पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Db original
  • Assam Legislative Assembly Election 2021 : Polling For 47 Seats Tomorrow Over 81 Lakh Voters To Decide Fate Of 264 Candidates

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

असम चुनाव 2021:पहले चरण में 47 सीटों पर वोटिंग जारी; मुख्यमंत्री सोनोवाल समेत 264 उम्मीदवार मैदान में, CAA का सबसे ज्यादा विरोध यहीं हुआ था

जोरहाटएक महीने पहलेलेखक: दिलीप कुमार शर्मा
  • कॉपी लिंक

असम में पहले चरण में 12 जिलों की 47 विधानसभा सीटों पर आज वोटिंग हो रही है। इनमें माजुली की सीट भी शामिल है जहां से मौजूदा मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल चुनाव लड़ रहे हैं। पीएम मोदी ने शिवसागर, चबुआ, बोकाखाट और बिहूपुरिया में चुनावी रैलियां की हैं। जबकि कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी शिवसागर, दुमदुमा, मरियानी और गोहपुर में सभाएं की हैं। इसके अलावा गृहमंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा समेत कई हाई प्रोफाइल नेता पहले चरण में जिन सीटों पर वोटिंग हो रही है, वहां अपनी ताकत झोंक चुके हैं।

दरअसल जिन 47 सीटों पर वोट डाले जा रहे हैं, उनमें 34 सीटें ऊपरी असम की हैं जहां CAA यानी नागरिकता संशोधन कानून का जोरदार विरोध हुआ था। जबकि बाकी की 13 विधानसभा सीटें सेंट्रल असम में आती हैं। राज्य चुनाव आयोग के आंकड़ों के अनुसार पहले दौर की इन सीटों पर कुल 81,09,815 वोटर्स हैं, जो 264 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला करेंगे।

चाय जनजाति समुदाय निर्णायक की भूमिका में

इन चुनावी रैलियों में पीएम मोदी समेत सभी BJP नेताओं ने कांग्रेस और बदरुद्दीन अजमल की पार्टी ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (AIUDF) के ऊपर जमकर राजनीतिक निशाना साधा। BJP, 2016 के चुनाव से खुद को असम की पहचान और संस्कृति को बचाने वाले के रूप में पेश करती रही है। हालांकि जिन 47 सीटों पर मतदान होने हैं, वहां करीब 20 सीटों पर चाय जनजाति के लोगों का दबदबा है और इस बार के चुनाव में चाय श्रमिकों की दैनिक मजदूरी एक बड़ा मुद्दा है। इसलिए BJP-Congress दोनों ही पार्टी का चुनावी प्रचार चाय जनजाति समुदाय के लोगों के आसपास ही केंद्रित रहा।

इसके अलावा भूमिहीनों को 'जमीन का पट्टा' देने, 2 लाख सरकारी नौकरियां देने तथा 8 लाख रोजगार सृजन करने के भी वादे किए गए हैं। पहले दौर के चुनावी प्रचार में महंगाई और रोजगार के मुद्दे उठाए गए।

इस बार अलग-अलग गठबंधनों के बीच लड़ा जा रहा है चुनाव

2016 के विधानसभा चुनाव में BJP के नेतृत्व वाले गठबंधन ने ऊपरी और मध्य असम की इन 47 सीटों में से 35 सीटें जीती थीं, जबकि कांग्रेस ने केवल 9 सीटों पर जीत दर्ज की थी। असम में इस बार का चुनाव अलग-अलग बने गठबंधनों के बीच लड़ा जा रहा है। BJP के नेतृत्व वाले गठबंधन में क्षेत्रीय पार्टी असम गण परिषद और यूनाइटेड पीपल्स पार्टी लिबरल शामिल है। जबकि कांग्रेस पार्टी के महागठबंधन में AIUDF, बोडोलैंड पीपल्स फ्रंट, आंचलिक गण मोर्चा, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी और मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी शामिल हैं। वहीं CAA के विरोध प्रदर्शन से निकली नई क्षेत्रीय पार्टियां असम जातीय परिषद और रायजोर दल आपस में गठबंधन कर चुनाव लड़ रही है।

पहले चरण के चुनाव में मुख्य उम्मीदवारों में मुख्यमंत्री सोनोवाल के अलावा विधानसभा स्पीकर हितेंद्र नाथ गोस्वामी जोरहाट विधानसभा सीट से BJP के उम्मीदवार हैं जबकि कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष रिपुन बोरा गोहपुर विधानसभा सीट से चुनाव लड़ रहे हैं और नाजीरा सीट से कांग्रेस विधायक दल के नेता देवव्रत सैकिया चुनाव लड़ रहे हैं।

साल 2016 में हुए असम विधानसभा चुनाव में BJP को 60, कांग्रेस को 26, ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट को 13, असम गण परिषद को 14, बोडोलैंड पीपल्स फ्रंट को 12 और एक सीट निर्दलीय को मिली थी। असम की 126 विधानसभा सीटों के लिए तीन चरणों में वोटिंग होनी है।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय चुनौतीपूर्ण है। परंतु फिर भी आप अपनी योग्यता और मेहनत द्वारा हर परिस्थिति का सामना करने में सक्षम रहेंगे। लोग आपके कार्यों की सराहना करेंगे। भविष्य संबंधी योजनाओं को लेकर भी परिवार के साथ...

और पढ़ें