पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Db original
  • Ladakh Martyr Kundan Kumar Ojha From Jharkhand Sahibganj Updates; Shaheed Mother Speaks To Dainik Bhaskar

झारखंड के शहीद कुंदन की कहानी:मां बोलीं- दो बार बेटे ने बात करने की कोशिश की, पर हो न सकी; 16 जून को फोन आया तो शहीद होने की खबर मिली, 21 दिन पहले उसे बेटी हुई है

नई दिल्ली4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
देश के लिए जान न्योछावर करने वाले शहीद कुंदन कुमार घर में इकलौते कमाने वाले थे
  • लद्दाख से सेना का फोन आया तो मां ने ही उठाया, आवाज आई- बहुत दुखद खबर है क्या आप सुन पाएंगी, बेटा शहीद हो गया
  • झारखंड के साहेबगंज रहने वाले कुंदन महज 18 साल की उम्र में ही सेना में भर्ती हो गए थे, सेना में भर्ती होने बड़े भाई के साथ गए थे
  • कुंदन ने परिवार से पहले ही बोल दिया था कि बेटी हुई तो उसका नाम दीक्षा रखेंगे, कुंदन की बेटी अभी महज 21 दिन की है

'बेटे का 30 मई को जब फोन आया था, उस वक्त मैं बहू को लेकर हॉस्पिटल के लिए निकल चुकी थी। 30 मई उसकी डिलीवरी की डेट थी। बेटा मुझसे बात करना चाहता था, लेकिन मेरा फोन घर पर रह गया था तो मेरी बड़ी बहू ने उठाया। उसने बेटे को बताया कि मम्मी हॉस्पिटल गई हैं। फिर उससे मेरी उस दिन बात नहीं हो सकी। चार-पांच दिन बाद उसने फिर फोन लगाया था, लेकिन वो हैलो, हैलो बोलता रहा और फोन कट गया। बात नहीं हो पाई। इसके बाद मैंने 16 जून को सीधे फोन पर उसकी मौत की खबर सुनी।'

कुंदन साल में दो से तीन बार अपने गांव आया करते थे। जब आते थे तो 15 दिन तो रुकते ही थे।
कुंदन साल में दो से तीन बार अपने गांव आया करते थे। जब आते थे तो 15 दिन तो रुकते ही थे।

यह कहते हुए शहीद कुंदन की मां भवानी देवी एकदम चुप हो गईं। कुछ मिनटों की खामोशी के बाद रूआंसे गले से बोलीं, 'मेरा बेटा अपनी 21 दिन की बेटी का एक बार चेहरा तक नहीं देख पाया। किसी से बात तक नहीं कर पाया। लेकिन, मुझे बेटे पर गर्व है। उसने देश के लिए अपनी जान न्योछावर कर दी।'

2017 में कुंदन की शादी हुई थी। 21 दिन पहले ही बेटी हुई, लेकिन चेहरा भी देख नहीं सके।
2017 में कुंदन की शादी हुई थी। 21 दिन पहले ही बेटी हुई, लेकिन चेहरा भी देख नहीं सके।

बोलीं, 'वो जब ऊपर(लद्दाख) गया था तो जम्मू में अपने दोस्त को बोलकर गया था कि घर पर फोन लगाकर बता देना कि मैं ऊपर चला गया हूं। नीचे आऊंगा तब फोन लगाऊंगा।' शहीद कुंदन के बड़े भाई मुकेश ओझा ने बताया कि भाई के शहीद होने की खबर सबसे पहले मां को ही मिली थी। 16 मई को किसी का फोन पापा के नंबर पर आया था। वो फोन मम्मी ने उठाया था। फोन पर महिला की आवाज सुनकर उन्होंने पूछा कि, 'क्या आप केके की मम्मी बोल रही हैं? इन्होंने जवाब दिया हां। तो उन्होंने कहा कि एक दुखद घटना है, क्या आप बात कर पाएंगी।

यहां से जवाब मिला कि 'हां जी बताइए'  तो उन्होंने कहा कि आपका बेटा शहीद हो गया। वो अब इस दुनिया में नहीं रहा। इतना सुनते ही मां के हाथ-पैर कांपने लगे और वो रोने लगीं। उन्होंने तुरंत ये बात पापा को बताई। फिर पापा ने दोबारा उसी नंबर पर फोन किया, तब पता चला कि हमारा भाई लद्दाख में चीन की सेना से लड़ते हुए शहीद हुआ है। इसके बाद तो घर पर मातम छा गया। कुंदन के पिता रविशंकर ने यह बात तुरंत बड़े बेटे मुकेश को बताई। 

शहीद कुंदन के पार्थिव शरीर के दर्शन के लिए भीड़ उमड़ पड़ी।
शहीद कुंदन के पार्थिव शरीर के दर्शन के लिए भीड़ उमड़ पड़ी।

मुकेश कहते हैं कि हमारा परिवार पूरा बिखर गया और घर में भीड़ जमा हो गई। बिलखते हुए उन्होंने कहा, 'अब हमारे घर में कोई नहीं आएगा, सर। ये भीड़ बस एक ही दिन की थी, हमारा तो घर बर्बाद हो गया।' मुकेश ने बताया कि घर में कमाने वाला सिर्फ कुंदन ही था। वो महज 18 साल की उम्र में सेना में भर्ती हो गया था।

कुंदन 2 फरवरी को ही अपने गांव से दोबारा ड्यूटी पर लौटे थे। वे बड़े भाई से रोज बात करते थे।
कुंदन 2 फरवरी को ही अपने गांव से दोबारा ड्यूटी पर लौटे थे। वे बड़े भाई से रोज बात करते थे।

जब वैकेंसी निकली थी तो उसके साथ में ही गया था। मेरे सामने ही वो दौड़ जीता था। फिटनेस में पास हुआ था। 2011 में वो ड्यूटी पर चला गया। हर साल दो से तीन बार आता था। कभी पंद्रह दिन तो कभी महीनेभर रुकता था। हम दोनों भाई हर रोज ही बात किया करते थे, लेकिन जब से उसकी ड्यूटी ऊपर घाटी पर लगी थी, तब से बात बंद हो गई थी, क्योंकि वहां उसका फोन नेटवर्क में ही नहीं होता था। 

शहीद कुंदन की अंतिम यात्रा में शामिल सेना के जवान और लोग।
शहीद कुंदन की अंतिम यात्रा में शामिल सेना के जवान और लोग।

मुकेश ने बताया कि, कुंदन ने पहले ही बोलकर रखा था कि बेटी हुई तो उसका नाम दीक्षा रखेंगे। इसलिए हमने बच्ची का नाम दीक्षा ही रखा है। मुकेश के मुताबिक, घर में आय का एकमात्र सोर्स कुंदन की तनख्वाह ही थी। एक-दो बीघा जमीन है। उस पर इतना अनाज हो जाता है कि अपने खाने को हो जाए। कई बार वो भी नहीं हो पाता। कुंदन के परिवार को अभी तक सरकार की तरफ से कोई सहायता की जानकारी नहीं मिली है। परिवार बेटे के जाने से दुखी है, लेकिन उसकी बहादुरी पर गर्व कर रहा है। 

अपने वीर सपूत को श्रद्धांजलि देते पिता।
अपने वीर सपूत को श्रद्धांजलि देते पिता।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज समय बेहतरीन रहेगा। दूरदराज रह रहे लोगों से संपर्क बनेंगे। तथा मान प्रतिष्ठा में भी बढ़ोतरी होगी। अप्रत्याशित लाभ की संभावना है, इसलिए हाथ में आए मौके को नजरअंदाज ना करें। नजदीकी रिश्तेदारों...

और पढ़ें