पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अल्फा, बीटा, गामा बने कोरोना वैरिएंट:2500 साल पुराने ग्रीक अल्फाबेट का इस्तेमाल मैथ और साइंस से लेकर आर्मी तक; जानिए अलग-अलग जगह क्या हैं इनके मायने

4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना वायरस के शुरुआती मामले चीन के वुहान में पाए गए थे। इसलिए कई लोग इसे 'चीनी वायरस' कहने लगे। इस पर चीन ने आपत्ति जताई। इसी तरह जब साउथ अफ्रीका, ब्रिटेन, ब्राजील और भारत में कोरोना के नए वैरिएंट मिले, तो इन्हीं देशों पर नामकरण किया जाने लगा। 'इंडियन वैरिएंट' बुलाए जाने पर भारत ने कड़ी आपत्ति जताई। इसके बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोरोना वैरिएंट के नामकरण के लिए नए सिस्टम का ऐलान कर दिया।

WHO ने कहा- यूके वैरिएंट (B.1.1.7) को अल्फा, साउथ अफ्रीका वैरिएंट (B.1.351) को बीटा, ब्राजील वैरिएंट (P.1) को गामा और भारत के वैरिएंट (B.1.617.2) को डेल्टा नाम से पुकारा जाए। इसी तरह जैसे-जैसे नए वैरिएंट मिलते जाएंगे, उनके लिए अन्य ग्रीक अल्फाबेट का इस्तेमाल किया जाएगा।

अल्फा, बीटा, गामा, डेल्टा... ये नाम आपने पहले भी कई जगह सुना होगा। गणित के फॉर्मूले से लेकर फिल्मों में मिशन पर गए किसी आर्मी ऑफिसर की बातचीत तक में। आखिर बार-बार इन्हीं अल्फाबेट का इस्तेमाल क्यों होता है? कितने होते हैं ग्रीक अल्फाबेट? इन अल्फाबेट को किसी अन्य अक्षर से रिप्लेस किया जाए तो क्या समस्या होगी? हम यहां इन्हीं सवालों का जवाब दे रहे हैं...

ग्रीक अल्फाबेट में 24 अक्षर

ग्रीक अल्फाबेट में कुल 24 अक्षर हैं। इनके नाम हैं- अल्फा, बीटा, गामा, डेल्टा, एप्सिलॉन, जेटा, एटा, थेटा, इओटा, कप्पा, लम्बडा, म्यू, न्यू, ज़ी, ओमीक्रॉन, पाई, रो, सिग्मा, ताउ, ऊपसिलॉन, फी, की, साइ, ओमेगा। करीब 1000 ईसापूर्व ग्रीक वासियों ने इस अल्फाबेट को तैयार किया था। इन्हीं ग्रीक अल्फाबेट से आज के ज्यादातर यूरोपीय अल्फाबेट बने हैं।

गणित और विज्ञान में ग्रीक अल्फाबेट का इस्तेमाल

प्राचीन यूनान या ग्रीस को पश्चिमी सभ्यता का गुरु कहा जाता है। इतिहास, खोज, धर्म, दर्शन, गणित, मेडिसिन और विज्ञान की पढ़ाई के तार ग्रीस से जुड़े हुए हैं। उस दौर के चलन का आज भी दुनिया पर गहरा असर दिखता है। पाइथागोरस, सुकरात, अरस्तू, प्लेटो जैसे गणितज्ञ और दार्शनिक भी ग्रीस के रहने वाले थे। इसलिए गणित और विज्ञान में ग्रीक अल्फाबेट का भरपूर इस्तेमाल दिखाई देता है।

त्रिकोण, ग्राफ, प्लाज्मा फिजिक्स, ब्रेन वेव, एयरप्लेन के एंगल, रेडिएक्टिव किरणें, थर्मोडायनमिक्स में हीट कैपेसिटी रेशियो, परसेंटेज इरर, मैकेनिक्स, केमिस्ट्री, जियोमेट्री, पाइथागोरस, कैलकुलस वगैरह में अल्फा, बीटा, गामा, डेल्टा का इस्तेमाल होता है। अल्फा, बीटा, गामा, पाई वगैरह अपनी आकृति में अलग हैं और इनका मतलब निर्धारित है, जिससे ये मौजूदा अल्फाबेट से मेल नहीं खाते। इसी वजह से आज भी इनका इस्तेमाल हो रहा है।

आर्मी कोडवर्ड में अल्फा और डेल्टा का इस्तेमाल

मिलिट्री को कई बार कठिन मिशन में जाना होता है। ऐसे में बात करने में कोई कंफ्यूजन न हो, इसके लिए उनका अपना 26 कोड वर्ड का अल्फाबेट होता है। इस मिलिट्री अल्फाबेट को इंटरनेशनल रेडियोटेलिफोनी अल्फाबेट भी कहा जाता है जिसे इंटरनेशनल सिविल एविएशन ऑर्गेनाइजेशन ने तैयार किया है। इससे फोन पर बात करने में उच्चारण की समस्या नहीं होती। जैसे अगर फोन पर बताना हुआ कि हमने DMG पहाड़ी पर कब्जा कर लिया है तो मिलिट्री फोनेटिक अल्फाबेट में कहेंगे- हमने डेल्टा-माइक-गोल्फ पहाड़ी पर कब्जा कर लिया है। मिलिट्री अल्फाबेट के कुछ नाम हैं- अल्फा, ब्रावो, चार्ली, डेल्टा वगैरह।

म्यूचुअल फंड्स में भी अल्फा का इस्तेमाल

इक्विटी म्‍यूचुअल फंड्स में 'अल्‍फा' का अक्‍सर जिक्र आता है। यह एक तरह का पैमाना है। इससे पता चलता है कि आपको अपनी स्‍कीम से कैसा रिटर्न मिल रहा है। इससे निवेश के फायदे या नुकसान में होने का पता चलता है। 1.0 के अल्फा का मतलब है कि फंड ने अपने बेंचमार्क इंडेक्स में 1 प्रतिशत का सुधार कर लिया है। इसी तरह से -1.0 का मतलब है कि बेंचमार्क इंडेक्स में फंड के प्रदर्शन में एक प्रतिशत की गिरावट आई है। निवेशकों के लिए अल्फा जितना ज्यादा हो, उतना बेहतर होता है।

लंबी जद्दोजहद के बाद तय हुए कोरोना वैरिएंट्स के नाम

कोरोना वैरिएंट के नामकरण के इस सिस्टम पर फैसला कई महीनों की जद्दोजहद के बाद तय हुआ। एक्सपर्ट पैनल में शामिल बैक्टीरियोलॉजिस्ट मार्क पैलेन के मुताबिक डिस्कशन में ग्रीक देवताओं के नाम पर भी चर्चा हुई, लेकिन इस पर कई लोगों ने ऐतराज जताया। आखिरकार ग्रीक अल्फाबेट पर वैरिएंट के नाम रखने पर मुहर लग गई। WHO का कहना है कि इस नामकरण का साइंटिफिक नाम पर कोई असर नहीं पड़ेगा। अगर आधिकारिक तौर पर कोरोना के 24 से अधिक वैरिएंट मिल जाते हैं, तो ग्रीक अक्षर नए नामों के लिए कम पड़ जाएंगे। WHO की कोविड-19 की टेक्निकल प्रमुख मारिया वैन कर्खोव ने एक इंटरव्यू में कहा कि ऐसी स्थिति में नामकरण के नए प्रोग्राम का ऐलान किया जाएगा।

ग्रीक अल्फाबेट के बारे में इतनी बातें करने के बाद फिल्म 'थ्री इडियट्स' का ये गाना याद आता है-

लिख लिख के पढ़ा हथेली पर
अल्फा, बीटा, गामा का छाला
कंसन्ट्रेटेड H2SO4 ने पूरा
पूरा बचपन जला डाला!

सारी उम्र हम मर-मर के जी लिए
इक पल तो अब हमें, जीने दो जीने दो।

खबरें और भी हैं...