• Hindi News
  • Db original
  • Arpita Mukherjee Partha Chatterjee; WB Teacher Recruitment Scam Ground Report From Kolkata

भास्कर एक्सक्लूसिवकहां से आए अर्पिता के पास 50 करोड़ नगद:घोटाले से जुड़ी तीन लिस्ट सामने आई; इसमें TMC विधायक और फर्जी कैंडिडेट्स के नाम

6 महीने पहले

पश्चिम बंगाल के पूर्व मंत्री पार्थ चटर्जी की सहयोगी अर्पिता मुखर्जी के पास 50 करोड़ रुपए नगद मिलने के बाद ईडी इस कैश का सोर्स पता करने में जुटी है। इसी बीच भास्कर के हाथ तीन अलग-अलग लिस्ट लगी हैं।

एक लिस्ट किसी एजेंट की है, इसमें जिन लोगों से रिश्वत ली गई है, उनकी डिटेल है। दूसरी लिस्ट टीएमसी के विधायकों से जुड़ी है। इसमें मंत्रियों ने जिन कैंडिडेट्स का नाम नौकरी के लिए रिकमंड किया था, उसकी डिटेल है।

तीसरी लिस्ट ऐसे कैंडिडेट्स की है, जो मैरिट में थे ही नहीं, लेकिन अब नौकरी में हैं। जो मैरिट में थे, वो नौकरी पाने के लिए सड़क पर संघर्ष कर रहे हैं। ये सभी कागज अलग-अलग वकीलों के जरिए हाईकोर्ट के पास भी पहुंच गए हैं।

सूत्रों के मुताबिक, ED के अधिकारियों को पार्थ चटर्जी और अर्पिता के नाम से एक जॉइंट बैंक अकाउंट मिला है जिसमें 8 करोड़ रुपए हैं। बंगाल में किस तरह से करप्शन हुआ पढ़िए...

50 करोड़ का अमाउंट कुछ नहीं, 5 हजार करोड़ तक जाएगा
पश्चिम बंगाल में टीचर्स रिक्रूटमेंट का अभी जो बवाल चल रहा है, वो 2014 की एग्जाम का है। गड़बड़ियां कई तरीकों से हुईं। जैसे बिना मैरिट वालों को नौकरी दे दी गई। जो 6th पास हैं, उन्हें टीचर बना दिया गया। जिन्होंने एग्जाम ही नहीं दिया, उनका भी सिलेक्शन हो गया।

एक लिस्ट किसी एजेंट की है, इसमें जिन लोगों से रिश्वत ली गई है उनकी डिटेल है। दूसरी लिस्ट तृणमूल के विधायकों से जुड़ी है।
एक लिस्ट किसी एजेंट की है, इसमें जिन लोगों से रिश्वत ली गई है उनकी डिटेल है। दूसरी लिस्ट तृणमूल के विधायकों से जुड़ी है।

हमें टीएमसी नेता मुकुल रॉय के बेटे सुभ्रांशु रॉय, टीएमसी के स्टेट सेक्रेटरी असीम माझी और अखिल गिरी के साइन किए हुए अलग-अलग लेटर मिले हैं। यह लेटर 2013 के हैं। इसे कैंडिडेट्स का नाम और रोल नंबर लिखकर रिक्रूटमेंट करने वाले बोर्ड को दिया गया था।

इस मामले में पिटीशन लगाने वाले वकील तरुण ज्योति तिवारी ने बताया कि 'मैंने यह लिस्ट हाईकोर्ट में भी जमा कर दी है। इससे यह बात साबित होती है कि टीचर्स रिक्रूटमेंट में पैसा टीएमसी के कई नेताओं के जरिए तत्कालीन शिक्षा मंत्री तक पहुंच रहा था।

50 करोड़ का जो अमाउंट मिला है, वो बहुत छोटा है। जब यह पूरा स्कैम सामने आएगा तो अमाउंट 5 हजार करोड़ तक पहुंचेगा, क्योंकि एक कैंडिडेट से 18-20 लाख रुपए लिए गए हैं। कई जगह से पैसा आया है। और यह सब पिछले 10 साल से चल रहा है।'

एजेंट की लिस्ट में पैसे देने वालों और लौटाने वालों की भी डिटेल

एडवोकेट तिवारी के जरिए ही हमें एक अन्य लिस्ट भी मिली है। यह किसी एजेंट की है। इसमें कुल 30 कैंडिडेट्स का नाम लिखा है। उनके मोबाइल नंबर और किससे कितना पैसा लिया गया, इसकी डिटेल है। साथ ही जिन कैंडिडेट्स को रुपए वापिस किए गए, उसकी भी डिटेल है। यह लिस्ट भी हाईकोर्ट में जमा की गई है।

रिश्वत देकर दी गई नौकरियों के खिलाफ कोलकाता की मेयो रोड के कॉर्नर पर मैरिट लिस्ट में आने वाले कैंडिडेट्स पिछले 503 दिनों से प्रदर्शन कर रहे हैं। यह लोग अलग-अलग शिफ्ट में प्रोटेस्ट करते हैं। प्रोटेस्ट की परमीशन इन्हें कोर्ट से मिली है।

इस लिस्ट में विधायकों के नाम और उनकी सिफारिशें हैं।
इस लिस्ट में विधायकों के नाम और उनकी सिफारिशें हैं।

मैरिट लिस्ट के बिना ही नौकरी दे दी थी

प्रोटेस्ट में शामिल संगीता नाग ने बताया कि रिजल्ट आने के बाद बिना मैरिट लिस्ट जारी किए ही रिक्रूटमेंट कर दिए गए। हमने जब प्रोटेस्ट किया, तब लिस्ट जारी हुई। लिस्ट जारी होने के बाद ही यह पता चला कि जिनका मैरिट लिस्ट में नाम ही नहीं है, उनका अलग-अलग स्कूलों में रिक्रूटमेंट हो रहा है और उन्होंने 15 से 20 लाख रुपए तक की रिश्वत दी है।

गोपालपुर पॉपुलर एकेडमी में एक टीचर का रिक्रूटमेंट हुआ। हमने आरटीआई के रिक्रूट होने वाले कैंडिडेट की डिटेल निकाली तो पता चला कि उसका नाम तो आरटीआई में है ही नहीं। ऐसे हमें बहुत सारे कैंडिडेट्स मिले जो लिस्ट में नहीं हैं, लेकिन उन्हें नौकरी मिल गई। इसके बाद ही हम लोगों ने प्रोटेस्ट शुरू कर दिया। चुनाव के टाइम हमें सीएम ममता बनर्जी ने कहा कि चुनाव के बाद हम आपकी प्रॉब्लम सॉल्व कर देंगे अभी प्रोटेस्ट रोक दो तो हम लोग हट गए। लेकिन आज तक इस मामले में कुछ भी नहीं हुआ।

रिश्वत देकर दी गई नौकरियों के खिलाफ कोलकाता की मेयो रोड के कॉर्नर पर मैरिट लिस्ट में आने वाले कैंडिडेट्स पिछले 503 दिनों से प्रदर्शन कर रहे हैं।
रिश्वत देकर दी गई नौकरियों के खिलाफ कोलकाता की मेयो रोड के कॉर्नर पर मैरिट लिस्ट में आने वाले कैंडिडेट्स पिछले 503 दिनों से प्रदर्शन कर रहे हैं।

बीच में हमारे साथ प्रोटेस्ट कर रहे 8 लोग सरकार के साथ मिल गए थे और उन्हें नौकरी दे दी गई थी। उन्होंने हमारा प्रोटेस्ट तुड़वाने की बहुत कोशिश की, लेकिन हम पीछे नहीं हटे। अब जब इतना नगद मंत्री की सहयोगी के पास से मिल गया है तो उम्मीद है कि हमारे साथ न्याय होगा। हम अभिषेक बनर्जी से भी मिले थे, उन्होंने वादा किया है कि मैरिट में आने वाले सभी कैंडिडेट्स को जल्द ही नौकरी पर रखा जाएगा। नौकरी न मिलने तक हमारा प्रोटेस्ट जारी रहेगा।

एक ही परिवार के 13 लोग रिक्रूट हुए

पार्थ चटर्जी के पूर्व बॉडीगार्ड के परिवार से 13 लोगों को शिक्षा विभाग में नौकरी मिली। इनमें एक महिला ऐसी भी हैं, जो छठी पास हैं। इसी तरह अर्पिता की रिकमंडेशन पर भी उनके कई रिश्तेदारों को नौकरी दी गई। इनमें से अभी तक किसी को भी हटाया नहीं गया है। हाईकोर्ट के निर्देश पर सीबीआई जांच कर रही है। मनी लॉन्ड्रिंग की जांच ईडी कर रही है।