करिअर फंडाफिलॉसफी देती है कम्युनिकेशन स्किल:दूसरों का नजरिया समझना और मुश्किलों को हल करना सिखाती है फिलॉसफी

2 महीने पहले

सच्ची आजादी पाने के लिए आपको दर्शनशास्त्र (फिलॉसफी) का गुलाम होना चाहिए।

- ग्रीक फिलॉसफर एपिक्युरस

करिअर फंडा में स्वागत!

मैंने कई लोगों को यह कहते सुना है कि फिलॉसफी एक बेकार सब्जेक्ट है, इसका डेली लाइफ में कोई यूज नहीं है, टाइम वेस्ट मत करो, लेकिन क्या ये सच है? देखते हैं किस तरह फिलॉसफी का ज्ञान हमारे जीवन में यूजफुल हो सकता है।

सबसे पहले, मैं आपसे 5 सवाल पूछता हूं

1) जीवन क्या है?

2) आप खुश कब और क्यों होते हैं?

3) आपके जीवन का मकसद क्या है?

4) दुख हमेशा आसपास क्यों मंडराते दिखते हैं?

5) इस दुनिया में आपके रिश्तों का मतलब क्या है?

क्या आप ढंग से इनका जवाब दे सकते हैं? कोशिश करें।

फिलॉसफी क्या है

जिस प्रकार साइंस इस बात का जवाब ढूंढने की कोशिश करती है कि भौतिक रूप से हम क्या हैं, और ये संसार कैसे बना है, उसी तरह फिलॉसफी बड़े सवालों का जवाब ढूंढती है जैसे (1) हम क्यों है? (2) सही क्या है? (3) गलत क्या है? (4) नॉलेज क्या है? (5) हमें जीवन कैसे जीना चाहिए? (6) ईश्वर है या नहीं?

डेली लाइफ में प्रैक्टिकल लेवल पर यह हमें जीवन जीने का क्लियर-कट विजन देती है, और जो फोर्सेज हमारी लाइफ को प्रभावित कर रहे हैं, उन्हें समझने का तरीका देती है।

पागल हाथी, अंधविश्वास, मौत से साक्षात्कार

उपनिषदों को भारतीय दर्शन का सार माना जाता है। इससे निकले दृष्टांत प्रैक्टिकल जीवन में भी पूरी तरह लागू होते हैं।
उपनिषदों को भारतीय दर्शन का सार माना जाता है। इससे निकले दृष्टांत प्रैक्टिकल जीवन में भी पूरी तरह लागू होते हैं।

1) एक बार एक गुरु ने अपने शिष्य को सिखाया कि ईश्वर सभी जगह हैं: तुम में, मुझ में दुनिया के हर जानवर और हर वस्तु में। शिष्य ने यह बात गांठ बांध ली। एक बार शिष्य जिस रास्ते से होकर जा रहा था वहां एक हाथी पागल हो गया था। सभी लोग चिल्लाते हुए, दौड़े जा रहे थे। उन में से कुछ दौड़ते-दौड़ते शिष्य से कह भी रहे थे कि, ‘जान बचानी है तो भागो’, ‘अरे! वहां नहीं जाना, उधर हाथी पागल हो कर लोगों को कुचल रहा है।’

2) शिष्य ने सोचा कि ये लोग तो मूर्ख हैं! जब मुझ में भी वही भगवान है जो हाथी में है, तो फिर डरना कैसा! वो उसी दिशा में चलता रहा। आगे चलने पर उसे हाथी का महावत दौड़ते-बचते आता दिखा, जिसने उसे चेतावनी दी कि भागो, जान बचाओ! लेकिन शिष्य तो डटा रहा - मेरे अंदर भी ईश्वर, हाथी के अंदर भी ईश्वर, आज ईश्वर से ईश्वर का साक्षात्कार होगा।

3) पागल हाथी ने शिष्य को सूंड में उठा कर फेंक दिया और शिष्य को काफी चोटें आईं। उसी हालत में आश्रम में ले जा कर खाट पर लिटाया गया और इलाज किया गया। थोड़ी देर बाद शिष्य को होश आया। वह पास ही खड़े अपने शिक्षक से पूछने लगा, ‘गुरु जी आपने तो कहा था सभी में भगवान है लेकिन हाथी ने बेदर्दी से मुझे पटक दिया!’

4) गुरु ने समझाया, ‘तुम्हें हाथी में तो भगवान दिखा लेकिन उस महावत के अंदर नहीं जो तुम्हें हाथी से बचने के लिए कह रहा था’, और उस से भी बढ़कर बात ‘हाथी को कैसे बताएं कि सब में भगवान हैं?’

ये दृष्टांत मैंने भारतीय दर्शन (इंडियन फिलॉसफी) की गंगोत्री अर्थात उपनिषद से लिया है।

जीवन जीने की तरकीब

कहने का मतलब यह है कि फिलॉसफी की समझ और नॉलेज आपको जीवन जीने का एक क्रिस्टल क्लियर व्यू देता है, कोई कन्फ्यूजन नहीं रह जाता, और आप घटनाओं को स्पष्टता के साथ देख पाते हैं।

5 प्रैक्टिकल उदाहरण

लाइफ में फिलॉसफी यूज करने के 5 मौके

1) माता-पिता से बच्चों की नहीं बनना

2) बॉयफ्रेंड और गर्लफ्रेंड में जीवन को लेकर हो रही तकरार

3) आपकी कॉम्पिटिटर कंपनी द्वारा मार्केट शेयर छीना जाना

4) आपकी फाइनेंशियल पोजीशन कमजोर होना

5) जीवन में शांति का अनुभव कभी नहीं होना

इन पांचों सिचुएशन में, यदि आप ‘कमी मेरे अंदर है’ सोचना शुरू करेंगे, तो आपको दूसरे का नजरिया समझ आने लगेगा, और फिर बीच की राह निकल आएगी। यही फलसफा है, और यही जीवन में आगे बढ़ते रहने का तरीका भी।

लेकिन ऐसा सोचने के लिए आपको अपने अंदर झांकना होगा, विनम्र बनना होगा और एक फिलोसफर का अंदाज अपनाना होगा।

तो आज की लर्निंग ये है कि

1) फिलॉसफी लॉजिकली सोचने और समस्याओं को हल करने में मदद करती है

लॉजिक, फिलॉसफी का एक महत्वपूर्ण भाग है। इस पर ईस्टर्न और वेस्टर्न दोनों फिलॉसॉफियों में काफी कुछ लिखा गया है। विश्लेषण से आप एक बेहतर विचारक बन जाते हैं।

2) फिलॉसफी कम्युनिकेशन स्किल्स बढ़ाती है, यह सेल्फ-एक्सप्रेशन के कुछ बेसिक टूल्स प्रदान करता है

जैसे, अच्छी तरह से निर्मित, व्यवस्थित लॉजिक के माध्यम से विचारों (बोलकर या लिखकर ) को प्रस्तुत करने की स्किल्स।

3) फिलॉसफी के नॉलेज से समझाने की शक्ति बढ़ती है

यह हमें समझाने की हमारी क्षमता को विकसित करने में मदद करता है। हम अपने विचारों का निर्माण और बचाव करना सीखते हैं और ये व्यक्त करना सीखते है कि हम अपने विचारों को विकल्पों के लिए बेहतर क्यों मानते हैं।

आज का करिअर फंडा ये है कि हम सिर्फ रोजाना की भौतिक लड़ाइयों में उलझ कर अपने आप को खर्च न करें, वरन सोचना सीखें, और जीवन को सुलझाना सीखें। खुशी अपने आप आएगी।

कर के दिखाएंगे!

इस कॉलम पर अपनी राय देने के लिए यहां क्लिक करें।

करिअर फंडा कॉलम आपको लगातार सफलता के मंत्र बताता है। जीवन में आगे रहने के लिए सबसे जरूरी टिप्स जानने हों तो ये करिअर फंडा भी जरूर पढ़ें...

1) लीडर्स की साइंटिफिक सोच का नतीजा है विकास:एटॉमिक एनर्जी कमीशन से कर्त्तव्य पथ के नामकरण में भी साइंस

2) जानिए पढ़ाई का बेस्ट टाइम:सुबह दिमाग फ्रेश होता है, दोपहर में ग्रुप स्टडी करना सबसे सही

3) गावस्कर के पहले कमाल से 5 सबक:1971 में वेस्टइंडीज को हराया...छोटे कद को बनाया ताकत, मेंटल बैलेंस से बने दीवार

4) लियो टॉलस्टॉय देंगे सवालों के जवाब:कॉम्पिटिटिव एग्जाम देने वालों के होते हैं 3 सवाल...एक कहानी में समझिए जवाब

5) 8 बुक्स जो सिखाएंगी जीवन का फंडा:किताबों से दोस्ती जरूरी…हर छात्र या प्रोफेशनल बनाए अपनी लाइब्रेरी

6) हिस्ट्री में लगाएं FOPYTOMO फॉर्मूला:UPSC में प्री से मेन्स तक इम्पॉर्टेंट है इतिहास...5 हिस्सों में बांटकर करें तैयारी

7) इंफोसिस की सफलता में छिपे 5 टिप्स:नारायण मूर्ति का मंत्र...नया सोचिए, अच्छे लोगों को जोड़िए; दुश्मन से भी सीखिए