पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Db original
  • Leh Ladakh Ground Report 2nd Rasul GalwanUpdate | India China Ladakh Galvan Valley Border Latest News Today Updates

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लेह से लाइव- दूसरी रिपोर्ट:अचानक मशहूर हुए रसूल गलवान, चौथी पीढ़ी को पिछले हफ्ते ही मालूम हुई अपने दादा के अब्बा की कहानी

लेह में रसूल गलवान के घर से5 महीने पहलेलेखक: उपमिता वाजपेयी
रसूल गलवान की चौथी पीढ़ी ने उनके दादा के नाम पर रखा गलवान नाला देखा नहीं है। वे उसे देखने जाना चाहते हैं।
  • जहां पिछले दिनों भारत ने अपने 20 सैनिकों को खोया, वो गलवान नाला इसी परिवार के पूर्वज रसूल के नाम पर है, जो अंग्रेजों को उस जगह तक लेकर गए थे
  • दादा की याद बतौर सिर्फ एक किताब है, जिसे उन्होंने 1995 में री प्रिंट करवाया था, अमीन कहते हैं वो इसे लंदन के म्यूजियम से लाए थे
  • अमीन कहते हैं, जब गलवान नाले का नाम उनके दादा के नाम पर है और वो हिंदुस्तानी थे तो फिर वो जमीन चीन की कैसे हुई?

ये कहानी उस रसूल गलवान की है, जिसके नाम पर गलवान वैली का नाम पड़ा। वो गलवान वैली जहां पिछले दिनों भारत ने अपने 20 सैनिकों को खोया। लेह बाजार से लेकर देशभर के मीडिया में पिछले एक हफ्ते में जो सबसे ज्यादा मशहूर हुआ है वो है लद्दाख का रहने वाला ये परिवार। चीन और भारतीय सेना के बीच जिस गलवान नाले पर झड़प हुई वो गलवान नाला इसी परिवार के पूर्वज रसूल गलवान के नाम पर है।

गलवान गेस्ट हाउस लेह में इतना मशहूर पहले कभी नहीं था। लेह बाजार में यूं उसके चर्चे भी नहीं हुए थे। ताशी हमें रसूल गलवान के घर लेकर गए, कहने लगे मार्केट में सब उसकी ही स्टोरी बता रहे हैं।

घर के बाहर ही हमें रसूल गलवान की चौथी पीढ़ी पढ़ाई करती हुई मिली। जाहिर था सबसे पहला सवाल हमने उन्हीं से पूछे। मालूम हुआ कि उनके दादा के पिता रसूल गलवान की कहानी उन्हें भी पिछले हफ्ते ही पता चली है। मम्मी ने ही उन्हें बताया की टीवी पर जो ये गलवान वैली की बात हो रही है न, वो हमारे नानू के पापा थे।

मोहम्मद अमीन का घर।
मोहम्मद अमीन का घर।

मोहम्मद अमीन, रसूल गलवान के पोते हैं। इन दिनों थोड़े ज्यादा व्यस्त हैं, क्योंकि अलग-अलग मीडिया वाले उनका इंटरव्यू लेने आ रहे हैं। उनके पास तो खाने पीने का भी वक्त नहीं बचा है। लेह के यूरटुंग इलाके में अमीन एक छोटा सा गेस्ट हाउस चलाते हैं। इससे पहले वे डीसी ऑफिस में क्लर्क थे और कुछ साल पहले ही रिटायर हो गए।

अमीन अपने दादा की कहानी सुनाने लगे। वो ये कहानी हर मीडिया वाले को हूबहू सुना रहे हैं। कहने लगे सब आकर यही पूछ रहे हैं- ‘गलवान नाले का नाम कैसे पड़ा, आपके दादा क्या काम करते थे?’

रसूल गलवान के पोते मोहम्मद अमीन।
रसूल गलवान के पोते मोहम्मद अमीन।

12 साल की उम्र से गाइड थे दादा
अमीन बड़े फख्र से कहानी सुनाते लगते हैं। उन्होंने बताया कि कि मेरे दादा 12 साल की उम्र से गाइड का काम करते थे। 10 दिन में पैदल लद्दाख से जोजिला दर्रा पार कर कश्मीर चले जाते थे। ऐसे ही एक बार अंग्रेजों के साथ वे ट्रैकिंग कर काराकोरम पास से अक्साई चिन होते हुए जा रहे थे। तभी वे लोग एक खड़ी पहाड़ी के पास फंस गए। आगे जाने का कोई रास्ता ही नजर नहीं आ रहा था। तभी मेरे दादा रसूल गलवान ने रास्ता खोजा और अंग्रेजों को पार करवाया। वे बड़े तेज और फुर्तीले थे। तभी अंग्रेजों ने खुश होकर उस जगह का नाम ही मेरे दादा के नाम पर रख दिया।
मेरे दादा के दो बच्चे थे- मेरे पिताजी और मेरे चाचा। 30 मार्च 1925 को दादा की मौत हो गई थी। तब मेरे पिताजी भी बहुत छोटे थे। अमीन के मुताबिक, उनके अब्बा ने ही उन्हें सबसे पहले दादा की कहानी सुनाई थी। वे ही बताते थे कि मेरे दादा कैसे ही कहीं भी चले जाते थे।

दादा की याद के तौर पर बस एक किताब
मोहम्मद अमीन के पास अपने दादा की याद बतौर सिर्फ एक किताब है, जिसे उन्होंने 1995 में रीप्रिंट करवाया था। अमीन कहते हैं कि वे इसे लंदन के म्यूजिम से लाए थे। इसी किताब में रसूल गलवान की इकलौती तस्वीर है।

मोहम्मद अमीन के पोते।
मोहम्मद अमीन के पोते।

लेह में जहां रसूल गलवान रहते थे उस जमीन पर अब एक म्यूजिम बन चुका है। अमीन कहते हैं ये जो उनका घर है और आसपास की सड़क ये पूरी जमीन अंग्रेजों ने उनके दादा को दी थी। जमीन की लड़ाई तो चीन के साथ भी है। इस सवाल पर अमीन कहते हैं, जब गलवान नाले का नाम उनके दादा के नाम पर है और वे हिंदुस्तानी थे तो फिर वो जमीन चीन की कैसे हुई? कहते हैं कि हमारा परिवार एक बार गलवान नाला देखने जाना चाहता है। आज तक कोई वहां गया ही नहीं है। अमीन की एक शिकायत और है। कहते हैं कि किताब को कश्मीरियों ने भी प्रिंट करवाया है। वो भी हमसे पूछे बिना।

अंग्रेजों के गाइड बनने वाले गुलाम रसूल लद्दाख के पहले व्यक्ति थे
अमीन के मुताबिक- मेरे दादा लद्दाख के पहला आदमी था, जो अंग्रेजी ट्रैकरों के गाइड बने। 1888 में लेह से अक्साई चिन की तरफ निकल गया था। रसूल गलवान 14 साल के थे, जब उन्होंने इस रास्ते को पार किया और ब्रिटिश एक्सप्लोरर को मंजिल तक पहुंचाया। रसूल गलवान ने अंग्रेजों से कहा कि वे उनके साथ जाना चाहते हैं। अंग्रेजों ने उन्हें बोला कि तुम इतने छोटे हो, कैसे जा पाओगे? पर रसूल गलवान नहीं डरे। जब वे लोग वहां पहुंचे तो रास्ता नजर नहीं आ रहा था और सामने मौत थी। रसूल ने उन्हें मंजिले मकसूद तक पहुंचाया और इस पर अंग्रेज बहुत खुश भी हो गए।

ये भी पढ़ें
लेह से लाइव- पहली रिपोर्ट / आसमान में घूमते फाइटर प्लेन उन्हें करगिल युद्ध की याद दिलाते हैं, कहती हैं- घर के बेटे सरहद पर तैनात हों तो मांओं को नींद कैसे आएगी

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- परिस्थिति तथा समय में तालमेल बिठाकर कार्य करने में सक्षम रहेंगे। माता-पिता तथा बुजुर्गों के प्रति मन में सेवा भाव बना रहेगा। विद्यार्थी तथा युवा अपने अध्ययन तथा कैरियर के प्रति पूरी तरह फोकस ...

और पढ़ें