मैनेजमेंट मंत्राअच्छा व्यवहार दिलाता है सफलता:सफल लीडर्स की आदतें ही उनका स्वभाव बन जाती हैं

20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

लीडरशिप दरअसल एक व्यवहार है, जो धीरे-धीरे समय के साथ स्वभाव या आदत में तब्दील हो जाता है। ज्यादातर सफल लीडर्स बहुत अच्छे डिसीजन मेकर्स होते हैं। वो बहुत-सी अच्छी आदतों के मालिक होते हैं। अगर आप भी एक सफल लीडर बनना चाहते हैं, तो आपको दुनिया के टॉप लीडर्स की इन आदतों को अपने अंदर उतारना होगा।

आज मैनेजमेंट मंत्रा में जानिए, किन आदतों के साथ जीते हैं टॉप लीडर्स...

1. खुद को हमेशा उपलब्ध रखते हैं- एक लीडर का हमेशा उपलब्ध रहना, दिखते रहना बेहद जरूरी है। सफल लीडर्स ऐसा ही करते हैं। उनकी आदत होती है सभी के लिए हमेशा मौजूद रहना। ऐसा करके वो अपनी टीम पर गहरी छाप छोड़ते हैं।

2. जो सिखाते हैं वही खुद भी करते हैं- अगर आप चाहते हैं कि लोग अपना सर्वश्रेष्ठ काम करें तो आपको उन्हें यह दिखाना होगा कि सर्वश्रेष्ठ काम कैसे किया जाता है। आपको अपने मूल्यों के साथ हर दिन जीना होगा। सफल लीडर्स यही करते हैं। वो हर काम में ईमानदारी बरतते हैं। हमेशा अपनी विश्वसनीयता बनाकर रखते हैं। वो जो लोगों को करने के लिए बोलते हैं उससे कहीं ज्यादा खुद करते हैं।

3. जब लोग डाउट में होते हैं, वो कॉन्फिडेंट रहते हैं- कॉन्फिडेंट लीडर हर चुनौती का सामना पूरे आत्मविश्वास के साथ करते हैं। अगर लीडर कॉन्फिडेंट नहीं रहेगा तो उसके कर्मचारी भी नर्वस ही रहेंगे। एक सफल लीडर न केवल खुद कॉन्फिडेंट होता है, वो अपनी टीम को भी आत्मविश्वास से लबरेज़ रखता है।

4. निगेटिविटी में भी पॉजिटिव रहते हैं- सफल लीडर्स हमेशा पॉजिटिव रहते हैं। नेगेटिव लोगों के साथ होते हुए भी वो पॉजिटिव ही बने रहते हैं। वो अपनी टीम में भी पॉजिटिविटी की तलाश करते हैं। चुनौतियों के दौर में भी अपनी सकारात्मक सोच को बरकरार रखते हैं।

5. दूसरों की सोच को चुनौती देते हैं- ज्यादातर सफल लीडर्स अपने कुलीग्स के माइंडसेट, उनकी क्षमताएं, काबिलियत और कमियों से अच्छी तरह वाकिफ होते हैं। ऐसे लीडर्स अपनी टीम को हमेशा आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। उन्हें कभी कंफर्ट जोन में नहीं जाने देते।

6. बोलने से पहले दूसरों को सुनते हैं- कुछ लीडर्स अपने रुतबे, अपनी वाइब के जरिए लोगों को असहज महसूस करवाते हैं, लेकिन सफल लीडर्स अपने आसपास ऐसा ऑरा क्रिएट करते हैं कि लोग उनके सामने कुछ भी शेयर करने से कतराते नहीं हैं। सफल लीडर्स अपनी टीम को बोलने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। वो पहले सुनने और बाद में बोलने में विश्वास रखते हैं।

खबरें और भी हैं...