• Hindi News
  • Db original
  • Gujarat Innovator Mansukhbhai Prajapati Success Story | Mitti Cool Refrigerator Fridge

आज की पॉजिटिव खबर:बचपन में बेची चाय, 10वीं फेल मनसुखभाई ने बनाया मिट्टी का फ्रिज, सालाना 3 करोड़ का बिजनेस

4 महीने पहलेलेखक: नेहा यादव

गर्मियों में फ्रिज का ठंडा पानी हमें राहत तो देता है, लेकिन यह सेहत को काफी नुकसान भी पहुंचाता है। फ्रिज खरीदना भी हर किसी के लिए संभव नहीं है। NFHS 5 के ही आंकड़े बताते हैं कि आज भी 37% परिवार के पास फ्रिज है, लेकिन मैं यदि कहूं कि बिना बिजली के चलने वाला फ्रिज, जिसमें पानी से लेकर फल-सब्जियों को एकदम फ्रेश और ठंडा रखा जा सकता है। इसके दाम काफी कम भी हैं, तो आप शायद विश्वास नहीं करेंगे।

दरअसल, गुजरात के रहने वाले मनसुखभाई प्रजापति ने बिना बिजली से चलने वाले फ्रिज का इनोवेशन किया है। मनसुखभाई का फ्रिज पूरी तरह से इकोफ्रेंडली है। इसमें कई दिनों तक पानी, दूध, सब्जी, फल एकदम फ्रेश रहता है।

साथ ही मनसुखभाई ट्रैडीशनल तरीके को छोड़ नई तकनीक से मिट्टी के बर्तन बनाने का काम भी कर रहे हैं। मनसुखभाई मिट्टीकूल नाम से बिजनेस चला रहे हैं और सालाना 3 करोड़ से ज्यादा का कारोबार कर रहे हैं।

गुजरात के मनसुखभाई प्रजापति ने बिना बिजली से चलने वाले फ्रिज का इनोवेशन किया है। यह फ्रिज पूरी तरह से इकोफ्रेंडली है।
गुजरात के मनसुखभाई प्रजापति ने बिना बिजली से चलने वाले फ्रिज का इनोवेशन किया है। यह फ्रिज पूरी तरह से इकोफ्रेंडली है।

दिलचस्प है कि मनसुखभाई 10वीं पास भी नहीं हैं। 10वीं फेल होने के बाद उन्होंने आगे की पढ़ाई नहीं की। दरअसल, मनसुखभाई कुम्हार समुदाय से आते हैं। उनके परिवार सालों से मिट्टी के बर्तन बनाने का काम करते थे। मनसुखभाई का बचपन काफी गरीबी में बीता।

मनसुखभाई बताते हैं, मां सुबह 4 बजे उठ कर मिट्टी लाने के लिए जाती थी। पिता और परिवार के लोग मिट्टी का बर्तन बनाते थे, लेकिन मेहनत के हिसाब से कमाई नहीं होती थी।

मनसुखभाई के माता-पिता चाहते थे कि वो पढ़-लिखकर समाज की बेड़ियों को तोड़े और कुछ अच्छा करें, लेकिन वे 10वीं क्लास में फेल हो गए और फिर उसके बाद उन्होंने आगे की पढ़ाई नहीं करने का फैसला कर लिया।

पहले मनसुखभाई कबेलू यानी खपरैल बनाने वाली फैक्ट्री में काम करते थे। इसके बदले उन्हें सिर्फ 300 रुपए मिलते थे।
पहले मनसुखभाई कबेलू यानी खपरैल बनाने वाली फैक्ट्री में काम करते थे। इसके बदले उन्हें सिर्फ 300 रुपए मिलते थे।

फिर 15 साल की उम्र में मनसुखभाई के पिता ने उनके लिए चाय की दुकान खोल दी। मनसुखभाई चाय बेचने लगे। वे कहते हैं कि एक दिन उनकी दुकान पर मिट्टी से बने कबेलू यानी खपरैल बनाने वाली फैक्ट्री के मालिक चाय पीने के लिए आए थे। इसी दौरान उन्होंने मनसुखभाई को फैक्ट्री में काम करने का ऑफर दिया और यही से उनकी जिंदगी की नई शुरूआत हुई।

लोन लेकर शुरू किया बिजनेस

मनसुखभाई को कबेलू की फैक्ट्री में काम करने के बदले सिर्फ 300 रुपए मिलते थे। फिर उसके बाद उन्होंने अपना बिजनेस शुरू करने की ठानी।

इसके लिए मनसुखभाई ने एक सेठ से 50 हजार रुपए कर्ज मांगे, लेकिन उनके परिवार वाले इस बात के लिए राजी नहीं थे। परिवार वालों को डर था कि इतने पैसे चुका पाना उनके लिए नामुमकिन होगा। फिर मनसुखभाई ने 30 हजार रुपए कर्ज लेकर अपने बिजनेस की शुरुआत की।

मनसुखभाई ने सबसे पहले मिट्टी का तवा बनाने वाली मशीन का इनोवेशन किया, इसे उन्होंने पॉल्यूशन को कंट्रोल करने के लिए डिजाइन किया। साथ ही उन्होंने 2,200 स्क्वायर फिट जमीन पर अपना सेटअप लगा कर काम शुरू किया। 2 साल की मेहनत के बाद साल 1990 में मनसुखभाई को सफलता मिली। फिर उन्होंने ने मिट्टी का वाटर प्यूरीफायर बनाया।

मनसुखभाई 250 से ज्यादा सामान बना रहे हैं। वो किचन में इस्तेमाल होने वाले हर सामान को मिट्टी से तैयार कर रहे हैं।
मनसुखभाई 250 से ज्यादा सामान बना रहे हैं। वो किचन में इस्तेमाल होने वाले हर सामान को मिट्टी से तैयार कर रहे हैं।

गरीबों के लिए बनाया फ्रिज

बिजनेस रफ्तार पकड़ रहा था, तभी साल 2001 में गुजरात भूकंप की वजह मनसुखभाई को काफी नुकसान उठाना पड़ा। फिर उसके बाद उन्हें बिजली के बिना चलने वाला फ्रिज बनाने का आइडिया आया।

उन्होंने सोचा कि मिट्टी से ऐसा कोई प्रोडक्ट बनाया जाए जो सामान को ठंडा और फ्रेश रख सके। बिना लाइट के चले और आम आदमी आसानी से इसे खरीद पाए, लेकिन इसे बनाने में भी उन्हें 2 साल लग गए।

मिट्टी से बने इस फ्रिज में 5 से 6 दिनों तक फल, सब्जी फ्रेश रहते हैं। इसके अंदर दवाओं और अन्य सामान को भी रखा जा सकता है। ये फ्रिज पूरी तरह से इकोफ्रेंडली है।

मनसुखभाई की मिट्टीकूल फ्रिज की मांग देश के अलावा विदेशों में भी है। इसका सबसे छोटा साइज 3 हजार रुपए में उपलब्ध है।
मनसुखभाई की मिट्टीकूल फ्रिज की मांग देश के अलावा विदेशों में भी है। इसका सबसे छोटा साइज 3 हजार रुपए में उपलब्ध है।

250 से ज्यादा प्रोडक्ट कर रहे तैयार

बिजली के बिना चलने वाले फ्रिज की सफलता के बाद मनसुखभाई ने साल 2002 में 7 लाख रुपए का लोन लेकर वांकानेर में मिट्टीकूल नाम से अपनी कंपनी की शुरुआत की। अभी मनसुखभाई 250 से ज्यादा सामान बना कर उसकी मार्केटिंग कर रहे हैं। वो किचन में इस्तेमाल होने वाले हर सामान को मिट्टी से तैयार कर रहे हैं। वो 250 से ज्यादा महिलाओं को रोजगार दे रहे हैं।

कई अवॉर्ड हो चुके हैं सम्मानित

मनसुखभाई को उनके अनोखे इनोवेशन के लिए कई अवॉर्ड दिए जा चुके हैं। उन्हें पेरिस सरकार ने भी सम्मानित किया है। साथ ही उन्हें भारत के पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलाम, प्रतिभा पाटिल और प्रणब मुखर्जी से भी कई सारे नेशनल अवॉर्ड मिल चुके हैं।

मनसुखभाई को कई अवॉर्ड दिए जा चुके हैं। मनसुखभाई अब लोगों को ट्रेनिंग भी दे रहे हैं। साथ ही वो गाय के गोबर से लकड़ी बनाने का काम कर रहे हैं।
मनसुखभाई को कई अवॉर्ड दिए जा चुके हैं। मनसुखभाई अब लोगों को ट्रेनिंग भी दे रहे हैं। साथ ही वो गाय के गोबर से लकड़ी बनाने का काम कर रहे हैं।

मनसुखभाई को गुजरात के ‘गौरव’ से भी सम्मानित किया जा चुका है। वहीं, अमेरिका की कैंब्रिज यूनिवर्सिटी और CBSE के 11वीं क्लास में उनकी लाइफ और इनोवेशन का चैप्टर पढ़ाया जाता है।