• Hindi News
  • Db original
  • Satyam Of UP Did Business Of 15 Lakhs In Two Months By Teaching Online, Ajay Of Chhattisgarh Is Earning 1.5 Lakhs Every Month From Mobile App

आज की पॉजिटिव खबर:UP के सत्यम ने ऑनलाइन पढ़ाकर दो महीने में 15 लाख का बिजनेस किया, छत्तीसगढ़ के अजय मोबाइल ऐप से हर महीने 1.5 लाख कमा रहे

नई दिल्ली6 महीने पहलेलेखक: इंद्रभूषण मिश्र

यूट्यूब एंटरटेनमेंट के साथ ही कमाई का भी एक अच्छा प्लेटफॉर्म है। हाल के दिनों में इसकी डिमांड भी बढ़ी है। खास करके यूथ इससे जुड़कर खुद का करियर बना रहे हैं। आज की पॉजिटिव खबर में हम ऐसे ही दो युवाओं के बारे में बताने जा रहे हैं जो यूट्यूब और ऐप के जरिए स्टूडेंट्स को पढ़ा रहे हैं। इससे उनकी कमाई भी लाखों में हो रही है।

पहली कहानी : यूट्यूब और ऑनलाइन ऐप से सेलिब्रिटी टीचर बने सत्यम गुप्ता
उत्तर प्रदेश के गोरखपुर के रहने वाले सत्यम गुप्ता पिछले चार साल से यूट्यूब के जरिए स्टूडेंट्स को पढ़ा रहे हैं। 9 लाख से ज्यादा उनके सब्सक्राइबर्स हैं। हाल ही में उन्होंने ऑनलाइन ऐप के माध्यम से भी टीचिंग शुरू की है। 30 हजार से ज्यादा डाउनलोड्स हैं। वे SSC, बैंकिंग, रेलवे सहित सभी कॉम्पिटीटिव एग्जाम्स की तैयारी कराते हैं। पिछले दो महीने में 15 लाख रुपए से ज्यादा का कोर्स उन्होंने सेल किया है।

सत्यम की पढ़ाई-लिखाई गोरखपुर से हुई। वे इंजीनियर बनना चाहते थे। रैंक बढ़िया नहीं मिली तो उन्होंने कॉम्पिटीटिव एग्जाम्स की तैयारी शुरू कर दी। साथ में वे कुछ बच्चों को कोचिंग भी देने लगे। इस तरह पढ़ने और पढ़ाने का काम चलता रहा। साल 2016-17 में सत्यम एग्जाम्स में अच्छा स्कोर करने लगे। कुछ एग्जाम्स में उनका सिलेक्शन भी हुआ।

एक बार सॉल्वड पेपर का वीडियो अपलोड किया तो 35 हजार से ज्यादा हो गए सब्सक्राइबर्स

सत्यम गुप्ता UP के गोरखपुर के रहने वाले हैं। वे पिछले 4 साल से स्टूडेंट्स को पढ़ा रहे हैं।
सत्यम गुप्ता UP के गोरखपुर के रहने वाले हैं। वे पिछले 4 साल से स्टूडेंट्स को पढ़ा रहे हैं।

सत्यम कहते हैं, "पहले मैं यूट्यूब पर पढ़ाई से रिलेटेड कुछ वीडियो अपलोड करता था। तब यूट्यूब की न तो ज्यादा समझ थी और न ही इसको लेकर कोई प्रोफेशनल प्लान था। तब एक हजार से भी कम सब्सक्राइबर्स थे, लेकिन 2017 में उत्तर प्रदेश SI का एग्जाम हुआ। हमने एग्जाम के बाद उसका सॉल्वड पेपर यूट्यूब पर अपलोड कर दिया। देखते ही देखते कुछ ही घंटों में लाखों व्यूज हो गए। 35 हजार से ज्यादा हमारे सब्सक्राइबर्स हो गए। तब लगा कि इस पर फोकस करना चाहिए।"

इसके बाद सत्यम गुप्ता ने यूट्यूब पर फोकस करना शुरू किया। वे रेगुलर वीडियो अपलोड करने लगे। वे हर एग्जाम को लेकर कुछ वीडियो बनाते और उसे यूट्यूब पर अपलोड कर देते थे। धीरे-धीरे उन्हें स्टूडेंट्स का बढ़िया रिस्पॉन्स मिलता गया और उनके सब्सक्राइबर्स भी बढ़ते गए।

इसके बाद कुछ सालों के लिए उन्होंने एक कोचिंग जॉइन कर ली। वहां से उन्हें अच्छा पैकेज मिल रहा था, लेकिन वे अपने यूट्यूब चैनल पर फोकस नहीं कर पा रहे थे। क्योंकि उन्हें वक्त नहीं मिल पा रहा था। फिर 2021 की शुरुआत में सत्यम ने नौकरी छोड़ दी और खुद के चैनल पर फोकस करना शुरू कर दिया।

कोरोना के बाद ऐप के जरिए पढ़ाने लगे

सत्यम कहते हैं कि कोरोना के बाद ज्यादातर लोग ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर शिफ्ट हुए हैं। स्टूडेंट्स भी अब ऑनलाइन ही पढ़ाई कर रहे हैं। इसलिए यूट्यूब के साथ मैंने भी ऐप के जरिए पढ़ाना शुरू कर दिया। इसका बहुत बढ़िया रिस्पॉन्स भी मिला। जल्द ही ऐप के डाउनलोड्स भी बढ़ गए और पेड स्टूडेंट्स की संख्या भी बढ़ गई। दो महीने के भीतर हमने 15 लाख रुपए से ज्यादा का कोर्स सेल कर दिया।

अभी भी हर दिन स्टूडेंट्स की संख्या बढ़ रही है। हमने अब अपने क्लास का भी दायरा बढ़ा दिया है। लगभग हर कॉम्पिटीटिव एग्जाम को हम कवर कर रहे हैं। स्टडी मटीरियल के साथ ही PDF नोट्स और वीकली टेस्ट भी हम कंडक्ट करते हैं। इतना ही नहीं स्टूडेंट्स जब चाहें फोन करके या चैट के जरिए अपने डॉउट्स क्लियर कर सकते हैं। फिलहाल हमारे साथ एक दर्जन से ज्यादा टीचर भी जुड़े हैं।

दूसरी कहानी : पिता खेती-किसानी करते हैं, बेटा UPSC-PSC की तैयारी करवाता है
छत्तीसगढ़ के बालोद के रहने वाले अजय साहू एक साधारण परिवार से ताल्लुक रखते हैं। उनके पिता खेती-किसानी करते हैं, लेकिन उन्हें हमेशा से पढ़ाई में दिलचस्पी रही। उनके पिता ने उन्हें इंजीनियरिंग में दाखिला दिलाने के लिए अपनी जमीन तक बेच दी।

27 साल के अजय कहते हैं कि बड़ी तमन्ना से इंजीनियरिंग की पढ़ाई की थी। परिवार के लोगों को अभी काफी उम्मीदें थीं, लेकिन पढ़ाई पूरी करने के बाद अच्छी जॉब नहीं मिली। दिनभर काम करने के बाद भी अच्छी तनख्वाह नहीं मिलती थी। इसको लेकर मुझे हमेशा मलाल रहता था।

छत्तीसगढ़ के बालोद के रहने वाले अजय साहू ने इंजीनियरिंग की है। अब वे बच्चों को ऑनलाइन पढ़ा रहे हैं।
छत्तीसगढ़ के बालोद के रहने वाले अजय साहू ने इंजीनियरिंग की है। अब वे बच्चों को ऑनलाइन पढ़ा रहे हैं।

इसके बाद अजय ने 2017 में नौकरी छोड़ दी और वे कॉम्पिटीटिव एग्जाम्स की तैयारी करने लगे। चूंकि आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी। वे कोचिंग की महंगी फीस का भुगतान नहीं कर सकते थे। इसलिए उन्होंने ऑनलाइन यूट्यूब के जरिए पढ़ाई करना शुरू कर दिया। वे बताते हैं कि तब जियो फ्री में डेटा दे रहा था, तो इसके लिए बहुत पैसे की भी जरूरत नहीं थी। मैं यूट्यूब पर वीडियो देखकर पढ़ाई करने लगा। इससे मुझे काफी कुछ सीखने को मिला।

जब ऑनलाइन पढ़ सकता हूं, तो ऑनलाइन पढ़ा भी सकता हूं
अजय कहते हैं कि कुछ महीने बाद मुझे रियलाइज हुआ कि अगर हम ऑनलाइन पढ़ सकते हैं, तो ऑनलाइन पढ़ा भी सकते हैं। परिवार को पैसे की जरूरत थी ही। इसलिए अजय ने खुद का एक यूट्यूब चैनल लॉन्च किया और वीडियो अपलोड करने लगे। वे छत्तीसगढ़ PSC और SSC एग्जाम्स को लेकर वीडियो बनाने लगे। धीरे-धीरे उन्हें अच्छा रिस्पॉन्स मिलता गया और उनका इस काम में मन भी लगता गया।

अब अजय प्रोफेशनल लेवल पर ऑनलाइन टीचर बन गए हैं। अजय साहू ऑनलाइन क्लासेज नाम से उनका यूट्यूब चैनल है। 2 लाख से ज्यादा उनके सब्सक्राइबर्स हैं। हाल ही में उन्होंने मोबाइल ऐप भी लॉन्च किया है। जहां वे SSC, CG PSC, व्यापमं, रेलवे और बैंकिंग की तैयारी करवाते हैं। जल्द ही हाई स्कूल और कॉलेज के स्टूडेंट्स के लिए भी वे कोर्स शुरू करने वाले हैं। फिलहाल 25 हजार से ज्यादा डाउनलोड्स हैं। इनमें से अधिकतर बच्चे पेड सब्सक्राइबर्स भी हैं। इससे हर महीने वे 1.5 लाख की कमाई कर रहे हैं।

आप खुद का ऑनलाइन टीचिंग ऐप कैसे डेवलप कर सकते हैं?
कोरोना के बाद ऑनलाइन टीचिंग प्लेटफॉर्म की डिमांड बढ़ी है। ज्यादातर टीचर्स ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर शिफ्ट हो रहे हैं। अजय साहू बताते हैं कि ऑनलाइन टीचिंग ऐप डेवलप करना और उसे हैंडल करना मुश्किल नहीं है। इसके लिए बहुत ज्यादा बजट की भी जरूरत नहीं होती है। मैंने Classplus से सिर्फ 20 हजार रुपए में अपना ऐप डेवलप कराया है। उन लोगों ने पहले से ही इसे इतना यूजर फ्रेंडली बनाया है कि कोई भी इसे हैंडल कर सकता है। मुझे किसी तरह के डॉक्युमेंट भी नहीं देना पड़े हैं। ऐप डेवलप करने वालों ने ही सबकुछ सेट करके दिया है। वे हर महीने कुछ हिस्सा अपना कमीशन लेते हैं और बाकी का अमाउंट हमारे खाते में जमा हो जाता है। पिछले एक साल में Classplus ने ऐसे सैकड़ों ऐप्स डेवलप किए हैं।

क्या आप भी खुद का यूट्यूब चैनल शुरू करना चाहते हैं? तो यह स्टोरी जरूर पढ़ें
उत्तर प्रदेश के लखनऊ के रहने वाले सिद्धांत अग्निहोत्री भी ऑनलाइन पढ़ाते हैं।​​​ यूट्यूब पर 6.5 लाख से ज्यादा उनके सब्सक्राइबर्स हैं। वे मोबाइल ऐप के माध्यम से भी कोचिंग देते हैं। वे UPSC, PCS, BANK, IIT सहित हर तरह के कॉम्पिटीटिव एग्जाम्स की तैयारी करवाते हैं। महज दो महीने में ही उन्होंने 40 लाख का बिजनेस किया है और 35 लोगों को नौकरी भी दी है। (पढ़िए पूरी खबर)

खबरें और भी हैं...