• Hindi News
  • Db original
  • Jignesh Mevani | Gujarat Assembly Election; Jignesh Mevani On Hardik Patel Congress And BJP Fake Case

भास्कर इंटरव्यू:जिग्नेश मेवाणी बोले- गुजरात में पिछली बार 10 सीटों से रह गए थे, इस बार बनाएंगे सरकार; इसलिए BJP कर रही टारगेट

9 दिन पहलेलेखक: नीरज झा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर किए गए एक ट्वीट मामले में हुई गिरफ्तारी पर गुजरात के वडगाम से निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवाणी कहते हैं कि यह सिर्फ फंसाने की साजिश थी।

जिग्नेश को 25 अप्रैल को भी महिला पुलिसकर्मी पर हमला करने के आरोप में दोबारा गिरफ्तार किया गया था।

इन दोनों मामलों में गिरफ्तारी और जमानत के एक-दो दिन बाद ही 5 साल पुराने मामले में गुजरात की एक कोर्ट ने जिग्नेश को 3 महीने की कैद की सजा सुनाई।

गुजरात में इस साल के आखिर में विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में हमने जिग्नेश मेवाणी से पूरे मामले पर, कांग्रेस में उनकी भूमिका, हार्दिक पटेल की नाराजगी समेत कई मुद्दों पर बातचीत की।

प्रमुख अंश…

सवाल: लगातार आप पर कार्रवाई हो रही है। इसकी वजह क्या मानते हैं?

जवाब: जो भी BJP के खिलाफ बोलेगा, विरोध करेगा, उसे ये जेल में डालेंगे। सिर्फ जिग्नेश मेवाणी ही नहीं, जो मानवाधिकार को लेकर काम कर रहे हैं, जो पत्रकार इनकी नीतियों को उजागर करते हैं, उनके खिलाफ भी राजद्रोह का मुकदमा किया जा रहा है।

BJP मुझे बहुत बड़ा खतरा मान रही है। मेरी आवाज को दबाने का प्रयास किया जा रहा है। सत्ता का दुरुपयोग कर रही है। अहंकार से भरी हुई यह सरकार है। मैंने लगातार BJP की खामियों के खिलाफ बोला है। वो मुझे मजा चखाना चाहते हैं, इसलिए मेरे पीछे पड़ गए हैं। एक के बाद एक मुकदमे दर्ज किए जा रहे हैं।

सवाल: 19 अप्रैल को असम पुलिस ने आपको गुजरात से गिरफ्तार किया था, पूरा मामला क्या था?

जवाब: मैंने एक ट्वीट किया था। ट्वीट में मैंने सिर्फ शांति-अमन की अपील की थी। एक विधायक होने के नाते क्या मैं इतना भी नहीं कर सकता? ये तो हद हो गई कि 2500 किमी से असम की पुलिस आती है और मुझे गिरफ्तार करती है। मैंने जो ट्वीट किया था वो बात तो BJP-RSS के नेता खुले मंच से बोलते हैं।

सवाल: आपको महिला पुलिसकर्मी के साथ गलत व्यवहार करने के आरोप में भी गिरफ्तार किया गया। ये मामला क्या था?

जवाब: मुझ पर फर्जी मुकदमे दर्ज किए गए। जब कोई बात नहीं बनी तो इन्होंने एक महिला को आगे किया। मामले में जमानत देते हुए असम कोर्ट को यह तक कहना पड़ा कि जिग्नेश मेवाणी को लंबे अरसे तक जेल में बंद रखने के लिए इस तरह के आरोप को तैयार किया गया।

मुझे ऐसा लगता है कि असम सरकार और पुलिस को मुझे फंसाने का निर्देश दिया गया था। गुजरात में चुनाव हैं इसलिए मुझे किसी भी तरह से अंदर रखने के लिए षडयंत्र रचा गया था।

सवाल: आपका कहना है कि BJP आपको निशाना बना रही है, ऐसा क्यों?

जवाब: गुजरात में कुछ महीने बाद विधानसभा चुनाव हैं। मैं लगातार गुजरात मॉडल को एक्सपोज कर रहा हूं।

गुजरात के 45 % बच्चे कुपोषित हैं। राज्य के अधिकांश इलाकों में पीने के पानी की किल्लत है। कॉर्पोरेट लूट चल रही है। इन सभी के खिलाफ मैं बोल रहा हूं, इसलिए मुझे टारगेट किया जा रहा है। BJP हमारे लिए सिर्फ एक विपक्षी पार्टी है लेकिन ये तो दुश्मनी पर उतारू हो गए हैं।

सवाल: आपकी बातों में ऐसा क्या है कि गुजरात के लोग उसे सुनें, उन पर कोई असर होगा भी?

जवाब: बिल्कुल होगा। मैं कई विधानसभा क्षेत्रों का दौरा कर रहा हूं। लोगों में BJP के खिलाफ आक्रोश है। आम जनता चाह रही है कि मैं BJP सरकार की भ्रष्ट नीतियों के खिलाफ बोलूं। आवाज उठाऊं।

मुझे पूरी उम्मीद है कि इन मामलों के बाद जिस तरह से लोगों का समर्थन मिल रहा है। BJP को इससे बड़ा नुकसान होने वाला है। दलित बिरादरी इस सरकार से नाखुश है। मैं BJP के गुजरात मॉडल को एक्सपोज कर रहा हूं।

पिछले चुनाव में महज 8-10 सीटों के अंतर से हम सत्ता में आने से रह गए थे। इस बार पहले से ज्यादा मजबूती से लड़ेंगे। मुझे जिस तरह असंवैधानिक तरीके से गिरफ्तार किया गया, उससे जो राज्य में माहौल बना है, इससे कांग्रेस की स्थिति मजबूत हो रही है।

सवाल: आधिकारिक रूप से कांग्रेस में कब शामिल हो रहे हैं?

जवाब: विधानसभा चुनाव से एक-दो महीने पहले कांग्रेस में अधिकारिक तौर पर शामिल हो जाऊंगा। ऐसे तो मैं पार्टी के साथ जुड़ ही चुका हूं। अगर अभी मैं कांग्रेस में शामिल होता हूं तो कुछ टेक्निकल वजहों से अयोग्य घोषित हो जाऊंगा।

सवाल: बहुत से राजनीतिक पंडित कांग्रेस को एक डूबती नाव मान रहे हैं, फिर भी आप इस पर सवार हो रहे हैं?

जवाब: मैं ऐसा नहीं मानता हूं। कांग्रेस की जड़ें बहुत मजबूत है। जिस तरह जिंदगी में अच्छे-बुरे दिन आते हैं वैसा ही राजनीति में भी होता है। 5 राज्यों के चुनाव के नतीजों पर हम ये बात नहीं कह सकते हैं। हम मजबूती के साथ लड़ रहे हैं।

सवाल: तो आपके हिसाब से कांग्रेस को क्या करना चाहिए?

जवाब: मैं चाहता हूं कि पार्टी शिद्दत से आम लोगों के मुद्दे को उठाए। मजबूती के साथ सरकार की नीतियों के खिलाफ सड़क पर उतरे, जैसा हमलोग गुजरात में कर रहे हैं। अगर ऐसा करते हैं तो हम न सिर्फ राजनीतिक रूप से खुद को बचा पाएंगे बल्कि सरकार बनाने में भी कामयाब होंगे।

सवाल: कांग्रेस गांधी परिवार से आगे क्यों नहीं बढ़ पा रही है? लंबे अरसे से पार्टी को एक स्थाई अध्यक्ष तक नहीं मिल पाया है?

जवाब: ये सवाल आपको पार्टी के आलाकमान से पूछना चाहिए। कांग्रेस पार्टी में गांधी परिवार है, लेकिन इसके साथ-साथ हम जैसे हजारों-लाखों कार्यकर्ता और नेता भी हैं।

वैसे भी यह पार्टी का अंदरूनी मामला है। विपक्ष होने के नाते हमारा पहला काम है जनता के मुद्दों के लिए लड़ना। कांग्रेस बेरोजगारी, मंहगाई, किसानों-आदिवासियों के मुद्दों को लेकर सड़क पर उतर रही है।

सवाल: प्रशांत किशोर कांग्रेस में जाते-जाते रह गए। इससे पार्टी को कितना नुकसान होगा? क्यों कांग्रेस PK की शर्तों से पीछे हट गई?

जवाब: ये टॉप लीडर्स और प्रशांत किशोर के बीच का मामला है। मैं इस पर कोई कमेंट नहीं कर सकता हूं। हालांकि, आज भी PK का कहना है कि वो बातचीत के लिए तैयार हैं। PK लगातार कांग्रेस को सपोर्ट कर रहे हैं। राजनीति में संवाद कभी बंद नहीं होता है। आगे भी होगा।

सवाल: सोनिया, राहुल और प्रियंका गांधी, इन तीनों में से किसका नेतृत्व कांग्रेस के लिए बेहतर है?

जवाब: एक कार्यकर्ता होने के नाते मैं मानता हूं कि तीनों पार्टी के लिए महत्वपूर्ण हैं। चाहता हूं कि तीनों लीडरशिप में रहें। BJP के पास PM मोदी एक चेहरा हैं। उन्हें वह मुबारक हो।

कांग्रेस के पास कई चेहरे हैं। पार्टी में कलेक्टिव लीडरशिप है। एक ही चेहरा सब कुछ हो, इतना व्यक्तिवाद खतरनाक है। हम BJP के खिलाफ लड़ रहे हैं, लड़ते रहेंगे। लखीमपुर, हाथरस जैसे मामलों को हमने सड़क से संसद तक उठाया है।

सवाल: जब सब कुछ ठीक है तो हार्दिक पटेल नाराज क्यों हैं?

जवाब: हार्दिक पटेल कांग्रेस से नाराज हैं। पार्टी से कुछ मतभेद है। जल्द ही यह नाराजगी दूर होगी। हार्दिक कांग्रेस के साथ ही रहेंगे।

सवाल: आपको कांग्रेस कोई बड़ी जिम्मेदारी क्यों नहीं दे रही है?

जवाब: मुझे कोई पद नहीं चाहिए। मैं हमेशा जनता के मुद्दों को लेकर सड़क पर उतरूंगा। मैं चाहता हूं कि पार्टी हमेशा मेरा सपोर्ट करें। बोलने की आजादी दे।

सवाल: क्या गुजरात में कांग्रेस की ओर से CM उम्मीदवार के रूप में आप खुद को देखते हैं?

जवाब: मैं कैसे इसे तय कर सकता हूं? पार्टी आलाकमान, गुजरात की जनता इस बात को तय करेगी कि कौन CM होगा। मेरा मानना है कि एक चेहरा नहीं, 10-12 चेहरे होने चाहिए।

सवाल: मौजूदा राजनीति में आप देश के भविष्य को कैसे देखते हैं?

जवाब: सत्तारूढ़ पार्टी भारत की छाती पर एक लकीर खींच रही है। हिंदू-मुसलमान में लोगों को विभाजित करना, लगातार उलझाए रखना, इससे ज्यादा चिंता की बात हमारे लिए क्या हो सकती है।

देश के पास तमाम बड़े मुद्दे हैं। लाखों मजदूरों को न्यूनतम वेतन तक नहीं मिल रहा है। लाखों बच्चे कुपोषित हैं। युवा बेरोजगार है। इन मुद्दों को छोड़कर हम हिंदू-मुस्लिम, भारत-पाकिस्तान, मंदिर-मस्जिद की बात कर रहे हैं। ये क्या ठीक हो रहा है? हमें आम लोगों के जरूरी मुद्दों पर बात करना होगा।

चीन लगातार आगे बढ़ रहा है। नीति आयोग की रिपोर्ट के मुताबिक हम अगले 20 सालों में पानी की बड़ी किल्लत का सामना करेंगे। सबसे पहले जाति की राजनीति, हिंदू-मुसलमान की राजनीति बंद होनी चाहिए।

सवाल: BJP लगातार चुनाव जीत रही है, कुछ तो वजह होगी?

जवाब: इतिहास में कई ऐसे पड़ाव आते हैं, जिसमें जनता भी बहकावे में आ जाती है। मीडिया का भी प्रोपेगैंडा होता है। BJP यही कर रही है। मार्केटिंग, ब्रांडिंग, PR, लाखों-करोड़ों रुपए इस पर खर्च किए जा रहे हैं।

विपक्षी पार्टियों को नजरअंदाज किया जा रहा है। उन्हें जनता तक पहुंचने ही नहीं दिया जा रहा है। विरोध करने वालों को जेल में बंद किया जा रहा है। हालांकि, इन सब के बावजूद भी 38% लोग ही BJP के साथ हैं।

सवाल: जिस तरह के आरोप आप लगा रहे हैं, क्या BJP अपने मकसद में कामयाब हो रही है?

जवाब: बिल्कुल, ये दुर्भाग्यपूर्ण है कि BJP अपने कई मकसद में कामयाब हो रही है। इनकी जो ‘डिवाइड एंड रूल’ की मंशा है वो सफल हो रही है।

अंग्रेजों की ‘फूट डालो और राज करो’ वाली नीति BJP अपना रही है। सरेआम लोगों को मारने की धमकी दी जा रही है। भड़काऊ भाषण किसी समुदाय के खिलाफ खुले मंच से दिए जा रहे हैं। आखिर ये हिम्मत कहां से आती है? हमें ये समझना होगा।