संडे जज्बातयौन शोषण के खिलाफ लिखा तो पापा का मर्डर किया:राम रहीम हनीप्रीत से मिलकर गया है, लोग मुझसे पूछ रहे... तुम्हें डर नहीं लगता

2 महीने पहलेलेखक: अंशुल छत्रपति

24 अक्टूबर 2002, शाम के साढ़े सात बजे थे। पापा ऑफिस से जल्दी आ गए थे। मां गांव में किसी के घर गई थी। बहन खाना बनाने की तैयारी कर रही थी। इसी बीच किसी ने बाहर से आवाज दी। पापा उठकर गए, उनके पीछे-पीछे मैं भी गया।

सामने बंदूक लिए दो लोग खड़े थे। हम कुछ समझते उससे पहले ही पापा के सीने में दो गोलियां मार दीं। पापा नीचे गिरे और बचने की कोशिश करने लगे। तभी दो गोली पीठ पर और एक गोली गर्दन में दाग दी।

हम उन्हें अस्पताल ले गए। 28 दिन बाद पापा मौत से जंग हार गए। 17 साल हमने न्याय के लिए लड़ा। अब लोग पूछते हैं डर तो नहीं लगता…

मैं अंशुल छत्रपति, हरियाणा के सिरसा के पत्रकार रामचंद्र छत्रपति का बेटा हूं, जिनका कत्ल डेरा सच्चा सौदा के मुखिया राम रहीम ने करवाया था।

पापा का कसूर बस इतना था कि वे डेरा सच्चा सौदा की काली करतूतों का पर्दाफाश कर रहे थे। उन्हें हर दिन जान से मारने की धमकी मिल रही थी, लेकिन पापा डरे नहीं। अकेले मैदान में डटे रहे।

कई लोग मुझसे कहते हैं कि राम रहीम हनीप्रीत को पावर देकर गया है। वो मुझे नुकसान पहुंचा सकती है, पर मुझे इसकी परवाह नहीं है।
कई लोग मुझसे कहते हैं कि राम रहीम हनीप्रीत को पावर देकर गया है। वो मुझे नुकसान पहुंचा सकती है, पर मुझे इसकी परवाह नहीं है।

हाल ही में राम रहीम पैरोल पर जेल से बाहर आया था। हो सकता है किसी दिन उसे बेल भी मिल जाए। मैं जानता हूं दुश्मन ताकतवर है, कल को मुझे नुकसान भी पहुंचा सकता है, लेकिन मुझे डर नहीं लगता।

जिसके पिता को उसके सामने 5 गोलियां मारी गई हों, उसके दिल में दर्द इतना है कि डर के लिए जगह ही नहीं बची।

पापा बहुत मजाकिया थे। हमेशा हंसते रहते थे, लेकिन सामाजिक और राजनीतिक मुद्दों को लेकर बहुत संजीदा थे, मुखर थे। वे एक जुनूनी पत्रकार थे। दूसरों के हक के लिए सड़कों पर उतरने वाले। उन्हें रुपए-पैसे से कोई लेना-देना नहीं था। बस घर चल जाए, इतना ही उनके लिए काफी था।

हमारी अच्छी-खासी खेती है। मां भी खेती करती है। दादा और ताऊ पापा को बहुत डांटते थे कि कोई ढंग का काम कर लो, परिवार पालो, घरबार संभालो, पैसे कमाओ, लेकिन पापा किसी की नहीं सुनते।

ये तस्वीर मेरे पिता की है। वे हमेशा हंसते ही रहते थे।
ये तस्वीर मेरे पिता की है। वे हमेशा हंसते ही रहते थे।

पापा ने लॉ की पढ़ाई की थी। पत्रकारिता से पहले सिरसा बार एसोसिएशन में बतौर वकील प्रैक्टिस करते थे। वे कभी किसी से काम के पैसे ही नहीं लेते थे। इस पर दादा से उन्हें हर दिन डांट मिलती रहती थी।

मैं उस वक्त 16 साल का था जब पापा ने वकालत छोड़कर अलग-अलग अखबारों में कॉलम लिखने शुरू किए। इसके बाद एक अखबार के रिपोर्टर बन गए।

अब पापा के पास बिल्कुल भी समय नहीं था। न मेरी पढ़ाई के बारे में जानने का न घर-परिवार के लिए। अगर वे कुछ पढ़ रहे होते या लिख रहे होते, तो किसी की हिम्मत नहीं होती कि कोई उनसे कुछ पूछ दे।

उन्हें अखबारों की कतरन इकट्ठा करने का बहुत शौक था। आज भी मेरे पास सैकड़ों कतरनों के बंडल रखे हैं। राजनीतिक, आर्थिक और सामाजिक मुद्दों पर लिखे एडिटोरियल की कटिंग रख लिया करते थे। धीरे-धीरे पापा का प्रमोशन होता गया।

पापा के साथ मेरे बचपन की तस्वीर। आज भी मुझे लगता है वे मेरे आसपास ही हैं।
पापा के साथ मेरे बचपन की तस्वीर। आज भी मुझे लगता है वे मेरे आसपास ही हैं।

एक दिन उनके अखबार के एडिटर छुट्टी पर गए थे। उस दिन पापा को चार्ज मिला। पापा ने सरकार से सवाल पूछते हुए एडिटोरियल लिखा। अगले दिन संपादक ने पापा को काफी डांटा और कहा कि हर अखबार में कुछ न कुछ लाइन ऑफ कंट्रोल होता है।

इस पर पापा को गुस्सा आ गया। उन्होंने मेज पर हाथ मारा और कहा कि अब अपना अखबार शुरू करूंगा जिसमें जीरो लाइन के उस पार जाकर भी लिखा जाएगा और रिजाइन कर दिया।

इसके बाद साल 2000 में पापा ने अपना अखबार 'पूरा सच' शुरू किया। पापा ने सरकार के खिलाफ धुंआधार रिपोर्टिंग की।

उनकी रिपोर्ट्स के बाद सरकार को अपने कुछ फैसले वापस लेने पड़े। मसलन चौटाला हाउस उस वक्त सीएम हाउस हुआ करता था। जिसके पास की एक गली पर कब्जा था। पापा की रिपोर्टिंग के बाद वह गली छोड़नी पड़ी।

इसी तरह अनाज मंडी में पेशाब खाने की जगह दुकानें बना दी गईं, पापा की रिपोर्ट के बाद दुकानें वहां से हटाकर फिर से पेशाब घर बनाना पड़ा।

1990 की बात है। सिरसा में कुछ पत्रकारों के पास एक गुमनाम चिट्ठी पहुंची। उसमें डेरा सच्चा सौदा के बारे में लिखा था कि किस प्रकार वहां साध्वियों का यौन शोषण हो रहा है। इस चिट्ठी के बाद पत्रकारों के बीच हल्ला मच गया। हर कोई इसके आधार पर सबूत जुटाने में लग गया।

डेरे के लोगों को जैसे ही पता लगता कि कोई चिट्ठी का फोटो कॉपी करा रहा या कहीं सर्कुलेट कर रहा, उसे वे मारने लगते। ऑफिस तोड़ देते। दुकान तहस-नहस कर देते।

पापा ने इन सभी घटनाओं को रिपोर्ट करना शुरू किया। धीरे-धीरे पापा के कॉन्टैक्ट सोर्स बढ़ने लगे। उन्हें अंदर की सूचनाएं मिलने लगीं।

इससे डेरे के भीतर खलबली मचने लगी। इसके बाद धमकियों का दौर शुरू हुआ। हर दिन नई-नई धमकियां मिलतीं। कभी जान से मारने की, कभी मां-बेटी की रेप की तो कभी लालच भी।

परिवार के लोग परेशान थे। हमें डर लगता था कि किसी दिन कोई अनहोनी ना हो जाए, पर पापा किसी की सुनते नहीं थे।

इसी बीच वह गुमनाम चिट्ठी पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट पहुंची। अदालत ने उस पर खुद से संज्ञान लेते हुए सिरसा सेशन जज से इसकी जांच के आदेश दिए।

सेशन जज ने कहा कि बेहतर होगा जांच किसी स्वतंत्र एजेंसी को सौंपी जाए। अब तक डेरा साध्वियों के परिवारों से एफिडेविट ले चुका था कि साध्वियां अपनी मर्जी से डेरे में रह रही हैं।

'पूरा सच' नाम से पापा अखबार निकालते थे। ये उन दिनों के अखबार की फोटो है जब वे डेरा के खिलाफ लिखते थे।
'पूरा सच' नाम से पापा अखबार निकालते थे। ये उन दिनों के अखबार की फोटो है जब वे डेरा के खिलाफ लिखते थे।

एक दिन पापा ने डेरे के खिलाफ एडिटोरियल लिखा, जिसे फतेहाबाद के एक अखबार ने ज्यों का त्यों छाप दिया। उसके बाद डेरे के लोगों ने उस अखबार का दफ्तर तोड़ दिया, पेट्रोल लेकर संपादक को ढूंढने लगे कि इन्हें जिंदा जला देंगे।

संपादक अपने परिवार के साथ कई दिनों तक गायब रहे। पापा ने इस घटना को पूरे पेज पर प्रकाशित किया। इसके बाद वे लगातार एक-एक करके डेरे पर रिपोर्ट करते रहे।

डेरे ने पापा को रोकने की सारी कोशिशें कर ली। फिर उन्होंने पापा पर झूठा इलजाम भी लगवाया कि उन्होंने एक दलित को जाति सूचक शब्द बोला है।

उस दिन मेरी बुआ के बेटे की शादी थी। हमने कोर्ट के सामने सबूत के तौर पर शादी का कार्ड और फोटो पेश किया और आरोप गलत साबित हो गया।

उधर पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट में डेरे ने अपने बचाव के लिए जो याचिका लगाई थी वह खारिज हो गई। डेरा चारों ओर से घिरता जा रहा था।

पापा पर चारों तरफ से दबाव बनाए गए कि वे डेरे के खिलाफ नहीं लिखें। परिवार को भी धमकी दी गई, लेकिन वे लिखते रहे।
पापा पर चारों तरफ से दबाव बनाए गए कि वे डेरे के खिलाफ नहीं लिखें। परिवार को भी धमकी दी गई, लेकिन वे लिखते रहे।

एक दिन किसी ने पापा को बाहर से आवाज दी। पापा बाहर गए, मैं भी पापा के पीछे गया कि कौन आया है। देखा कि सामने बंदूक लिए दो लोग खड़े हैं।

उन्होंने पापा को मेरे सामने दो गोलियां मारीं। इसके बाद उन्होंने तीन गोलियां पीठ और कंधे पर मारी। मेरे दिमाग में सबसे पहले यही आया कि इसी दिन का डर था।

मारने के बाद दोनों अलग-अलग दिशा में भागे। उनमें से एक पुलिस चौकी की तरफ भागा। उसे नहीं पता था कि उस तरफ पुलिस चौकी है। वह सालों से बंद पड़ी बर्फ फैक्ट्री की दीवार फांद कर उसके पीछे बनी झोंपड़ी में छिपना चाह रहा था।

तभी उसे एक महिला ने देख लिया। उसने सोचा चोर है और शोर मचाना शुरू कर दिया। इतने में पुलिस आ गई। पुलिस ने उसके पास से रिवॉल्वर बरामद किया। थोड़ी देर बाद दूसरा शूटर भी गिरफ्तार हो गया।

पूछताछ में पता लगा कि जिस रिवॉल्वर से पापा की हत्या की गई थी, वो डेरा सच्चा सौदा के मैनेजर के नाम पर है। एक वॉकी-टॉकी भी मिला, वो भी डेरे के नाम पर ही था।

उधर मैं पड़ोसी की गाड़ी लेकर पापा को सिविल अस्पताल ले गया। डॉक्टरों ने रोहतक पीजीआई रेफर करने में ही डेढ़ घंटा लगा दिया।

हम रोहतक नहीं जाना चाहते थे, क्योंकि हमें डेरे के लोगों से डर था। हमने डॉक्टरों से कहा कि हमें चंडीगढ़ पीजीआई रेफर कर दें, लेकिन ऐसा हुआ नहीं। मजबूरन हमें रोहतक पीजीआई ले जाना पड़ा। पापा वहां आठ दिन तक एडमिट रहे।

वे धीरे-धीरे ठीक हो रहे थे। बातचीत भी करने लगे थे। आठवें दिन मैं बुआ के बेटे को अस्पताल में छोड़कर कुछ काम से सिरसा आ गया। उसी रात बुआ के बेटे का फोन आया कि पापा की तबीयत खराब हो रही है।

मैं सिरसा से कुछ पैसों का इंतजाम करके सीधे रोहतक पीजीआई गया। वहां से हम पापा को दिल्ली के अपोलो अस्पताल ले गए।

बस पापा ने मुझसे आखिरी बार ऑक्सीजन का मास्क हटाकर बहुत मुश्किल से पूछा कि हम कहां जा रहे हैं? मैंने कहा कि अपोलो जा रहे हैं। वहां पापा को वेंटिलेटर पर रखा गया। 28 दिन बाद 21 नवंबर 2002 को पापा की मौत हो गई।

ये पापा की अंतिम यात्रा की फोटो है। आज भी मेरी आंखों में उस दिन का एक-एक पल कैद है। मैं उस दिन को भूल नहीं पाता।
ये पापा की अंतिम यात्रा की फोटो है। आज भी मेरी आंखों में उस दिन का एक-एक पल कैद है। मैं उस दिन को भूल नहीं पाता।

इधर पापा के हमले वाले दिन से ही सिरसा की सड़कों पर आंदोलन हो रहे थे। हर कोई पापा को इंसाफ दिलवाने की बात कह रहा था। पूरा सिरसा जल रहा था।

मैं पापा की डेड बॉडी लेकर सिरसा आया तो शवयात्रा निकाली गई। सिरसा की सड़कों पर तिल रखने की भी जगह नहीं थी। छतों से औरतें रो रही थीं।

मैं उस वक्त 20 साल का था। दोस्तों के साथ उठने-बैठने, घूमने और किसी तरह की चिंता से बेपरवाह। पापा के जाने के बाद एक रात में अपनी उम्र से काफी बड़ा हो गया। तीन भाई-बहन और मां की जिम्मेदारी मुझ पर आ गई। हर दिन कोर्ट-कचहरी, पुलिस स्टेशन, सीबीआई दफ्तर में आना-जाना शुरू हो गया।

पुलिस ने पापा का 164 के तहत बयान ही नहीं करवाए। जबकि पापा बिल्कुल ठीक थे, वे बयान दे सकते थे।

छोटे भाई ने FIR करवाई तो पुलिस डेरे के खिलाफ एक शब्द लिखने के लिए तैयार नहीं थी। डेरे की सत्ता, पुलिस प्रशासन से लड़ना आसान नहीं था। मैंने जिद पकड़ ली कि FIR में राम रहीम का नाम लिखवाकर ही रहूंगा।

इधर पत्रकार हर दिन आंदोलन कर रहे थे। उन पर सरकार की तरफ से दबाव भी बनाया जा रहा था। सीएम ने हमें भरोसा भी दिया कि जांच की जाएगी।

दोषियों को छोड़ेंगे नहीं, लेकिन पुलिस शूटर्स के बयानों को तोड़-मरोड़कर पेश कर रही थी। हमें प्रॉपर्टी विवाद में भी फंसाया गया। यह भी थ्योरी गढ़ी गई कि प्रॉपर्टी विवाद में इनके करीबियों ने ही हत्या की है।

हमने अदालत का दरवाजा खटखटाया और सीबीआई जांच की मांग की। पुलिस कह रही थी कि सीबीआई जांच की जरूरत नहीं है। खैर अदालत ने हमारी बात मानी। हमारी याचिका पर अदालत ने 10 नवंबर 2003 को सीबीआई जांच के आदेश दिए।

डेरे ने सीबीआई से कोई सहयोग नहीं किया। तीन बार सीबीआई का नोटिस स्वीकार नहीं किया। सीबीआई ऑफिस पर नारेबाजी करवाई। उसी दौरान कुरूक्षेत्र में रणजीत सिंह के पिता ने भी अदालत में सीबीआई जांच के लिए याचिका लगा दी।

राम रहीम के खिलाफ यौन शोषण की शिकायत करने वाली दो साध्वियों में से एक रणजीत की बहन भी थी। डेरे वालों का मानना था कि वह गुमनाम पत्र रणजीत की बहन ने ही लिखा है।

अब सीबीआई डेरे में यौन शोषण की शिकायत, पत्रकार की हत्या और रणजीत की हत्या तीनों मामलों की जांच कर रही थी।

डेरा सीबीआई जांच के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट तक गया। मैं वहां भी लड़ा। 31 जुलाई 2007 को सीबीआई ने अपनी चार्जशीट दाखिल की।

जिसमें डेरा सच्चा सौदा को 302 और 120-बी का दोषी माना। 2007 में दोष साबित होने के बाद भी 2017 में राम रहीम को गिरफ्तार किया गया और 2019 में उसे दोषी करार दिया गया। यानी 17 साल बाद हमें न्याय मिला।

पापा बरगद थे, जिसकी छांव किसी के भी होने से नहीं मिल सकती है। पापा को न्याय दिलवाना मेरा मिशन था। अब भी मुझे डर नहीं लगता है।

चाहे राम रहीम को बेल मिल जाए, वह अंदर रहे या बाहर। जो मेरे पिता के साथ हुआ, राम रहीम को उसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा। पापा की हत्या ही मुझे उसके खिलाफ लड़ने की ताकत दे रही है।

अंशुल छत्रपति ने ये सारी बातें भास्कर रिपोर्टर मनीषा भल्ला से शेयर की हैं...

अब संडे जज्बात सीरीज की ये 3 स्टोरीज भी पढ़ लीजिए...

1. भगवान... मेरी बेटी कभी मां बनने लायक ना हो:12 साल से सोई नहीं, आंख लगते ही डर जाती हूं; कहीं अनहोनी न हो जाए

मैं भगवान से दुआ करती हूं कि मेरी बेटी को पीरियड्स नहीं आए, उसकी शादी नहीं हो, वह मां बनने लायक नहीं हो। दुनिया की कोई मां ऐसा नहीं चाहेगी। मैं भी नहीं चाहती, लेकिन मजबूर हूं। 12 साल से मेरे लिए दिन-रात एक है। जरा सी आंख लगती है तो चौंककर उठ जाती हूं, सहम जाती हूं कि कहीं कुछ अनहोनी न हो जाए। (पूरी खबर पढ़िए)

2. किन्नर से महामंडलेश्वर बनी, आज भी भीड़ में लोग हाथ दबा देते हैं, सोशल मीडिया पर बोलते हैं- अच्छी वाली फोटो भेजो

मेरे भाई ने ही मेरा यौन शोषण किया। तीन बार आत्महत्या की कोशिश की। घर में काफी मार-पीट हुई। प्यार भी किया, लेकिन वफा के नाम पर मुझे धोखा मिला, वो भी चार दफा। फिर मोह माया छोड़कर निकल पड़ी अपनी नई दुनिया बनाने। जूना अखाड़े के हरिगिरी महाराज से दीक्षा ली और संन्यासी बन गई। अब मैं किन्नर अखाड़े की महामंडलेश्वर हूं, नाम है पवित्रानंद नीलगिरी। (पूरी कहानी पढ़िए)

3. पेट पालने के लिए रेप तक झेला:आंटी ने अधेड़ के हाथों बेच दिया, फिर बनी किन्नर महामंडलेश्वर, मेरे ऊपर फिल्म बन रही

मैं निर्मोही अखाड़ा की महामंडलेश्वर हिमांगी सखी। पहली किन्नर, जो दुनियाभर में भागवत गीता, शिव पुराण और गरुड़ पुराण की कथा करती हूं। पापा फिल्म डिस्ट्रीब्यूटर, मोहन स्टूडियो में पार्टनर और विश्वकर्मा फिल्म्स कंपनी के मालिक थे। जबकि मां डॉक्टर थीं। मैंने रेखा, अमिताभ बच्चन, जितेंद्र और संजय दत्त जैसे सेलिब्रिटीज को बहुत करीब से देखा है, लेकिन ठाठ-बाट के ये दिन ज्यादा समय तक नहीं रहे। वक्त ने ऐसी करवट ली कि मुझे भीख तक मांगना पड़ा। (पूरी खबर पढ़िए)

खबरें और भी हैं...