• Hindi News
  • Db original
  • Maharashtra Amaravati Murder Mystery; BJP Nupur Sharma, Udaipur Kanhaiya Lal, Prophet Muhammad

अमरावती टारगेट किलिंग में मुख्य आरोपी समेत 7 गिरफ्तार:नूपुर शर्मा का सपोर्ट करने पर उदयपुर से 740 KM दूर हुई थी कन्हैया जैसी वारदात

मुंबईएक महीने पहलेलेखक: आशीष राय

अमरावती में फेसबुक पर नूपुर शर्मा को सपोर्ट करने वाले उमेश कोल्हे की हत्या के मामले में सात आरोपी गिरफ्तार किए गए हैं। इनमें मुख्य आरोपी शेख इरफान शेख रहीम भी शामिल है। जांच में सामने आया है कि इरफान रायबर हेल्पलाइन नाम की एनजीओ चलाता है। सूत्रों के मुताबिक उसे नागपुर से गिरफ्तार किया गया है। वहीं गिरफ्तार छठे आरोपी डॉ. यूसुफ खान उर्फ बहादुर को 5 जुलाई तक पुलिस कस्टडी में भेजा गया है। इसे शनिवार को ही पकड़ा गया है।

इस सिलसिले में वारदात वाले दिन 21 जून की रात साढ़े 10 बजे प्रभात चौक के पास महिला महाविद्यालय के पास का एक सीसीटीवी फुटेज भी जारी की गई है, जिसमें दो आरोपियों को उमेश कोल्हे के पीछे जाते हुए देखा गया। फिर वारदात के बाद वे भागते हुए भी दिखे।

गौरतलब है कि उदयपुर में जिस तरह से टेलर कन्हैयालाल की बर्बरता से हत्या हुई है, ठीक उसी तरह की वारदात 21 जून को उदयपुर से 740 किलोमीटर दूर महाराष्ट्र के अमरावती में भी हुई थी। यह दावा स्थानीय भाजपा नेताओं की ओर से किया जा रहा है कि अमरावती में उमेश कोल्हे नाम के दवा व्यापारी ने निलंबित भाजपा नेता नूपुर शर्मा के समर्थन में एक फेसबुक पोस्ट लिखी थी, जिसके स्क्रीनशॉट को कुछ अन्य संदिग्ध ग्रुप में वायरल कर दिया गया। इसके बाद उनकी हत्या कर दी गई थी।

सूत्रों के मुताबिक, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के निर्देश पर राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने इस मामले की जांच शुरू की है। वहीं सांसद नवनीत राणा ने इस मुद्दे पर गृहमंत्री अमित शाह को पत्र लिख महाराष्ट्र पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया है।

मृतक उमेश की अमित मेडिकल के नाम से दुकान थी। उनके बेटे संकेत का दावा है कि आरोपी उनका सिर धड़ से अलग करना चाहते थे, लेकिन वह पहुंचा तो भाग गए।
मृतक उमेश की अमित मेडिकल के नाम से दुकान थी। उनके बेटे संकेत का दावा है कि आरोपी उनका सिर धड़ से अलग करना चाहते थे, लेकिन वह पहुंचा तो भाग गए।

घात लगाकर बैठे थे आरोपी
पुलिस ने शनिवार को प्रेस कांफ्रेस में माना कि यह हत्या नूपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट लिखने की वजह से ही हुई है। अमरावती के डीसीपी उमेश साल्वी ने कहा, 'उमेश कोल्हे की हत्या नूपुर शर्मा की पोस्ट वायरल होने के कारण हुई थी।'

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, एक आरोपी ने पूछताछ में बताया है कि उसे एक NGO संचालक ने उमेश को मारने के लिए कहा था। उमेश को मारने के लिए दो टीमें लगाई गई थीं। एक टीम को फोन करके उमेश के कॉलेज के पास पहुंचने की पुष्टि की गई और फिर उन पर हमला हुआ। स्थानीय पुलिस के मुताबिक, यहां बीच सड़क पर मेडिकल शॉप के संचालक उमेश प्रह्लाद कोल्हे (54) को गर्दन पर चाकू से वार कर तीन लोगों ने मौत के घाट उतार दिया। तीनों आरोपी घंटाघर हनुमान मंदिर की गली में नूतन कॉलेज के गेट के पास घात लगाकर बैठे थे और जैसे ही उमेश वहां पहुंचे आरोपियों ने उन पर हमला कर दिया।

बेटा न होता तो गर्दन काट सकते थे आरोपी
उमेश के बेटे संकेत ने बताया, 'यह घटना जब हुई तो मैं पिता से 15 मीटर की दूरी पर अपनी पत्नी के साथ था। वे तीन लोग थे, अचानक बाइक से उतरे और पिताजी के गले के नीचे हमला कर दिया। वे उनकी गर्दन काटना चाहते थे, लेकिन मुझे आता देख वे भाग निकले।'

क्या यह उदयपुर जैसा कांड हो सकता है? इस पर बेटे ने कहा कि हम अभी किसी भी संभावना को नहीं बता सकते, क्योंकि जांच अभी जारी है। संकेत ने यह भी पुष्टि की है कि NIA के अधिकारी इस जांच के लिए अमरावती पहुंचे हैं।

उमेश मर्डर केस में अमरावती पुलिस ने सभी 6 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।
उमेश मर्डर केस में अमरावती पुलिस ने सभी 6 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

उदयपुर की घटना के बाद बेटे को सुरक्षा की चिंता
बेटे संकेत का कहना है कि इस घटना के बाद उसने मदद की आवाज लगाई और लेकिन हमलावर फरार हो चुके थे। आसपास के कुछ लोगों की मदद से उमेश को पास के ही एक्सॉन अस्पताल में भर्ती कराया गया। इलाज के दौरान ही उनकी मौत हो गई। उदयपुर की घटना के बाद अब हमें अपनी सिक्योरिटी की चिंता भी है, लेकिन हमें अमरावती पुलिस पर पूरा भरोसा है।'

पिता ने नूपुर शर्मा के समर्थन में क्या कोई पोस्ट किया था, इस पर संकेत ने कहा कि मैंने उनका फोन कभी चेक नहीं किया।

मास्टरमाइंड समेत सभी 6 आरोपी गिरफ्तार
उमेश के बेटे संकेत कोल्हे की तरफ से दर्ज शिकायत के बाद कोतवाली पुलिस ने जांच के आधार पर मामले में दो लोगों- मुदस्सिर अहमद (22) और शाहरुख पठान (25) को 22 जून को गिरफ्तार किया। दोनों से पूछताछ के बाद सामने आया कि उमेश की हत्या में चार और लोग शामिल थे। इनमें अब्दुल तौफिक (24), शोएब खान (22), आतिब रशीद (22) और शमीम फिरोज अहमद शामिल रहे। यूसुफ खान उर्फ बहादुर को भी देर शाम गिरफ्तार कर लिया गया, जिसे मुख्य आरोपी बताया जा रहा है।

न आपराधिक इतिहास, न कोई दुश्मनी
इस मामले पर सबसे पहले संदेह जताने वाले स्थानीय बीजेपी नेता शिवराय कुलकर्णी ने बताया कि एक लूट के लिए पहले 6 लोग रेकी नहीं करेंगे। वे पहले से घात लगाकर अंधेरे में नहीं बैठेंगे। वे अगर लूट के इरादे से आए थे तो उनका बैग छीन कर आसानी से भाग सकते थे, लेकिन जिस तरह से उन्होंने हमला किया है वह साबित करता है कि उनका इरादा कुछ और ही था।

जो भी 5-6 लोग पकड़े गए हैं वे कोई हिस्ट्रीशीटर नहीं हैं। पूर्व में उन पर कोई अपराध दर्ज नहीं है। न ही उमेश संग उनकी कोई दुश्मनी थी। ऐसे में यह साफ साबित होता है कि इस हत्याकांड के पीछे कुछ और ही वजह है।

हम सिर्फ इतना चाहते हैं कि हत्या के पीछे की असली वजह सामने आए और ऐसे और मामले होने से रोका जा सके। इसलिए हमने इस केस में एनआईए से संपर्क साधा है।' उनकी टीम के आज अमरावती पहुंचने की पुष्टि भी शिवराय ने की है।

अमरावती में कई परिवारों को धमकी
उदयपुर कांड के बाद से संकेत समेत उनके सभी रिश्तेदार डरे हुए हैं। उनका कहना है कि इस मामले में जल्द असली सच्चाई सामने आनी चाहिए और पुलिस को आरोपियों पर कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए। बीजेपी नेता कुलकर्णी ने बताया कि उमेश से पहले भी जिन तीन-चार लोगों ने नूपुर शर्मा के सपोर्ट में पोस्ट डाली उन्हें भी धमकाया गया। डर के कारण उन्हें माफी मांगनी पड़ी और माफी का वीडियो भी डालना पड़ा। ऐसे माहौल के बीच उमेश की जान जाना संदेह पैदा करता है कि इसके पीछे कोई खेल है।