• Hindi News
  • Db original
  • Nykaa's Success Story, Investment And Brands; How Falguni Nair Journey From A Banker To Entrepreneur

नायका के ब्रांड बनने की कहानी:रिटायरमेंट की उम्र में फाल्गुनी नायर ने प्लान किया महिलाओं का फेवरेट नायका; 8 साल में बनाया यूनिकॉर्न, अब आएगा IPO

10 महीने पहले
  • नायका में कटरीना कैफ और आलिया भट्ट ने भी निवेश किया है
  • 2020 में नायका यूनिकॉर्न 1 अरब डॉलर की कंपनी बनी

पुराने दिनों में चलते हैं। जब घर पर मां उबटन तैयार करती थी, रातभर में काजल पारती थी, पत्तियां पीसकर मेंहदी तैयार करती थी। धीरे-धीरे शहरों और कस्बों में बिसातखाने खुल गए। लिपस्टिक, बिंदी, क्रीम और मेकअप का सामान वहां से खरीदा जाने लगा। बाद में लैक्मे जैसे कुछ मेकअप ब्रांड्स भी आ गए। हालांकि पिछले एक दशक तक भारत का ब्यूटी मार्केट बिखरा सा था। इन सारी बातों को कोटक महिंद्रा कैपिटल कंपनी की एक कर्मचारी फाल्गुनी नायर भी नोटिस कर रही थीं। फाल्गुनी के दिमाग में एक आइडिया आया। उन्होंने नौकरी से इस्तीफा दिया और 49 साल की उम्र में 'नायका' की शुरुआत की।

2012 में शुरू हुआ नायका आज महिलाओं के ब्यूटी और वेलनेस प्रोडक्ट्स का सबसे बड़ा प्लेटफॉर्म बनकर सामने आया है। आज इस प्लेटफॉर्म पर हर मिनट 30 से ज्यादा मेकअप प्रोडक्ट्स की बिक्री होती है। नायका 2020 में यूनिकॉर्न यानी 1 अरब डॉलर से ज्यादा की कंपनी बन चुकी है। इस साल के अंत या 2022 की शुरुआत में नायका अपना IPO लाने की भी तैयारी कर रही है। इससे कंपनी की वैल्युएशन करीब 3 अरब डॉलर हो सकती है। आज हम आपको नायका के ब्रांड बनने की कहानी बता रहे हैं...

नायका की शुरुआत कैसे हुई?

IIM अहमदाबाद से पढ़ाई करने के बाद फाल्गुनी नायर कोटक महिंद्रा कैपिटल में नौकरी करने लगीं। मेहनत के दम पर 2005 में उन्हें अपने डिवीजन का मैनेजिंग डायरेक्टर बना दिया गया। एक अच्छी जॉब, पति और दो बच्चों के साथ उनकी जिंदगी सीधे रास्ते पर चल रही थी। बाहर से देखने पर भले सब कुछ शांत था, लेकिन उनके मन में उथल-पुथल मची हुई थी। एक दिन उनकी बेटी अद्वैता ने उन्हें सीवी कवाफी की कविता 'इथाका' सुनाई। इससे फाल्गुनी इतनी प्रभावित हुईं कि नौकरी छोड़कर अपनी कंपनी शुरू करने का फैसला कर लिया।

नायका एक संस्कृत शब्द है जिसका मतलब है स्पॉटलाइट में रहने वाली स्त्री। फाल्गुनी ने भारतीय महिलाओं की सुंदर दिखने की चाहत और जरूरत को समझा। 2012 में नायका शुरू तो हो गया, लेकिन फाल्गुनी को न तो ब्यूटी इंडस्ट्री की ज्यादा जानकारी थी और न ही ई-कॉमर्स इंडस्ट्री की।

फाल्गुनी नायर का सफर आसान नहीं रहा। पहले चार साल में उनके तीन चीफ टेक्नोलॉजी ऑफिसर्स ने इस्तीफा दे दिया। इन्वेस्टमेंट के लिए भी काफी मेहनत करनी पड़ी। फाल्गुनी बताती हैं कि शुरुआत में नायका में ऑर्डर आने का इंतजार करती थीं। वो खुद सभी ऑर्डर्स देखा करती थीं।

नायका में कटरीना और आलिया ने भी लगाया पैसा

नायका को अब तक 15 इन्वेस्टर्स से कुल 341.9 मिलियन डॉलर, यानी करीब 2,545 करोड़ रुपए की फंडिंग मिल चुकी है। 2014 में कंपनी को सिकोइया कैपिटल इंडिया से करीब 7 करोड़ रुपए का शुरुआती निवेश मिला था। इसके बाद कंपनी में हर्ष मरीवाला, दिलीप पाठक, टीवीएस कैपिटल और स्टेडव्यू कैपिटल से कुछ बड़े निवेश मिले। कटरीना कैफ और आलिया भट्ट ने भी नायका में पैसा लगाया है।

फाल्गुनी नायर का कहना है कि आलिया तीन बातों की वजह से नायका में निवेश करना चाहती थी। पहला- ये भारतीय है, दूसरा- इसकी शुरुआत एक महिला ने की है और तीसरा भारत का कोई ब्रांड दुनिया से टक्कर ले सकता है। आलिया और कटरीना ने नायका में कितना पैसा लगाया है, इसका खुलासा नहीं हो सका। नायका ने 2019 में 20Dresses और 2021 में Pipa.Bella का अधिग्रहण किया।

ऑनलाइन के साथ ऑफलाइन स्टोर्स पर भी फोकस

नायका एक ब्यूटी रिटेल कंपनी है जो कॉस्मेटिक प्रोडक्ट ऑनलाइन और ऑफलाइन बेचती है। नायका की टैगलाइन है- योर ब्यूटी, ऑवर पैशन। महिलाओं पर फोकस करते हुए इसके लोगो का रंग भी बहुत सोच-समझकर पिंक रखा गया है।

शुरुआत में ये ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म था, लेकिन बाद में ऑफलाइन स्टोर्स भी खुले। फाल्गुनी का कहना है कि हमने ओम्नीचैनल रिटेलर बनने का फैसला किया, क्योंकि ब्यूटी ऐसी कैटेगरी है जहां फिजिकल ट्रायल जरूरी है। हमें एहसास हुआ अगर प्रीमियम प्रोडक्ट्स बेचना है तो कलर मैचिंग बहुत जरूरी है।

नायका के 55 लाख मंथली एक्टिव यूजर्स हैं। 75 से ज्यादा स्टोर्स हैं। नायका पर 1200 से ज्यादा ब्रांड्स के 7 लाख से ज्यादा प्रोडक्ट्स मौजूद हैं। नायका पहले सिर्फ दूसरे ब्रांड्स को फीचर करती थी, अब अपने ब्रांड्स के प्रोडक्ट भी लॉन्च कर रही है। फाल्गुनी का कहना है कि हम डिस्काउंट वाली फैशन वेबसाइट नहीं बल्कि स्टाइलिश क्यूरेटेड फैशन का प्लेटफॉर्म बनना चाहते हैं।

लॉकडाउन के दौरान अप्रैल में नायका की बिक्री 70% तक घट गई। इसके बाद कंपनी ने एसेंशियल आइटम्स की लिस्टिंग शुरू कर दी, ताकि डिलीवरी प्रभावित न हो। इसके अलावा अपने 70 से ज्यादा स्टोर्स से हाइपरलोकल डिलीवरी शुरू कर दी। प्लेटफॉर्म ने 90% से ज्यादा बिजनेस प्री कोविड लेवल पर रिकवर कर लिया है।

नायका के फ्यूचर प्लान्स क्या हैं?

रीटेल कंसल्टेंसी कंपनी टेक्नोपाक एडवाइजर्स के मुताबिक 'साल 2019 में भारत का ब्यूटी और पर्सनल केयर मार्केट करीब 1 लाख करोड़ रुपए का था। इसमें हर साल के हिसाब से 12-14% की बढ़ोतरी हो रही है।' इसी को ध्यान में रखते हुए नायका ने 2018 में अपने चार प्रोडक्ट नायका मैन, नायका प्रो, नायका फैशन और नायका नेटवर्क शुरू किए थे।

फाल्गुनी नायर की बेटी अद्वैता नायर नायका फैशन की CEO हैं। अद्वैता ने हार्वर्ड से MBA किया है। फाल्गुनी के बेटे अंचित नायर नायका डॉट कॉम के CEO हैं। अंचित ने कोलंबिया यूनिवर्सिटी से पढ़ाई की है। उन्हें इन्वेस्टमेंट बैंकिंग में 8 साल का एक्सपीरिएंस है। फिलहाल वो नायका रिटेल और ऑफलाइन स्ट्रैटजी के मुखिया हैं।

नायका इस साल के अंत तक IPO लाने की तैयारी कर रही है। 3 अगस्त 2021 को सेबी में पेपर फाइल कर दिया गया है। कंपनी करीब 4 हजार करोड़ रुपए जुटाना चाहती है। कंपनी अपने ऑफलाइन बिजनेस को बढ़ाने पर जोर दे रही है। 2024 तक नायका 180 ऑफलाइन स्टोर्स खोलना चाहती है।