• Hindi News
  • Db original
  • PM Modi May Announce To Free 51 Temples Including Char Dham From Government Occupation

आज केदारनाथ यात्रा पर PM:चारों धाम सहित 51 मंदिरों को सरकारी नियंत्रण से मुक्त करने की घोषणा कर सकते हैं मोदी

नई दिल्ली8 महीने पहलेलेखक: संध्या द्विवेदी
  • कॉपी लिंक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज केदारनाथ धाम पहुंचे हैं, लेकिन उससे पहले उत्तराखंड के CM पुष्कर धामी को केदारनाथ धाम की यात्रा पर जाना पड़ा। दरअसल, वहां के पुरोहित समाज ने चेतावनी दी थी कि वे एकजुट होकर PM के दौरे का विरोध करेंगे। पुरोहित समाज राज्य के मंदिरों को सरकारी कब्जे में लेने के लिए बने चार धाम देवस्थानम बोर्ड से नाराज है और पिछले 4 महीने से इसका विरोध कर रहा है। पंडे-पुरोहितों की नाराजगी से घबराए पुष्कर धामी को खुद पुरोहित समाज से बात करने के लिए जाना पड़ा।

सूत्रों की मानें तो पुरोहितों के साथ हुई बंद कमरे में मीटिंग में CM ने आश्वासन दिया है कि पुरोहित समाज के हक में ही फैसला आएगा। उन्होंने देवास्थानम बोर्ड को भंग करने की बात PM से करने का आश्वासन भी दिया है। हालांकि, उन्होंने खुलकर यह नहीं कहा है कि चारधाम देवस्थानम बोर्ड भंग किया जाएगा, लेकिन सूत्रों की मानें तो पुरोहितों की नाराजगी को देखते हुए PM दौरे के तीन दिन पहले सीएम का केदारनाथ के दौरे का फैसला दिल्ली में भाजपा के नेतृत्व से बातचीत के बाद ही लिया गया है।

बातचीत में तय हुआ है कि PM के दौरे में बोर्ड को भंग करने का भरोसा पुरोहितों को दिलाया जाएगा। बोर्ड भंग होने की औपचारिक घोषणा का वक्त भी लगभग तय हो गया है। 30 नवंबर तक बोर्ड को भंग कर दिया जाएगा।

कब बना उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम बोर्ड और क्या है पुरोहितों की चिंता?

प्रधानमंत्री की केदारनाथ यात्रा से पहले उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर धामी ने वहां पहुंचकर तैयारियों का जायजा लिया और मंदिर में पूजा-अर्चना की।
प्रधानमंत्री की केदारनाथ यात्रा से पहले उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर धामी ने वहां पहुंचकर तैयारियों का जायजा लिया और मंदिर में पूजा-अर्चना की।

15 जनवरी, 2020 में उत्तराखंड की त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार ने बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री समेत प्रदेश के 51 मंदिरों का प्रबंधन हाथ में लेने के लिए 'चार धाम देवस्थानम बोर्ड' बनाया था। मंदिरों के पुरोहितों ने मंदिरों के सरकारीकरण का विरोध किया। उत्तराखंड सरकार के इस कदम को हिन्दुओं की आस्था में दखल करार देते हुए साधु-संत और पुरोहितों समाज एकजुट हो गया। पिछले सवा साल से लगातार इस फैसले के खिलाफ उत्तराखंड में आंदोलन जारी था।

चारधाम तीर्थ पुरोहित हक हकूकधारी महापंचायत के अध्यक्ष के कोटियाल के मुताबिक, यह बोर्ड एक तरह से हिन्दू धर्मस्थल मंदिरों में सरकारी कब्जे की कोशिश है। बोर्ड बनने से पहले तक इन मंदिरों की देखभाल पुरोहितों के जिम्मे थी, मंदिर पर चढ़ने वाले चढ़ावे को पुरोहित ही संभालते थे। बोर्ड बनने के बाद पुरोहित मंदिरों की जिम्मेदारी तो उठा रहे हैं, लेकिन उन पर चढ़ने वाले चढ़ावे का ब्यौरा सरकार रखती है।

पुरोहितों की चिंता यह भी है कि यह बोर्ड मंदिर की संपत्ति और जमीन पर सरकारी कब्जे की कोशिश है। कोटियाल कहते हैं कि सरकार ने इतना बड़ा कानून बनाने से पहले इस मामले के मूल पक्षकारों यानी पुरोहित समाज से चर्चा तक नहीं की।

अभी कितने मंदिरों पर है सरकारी कब्जा
राज्य के 51 मंदिरों पर बोर्ड का कब्जा है। इसमें गंगोत्री, यमुनोत्री, बद्रीनाथ और केदारनाथ शामिल हैं। इन मंदिरों में बोर्ड नियामक बॉडी की तरह काम करता है।

पूर्व CM तीरथ सिंह रावत ने दिया था आश्वासन

राज्य के 51 मंदिरों पर बोर्ड का कब्जा है। पूर्व मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने इसे भंग करने की बात कही थी।
राज्य के 51 मंदिरों पर बोर्ड का कब्जा है। पूर्व मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने इसे भंग करने की बात कही थी।

पूर्व मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने 9 अप्रैल 2021 यानी अपने जन्मदिन के मौके पर संत समाज को आश्वासन दिया था दी कि वे देवास्थानम बोर्ड भंग करेंगे। इस घोषणा के करीब तीन महीने बाद 4 जुलाई को तीरथ सिंह रावत की सीएम पद से विदाई हो गई, लेकिन इन तीन महीनों में रावत संतों से किया अपना वादा नहीं पूरा कर सके।

मौजूदा सीएम की कैबिनेट में एक बार भी नहीं हुई चर्चा
मौजूदा CM पुष्कर धामी को मुख्यमंत्री बने करीब चार महीने से ऊपर का समय हो गया है, लेकिन सूत्रों की मानें तो उनकी कैबिनेट में एक बार भी इस मामले को लेकर चर्चा नहीं हुई। अब जबकि चुनाव करीब हैं। संत समाज ने चेतावनी दी थी कि वह PM दौरे का विरोध करेंगे। हालांकि धामी की पुरोहितों के साथ हुई बंद कमरे में बैठक के बाद विरोध पर आमादा संत समाज थोड़ा नरम दिखाई पड़ रहा है।

PM केदारनाथ में करोड़ों के प्रोजेक्ट्स का करेंगे शिलान्यास और उद्घाटन
PM मोदी केदारनाथ में आदि शंकराचार्य की समाधि का शिलान्यास करेंगे और उनकी प्रतिमा का अनावरण करेंगे। कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल के मुताबिक प्रधानमंत्री वहां 150 करोड़ रु. की लागत से शुरू होने वाले कई प्रोजेक्ट का शिलान्यास करेंगे। साथ ही वे उत्तराखंड में करीब 250 करोड़ रु. की लागत से बनकर तैयार हुए अलग-अलग बुनियादी ढांचों का भी उद्घाटन करेंगे।

खबरें और भी हैं...