पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Db original
  • Delhi Coronavirus, Delhi Coronavirus Stats, Delhi News | Coronavirus Second Wave Impact In Delhi

दिल्ली में ढलने लगी कोरोना की दूसरी लहर:अप्रैल के आखिरी हफ्ते में श्मशानों में रोजाना 700 लाशें आ रहीं थीं,अब यह संख्या करीब 450 हो गई है

नई दिल्लीएक महीने पहलेलेखक: संध्या द्विवेदी

कोरोना की दूसरी लहर में संक्रमितों और मृतकों के आंकड़े तेजी से बढ़े, लेकिन श्मशान और कब्रिस्तान के नजारों ने बताया कि स्थिति उससे ज्यादा भयावह थी, जितनी वह आंकड़ों में दिख रही थी। कतारों में लगे शव, बारी का इंतजार करते परिजन और श्मशान में एक साथ जलती सैकड़ों चिताओं के दृश्य आम हो चले थे, लेकिन अब श्मशान घाटों और कब्रगाहों से आ रही खबरें और आंकड़े बताते हैं कि कोरोना की दूसरी लहर का कहर कुछ कम हुआ है।

हम फिलहाल दिल्ली की बात करते हैं। आंकड़े अभी भी सुकून देने वाले तो नहीं हैं, लेकिन फिर भी इन्हें देखकर यह उम्मीद की जा सकती है कि दूसरी वेव जल्द ही उतार पर होगी। अप्रैल के अंतिम हफ्ते में रोजाना 700 से ज्यादा अंतिम संस्कार हो रहे थे, वहीं मई के दूसरे हफ्ते में यह आंकड़ा गिरकर करीब 450 हो गया है।

कोरोना से मौत के सरकारी आंकड़ों और श्मशानों में पहुंच रही लाशों की संख्या में काफी अंतर था। जानकारों का कहना है कि मौतों की असल संख्या सरकारी आंकड़ों से काफी ज्यादा है।
कोरोना से मौत के सरकारी आंकड़ों और श्मशानों में पहुंच रही लाशों की संख्या में काफी अंतर था। जानकारों का कहना है कि मौतों की असल संख्या सरकारी आंकड़ों से काफी ज्यादा है।

दिल्ली के सीमापुरी श्मशान में पिछले 25 सालों से लाशों का दाह संस्कार करा रहे जितेंद्र सिंह शंटी भी इस बात की तस्दीक करते हैं। श्मशान में आ रही लाशों के बारे में पूछने पर वे भावुक हो जाते हैं, 'रब भी न जाने क्या-क्या दिन दिखाएगा! पांच महीने की बच्ची का चेहरा मैं भूल ही नहीं पा रहा हूं। उसका नाम परी था। उसका पिता शव लेकर आया था। बिल्कुल मायूस। हमने उसको श्मशान घाट के सबसे शांत कोने में दफना दिया। पिता बस इतना बोला, पहला बच्चा था हमारा, इसे ऐसी जगह दफनाइएगा जहां इसे बिल्कुल भी चोट न लगे।' जितेंद्र सिंह शंटी का गला यह बोलते-बोलते रुंध गया।

पांच मिनट के गैप के बाद उन्होंने कहा, 'लेकिन अब चीजें कुछ सुधरती दिख रही हैं। पिछले 5-6 दिनों से शवों के आंकड़े घटने लगे हैं। 12 मई को सिर्फ 31 शव आए, जबकि 11 मई को 46 और 10 मई को 55 शव आए थे।' शंटी कहते हैं कि अप्रैल में स्थिति बहुत डरावनी थी। वे कहते हैं, 'अप्रैल में रोजाना औसतन 95-100 शव घाट में आ रहे थे। अप्रैल के आखिरी हफ्ते में तो एक दिन 118 लाशें आईं थीं, लेकिन बस... अब रब करम कर दे।'

अप्रैल के आखिरी हफ्ते में दिल्ली के श्मशानों में औसतन 700 शव रोज आ रहे थे। मई के पहले हफ्ते में यह संख्या 450 के आसपास आ गई है। इन आंकड़ों से ऐसा लगता है कि कोविड की दूसरी लहर दिल्ली में अब उतार पर है।
अप्रैल के आखिरी हफ्ते में दिल्ली के श्मशानों में औसतन 700 शव रोज आ रहे थे। मई के पहले हफ्ते में यह संख्या 450 के आसपास आ गई है। इन आंकड़ों से ऐसा लगता है कि कोविड की दूसरी लहर दिल्ली में अब उतार पर है।

दिल्ली के तीनों नगर निगमों के श्मशान घाटों और कब्रिस्तानों में घटे शवों के आंकड़े
दिल्ली एमसीडी के आंकड़ों के मुताबिक 1 अप्रैल से लेकर 29 अप्रैल तक अंतिम संस्कार के लिए आने वाले शवों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हुई, लेकिन उसके बाद संख्या में कुछ कमी आने लगी। 10 मई तक घाटों में 14,000 कोविड संक्रमित मृत शरीरों का दाह संस्कार किया गया। हालांकि 1 मई से शवों की संख्या में कमी आ रही है।

ईस्ट दिल्ली के मेयर निर्मल जैन कहते हैं, 'पिछले एक महीने से दिल दहला देने वाले आंकड़े सामने आ रहे थे, लेकिन पिछले करीब एक हफ्ते से कब्रिस्तानों और श्मशान घाटों में शवों की संख्या घटने लगी है। लग रहा है-दूसरी लहर का कहर थमने लगा है।' साउथ दिल्ली की अधिकारी वंदना ने बताया, 'आंकड़ों में काफी कमी देखी जा रही है। अगर अप्रैल के अंतिम हफ्ते से तुलना करें तो घाटों और कब्रिस्तान में आने वाले शवों का आंकड़ा 40-45 प्रतिशत तक कम हो गया है।'

खबरें और भी हैं...