आज की पॉजिटिव खबर:भोपाल के दो दोस्तों ने कोविड में लॉन्च किया योगा ऐप; पहले ही साल 10 लाख का बिजनेस, कई कंपनियों से डील

नई दिल्ली7 महीने पहले

पिछले कुछ सालों में योग की डिमांड बढ़ी है। लोग अपनी रूटीन लाइफ में योग को शामिल कर रहे हैं। खास करके कोरोना के बाद योग को लेकर लोग काफी अवेयर हुए हैं। इसी को देखते हुए भोपाल के दो दोस्तों ने एक ऑनलाइन ऐप की शुरुआत की है। जिसके जरिये वे लोगों को ऑनलाइन योग सिखा रहे हैं। यह ऐप AI यानी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस टेक्नोलॉजी पर बेस्ड है। दस महीने से कम वक्त में दोनों ने इस ऐप के जरिये 10 लाख रुपए का बिजनेस किया है।

अमितेश मिश्रा और विभू त्रिपाठी दोनों भोपाल के रहने वाले हैं। दोनों ने एक साथ इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है। अमितेश की दिलचस्पी ऐप डेवलपमेंट और प्रोडक्ट डिजाइनिंग में रही है, जबकि विभू ने ड्रोन कैमरे की टेक्नोलॉजी पर काम किया है।

कॉलेज टाइम से ही स्टार्टअप में दिलचस्पी रही

भास्कर से बात करते हुए अमितेश कहते हैं कि कॉलेज टाइम से ही उन्हें खुद का कुछ करना था। इसलिए उन्होंने ऐप डेवलपमेंट और प्रोडक्ट डिजाइनिंग को लेकर काम करना शुरू कर दिया था। तब वह कई बड़ी कंपनियों को अपनी सर्विस प्रोवाइड करते थे। उधर विभू भी ड्रोन कैमरे को लेकर कई कंपनियों के लिए काम कर रहे थे। इससे दोनों की अच्छी कमाई हो रही थी।

अमितेश मिश्रा भोपाल के रहने वाले हैं। उन्होंने इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है।
अमितेश मिश्रा भोपाल के रहने वाले हैं। उन्होंने इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है।

23 साल के अमितेश बताते हैं कि कोरोना के दौरान डिजिटल वर्ल्ड में बहुत कुछ बदला। कई ऑफलाइन सर्विसेज ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर शिफ्ट हो गईं, खास करके हेल्थ सेक्टर में। लोग योग और फिटनेस के लिए ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर शिफ्ट हो गए। यूट्यूब पर वीडियो देखने लगे। कई फिटनेस एक्सपर्ट भी ऑनलाइन ट्रेनिंग प्रोवाइड कराने लगे।

लोग योग तो कर रहे थे, लेकिन कोई उन्हें मॉनिटर नहीं कर रहा था

अमितेश कहते हैं कि लोग ऑनलाइन वीडियो देखकर योग कर रहे थे, लेकिन दिक्कत यह थी कि कोई उन्हें मॉनिटर नहीं कर रहा था। यानी योग करते वक्त उनकी पोजिशनिंग सही है या नहीं यह पता करना मुश्किल था। तब हमने प्लान किया कि इसको लेकर ऐप डेवलप किया जा सकता है।

इसके बाद अमितेश ने विभू से बात की। विभू को यह आइडिया पसंद आया और दोनों ने मिलकर काम करना शुरू कर दिया। करीब 7-8 महीने दोनों ने ऐप के मॉडल और टेक्नोलॉजी को लेकर रिसर्च किया। पहले से उपलब्ध फिटनेस ऐप को मॉनिटर किया। इसके बाद अपने ऐप को लेकर काम करना शुरू किया।

फरवरी 2021 में Zyoga नाम से शुरू किया स्टार्टअप

अमितेश और विभू दोनों क्लासमेट रहे हैं। अब दोनों साथ मिलकर अपने स्टार्टअप के लिए काम कर रहे हैं।
अमितेश और विभू दोनों क्लासमेट रहे हैं। अब दोनों साथ मिलकर अपने स्टार्टअप के लिए काम कर रहे हैं।

अमितेश और विभू ने तमाम रिसर्च और फीडबैक के बाद फरवरी 2021 में अपना ऐप लॉन्च किया। नाम रखा Zyoga। इसके लिए उन्होंने फिटनेस एक्सपर्ट टीम की मदद ली। उनसे हर तरह के योग करवाए और उनकी पिक्चर्स और वीडियोज अपने ऐप में रिकॉर्ड कर लिए। इसके बाद अपने ऐप का प्रमोशन शुरू किया।

चूंकि कॉन्सेप्ट बेहतर था और लोग बेहतर लाइफस्टाइल की तरफ रुख कर रहे थे, इसलिए जल्द ही उन्हें अच्छा रिस्पॉन्स मिलने लगा। आम यूजर्स के साथ-साथ कई कंपनियों के लिए भी उन्हें काम मिल गया। भारत के साथ अमेरिका और कनाडा में भी उनके कस्टमर्स बन गए।

जहां तक बजट की बात है, अमितेश कहते हैं, 'सीधे-सीधे हमने बहुत खर्च नहीं किया। हमने अपना ऐप खुद डेवलप किया, लेकिन इसमें हमारा अच्छा खासा वक्त लगा है। करीब एक साल तक हमने इसको लेकर लगातार काम किया है। इस लिहाज से हम अपने काम की वैल्युएशन करें तो लाखों रुपए की लागत आएगी।'

कैसे काम करता है यह ऐप? क्या है इसकी खासियत?

ऐप में मौजूद फ्रंट कैमरा योग करते वक्त हमारी हर मूवमेंट को स्टोर करता है और हमें सही पोजिशन के लिए गाइड करता है।
ऐप में मौजूद फ्रंट कैमरा योग करते वक्त हमारी हर मूवमेंट को स्टोर करता है और हमें सही पोजिशन के लिए गाइड करता है।

अमितेश के मुताबिक यह ऐप AI, यानी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस टेक्नोलॉजी पर बेस्ड है। इसमें अलग-अलग फिटनेस एक्सपर्ट की मदद से हर तरह के योग और उनके पोजिशन को इनबिल्ट किया गया है। यानी यूजर जब भी कोई योग करेगा तो यह ऐप न सिर्फ उसे गाइड करेगा, बल्कि यह भी बताएगा कि उससे कहां गलती हो रही है, कहां उसकी पोजिशनिंग ठीक नहीं है। इसके लिए ऐप यूजर के स्मार्टफोन के फ्रंट कैमरा की मदद लेता है।

इतना ही नहीं यूजर की फिजिकल एबिलिटी के आधार पर यह ऐप ऑप्शनल एक्ट भी सुझाएगा, ताकि यूजर आसानी से वह योग कर सके। इसमें यूजर खुद का रिकॉर्डेड वीडियो भी सेव करके रख सकता है। Zyoga ऐप में अलग-अलग वर्ग के लोगों के लिए खास तौर से योग तैयार किए गए हैं।

ब्रांड टु ब्रांड बिजनेस, कई कंपनियों से टाइअप

फिलहाल अमितेश की टीम में 12 लोग काम करते हैं। अमितेश और विभू दोनों ही कंपनी के को-फाउंडर हैं।
फिलहाल अमितेश की टीम में 12 लोग काम करते हैं। अमितेश और विभू दोनों ही कंपनी के को-फाउंडर हैं।

अमितेश कहते हैं कि उनका स्टार्टअप आम यूजर्स के साथ ही बड़ी कंपनियों के लिए काम करता है, लेकिन अभी उनका फोकस ब्रांड टु बिजनेस मार्केटिंग पर ही है। इसके लिए कई कॉर्पोरेट कंपनियों ने उनके साथ टाइअप किया है। जिसके कर्मचारियों के लिए वे योग तैयार करते हैं। जैसे किसी को चेयर पर बैठकर योग करना है, तो उसके लिए अलग तरह से योग डिजाइन किया गया है। इसी तरह प्रेग्नेंट वुमन के लिए अलग योग हैं।

इसके साथ ही उन्होंने कई फिटनेस कंपनियों से भी डील की है। इसके लिए वे ऑनलाइन सर्विस प्रोवाइड कराते हैं। फिलहाल उनके साथ देश भर से 5 हजार से ज्यादा यूजर्स जुड़े हैं। अगर फीस की बात की जाय तो 299 रुपए से लेकर 1499 रुपए तक मंथली सब्सक्रिप्शन चार्ज हैं। ये चार्ज प्रीमियम सर्विसेज के लिए हैं, जबकि बेसिक सर्विसेज फ्री हैं। फिलहाल अमितेश की टीम में 12 लोग काम करते हैं। जल्द ही वे अपना दायरा बढ़ाने वाले हैं।