• Hindi News
  • Db original
  • Saumya Kabra Of Jaipur Started Online Business With Rupess 50 Thousand, Now Clocked 2.5 Crore Turnover Despite Covid

आज की पॉजिटिव खबर:जयपुर की सौम्या ने 2 साल पहले 50 हजार रुपए से ऑनलाइन गिफ्ट प्लेटफॉर्म की शुरुआत की, अब 2.5 करोड़ टर्नओवर, विदेशों में भी कर रही हैं मार्केटिंग

नई दिल्ली2 महीने पहले

आपके दोस्त की शादी है, बर्थडे है या कोई और ओकेजन है। आप उसे मनपसंद और स्पेशल गिफ्ट भेजना चाहते हैं, लेकिन आप तय नहीं कर पा रहे हैं कि क्या भेजूं? या जो चीज आप गिफ्ट करना चाहते हैं, वह आपको आसानी से मिल नहीं रही है। आमतौर पर इस तरह की दिक्कतें हम सभी को फेस करना पड़ती हैं।

मार्केट में इस दुकान से उस दुकान तक भटकने के बाद भी कई बार हमें मन मुताबिक चीजें नहीं मिल पाती हैं। ऐसे में अगर आपको एक ऐसा प्लेटफॉर्म मिले जहां आप खुद की पसंद की चीजें न सिर्फ सिलेक्ट कर सकें बल्कि खुद ही डिजाइन और क्रिएट भी कर सकें, तो कैसा रहेगा? है न शानदार आइडिया!

जयपुर में रहने वाली सौम्या काबरा ने एक ऐसे ऑनलाइन प्लेटफॉर्म की शुरुआत की है, जहां आप हर तरह के ओकेजन के हिसाब से गिफ्ट आइटम्स सिलेक्ट और डिजाइन कर सकते हैं और अपने दोस्तों या रिश्तेदारों को भेज सकते हैं। 2 साल के भीतर उन्होंने पूरे भारत को कवर कर लिया है। अमेरिका, इंग्लैंड, दुबई सहित कई दूसरे देशों से भी उनके पास ऑर्डर्स आ रहे हैं। पिछले साल उनकी कंपनी का टर्नओवर 2.5 करोड़ रुपए रहा है।

मैं कुछ क्रिएटिव और नया काम शुरू करना चाहती थी
24 साल की सौम्या एक बिजनेस बैकग्राउंड फैमिली से ताल्लुक रखती हैं। साल 2017 में ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी करने के बाद वे लंदन चली गईं। वहां से पहले उन्होंने मास्टर्स की पढ़ाई की और फिर फाइन आर्ट का कोर्स किया। इसके बाद 2019 में इंडिया लौट आईं। सौम्या बताती हैं यह तो तय था कि मुझे बिजनेस सेक्टर में ही करियर बनाना है, लेकिन क्या करना है यह फिक्स्ड नहीं था।

24 साल की सौम्या एक बिजनेस बैकग्राउंड फैमिली से ताल्लुक रखती हैं। उन्होंने लंदन से मास्टर्स डिग्री की पढ़ाई की है।
24 साल की सौम्या एक बिजनेस बैकग्राउंड फैमिली से ताल्लुक रखती हैं। उन्होंने लंदन से मास्टर्स डिग्री की पढ़ाई की है।

पहले मैं अपने फैमिली बिजनेस को समझना चाहती थी। इसके बाद खुद का कुछ करना चाहती थी, लेकिन जैसे ही फैमिली बिजनेस के लिए काम करना शुरू किया, मुझे रियलाइज हो गया कि यह काम मेरे लिए ठीक नहीं है। यहां ट्रेडिशनल टाइप का काम था और मुझे कुछ क्रिएटिव और नया करना था। इसलिए मैं कुछ अलग करने का प्लान करने लगी।

50 हजार रुपए की लागत से शुरू किया स्टार्टअप
इसी बीच सौम्या को उनके दोस्त के लिए कुछ गिफ्ट करना था। उन्होंने कुछ दुकानों पर तलाश की, ऑनलाइन पोर्टल पर भी गईं, लेकिन मनपसंद की चीजें नहीं मिलीं। सौम्या के लिए यह टर्निंग पॉइंट रहा। उन्हें लगा कि इस सेक्टर में ही कुछ ऐसा प्लेटफॉर्म क्यों न डेवलप किया जाए जहां लोग खुद की पसंद की चीजें सिलेक्ट कर सकें और खुद ही डिजाइन भी कर सकें। इसके बाद साल 2019 के अंत में अपनी सेविंग्स के 50 हजार रुपए से उन्होंने कॉन्फेटी गिफ्ट्स नाम से अपने स्टार्टअप की शुरुआत की।

सौम्या कहती हैं कि सबसे पहले मैंने खुद कुछ गिफ्ट बॉक्स और मॉडल डिजाइन किए। मार्केट में मौजूद प्रोडक्ट्स के मुकाबले उन्हें बेहतर और क्रिएटिव लुक दिया। इसके बाद एक वेबसाइट तैयार की और अपने प्रोडक्ट की फोटो उस पर अपलोड कर दी। मेरे प्रोडक्ट यूनीक और बेहतर थे, लेकिन शुरुआत में बहुत अच्छा रिस्पॉन्स नहीं मिला।

जो लोग मुझे जानते थे उन्होंने ही हमारे प्रोडक्ट खरीदे। इतने से बिजनेस की कल्पना संभव नहीं थी। इसके बाद मैंने सोशल मीडिया की मदद ली। फेसबुक और इंस्टाग्राम पर पोस्ट करना शुरू किया। इसका मुझे फायदा भी हुआ। दूसरे शहरों से भी मेरे पास ऑर्डर आने लगे।

कोविड में काम करना चैलेंजिंग रहा, लेकिन ग्रोथ भी भरपूर हुई

सौम्या के साथ 26 लोगों की टीम काम करती है। इसमें ऑपरेशन से लेकर प्रोसेसिंग और पैकेजिंग की टीम शामिल है।
सौम्या के साथ 26 लोगों की टीम काम करती है। इसमें ऑपरेशन से लेकर प्रोसेसिंग और पैकेजिंग की टीम शामिल है।

सौम्या कहती हैं कि अभी हमने जैसे ही काम जमाना शुरू किया था तभी कोविड आ गया। एकाएक सभी दुकानें बंद हो गईं। ऐसे में कुछ दिनों तक तो समझ नहीं आया कि कैसे चीजें हैंडल की जाएं। हम जहां से प्रोडक्ट खरीदते थे, वहां जाना भी मुश्किल था और लॉजिस्टिक सुविधाएं भी लगभग बंद सी थीं। इसलिए कई तरह की दिक्कतें फेस करनी पड़ी, लेकिन इसका एक बड़ा फायदा हुआ कि हमें एक बेहतर मार्केट मिल गया। लोग तेजी से ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर शिफ्ट हुए।

लॉकडाउन के चलते जो लोग बाहर दुकानों पर नहीं जा पा रहे थे उन्होंने ऑनलाइन गिफ्ट आइटम्स की तलाश करनी शुरू की। ज्यादातर लोग अपने घर पर थे तो उनके पास कुछ क्रिएटिव सोचने और डिजाइन करने का भी भरपूर वक्त था। ऐसे में लोगों को हमारा प्लेटफॉर्म काफी ज्यादा पसंद आया। बिना किसी खास प्रमोशन के एक दूसरे से होते हुए हमारे प्रोडक्ट की पहुंच देशभर में हो गई। यहां तक कि विदेशों से भी लोग हमारे प्रोडक्ट की डिमांड करने लगे।

इंडिविजुअल कस्टमर्स के साथ ही कॉर्पोरेट हाउसेज भी ग्राहक बने
इसके बाद सौम्या ने दायरा बढ़ाना शुरू किया। उन्होंने जयपुर में खुद का एक ऑफिस लॉन्च किया। टीम में सदस्यों की संख्या बढ़ाई और अपने प्लेटफॉर्म पर अलग-अलग कैटेगरी की लिस्ट भी जोड़ती गईं। वे कहती हैं कि लोगों के रिस्पॉन्स के मुताबिक जो कुछ हमारी लर्निंग रही उसके हिसाब से हम प्रोडक्ट और वैराइटी अपनी लिस्ट में शामिल करते गए। इसका फायदा यह हुआ कि इंडिविजुअल कस्टमर्स के साथ ही अमेजन, मिंत्रा, उबर, ITC जैसे बड़े कॉर्पोरेट हाउसेज भी हमारे ग्राहक हो गए।

फिलहाल सौम्या के पास हर तरह के इवेंट और ओकेजन के हिसाब से प्रोडक्ट की लिस्ट है। 200 से ज्यादा वैराइटी के प्रोडक्ट उनके पास उपलब्ध हैं। अभी औसतन हर महीने 5 हजार से ज्यादा ऑर्डर उन्हें देशभर से मिल रहे हैं। कुछ ऑर्डर्स भारत के बाहर से भी आते हैं। उनके साथ 26 लोगों की टीम काम कर रही है। पिछले साल उनकी कंपनी का टर्नओवर 2.5 करोड़ रुपए रहा है और इस साल दोगुना होने का अनुमान है।

कैसे करती हैं काम? क्या है बिजनेस मॉडल?
सौम्या बताती हैं कि हमारे प्लेटफॉर्म पर हर ओकेजन और कैटेगरी के हिसाब से अलग-अलग सेक्शन हैं। जैसे किसी को अपने दोस्त के बर्थडे के लिए गिफ्ट लेना है, किसी को अपने ब्यॉय फ्रेंड के लिए लेना है या किसी को अपने माता-पिता के लिए गिफ्ट लेना है, वह अपने मन मुताबिक कैटेगरी सिलेक्ट कर सकता है। इसमें अभी दो तरह की सुविधाएं हैं। एक जिसमें पहले से तैयार गिफ्ट की लिस्ट शामिल है। इसमें से कोई भी गिफ्ट कस्टमर्स अपने हिसाब से सिलेक्ट कर सकता है।

इसके साथ ही हम कस्टमर्स को खुद की पसंद के मुताबिक गिफ्ट चुनने और उसे डिजाइन करने की सुविधा देते हैं। इसमें कस्टमर्स खुद ही अपने पसंद की चीजें सिलेक्ट कर सकता है, उसे डिजाइन और क्रिएट कर सकता है। उसकी पैकेजिंग और ग्रीटिंग कार्ड पर लिखे जाने वाले मैसेज भी वह खुद ही तैयार कर सकता है।

इसके बाद हमारी टीम कस्टमर्स के ऑर्डर का एनालिसिस करती है। फिर उसकी डिमांड की लिस्ट ऑपरेशनल टीम को हैंडओवर की जाती है, जो सभी चीजें जुटाती है। अलग-अलग आइटम्स के लिए हमने कई लोकल दुकानदारों और मैन्युफैक्चर से टाइअप किया है। इसके बाद उसकी प्रोसेसिंग और पैकेजिंग का काम होता है। फिर लॉजिस्टिक टीम उसे कस्टमर्स तक पहुंचाने का काम करती है। हमने कई कुरियर कंपनियों से टाइअप किया है जो हमारे प्रोडक्ट की डिलीवरी देशभर में करती हैं।

इसमें भी हम अपने कस्टमर्स को मन मुताबिक डिलीवरी डेट सिलेक्ट करने का विकल्प देते हैं। अगर कोई चाहता है कि एक दिन में उसके प्रोडक्ट की डिलीवरी हो जाए तो हम उस हिसाब से प्लान करते हैं। बाकी देश के किसी भी हिस्से में हम 4 से 5 दिन में प्रोडक्ट पहुंचा देते हैं।

गिफ्ट की कीमत को लेकर सौम्या बताती हैं कि अभी हमारे पास 1,000 रुपए से लेकर 3,000 रुपए या इससे ज्यादा के गिफ्ट शामिल हैं। यह सबकुछ अलग-अलग ओकेजन और इवेंट पर डिपेंड करता है। हर इवेंट के हिसाब से हम कुछ अलग और यूनीक प्रोडक्ट लॉन्च करते हैं और उसके लिए ग्राहकों को ऑफर भी देते हैं।

खबरें और भी हैं...