• Hindi News
  • Db original
  • Goa Assembly Election Ground Report; BJP Strategy Against Congress | Goa Election News

यूपी वाला हिंदू कार्ड गोवा में फेल:मंदिर बनाने का बयान देने वाले CM से BJP कैडर ही नाराज, महज 25% आबादी वाले ईसाई तय करेंगे जीत-हार

गोवा7 महीने पहलेलेखक: अक्षय बाजपेयी

आबादी के लिहाज से देश के सबसे बड़े राज्य UP में जो हिंदू कार्ड खेला जा रहा है, वो सबसे छोटे राज्य गोवा में फेल हो गया है। हालात ये हैं कि, पुराने मंदिरों को दोबारा बनाने वाला बयान देने वाले CM प्रमोद सावंत से BJP का कैडर ही नाराज है। नाराजगी को भांपने के बाद CM ने भी दोबारा हिंदू कार्ड खेलने की कोशिश नहीं की, लेकिन वोटों के ध्रुवीकरण न होने से BJP कमजोर और कांग्रेस मजबूत नजर आ रही है।

गोवा विधानसभा की 40 सीटों पर 14 फरवरी को वोटिंग है। BJP ने 40 में से करीब 20 सीटों पर ऐसे कैंडिडेट उतार दिए हैं, जो पहले कांग्रेस में थे। इससे सालों से BJP के लिए काम कर रहे कैडर में भारी नाराजगी है। ग्राउंड लेवल पर काम कर रहे वर्कर्स के बीच ये स्लोगन भी फेमस हो गया है कि, ‘BJP को बचाना है तो BJP को हराना है।’

आगे बढ़ने से पहले इस सवाल का जवाब देकर आप पोल में पार्टिसिपेट भी कर सकते हैं।

गोवा में जाति-धर्म की राजनीति फेल है
BJP ने भारी एंटी इंकम्बेंसी और करप्शन के चलते मौजूदा विधायकों के टिकट काटे और कांग्रेस से आए नेताओं को उम्मीदवार बना दिया, लेकिन इस जोड़तोड़ की राजनीति का आम लोगों के बीच पॉजिटिव रिस्पॉन्स नजर नहीं आ रहा। ‘अजब गोवा की गजब पॉलिटिक्स’ नाम की किताब लिखने वाले ऑथर संदेश प्रभुदेसायी का कहना है कि, गोवा में जाति और धर्म की राजनीति कभी नहीं हुई।

BJP नेता रहे मनोहर पर्रिकर ने भी ऐसा करने की कोशिश की थी, लेकिन वे सफल नहीं हुए थे। फिर जब उन्होंने इसे छोड़ दिया और डेवलपमेंट पर बात की तो उन्हें जीत मिली। दरअसल, गोवा में 12 तहसील हैं। इनमें से 4 कोस्टल एरिया में आती हैं, जहां की अधिकांश आबादी ईसाई है।

कुल 40 सीटों में से 24 सीटें, इन्हीं 4 तहसीलों में आती हैं, यानि आधी से ज्यादा सीटों पर ईसाई वोट ही निर्णायक होते हैं, इसलिए गोवा हिंदू और ईसाई के गठजोड़ से ही चुनाव जीता जा सकता है। 2012 में BJP इसी फॉर्मूले पर जीती थी, लेकिन इस बार ईसाई उसे सपोर्ट करते नहीं दिख रहे हैं। चर्च की संस्था ने BJP को सपोर्ट न करने की एडवाइजरी भी जारी कर दी है। वे देश में जाति के नाम पर हो रही राजनीति के चलते बीजेपी से नाराज हैं।

तीनों फैक्टर के चलते कांग्रेस सबसे मजबूत
एंटी इंकम्बेंसी, जाति की राजनीति और दूसरी पार्टियों से आए लोगों को टिकट देने के चलते BJP से उसका कैडर ही नाराज हो गया है। वहीं, कांग्रेस ने इस बार जोड़तोड़ करने वालों को टिकट नहीं दिए हैं, जिससे उसकी इमेज पहले से ठीक हुई है। चर्च से जुड़ी कमेटी ने भी BJP को वोट न देने की अपील की है, ऐसे में यह वोट कांग्रेस में ही जाना है।

इन सभी फैक्टर्स के चलते कांग्रेस ग्राउंड पर मजबूत नजर आ रही है। सीनियर जर्नलिस्ट किशोर नाइक गांवकर कहते हैं कि BJP हिंदू वोटों को एकजुट करने की कोशिश जरूर कर रही है, लेकिन इसमें वो कामयाब नहीं हो पाएगी, क्योंकि गोवा में जाति और धर्म के नाम पर वोटिंग नहीं होती।

ममता बनर्जी का चुनाव से पहले ही सरेंडर
चुनाव से करीब तीन महीने पहले गोवा में एक्टिव हुई ममता बनर्जी की पार्टी TMC वोटिंग से पहले ही सरेंडर नजर आ रही है। प्रभुदेसायी कहते हैं कि ममता बनर्जी ने अन-ऑफिशियल विदड्रॉ कर लिया है।

ये बात इससे से समझी जा सकती है कि वोटिंग के चंद दिनों पहले मोदी से लेकर अमित शाह तक BJP के लिए आ रहे हैं। अरविंद केजरीवाल लगातार कैंपेन कर रहे हैं, लेकिन ममता बनर्जी गायब हैं। वे शुरुआत में दो बार आई थीं तब भी उनकी पार्टी को कोई खास रिस्पॉन्स नहीं मिल सका।

दूसरी पार्टियों से रिजेक्टेड नेताओं को उन्होंने पार्टी में शामिल किया। कुछ अच्छे लोग जो उनके साथ गए थे, वो वोटिंग के पहले ही बाहर आ चुके हैं। ऐसे में यह कहा जा सकता है कि TMC यह चुनाव सिर्फ दिखाने के लिए लड़ रही है। जमीनी स्तर पर दम वाली कोई बात नहीं।