• Hindi News
  • Db original
  • Telangana Covid 19 Cases। Telangana Covid 19 Test। Gandhi Hospital Hyderabad Covid 19 Cases। Hyderabad Kovid Hospital Conditions

हैदराबाद के कोविड हॉस्पिटल का हाल:जिन्हें क्वारैंटाइन होना चाहिए, पॉजिटिव मरीजों के वो परिजन सड़क पर बैठे हैं; बोल रहे हैं लक्षण के बावजूद कोई हमारी जांच नहीं कर रहा

10वीं कहानी हैदराबाद से2 वर्ष पहलेलेखक: मनीषा भल्ला
हैदराबाद की नीना पिछले चार दिन से गांधी अस्पताल के सामने सड़क पर गंदगी में बैठी हैं। इनकी मां कोरोना पॉजिटिव हैं और 13 दिनों से अस्पताल में भर्ती है, लेकिन नीना को इस बात की जानकारी नहीं है कि उनकी मां जिंदा है या नहीं।
  • 3 करोड़ से ज्यादा की आबादी के लिए 450 डॉक्टर थे, इनमें से भी 110 कोरोना संक्रमित हो गए
  • हैदराबाद की रहने वाली नीना को 13 दिन से हॉस्पिटल से अपनी मां की कोई जानकारी नहीं मिली है, कहती हैं- पता नहीं कि मां जिंदा भी है या नहीं
  • गांधी हॉस्पिटल की एक डॉक्टर के मुताबिक, सरकार हर दिन 8-10 मौतों का आंकड़ा बताती है, जबकि हर दिन 25 से ज्यादा मर रहे; कई तो बिना टेस्ट के ही मर रहे हैं

नवाबों का शहर हैदराबाद कोरोना के मामले में बारूद के ढेर पर बैठा है। तेलंगाना के 34 जिलों की तीन करोड़ से ज्यादा की आबादी के लिए यहां तीन दिन पहले तक सिर्फ एक कोविड हॉस्पिटल था। इस हॉस्पिटल में डॉक्टरों की तो कमी है ही, पैरामेडिकल स्टाफ भी न के बराबर है। राजधानी हैदराबाद के इस गांधी अस्पताल में अब तक 110 डॉक्टर कोरोना से संक्रमित भी हो चुके हैं। यहां के डॉक्टर खुद बताते हैं कि तेलंगाना सरकार ने कोरोना मरीजों और डॉक्टरों को मरने के लिए छोड़ दिया है।

गांधी अस्पताल में अब तक 110 डॉक्टर कोरोना से संक्रमित भी हो चुके हैं। डॉक्टर बताते हैं कि तेलंगाना सरकार ने कोरोना मरीजों और डॉक्टरों को मरने के लिए छोड़ दिया है। फोटो- ताराचंद गवारिया
गांधी अस्पताल में अब तक 110 डॉक्टर कोरोना से संक्रमित भी हो चुके हैं। डॉक्टर बताते हैं कि तेलंगाना सरकार ने कोरोना मरीजों और डॉक्टरों को मरने के लिए छोड़ दिया है। फोटो- ताराचंद गवारिया

हैदराबाद की नीना पिछले चार दिन से गांधी अस्पताल के सामने सड़क पर गंदगी में बैठी हैं। इनकी 64 वर्षीय मां कोरोना पॉजिटिव हैं और बीते 13 दिन से अस्पताल में एडमिट हैं। वह बताती हैं कि हमारे पास अपनी मां की कोई खबर नहीं है। हमें नहीं पता कि वह अंदर जिंदा भी हैं या मर चुकी हैं।

नीना कहती हैं कि पहले हम मां को चेस्ट हॉस्पिटल में ले गए थे, लेकिन वहां से हमें गांधी अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया। यहां मां को एडमिट तो किया गया लेकिन अब अंदर क्या हो रहा है, कोई नहीं बताता।

शहर में ऐसे कई लोग हैं जो अपना कोरोना टेस्ट करना चाह रहे हैं, लेकिन हेल्थ डिपार्टमेंट से बार-बार कहने के बाद भी इनकी जांच नहीं हो रही है। फोटो- ताराचंद गवारिया
शहर में ऐसे कई लोग हैं जो अपना कोरोना टेस्ट करना चाह रहे हैं, लेकिन हेल्थ डिपार्टमेंट से बार-बार कहने के बाद भी इनकी जांच नहीं हो रही है। फोटो- ताराचंद गवारिया

मोहसिन भी कुछ ऐसी ही कहानी बता रहे हैं। वे कहते हैं, ‘13 दिन हो गए हैं, मां को देखा नहीं है। आखिरी बार जब फोन पर बात हुई तो मां ने बस यह कहा था कि एक बार अंदर आकर मुझे देख ले।’हॉस्पिटल के बाहर मिले एक अन्य शख्स बताते हैं कि उनकी मां कोरोना संक्रमित है। परिवारवालों में भी वैसे ही लक्षण दिख रहे हैं, लेकिन हेल्थ डिपार्टमेंट में कई बार बोलने के बाद भी घरवालों का कोरोना टेस्ट नहीं हो रहा है। वह बताते हैं कि कायदे से तो हम लोगों को क्वारैंटाइन होना चाहिए लेकिन हैदराबाद में तो सब को बम बनाकर सड़कों पर छोड़ रखा है।

गांधी अस्पताल के बाहर बैठे इन लोगों की तकलीफों का कारण डॉक्टर या हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन नहीं बल्कि राज्य सरकार है। यहां के डॉक्टरों का तो यही कहना है। डॉक्टर बहुत कम है, पैरामेडिकल स्टॉफ न के बराबर, 12-12 घंटे काम कर रहे हैं।

हेल्थ रिफॉर्मिग डॉक्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. महेश बताते हैं, "यहां सबसे बड़ी दिक्कत है कि हमारे पास मैनपावर नहीं है। डॉक्टर 12-12 घंटे की डयूटी कर रहे हैं। काम का दबाव भी है और तनाव भी। पैरामेडिकल स्टाफ तो न के बराबर है। तेलंगाना की जनता के लिए यहां कुल 450 डॉक्टर हैं, जिनमें से 110 कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। कुछ सीनियर डॉक्टर्स भी अब 20 जून से शुरू होने वाले पीजी एग्जाम को कंडक्ट करवाने में लगे हुए हैं। कुल मिलाकर यहां हालत खराब हो रहे हैं।

सिर्फ 150 हॉस्पिटल बेड बढ़े, मरीजों के मुकाबले यह बहुत कम है
गांधी अस्पताल की डॉ जैनब बताती हैं, "हाल ही में एक हजार बेड के इस अस्पताल की सातवीं और तीसरी मंजिल को आईसीयू में कन्वर्ट किया गया है। एक अन्य बिल्डिंग को भी आईसीयू में बदल दिया गया है। ग्राउंड फ्लोर में ऑक्सीजन पोर्ट्स लग रहे हैं। इस तरह करीब 150 अतिरिक्त बैड लगाए गए हैं। लेकिन कोरोना मरीजों की बढ़ रही तादाद के सामने यह इंतजाम कुछ भी नहीं है, क्योंकि यहां डॉक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ की संख्या उतनी ही है, जितनी पहले थी।

अस्पताल में स्टाफ और डॉक्टरों की कमी के कारण लोगों की परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। फोटो- ताराचंद गवारिया
अस्पताल में स्टाफ और डॉक्टरों की कमी के कारण लोगों की परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। फोटो- ताराचंद गवारिया

मुख्यमंत्री के बेटे की साख बनी रहे, इसलिए हैदराबाद के आंकड़े छिपाए जा रहे
नाम न बताने की शर्त पर हॉस्पिटल के डॉक्टर कहते हैं कि तेलंगाना सरकार कोविड को लेकर सही आंकड़े पेश नहीं कर रही है। खासकर हैदराबाद शहर के आंकड़ें छिपाए जा रहे हैं। यह इसलिए क्योंकि हैदराबाद को चलाने की जिम्मेदारी मुख्यमंत्री के बेटे और आईटी मंत्री की है। उनके राजनीतिक करियर के लिए हैदराबाद की जनता के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। इसका उदाहरण हम इससे समझ सकते हैं कि राज्य सरकार हैदराबाद के कोरोना मरीजों का डेटा रिलीज न करके ग्रेटर हैदराबाद के नाम से डेटा बताती है जिसमें तीन जिले और आते हैं और इनमें भी सही आंकड़े नहीं होते हैं।  

लोगों को अपने परिजन की जानकारी नहीं मिलती, डेड बॉडी एक्सचेंज हो रही
गांधी अस्पताल प्रवासियों और आम लोगों की मदद कर रही हैदराबाद की खालिदा प्रवीन बताती हैं कि आलम यह है कि बीते दस दिन में गांधी अस्पताल में कई मर्तबा डेड बॉडीज एक्सेंच हो चुकी हैं। किसी की डेड बॉडी किसी और को दे दी जाती है। दो मामले ऐसे आए हैं कि लोगों ने खुद गांधी अस्पताल में अपने परिजन को भर्ती करवाया, लेकिन वह जिंदा है या मर गया और मर गया है तो उसकी डेड बॉडी कहां है, इसकी कोई खबर नहीं है। खालिदा के मुताबिक, इसकी एक वजह यही है कि यहां स्टॉफ नहीं है और डॉक्टरों पर काम का दबाव और तनाव दोनों ही बहुत ज्यादा है।

लोगों का आरोप है कि सरकार हैदराबाद के कोरोना मरीजों का डेटा रिलीज न करके ग्रेटर हैदराबाद के नाम से डेटा बताती है , जिसके आंकड़े सही नहीं होते हैं। फोटो- ताराचंद गवारिया
लोगों का आरोप है कि सरकार हैदराबाद के कोरोना मरीजों का डेटा रिलीज न करके ग्रेटर हैदराबाद के नाम से डेटा बताती है , जिसके आंकड़े सही नहीं होते हैं। फोटो- ताराचंद गवारिया

सरकार कहती है, हर दिन 8-10 मरीज मर रहे, जबकि इनकी संख्या 25 से ज्यादा है: डॉक्टर
हैदराबाद के गांधी अस्पताल की एक पोस्ट ग्रेजुएट डॉक्टर ने तो जो बताया वह चौकाने वाला नहीं बल्कि डराने वाला है। वे बताती हैं, "हैदराबाद का क्या होगा यह कुछ ही दिनों में पता चल जाएगा। कोरोना मरीजों की गिनती और मरने वालों की तादाद का गलत आंकड़ा दिया जा रहा है। मीडिया को बताया जा रहा है कि हर दिन 8 से 10 लोग कोरोना से मर रहे हैं जबकि मरने वालों की तादाद हर दिन 25 से ज्यादा है। कोविड रिपोर्ट आने से पहले जो लोग मर रहे हैं उनका तो आंकड़ा भी नहीं है।"

हेल्थ डायरेक्टर का पूरे राज्य में 30 कोविड सेंटर होने का दावा
पब्लिक हेल्थ डायरेक्टर श्रीनिवास राव बताते हैं कि शुरूआत में कोरोना के ग्रामीण इलाकों से केस नहीं आ रहे थे इसलिए सिर्फ गांधी अस्पताल में ही कोरोना ट्रीटमेंट सेंटर बनाया गया था। लेकिन जैसे-जैसे केस बढ़ते गए हमने जिलों में कोरोना टेस्ट करने शुरू कर दिए। कोरोना के लक्षण दिखने पर लोगों को घरों में ही क्वारैंटाइन किया जा रहा है। पूरे राज्य में कोविड ट्रीटमेंट के लिए 30 सेंटर बनाए गए हैं।

हालांकि गांधी अस्पताल के डॉ. लोहित तजूटा इस दावे को खारिज करते हैं। वे कहते हैं कि सरकार ने हर जिले में कोविड ट्रीटमेंट सेंटर बनाने की हमारी मांग मानी तो थी लेकिन अभी तक ऐसा कुछ नहीं हुआ। हालत वही है। आज भी हर जिले से मरीज गांधी अस्पताल ही आ रहे हैं।

पढ़ें : पहली कहानी- कोरोना के चलते यतीम होते बच्चे / 21 बच्चे लॉकडाउन में पहुंचे शेल्टर होम, जिसमें 4 नवजात भी, इनके माता-पिता इन्हें सड़क पर छोड़ गए

पढ़ें : दूसरी कहानी - प्रवासी मजदूरों के साथ पैदल निकली थी सीमा / सड़क पर बच्चे को जन्म दिया और वहीं छोड़कर आगे बढ़ गई, क्योंकि बच्चे को साथ लेकर जल्दी-जल्दी कैसे चल पाती?

पढ़ें : तीसरी कहानी- लॉकडाउन लगा तब खजुराहो में 17 विदेशी पर्यटक थे / उनमें से पांच अभी भी यहीं है, नीदरलैंड के ईवन पहले रमाडा होटल में रुके थे अब आश्रम में रह रहे हैं

पढ़ें : चौथी स्टोरी - कहानी बुंदेलखंड की / 20 सालों में 13 साल सूखा पड़ा, 20 लाख मजदूर काम की खोज में बाहर चले गए, लॉकडाउन लगा तो 8 लाख को लौटना पड़ा

पढ़ें : पांचवीं कहानी- गरीबी और परंपरा झेलते बुंदेलखंड के 3 गांव / सैकड़ों किमी पैदल चलकर गांव पहुंची महिलाएं तो पैर में छाले थे, लेकिन यहां महिलाएं मर्दों के सामने चप्पलें नहीं पहनतीं

पढ़ें : छठी कहानी- प्रवासी घर लौटे तो खाली हुआ धारावी / छोटे घरों की वजह से सोशल डिस्टेंसिंग असंभव थी, काम बंद हो गया और खाना भी नहीं मिल रहा था इसलिए घर लौटे मजदूर

पढ़ें : सातवीं कहानी- कोरोना लाशों पर राजनीति / पुणे निगम ने अंतिम संस्कार का जिम्मा अलग-अलग धर्मों से जुड़े एनजीओ को सौंपा, विपक्ष ने मुस्लिम एनजीओ को राष्ट्रविरोधी बताया तो परमिशन कैंसिल

पढ़ें: आठवीं कहानी - दिल्ली की दुकानों का हाल / ऑड-ईवन की गाइडलाइन के मुताबिक 20 दिनों से खुल रही हैं दुकानें, पर ग्राहकों की जगह किराया वसूलने मालिक आ रहे हैं

पढ़ें : 9वीं कहानी- कोरोना की एक कहानी ऐसी भी / देश में 9 लाख सेक्स वर्कर, जो इसी पेशे के बूते बच्चों की पढ़ाई के लोन, बूढ़ी मां का इलाज कराती थीं अब आर्थिक तंगी से जूझ रहीं

खबरें और भी हैं...