पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Db original
  • Cremation Found No Place, Cremation On Pavement, More Than 35 Dead Bodies Burnt In Ghaziabad

गमों की इंतेहा नहीं, शवों के लिए श्मशान नहीं:गाजियाबाद में फुटपाथ पर जल रहीं चिताएं, कर्नाटक में घरों और खेतों में अंतिम संस्कार की इजाजत देनी पड़ी

नई दिल्ली3 महीने पहले
ये तस्वीरें गाजियाबाद के हिंडन श्मशान घाट की हैं। जहां जगह नहीं बची तो फुटपाथ पर चिताएं जलाने की मंजूरी दी गई है।

श्मशान घाट में जगह नहीं बची है, दाह संस्कार के लिए आप कहीं और जाएं...
अपनों की अर्थी को कंधों पर लादे कोई व्यक्ति ये लाइनें पढ़ेगा तो उस पर क्या गुजरेगी। लेकिन, आज का सच यही है। हर ओर चिताएं जल रही हैं और देश मातम में डूबा है। गाजियाबाद के श्मशान घाट पर जगह कम पड़ रही है, क्योंकि राजधानी से सटे इस शहर में हर पल किसी न किसी की जान जा रही है। अब स्थिति ये है कि फुटपाथ पर चिताएं जल रही हैं। वहीं, कर्नाटक में सरकार को घरों के आसपास की जगहों और खेतों में भी अंतिम संस्कार की इजाजत देनी पड़ी है।

गाजियाबाद की ये तस्वीरें, जो आपको हिला देंगी

करीब 3 दिन पहले की बात है, गाजियाबाद स्थित हिंडन नदी के किनारे घाट में लाइन से शवों का दाह संस्कार किया गया। बताया जा रहा है कि 35 से ज्यादा शवों को श्मशान घाट के दूसरी तरफ फुटपाथ पर जलाया गया। ये घटना देर रात की है। ये सभी कोरोना की जंग हारने वाले लोग थे।

हिंडन के इस श्मशान पर लगातार एंबुलेंस आती है, जिनमें कोरोना मरीजों के शव होते हैं।
हिंडन के इस श्मशान पर लगातार एंबुलेंस आती है, जिनमें कोरोना मरीजों के शव होते हैं।

यहां लोग अपनों की अर्थी लेकर आते हैं, PPE किट में घंटों इंतजार करते हैं

इन शवों को लाने के लिए सड़क पर एंबुलेंस की लंबी कतारें थीं। कई एंबुलेंस की नंबर प्लेट्स तक गायब थीं। इनमें लिखे नंबरों पर जब भास्कर ने फोन करने की कोशिश की तो ज्यादातर नंबर आउट ऑफ कवरेज या स्विच ऑफ निकले।

इतने शव आते हैं कि अंतिम संस्कार के लिए लोगों को घंटों इंतजार करना पड़ता है।
इतने शव आते हैं कि अंतिम संस्कार के लिए लोगों को घंटों इंतजार करना पड़ता है।

भास्कर को एक महिला की कहानी जरूर पता चली, जिसे अपने पिता के अंतिम संस्कार के लिए करीब 6 घंटे तक इंतजार करना पड़ा। इस दौरान वो पीपीई किट में खड़ी थी। उसके साथ आए रिश्तेदार लगातार रो रहे थे।

हिंडन के श्मशान घाट पर लगातार चिताएं जलाने का काम चल रहा है।
हिंडन के श्मशान घाट पर लगातार चिताएं जलाने का काम चल रहा है।

कुत्तों की कब्रगाह में लोगों का दाह संस्कार
नई दिल्ली में भी कोरोना से जान गंवाने वाले लोगों की संख्या तेजी से बढ़ी है। ऐसे में साउथ दिल्ली म्युनिसिपल कॉरपोरेशन ने लोगों के दाह संस्कार के लिए कुत्तों के कब्रगाह यानी डॉग क्रेमेटोरियम का इस्तेमाल करने का मन बनाया है। जब तक स्थिति सामान्य नहीं होगी तब तक इसे लोगों की चिताएं जलाने के लिए लिया जा रहा है।

हिंडन के श्मशान घाट के पास फुटपाथ पर चिताओं को जलाने की अस्थाई व्यवस्था की गई है।
हिंडन के श्मशान घाट के पास फुटपाथ पर चिताओं को जलाने की अस्थाई व्यवस्था की गई है।

हालात देखते हुए डॉग क्रेमेटोरियम को चुनना पड़ा

दिल्ली में रोजना कोरोना से करीब 700 लोगों की मौत हो रही है। ऐसे में प्रशासन ने अंतिम संस्कार के लिए इस जगह को चुना है। डॉग क्रेमेटोरियम अभी शुरू नहीं हुआ है, ऐसे में प्रशासन इसका इस्तेमाल लोगों के लिए कर रहा है। ये द्वारका के सेक्टर 29 में 3.5 एकड़ में फैला है।

ये तस्वीर हिंडन श्मशान गृह की है, जहां 24 घंटे चिताएं जल रही हैं।
ये तस्वीर हिंडन श्मशान गृह की है, जहां 24 घंटे चिताएं जल रही हैं।

कर्नाटक में घरों में दाह संस्कार की इजाजत
कर्नाटक सरकार ने नई गाइडलाइन जारी की है। इसमें लोगों से अपने खेतों में और घरों के पीछे दाह संस्कार करने को कहा गया है। श्मशानों और कब्रिस्तानों में भारी भीड़ की वजह से राज्य सरकार ऐसा फैसला लेने पर मजबूर हुई है। सरकार का कहना है कि इससे लोग सम्मान के साथ अपनों की अंतिम क्रिया कर सकेंगे।

खबरें और भी हैं...