पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

शहीद मेजर नायर की लव स्टोरी:जिस लड़की से शादी होने वाली थी, वो पैरालाइज्ड हो गई, व्हीलचेयर पर पत्नी को पार्टीज में ले जाते थे

श्रीनगर15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मेजर शशिधरन और पत्नी तृप्ती की लव स्टोरी बहुत खास है। पहली मुलाकात में ही वो तृप्ती को दिल दे बैठे थे।
  • 11 जनवरी को आईईडी ब्लास्ट में शहीद हो गए थे मेजर नायर, पत्नी से लौटकर आने का वादा करके गए थे लेकिन यह पूरा नहीं हो पाया
  • शादी के पहले ही होने वाली पत्नी हो गई थीं बीमारी का शिकार, पैरों से चल नहीं सकती थीं, मेजर ने आखिरी सांस तक निभाया साथ

आज हम एक ऐसी लव स्टोरी के बारे में बताने जा रहे हैं, जो बेहद ही खास है। ये कहानी है शहीद आर्मी ऑफिसर शशिधरन नायर और तृप्ति नायर की। आज इस कहानी का जिक्र इसलिए क्योंकि आज ही मेजर शशिधरन की बर्थ एनिवर्सरी है।

शहीद मेजर शशिधरन नायर अपनी पत्नी तृप्ती नायर के साथ।

11 जनवरी को एलओसी के करीब नौशेरा सेक्टर में आईईडी ब्लास्ट में मेजर शशिधरन नायर अपने राइफलमैन जीवन गुरूंग के साथ शहीद हो गए थे। मेजर शशिधरन जब 27 साल के थे, तब वो एक कॉमन फ्रेंड ग्रुप के जरिए 26 साल की तृप्ति से मिले थे। दोस्त कहते हैं मेजर शशिधरन के लिए वो लव एट फर्स्ट साइट था। मुलाकात के छ महीने बाद ही उनकी सगाई हो गई। लेकिन, शायद उनकी किस्मत में कुछ और ही लिखा था। सगाई के आठ महीने बाद ही तृप्ति मल्टी आर्टीरीओस्क्लरोसिस (धमनी काठिन्य) का शिकार हो गईं। इसके बाद वो अपने पैरों पर चल नहीं सकती थीं। उन्हें व्हीलचेयर का सहारा लेना पड़ता था।

मेजर शशिधरन पत्नी से वादा करके गए थे लौटकर आएंगेस लेकिन यह वादा पूरा नहीं हो सका।

इस घटना के बाद मेजर नायर को उनके कुछ दोस्तों ने सलाह दी कि आप सगाई तोड़ दीजिए। लेकिन, मेजर नायर ने साफ इंकार कर दिया। उन्होंने अगले कुछ ही महीनों बाद तृप्ति से शादी कर ली। शादी के कुछ ही दिनों बाद तृप्ति फिर एक स्ट्रोक का शिकार हुईं। इस बार उनकी कमर के नीचे का कुछ हिस्सा पैरालाइज्ड हो गया। मेजर नायर अपनी पत्नी के साथ पूरी तरह से खड़े हुए थे। चाहे पार्टीज हों या फैमिली गेट टूगेदर, वो तृप्ति के साथ ही हर जगह जाते थे। उनकी व्हीलचेयर संभालते थे।

सर्च ऑपरेशन के दौरान हुए आईईडी ब्लास्ट में वो शहीद हुए थे।

मेजर शशिधरन के दोस्त कहते हैं कि यह नजारा देखकर सरप्राइज हो जाया करते थे, क्योंकि ऐसी लव स्टोरी के बारे में तो सिर्फ किताबों में ही पढ़ा था। देख पहली बार रहे थे। अपनी मौत के दस दिन पहले मेजर नायर महीनेभर की छुट्टी पर थे। वो तृप्ती के डर को दूर करने की कोशिश कर रहे थे। उनकी कश्मीर में पोस्टिंग थी। उन्होंने पत्नी से वादा किया था कि मैं वापस आऊंगा, लेकिन यह वादा पूरा नहीं हो सका।

पत्नी से लौटने का वादा किया था, लेकिन पूरा नहीं कर सके

2019 में मेजर शशिधरन नायर की यूनिट जम्मू-कश्मीर के राजौरी जिले में तैनात की गई थी। उनके पास एलओसी से सटे नौशेरा सेक्टर का जिम्मा था। नौशेरा सेक्टर अक्सर आतंकियों के निशाने पर होता है। 11 जनवरी 2019 को एक जूनियर कमीशंड ऑफिसर और दो सैनिक आईईडी ब्लास्ट से घायल हो गए।

मेजर शशिधरन का बचपन से ही आर्मी ज्वॉइन करने का सपना था। जिस ऑपरेशन में वो शहीद हुए, उसे लीड कर रहे थे।

इसके बाद मेजर शशिधरन नायर की लीडरशिप में सर्च ऑपरेशन लॉन्च किया गया। उसी दिन दोपहर 3 बजे एक और आईईडी ब्लास्ट हुआ, जिसमें सर्च ऑपरेशन को लीड कर रहे मेजर नायर और उनके राइफलमैन जीवन गुरूंग शहीद हो गए। वे पुणे के प्रतिष्ठित फर्ग्यूसन कॉलेज से पढ़े हुए थे। बचपन से ही आर्मी में जाने के लिए पेशनेट थे। जब वो एनसीसी में थे, तभी आर्मी ज्वॉइन करना उनका मुख्य लक्ष्य हो गया था।

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- मेष राशि के लिए ग्रह गोचर बेहतरीन परिस्थितियां तैयार कर रहा है। आप अपने अंदर अद्भुत ऊर्जा व आत्मविश्वास महसूस करेंगे। तथा आपकी कार्य क्षमता में भी इजाफा होगा। युवा वर्ग को भी कोई मन मुताबिक क...

और पढ़ें