• Hindi News
  • Db original
  • Rakesh Tikait Interview; Kisan Andolan | BKU Leader Rakesh TikaitTalks On Lakhimpur Kheri Violence Main Reason

लखीमपुर खीरी हत्याकांड पर टिकैत का दावा:मामला अब खत्म, जान गंवाने वाले किसानों के परिवार भी संतुष्ट; बिना किसी रोकटोक सबसे पहले घटनास्थल पहुंचकर सुलह कराई

2 महीने पहलेलेखक: रवि यादव
  • कॉपी लिंक

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में रविवार को प्रदर्शनकारी किसानों को गाड़ी से रौंदने के मामले में किसान नेता राकेश टिकैत का कहना है कि यह मामला अब निपट चुका है। प्रशासन से हुई बातचीत से वो और पीड़ित किसानों के परिवार संतुष्ट हैं। किसानों को प्रशासनिक अफसरों के वादे पर भरोसा है।

घटनास्थल पर सिर्फ टिकैत पहुंच सके, ऐसा क्यों? इस सवाल के जवाब में टिकैत ने बताया कि वो पुलिस नाका लगने से पहले ही लखीमपुर के लिए निकल चुके थे। टिकैत ने यह बात दैनिक भास्कर से हुई विशेष बातचीत में कही। तो आइए जानते हैं कि टिकैत ने और क्या-क्या कहा...

सवाल: लखीमपुर खीरी मामले में सरकार से हुई सुलह से आप संतुष्ट हैं?

जवाब : पीड़ित किसानों के परिवारवालों और प्रशासन से बातचीत कर रही किसानों की कमेटी के संतुष्ट होने पर ही मामला खत्म हुआ है। सरकार के बड़े अधिकारी भी मौजूद थे। जान गंवाने वाले किसानों के परिवार को 45-45 लाख रुपए, उनके परिवार के एक-एक व्यक्ति को सरकारी नौकरी तथा घायलों को दस-दस लाख रुपए दिए जाएंगे। मंत्री अजय मिश्र और उसके बेटे के खिलाफ हत्या का केस दर्ज किया गया है। पूरे मामले की न्यायिक जांच होगी। ऐसे मामले में सभी मुद्दों पर बात होती है। UP प्रशासन ने सभी मांगों पर सहमति जताई है और इन्हें पूरा करने के लिए आठ दिन का समय मांगा है।

सवाल: क्या किसानों और प्रशासन के बीच यह समझौता लिखित में हुआ है?

जवाब : यह फैसला लिखित में नहीं हुआ। मामले की FIR दर्ज हो चुकी है। धारा 302 के साथ और भी कई धाराएं लगाई गई हैं। मृतकों के परिजनों को मुआवजा और घायलों को आर्थिक मदद दो से तीन दिन में उनके खातों में पहुंच जाएगी। प्रशासन का कहना है कि न्यायिक जांच भी जल्द शुरू हो जाएगी। बड़े अधिकारियों से हुई बातचीत में फेरबदल की आशंका कम होती है।

सवाल: क्या ये सही है कि सरकार ने लखीमपुर खीरी जाने की इजाजत केवल आपको ही दी थी और किसी को नहीं?

जवाब : घटना होते ही मैं गाजीपुर से लखीमपुर जाने के लिए निकल गया था। पुलिस नाके लगने से पहले से ही हम निकल चुके थे। मैं रात करीब 2 बजे बरेली पहुंचा तो वहां भारी संख्या में किसान भी पहुंच चुके थे। सरकार ने नेताओं की बजाय शायद किसानों को रास्ता देने की अनुमति दी हो।

सवाल: इस घटना की मुख्य वजह क्या रही?

जवाब : दस दिन पहले एक सभा में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र ने किसानों के खिलाफ बयान दिया था। किसानों में इससे नाराजगी थी, जब उन्हें पता चला कि मंत्री की सभा होने वाली है तो वो लखीमपुर के हेलीपैड पर पहुंच गए। मंत्री को सड़क के रास्ते कार्यक्रम में पहुंचना पड़ा। विरोध करने के बाद किसान वापस धरनास्थल पर जा रहे थे तो पीछे से मंत्री के बेटे ने अपनी गाड़ी से किसानों को कुचल दिया, जिसमें चार किसानों की मौत हो गई और दस किसान घायल हो गए। जब मंत्री के बेटे की गाड़ी किसानों को कुचल रही थी तो लोग उनके पीछे भागे। स्पीड तेज होने की वजह से गाड़ी पलट गई और उसमें आग लग गई। गाड़ी में तीन लोग थे।

सवाल: मंत्री अजय मिश्र ने कहा है कि उनके चार कार्यकर्ताओं की हत्या हुई है और वो इसमें कार्रवाई करवाएंगे?

जवाब : केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा के लोग और उनका बेटा किसानों को मारने के लिए गाड़ी लेकर आए तो किसान केवल विरोध कर रहे थे। सवाल यह है कि मंत्री का बेटा और उसके साथी किसानों के बीच गए क्यों थे? उन्होंने किसानों को मारा। इसके बाद किसानों से उनका झगड़ा भी हुआ। इस मामले में किसानों ने कई लोगों को पकड़कर पुलिस को सौंपा है। क्या वो बड़े लोग हैं, मंत्री हैं, उनकी सरकार है तो कुछ भी करवा सकते हैं?

सवाल: इस पूरे मामले में सरकार की भूमिका के बारे में क्या कहेंगे?

जवाब : हम प्रशासन के अधिकारियों से संतुष्ट हैं, लेकिन मंत्री अपने बेटे को बचाने का प्रयास कर रहे हैं। वो सरकार में हैं तो अपने पद का फायदा उठा रहे हैं। हमने यह भी मांग रखी थी कि मंत्री को बर्खास्त किया जाए, लेकिन प्रशासन ने कहा कि यह मामला उनके हाथ में नहीं है। मंत्री को पुलिस ने आपराधिक साजिश की धारा 120B में शामिल किया है। मंत्री के खिलाफ हम सारे सबूत जल्द ही पुलिस को सौंप देंगे।

सवाल : अब इस मामले में किसानों का अगला कदम क्या होगा?

जवाब : यह मामला तो एक प्रकार से खत्म ही हो गया है। प्रशासन और हमारे बीच बातचीत हो गई है। हमने प्रशासन को अपना वादा पूरा करने के लिए आठ दिन का समय दिया है।

सवाल : हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने हाल ही में किसानों को लेकर एक बयान दिया है उस पर आप क्या कहेंगे?

जवाब : भाजपा नेता यह सब एक रणनीति के तहत कर रहे हैं। वो लोगों के बीच झगड़ा करवाना चाहते हैं। सरकार भी किसानों से झगड़ा चाहती है। चाहे वो जातीय झगड़े हों या दूसरे मुद्दे। जब देश के गृह राज्यमंत्री और उनके परिवार के लोग ही ऐसा काम करेंगे तो आम लोगों को भगवान ही बचाएगा।

खबरें और भी हैं...