पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Db original
  • Leaving Business After Father's Death, Started Gardening For Lemon And Guava, Earning Rs 12 Lakh Every Year

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

खुद्दार कहानी:पिता की मौत के बाद बिजनेस छोड़ नींबू की बागवानी शुरू की, हर साल 12 लाख रु. कमा रहे मुनाफा

भीलवाड़ा3 महीने पहलेलेखक: इंद्रभूषण मिश्र
राजस्थान के भीलवाड़ा के रहने वाले अभिषेक जैन मार्बल का बिजनेस छोड़कर नींबू की खेती कर रहे हैं।

राजस्थान के भीलवाड़ा जिले के रहने वाले अभिषेक जैन किसान परिवार से ताल्लुक रखते हैं। पिता खेती करते थे। अभिषेक की शुरुआती पढ़ाई गांव में ही हुई। इसके बाद उन्होंने बीकॉम में दाखिला ले लिया, क्योंकि उन्हें खुद का बिजनेस करना था। पढ़ाई पूरी करने के बाद अभिषेक ने मार्बल का बिजनेस शुरू किया। अच्छी कमाई भी हो रही थी, लेकिन 2007 में हार्ट अटैक से उनके पिता की मौत हो गई।

अभिषेक दो भाइयों में बड़े थे। परिवार की जिम्मेदारी भी उनके कंधों पर आ गई। गांव से बाहर बिजनेस करना मुश्किल हो गया। इसके बाद 2008 में उन्होंने बिजनेस छोड़ दिया और खेती को ही अपना करियर बना लिया। उन्होंने नए तरीके से कॉमर्शियल फार्मिंग करना शुरू किया। आज वे 6 एकड़ जमीन पर नींबू और अमरूद की खेती कर रहे हैं। इससे सालाना 12 लाख रुपए वे मुनाफा कमा रहे हैं।

अभिषेक तीन एकड़ जमीन पर नींबू और तीन एकड़ जमीन पर अमरूद की खेती कर रहे हैं। इसमें देशी और ग्राफ्टेड दोनों ही तरह के प्लांट उन्होंने लगाए हैं।
अभिषेक तीन एकड़ जमीन पर नींबू और तीन एकड़ जमीन पर अमरूद की खेती कर रहे हैं। इसमें देशी और ग्राफ्टेड दोनों ही तरह के प्लांट उन्होंने लगाए हैं।

ऑर्गेनिक खाद के इस्तेमाल से लागत कम हुई

35 साल के अभिषेक के लिए यह सफर आसान नहीं था। वे किसान परिवार से थे, लेकिन उन्होंने कभी खेती नहीं की थी। ये फील्ड उनके लिए बिल्कुल नई थी। उनके पिता जो बगीचा छोड़ कर गए थे, उसी को अभिषेक ने संवारना शुरू किया। खेती की नई तकनीकों के बारे में पढ़ना शुरू किया। केमिकल फर्टिलाइजर की जगह ऑर्गेनिक खाद का उपयोग करने लगे। इससे उन्हें दोहरा लाभ मिला। एक तरफ लागत कम हुई तो दूसरी तरफ प्रोडक्शन रेट और जमीन की उर्वरा शक्ति भी बढ़ गई।

आज अभिषेक तीन एकड़ जमीन पर नींबू और तीन एकड़ जमीन पर अमरूद की खेती कर रहे हैं। इसमें देशी और ग्राफ्टेड दोनों ही तरह के प्लांट उन्होंने लगाए हैं। उनके बगीचे में 800 प्लांट अमरूद और 550 से ज्यादा प्लांट नींबू के हैं। उनके ज्यादातर फल खेत से ही बिक जाते हैं। बाकी जो बच जाता है, उसे वे मंडी में भेज देते हैं। अमरूद की खेती से वे तीन लाख रुपए कमा रहे हैं जबकि नींबू की खेती से 6 लाख रुपए तक मुनाफा कमा रहे हैं।

अभिषेक नींबू की बागवानी के साथ-साथ आचार भी पैककर बेचते हैं। उनकी मां घर में आचार तैयार करती हैं।
अभिषेक नींबू की बागवानी के साथ-साथ आचार भी पैककर बेचते हैं। उनकी मां घर में आचार तैयार करती हैं।

हर साल 2 हजार किलो आचार की बिक्री

अभिषेक बताते हैं, 'कई बार नींबू पूरा बिक नहीं पाता था। फिर उसे संभालकर रखना मुश्किल काम होता था। इसके बाद मैंने सोचा कि हम जो आचार घर के लिए बनाते हैं क्यों न उसे बाजार के लिए तैयार किया जाए। मेरी मां आचार बनाती थीं। उन्होंने कुछ आचार तैयार किया और मुझे लोगों के बीच टेस्ट कराने के लिए दिया। जिसने भी टेस्ट किया, उसे वह आचार बहुत पसंद आया। इसके बाद 2017 में हमने आचार की मार्केटिंग शुरू की। आज हर साल 2 हजार किलो आचार की बिक्री हम लोग करते हैं।' इस आचार को तैयार करने के लिए अभिषेक किसी तरह का केमिकल या प्रिजर्वेटिव्स इस्तेमाल नहीं करते हैं।

अभी अभिषेक सोशल मीडिया के जरिए अपने प्रोडक्ट की मार्केटिंग कर रहे हैं। उन्होंने वॉट्सऐप ग्रुप भी बनाया है, जहां लोग अपनी जरूरत के हिसाब से ऑर्डर करते हैं। आगे वे अपना खुद का एक ब्रांड डेवलप करने वाले हैं। ताकि अपने प्रोडक्ट को ऑनलाइन बेच सकें। अभिषेक के साथ तीन लोग परमानेंट काम करते हैं। इसके साथ ही जरूरत के हिसाब से वे और मजदूरों को बुलाते रहते हैं।

नींबू की खेती कैसे करें

अभिषेक के मुताबिक प्रति एकड़ नींबू की खेती के लिए 25 से 30 हजार रुपए की लागत आती है। तीसरे साल में अच्छी कमाई होने लगती है।
अभिषेक के मुताबिक प्रति एकड़ नींबू की खेती के लिए 25 से 30 हजार रुपए की लागत आती है। तीसरे साल में अच्छी कमाई होने लगती है।

कठोर मिट्टी को छोड़कर किसी भी मिट्टी पर नींबू की खेती की जा सकती है। इसके पौधे लगाने के लिए सबसे बेहतर समय जुलाई से अगस्त के बीच होता है। हम ग्राफ्टेड और बीज दोनों ही तरीके से नींबू का प्लांट लगा सकते हैं। एक एकड़ में 140 पौधे लगाएं और उनके बीच की दूरी 18 बाई 18 फिट होनी चाहिए। पौधा लगाते समय गोबर की कम्पोस्ट खाद का उपयोग करें। सिंचाई के लिए ड्रिप इरिगेशन सबसे बढ़िया तरीका होता है। देशी नींबू तीन साल में फल देने लगता है और 30 से 35 साल तक इनकी आयु होती है। इसके साथ ही समय-समय पर निराई और गुड़ाई करनी होती है।

अच्छी कमाई कैसे करें

अभिषेक के मुताबिक प्रति एकड़ नींबू की खेती के लिए 25 से 30 हजार रुपए की लागत आती है। दूसरे साल में खर्च निकल आता है जबकि तीसरे साल में अच्छी कमाई होने लगती है। वे कहते हैं कि अगर ठीक से नींबू की खेती की जाए तो प्रति एकड़ तीन से चार लाख तक आराम से कमाई हो सकती है। इसके साथ ही अगर हम आचार या दूसरे प्रोडक्ट तैयार करते हैं तो और अधिक मुनाफा होगा।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- कुछ रचनात्मक तथा सामाजिक कार्यों में आपका अधिकतर समय व्यतीत होगा। मीडिया तथा संपर्क सूत्रों संबंधी गतिविधियों में अपना विशेष ध्यान केंद्रित रखें, आपको कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती हैं। अनुभव...

और पढ़ें