पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Db original
  • Farmer Of Gujarat Has Produced 3 Thousand Kg Of Strawberries In 1 Big Land, Earned 2 Lakh Rupees In Two Months

आज की पॉजिटिव खबर:शहर की चकाचौंध छोड़ गांव में स्ट्रॉबेरी की खेती शुरू की, 2 महीने में ही 2 लाख रुपए की कमाई

जामनगर3 महीने पहले
जामनगर जिले के आनंद गांव के रहने वाले विशाल जसदिया नई तकनीक से स्ट्रॉबेरी की खेती कर लाखों की कमाई कर रहे हैं।

टेक्नोलॉजी के दौर में अब देश में भी किसान पारंपरिक खेती को छोड़कर नए-नए प्रयोग करने लगे हैं और इससे उन्हें फायदा भी हो रहा है। इसी सिलसिले में आज हम बात कर रहे हैं गुजरात के जामनगर जिले के आनंद गांव के रहने वाले विशाल जसदिया की। विशाल नई तकनीक से स्ट्रॉबेरी, ड्रैगन फ्रूट और सब्जियों की खेती करते हैं। अभी वे 32 बीघा जमीन में खेती से सालाना 40 लाख रुपए की कमाई कर रहे हैं।

नौकरी छोड़कर खेती शुरू की

विशाल कोरोमंडल इंटरनेशनल कंपनी में जॉब करते थे। तीन साल तक उन्होंने काम किया। फिर लगा कि शहर की चकाचौंध से बेहतर है गांव में ही रहकर कुछ किया जाए। इसके बाद 2019 में उन्होंने नौकरी छोड़कर खेती करने का फैसला लिया। वे कहते हैं कि हमारे यहां पहले पारंपरिक खेती होती थी। जिसमें लागत के हिसाब से मुनाफा नहीं होता था। इसके बाद उन्हें स्ट्रॉबेरी के बारे में जानकारी मिली। उनके कुछ परिचितों ने बताया कि उन्हें स्ट्रॉबेरी की खेती करनी चाहिए। इससे कम समय में ज्यादा मुनाफा कमाया जा सकता है।

एक एकड़ स्ट्रॉबेरी की फसल में 3 लाख की लागत आती है। अच्छी फसल होने पर 6-7 लाख तक की कमाई हो जाती है।
एक एकड़ स्ट्रॉबेरी की फसल में 3 लाख की लागत आती है। अच्छी फसल होने पर 6-7 लाख तक की कमाई हो जाती है।

हिमाचल प्रदेश जाकर ली स्ट्रॉबेरी की जानकारी

विशाल बताते हैं कि स्ट्रॉबेरी की खेती के बारे में जानकारी हासिल करने के लिए मैं हिमाचल प्रदेश गया। वहां इसकी खेती करने वाले किसानों से मिला और ये जानने की कोशिश की कि वे स्ट्रॉबेरी की खेती कैसे करते हैं? इसमें क्या-क्या सावधानियां और जरूरतें होती हैं? पहले मुझे लगता था कि गुजरात के क्लाइमेट में इसकी खेती नहीं हो सकती है, लेकिन वहां जाने के बाद पता चला कि स्ट्रॉबेरी की कुछ ऐसी भी किस्में हैं जिनकी खेती गुजरात में भी हो सकती है।

दो महीने में ही कर ली 2 लाख रुपए की कमाई

जसदिया बताते हैं कि उन्होंने दिसंबर 2019 में एक बीघा जमीन में 6,000 स्ट्रॉबेरी के पौधे लगाए और जनवरी में ही पौधौं में फल आने शुरू हो गए। इस एक बीघा जमीन में ही 3000 किलोग्राम से ज्यादा स्ट्रॉबेरी की फसल आई, जिसे उन्होंने राजकोट में बेचा था। पहली बार में ही स्ट्रॉबेरी से उन्हें 2 लाख रुपए मिले। इसके बाद उन्होंने खेती का दायरा बढ़ा दिया। स्ट्रॉबेरी के साथ-साथ वे ड्रैगन फ्रूट और सब्जियों की भी खेती करने लगे। अभी वे 32 बीघा जमीन पर खेती कर रहे हैं। वे बताते हैं कि एक एकड़ स्ट्रॉबेरी की फसल में 3 लाख की लागत आती है। अच्छी फसल होने पर 6-7 लाख तक की कमाई हो जाती है।

कैसे करें स्ट्रॉबेरी की खेती?

स्ट्रॉबेरी की खेती के लिए बलुई मिट्टी या दोमट मिट्टी अच्छी मानी जाती है। अगस्त-सितंबर महीने में प्लांट्स लगाए जाते हैं। इसके लिए तापमान 30 डिग्री से ज्यादा नहीं होना चाहिए। अगर गर्मी बढ़ती है तो प्लांट्स को नुकसान पहुंचता है। फ्रूट्स खराब हो जाते हैं। जसदिया बताते हैं कि हर दिन नियमित रूप से प्लांट्स को साफ करना होता है। सूखी पत्तियों को हटाना होता है। ताकि हार्वेस्टिंग के दौरान कोई परेशानी न हो। पौधों में नमी बनी रहे इसलिए ड्रिप इरिगेशन से सिंचाई करनी चाहिए।

सेहत के लिए फायदेमंद होता है स्ट्रॉबेरी

स्ट्रॉबेरी में कई सारे विटामिन और मिनरल्स होते हैं जो सेहत के लिए काफी लाभदायक होते हैं। इसमें विटामिन C, विटामिन A और विटामिन K पाया जाता है। जो रूप निखारने और चेहरे से कील मुंहासे खत्म करने में लाभदायक होता है। इसके अलावा आंखों की रोशनी बढ़ाने के साथ दांतों की चमक बढ़ाने में भी फायदेमंद होता है। इसके साथ ही जेली, आइसक्रीम और कई मिठाइयों के निर्माण में भी स्ट्रॉबेरी का उपयोग किया जाता है।

आजकल मार्केट में फ्रेश स्ट्रॉबेरी की डिमांड काफी ज्यादा है। फ्रूट डिलीवरी करने वाली कंपनियां सीधे-सीधे प्रोडक्ट खरीद लेती हैं।
आजकल मार्केट में फ्रेश स्ट्रॉबेरी की डिमांड काफी ज्यादा है। फ्रूट डिलीवरी करने वाली कंपनियां सीधे-सीधे प्रोडक्ट खरीद लेती हैं।
खबरें और भी हैं...