पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Db original
  • Only Those Who Bring The Kovid Negative Report Will Get An Entry; First Of All, Juna Arena Will Take Bath, This Time Kinnar Arena Will Also Get A Chance

कुंभनगरी में संतों का पहला शाही स्नान सम्पन्न:सभी सात अखाड़ों के संतों ने शाही स्नान किया, अब हर की पौड़ी पर आम लोग भी कर सकेंगे स्नान, पहले सिर्फ संतों के लिए रिजर्व था

हरिद्वार3 महीने पहलेलेखक: राहुल कोटियाल
महाशिवरात्रि के मौके पर जूना अखाड़ा, अग्नि अखाड़ा, आह्वान अखाड़ा, किन्नर अखाड़ा सहित सभी सात अखाड़ों के संतों ने शाही स्नान किया।

कुंभनगरी हरिद्वार में महाशिवरात्रि के मौके पर संतों के पहले शाही स्नान की समाप्ति हो गई। गुरुवार को जूना अखाड़ा, अग्नि अखाड़ा, आह्वान अखाड़ा, किन्नर अखाड़ा सहित सभी सात अखाड़ों के संतों ने शाही स्नान किया। इस बार के शाही स्नान में किन्नर अखाड़ा आकर्षण का केंद्र रहा। किन्नर अखाड़ा पहली बार हरिद्वार कुंभ में शामिल हुआ है।

साधु-संतों के स्नान के लिए पूरे दिन हर की पौड़ी घाट को रिजर्व रखा गया था। शाम साढ़े छह बजे के बाद आम लोगों के लिए भी हर की पौड़ी घाट को खोल दिया गया। इससे पहले उत्तराखंड पुलिस ने अपने बैंड से नमो शिवाय की धुन बजाकर शाही स्नान के लिए जा रहे संतों का स्वागत किया। उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत भी शाही स्नान के दौरान मौजूद रहे। उन्होंने फूल बरसाकर संतों का अभिवादन किया।

पहले शाही स्नान के दौरान शरीर पर भस्म लगाए नागा साधु आकर्षण का केंद्र रहे।
पहले शाही स्नान के दौरान शरीर पर भस्म लगाए नागा साधु आकर्षण का केंद्र रहे।
अपने अपने निर्धारित समय के अनुसार सभी अखाड़े स्नान के लिए पूरे गाजे-बाजे के साथ पहुंच रहे हैं।
अपने अपने निर्धारित समय के अनुसार सभी अखाड़े स्नान के लिए पूरे गाजे-बाजे के साथ पहुंच रहे हैं।
अखाड़ों की पेशवाई में रुकावट न आए इसके लिए स्थानीय पुलिस घोड़ों पर पैट्रोलिंग करते हुए भीड़ को अखाड़ों के रास्ते से दूर रख रही है।
अखाड़ों की पेशवाई में रुकावट न आए इसके लिए स्थानीय पुलिस घोड़ों पर पैट्रोलिंग करते हुए भीड़ को अखाड़ों के रास्ते से दूर रख रही है।
पेशवाई के दौरान जूना अखाड़े के नागा साधुओं का काफिला। इस दौरान लोग फूल बरसाकर इनका स्वागत कर रहे थे।
पेशवाई के दौरान जूना अखाड़े के नागा साधुओं का काफिला। इस दौरान लोग फूल बरसाकर इनका स्वागत कर रहे थे।
हर की पौड़ी घाट पर शाही स्नान करते जूना अखाड़े के नागा साधु।
हर की पौड़ी घाट पर शाही स्नान करते जूना अखाड़े के नागा साधु।
हरिद्वार कुंभ में शाही स्नान का आगाज हो गया है। पहली बार किन्नर अखाड़े के संत भी शाही स्नान में शामिल हुए।
हरिद्वार कुंभ में शाही स्नान का आगाज हो गया है। पहली बार किन्नर अखाड़े के संत भी शाही स्नान में शामिल हुए।
हर की पैड़ी आज सिर्फ अखाड़ों के स्नान के लिए आरक्षित है। आम लोगों के स्नान के लिए अलग व्यवस्था की गई है।
हर की पैड़ी आज सिर्फ अखाड़ों के स्नान के लिए आरक्षित है। आम लोगों के स्नान के लिए अलग व्यवस्था की गई है।
शाही स्नाने के लिए हर की पौड़ी घाट पर जाते किन्नर अखाड़े के साधु-संत।
शाही स्नाने के लिए हर की पौड़ी घाट पर जाते किन्नर अखाड़े के साधु-संत।
शाही स्नान के लिए हर की पौड़ी घाट पर जाते जूना अखाड़े के नागा साधु।
शाही स्नान के लिए हर की पौड़ी घाट पर जाते जूना अखाड़े के नागा साधु।
उत्तराखंड पुलिस ने बैंड बजाकर शाही स्नाने के लिए जा रहे साधु-संतों का स्वागत किया।
उत्तराखंड पुलिस ने बैंड बजाकर शाही स्नाने के लिए जा रहे साधु-संतों का स्वागत किया।

इस बार सरकार ने कोरोना के चलते कुंभ की अवधि को चार महीने से घटाकर एक महीने का कर दिया है। सरकार के नोटिफिकेशन के मुताबिक कुंभ 1 अप्रैल से 30 अप्रैल तक ही होगा, लेकिन पहला शाही स्नान अखाड़ों की परम्परा के मुताबिक महाशिवरात्रि के दिन से ही शुरू हो रहा है।

शाही स्नान से पहले पूरी रात हरिद्वार में साधु-संतों का जमावड़ा लगा रहा। इस दौरान वे पूजा-अर्चना करते नजर आए।
शाही स्नान से पहले पूरी रात हरिद्वार में साधु-संतों का जमावड़ा लगा रहा। इस दौरान वे पूजा-अर्चना करते नजर आए।
सुबह होते ही साधु-संतों के टेंट में पूजा शुरू हो गई।
सुबह होते ही साधु-संतों के टेंट में पूजा शुरू हो गई।
शाही स्नान से पहले नागा साधुओं ने भी हरिद्वार में डेरा डाल लिया है। रात उन्होंने अलाव जलाकर गुजारी।
शाही स्नान से पहले नागा साधुओं ने भी हरिद्वार में डेरा डाल लिया है। रात उन्होंने अलाव जलाकर गुजारी।
शाही स्नान के लिए पहुंचे आम लोगों ने भी साधु-संतों के साथ समय बिताया।
शाही स्नान के लिए पहुंचे आम लोगों ने भी साधु-संतों के साथ समय बिताया।
शाही स्नान के लिए अलग-अलग अखाड़ों के साधु-संत हर की पौड़ी घाट जा रहे हैं। लोग इन अखाड़ों का जोरदार स्वागत कर रहे हैं।
शाही स्नान के लिए अलग-अलग अखाड़ों के साधु-संत हर की पौड़ी घाट जा रहे हैं। लोग इन अखाड़ों का जोरदार स्वागत कर रहे हैं।
हरिद्वार के कुंभ में किन्नर अखाड़ा पहली बार आया है। इस बार यह अखाड़ा कुंभ मेले का सबसे बड़ा आकर्षण है।
हरिद्वार के कुंभ में किन्नर अखाड़ा पहली बार आया है। इस बार यह अखाड़ा कुंभ मेले का सबसे बड़ा आकर्षण है।

12, 14 और 27 अप्रैल को अगला शाही स्नान
आने वाले शाही स्नान जो 12, 14 और 27 अप्रैल को होने हैं, उनमें अखाड़ों का क्रम बदला हुआ होगा। आने वाले स्नानों में निरंजनी अखाड़ा पहले स्नान करेगा। अखाड़ा परिषद की बैठकों में सभी अखाड़े इस क्रम पर तैयार हुए हैं और सबको उनके स्नान का अलग-अलग समय आवंटित किया गया है।

हमेशा की तरह इस बार भी नागा साधु लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र हैं। शरीर पर भस्म लगाए हुए और सिर पर लंबी जटा इनकी पारंपरिक पहचान है।
हमेशा की तरह इस बार भी नागा साधु लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र हैं। शरीर पर भस्म लगाए हुए और सिर पर लंबी जटा इनकी पारंपरिक पहचान है।
खबरें और भी हैं...