीर के पूर्व DGP SP वेद कहते हैं कि अमरनाथ यात्री पहले आकर जम्मू के बेस कैंप में रुकते हैं। इन बेस कैंप्स से ही सिक्योरिटी का सिलसिला शुरू हो जाता है। यहां से पूरी सिक्योरिटी से होते हुए यात्रा पहलगाम या बालटाल के बेस कैंप तक पहुंचती है, जहां से असल यात्रा शुरू होती है। पहलगाम के बाद चंदनवाड़ी और शेषनाग जैसे कैंप्स की सिक्योरिटी पर भी खासा जोर होता है।

हाल की आतंकी वारदातों को देखते हुए इस बार की अमरनाथ यात्रा में ड्रोन अटैक का खतरा बढ़ गया है। ड्रोन पर आतंकी पेलोड लगाकर हमला कर सकते हैं। गाड़ियों और बसों पर छोटे स्टिकी बम भी एक बड़ा सिक्योरिटी थ्रेट है। आतंकी आसानी से इसे प्लांट कर सकते हैं और ये घातक साबित होते हैं।

पहलगाम और बालटाल के पहाड़ी रास्तों पर जहां ट्रैकिंग होती है, वहां पर भी सिक्योरिटी कवर लगाने की जरूरत होती है, क्योंकि हमने देखा है कि 90 के दशक में भी ऊंची पहाड़ियों पर अटैक हुए थे।

राज्य के DGP ही अलग-अलग सिक्योरिटी फोर्सेज की टीम्स को हर जिले के SSP के पास डिप्लॉय करते हैं। ROP यानी रोड ओपनिंग पार्टी में अहम रोल आर्मी, CRPF और BSF का होता है। वहीं जनरल एडमिनिस्ट्रेशन के लिए जम्मू कश्मीर पुलिस तैनात होती है।

आतंकियों की बॉडी अब फैमिली को नहीं दी जाती

आईजी विजय कुमार कहते हैं, 5 अगस्त 2019 के बाद से पुलिस या सुरक्षाबलों की फायरिंग किसी नागरिक की मौत नहीं हुई है। जनाजे या दफनाने के दौरान आतंकियों को ग्लैमराइज किए जाने के ट्रेंड पर भी हमने रोक लगा दी है।

धारा 370 हटाए जाने के बाद से अब तक कश्मीर में 500 से ज्यादा आतंकी मारे गए हैं। सैकड़ों की तादाद में आतंकियों के लिए काम करने वाले ओवर ग्राउंड वर्कर्स पर पब्लिक सेफ्टी एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है। सड़कों पर होने वाली हिंसा और हड़तालें अब बंद हो गई हैं। एनकाउंटर साइट्स पर होने वाली पत्थरबाजी बंद हो गई है।

आतंकियों की बॉडी अब फैमिली को नहीं दी जाती है और अंतिम संस्कार आतंकियों के गांव में नहीं होता है। आतंकियों का अंतिम संस्कार अब बॉर्डर जिलों में परिवारवालों, पुलिस और मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में किया जाता है।

5 अगस्त 2019 के बाद से नागरिकों और सुरक्षाबलों पर होने वाले आतंकी हमलों में लगातार कमी आई है। हालांकि हाल में आतंकियों ने कुछ हिंदू नागरिकों और नॉन लोकल्स की हत्या की है, लेकिन हिंसा काबू में रही है।

वहीं दूसरी तरफ 13 कश्मीरी मुसलमानों को भी आतंकियों ने मारा है। हम ये कह सकते हैं कि इस साल अब तक 6 हिंदुओं और 13 मुसलमानों को आतंकियों ने मारा है। दूसरी तरफ हमने इस साल 120 आतंकियों को मौत के घाट उतारा है।