पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Db original
  • Snapchat Users Statistics Vs Tiktok Instagram Youtube | Snap CEO Evan Spiegel; India's Users Statistics You Need To Know In 2021

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भास्कर ओरिजिनल:6 महीने में दोगुने हुए भारत में स्नैपचैट के यूजर्स, टिकटॉक के बाद अब इंस्टाग्राम और यूट्यूब को चुनौती

21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

'स्नैपचैट सिर्फ अमीरों के लिए है। मैं इस ऐप को भारत और स्पेन जैसे बेहद गरीब देशों में नहीं फैलाना चाहता।'

अप्रैल 2017 की बात है। अमेरिकी पोर्टल 'वैरायटी' पर स्नैपचैट के सीईओ इवान स्पीगल का ये कथित बयान प्रकाशित हुआ था। भारतीय यूजर्स ने इस पर गुस्सा जाहिर किया और स्नैपचैट की रेटिंग गिराकर 1 स्टार पहुंचा दी। पैरेंट कंपनी स्नैप इंक को सफाई देनी पड़ी कि स्नैपचैट सबके लिए है।

फास्ट फॉर्वर्ड टू अक्टूबर 2020! नए यूजर्स के मामले में अमेरिका को पीछे छोड़ते हुए भारत स्नैपचैट का नया टॉप मार्केट बन गया। ऐपटोपिया की रिपोर्ट के मुताबिक अक्टूबर में भारत में स्नैपचैट के चार लाख से ज्यादा नए ऐप डाउनलोड हुए। ताजा आंकड़ों में स्नैपचैट के कुल डेली एक्टिव यूजर्स का 11% हिस्सा सिर्फ भारत में है।

स्नैपचैट एक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म है जिसमें फोटो और वीडियो के जरिए रोचक तरीके से मैसेजिंग की जाती है। यहां हम आपको बताएंगे कि महज तीन सालों में स्नैपचैट ने भारत में सफलता की ये कहानी कैसे लिखी? ये भी कि क्या स्नैपचैट नया इंस्टाग्राम या यूट्यूब बन सकता है?

6 महीने में करीब दोगुने हो गए भारत के स्नैपचैट यूजर्स
कोविड-19 महामारी की वजह से मार्च में स्कूल और कॉलेज बंद कर दिए गए। खाली वक्त में युवाओं ने स्नैपचैट, टकाटक, इंस्टा रील्स जैसे ऐप्स पर ज्यादा वक्त बिताना शुरू किया।

जून 2020 में भारत सरकार ने टिकटॉक पर बैन लगा दिया जिससे स्नैपचैट को सबसे ज्यादा चुनौती मिल रही थी। ये फैसला स्नैपचैट के लिए सोने पर सुहागा साबित हुआ।

स्नैपचैट ने भी मौके की नजाकत को समझते हुए टिकटॉक की तरह कई फीचर्स लागू किए। इसमें स्पॉटलाइट फीचर की काफी चर्चा हुई। जो यूजर पहले दोस्तों को स्नैप और स्टोरी शेयर कर सकते थे, वे अब उन्हें सीधे स्पॉटलाइट शेयर करने लगे।

इससे यूजर्स को टिकटॉक की तरह फॉलोअर्स जोड़ने में मदद मिली। स्पॉटलाइट फीचर को बढ़ावा देने के लिए कंपनी ने हर रोज यूजर्स को 1 मिलियन डॉलर देने का भी ऐलान किया।

भारत के यूजर्स पर फोकस करने के लिए स्नैपचैट ने 2019 में मुंबई में अपना पहला लोकल ऑफिस खोला। इसके बाद कंपनी ने क्षेत्रीय भाषाओं, कंटेंट पार्टनरशिप और क्षेत्रीय विज्ञापनदाताओं पर फोकस करना शुरू किया। रक्षाबंधन, गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस पर भी कई कस्टमाइज फिल्टर्स लॉन्च किए गए।

इन सब का असर ये हुआ कि भारत में अप्रैल 2020 से अक्टूबर 2020 के बीच स्नैपचैट यूजर्स की संख्या करीब दोगुनी हो गई। वहीं अमेरिका, यूके, फ्रांस और सउदी अरब जैसे देशों में कोई खास बदलाव देखने को नहीं मिला।

स्नैपचैट के बनने, गिरने और फिर उठ खड़े होने की कहानी
स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के एक स्टूडेंट रैगी ब्राउन को एक आइडिया आया जिसे उसने अपने दोस्त ब्राउन और इवान से शेयर किया। तीनों ने मिलकर 2011 में एक सोशल मीडिया ऐप तैयार किया, जिसका नाम स्नैपचैट था।

स्नैपचैट के सीईओ इवान ने 2012 में इसे लॉन्च करते हुए कंपनी के मिशन के बारे में कहा था, 'स्नैपचैट पुराने तरीकों से मोमेंट्स को कैद करना नहीं है बल्कि पूरे ह्यूमन इमोशंस के साथ कम्यूनिकेशन करने के बारे में है। जरूरी नहीं कि वो इमोशन खूबसूरत और परफेक्ट ही हों।'

स्नैपचैट की खासियत ये थी कि इसमें बातचीत के लिए कुत्ते-बिल्ली वाले फिल्टर और ब्यूटिफिकेशन का इस्तेमाल होता था। साथ ही इसमें भेजे गए स्नैप्स खुद-ब-खुद गायब हो जाते थे। इन फीचर्स ने स्नैपचैट को अन्य ऐप्स से अलग रखा और युवाओं के बीच खासा लोकप्रिय बनाया।

रिपोर्ट के मुताबिक 2013 में फेसबुक ने स्नैपचैट को 3 बिलियन डॉलर में खरीदने की कोशिश की थी। उस वक्त स्नैपचैट ने इनकार कर दिया और आज कंपनी की वैल्यू 73 बिलियन डॉलर है।

नवंबर 2017 में स्नैपचैट को री-डिजाइन किया गया। इस अपडेट के बाद ऐप का इस्तेमाल कठिन हो गया जिससे इसके यूजर्स में भी कमी आई। हालांकि दिसम्बर 2019 में App Annie द्वारा स्नैपचैट को दशक का पांचवा सबसे ज्यादा डाउनलोड किया जाने वाला ऐप घोषित किया।

करीब एक दशक पहले लॉन्च होने के बावजूद स्नैपचैट ज्यादातर समय घाटे में ही रहा। 2018 में स्नैपचैट की मार्केट वैल्यू में 1.3 बिलियन डॉलर की बड़ी कमी देखी गई। 2017 में कंपनी का जो शेयर 17 डॉलर का था, वो 2018 में 5 डॉलर पर आ गिरा, लेकिन साल 2019 और 2020 स्नैपचैट के लिए बड़े बदलाव लेकर आया।

पिछले दो सालों में स्नैपचैट के यूजर बेस में 75% की बढ़ोतरी हुई है। इसमें ज्यादातर यूरोप और नॉर्थ अमेरिका के बाहर के यूजर्स हैं। कंपनी ने भारत में बहुत अच्छी छलांग लगाई है। अक्टूबर 2020 में कंपनी ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि वो इंडियन मार्केट को ध्यान में रखते हुए नई कंटेंट पार्टनरशिप और लोकल भाषाओं पर काम कर रही है।

स्नैपचैट के सामने इंस्टाग्राम और यूट्यूब की बड़ी चुनौती
भारत में टिकटॉक पर बैन के बाद सिर्फ स्नैपचैट ही नहीं है जिसने 3.5 बिलियन डेली व्यूज को टारगेट करने की कोशिश की है। स्नैपचैट के स्पॉटलाइट के अलावा इंस्टाग्राम ने अगस्त में रील्स और यूट्यूब ने सितंबर में शॉर्ट्स की शुरुआत की है।

2020 की शुरुआत में स्नैपचैट के सीईओ इवान ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का लैंडस्केप एक पिरामिड की तरह बताया था। उन्होंने कहा था कि इसके नीचे चौड़े वाले हिस्से में यूजर्स का सेल्फ एक्सप्रेशन और कम्युनिकेशन है, जो काम स्नैपचैट करता है। सबसे ऊपर टैलेंट का प्रदर्शन है जो काम टिकटॉक करता है। इंस्टाग्राम पिरामिड के कहीं बीच में है जो दोनों तरह का काम करता है।

इवान का ये बयान एक साल के अंदर ही उल्टा पड़ने लगा है। भारत में टिकटॉक बैन होने के बाद स्नैपचैट ने स्पॉटलाइट जैसा फीचर लॉन्च किया। ओरिजिनल कंटेंट पर भी फोकस बढ़ा दिया है। अक्टूबर 2020 में स्नैपचैट ने अपनी ओरिजिनल सीरीज ‘फोन स्वैप’ के हिंदी वर्जन की भी घोषणा की। इसके अलावा 2021 में होने वाले द क्रिएटर शो में अनुष्का सेन, रफ्तार, रूही सिंह और वीर दास जैसे सेलेब्रिटी को भी फीचर करने की योजना है।

मोबाइल गेमिंग सेगमेंट में भी स्नैपचैट फोकस कर रहा है। पिछले साल लॉन्च हुए ऐप ‘रेडी शेफ गो’ ने शुरुआती 6 महीने में ही 25 मिलियन यूनिक प्लेयर्स का आंकड़ा पार कर लिया। अक्टूबर में ही कंपनी ने अपने पहले इंडियन स्नैप गेम्स पार्टनर मूंगफ्रॉग लैब्स से करार किया।

स्नैपचैट ने अपने इकोसिस्टम में एआर लेन्स, डिस्कवर वीडियोज और गेम्स का विस्तार किया है जो इसे इंस्टाग्राम से अलग करता है। इसके अलावा स्नैपचैट प्राइवेसी, फेक न्यूज और हेट स्पीच के मामले में भी अलग है जबकि फेसबुक और ट्विटर इससे विवादों में घिरे रहते हैं।

IPLIX मीडिया के सह-संस्थापक नील गोगिया का मानना है कि स्नैपचैट कोई नया प्लेटफॉर्म नहीं है। कंटेंट क्रिएटर के साथ अच्छी साझेदारी, वर्चुअल इवेंट और एक्सक्लूसिव कंटेंट ही आगे का रास्ता तय करेगा। इसी रास्ते पर यूट्यूब और इंस्टाग्राम को टक्कर दे सकता है और ज्यादा से ज्यादा ब्रांड को अपने प्लेटफॉर्म पर बुला सकता है। स्नैपचैट की कोशिश है कि टिकटॉक के यूजर्स और क्रिएटर्स को अपने प्लेटफॉर्म पर खींच लाया जाए।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपने व्यक्तिगत रिश्तों को मजबूत करने को ज्यादा महत्व देंगे। साथ ही, अपने व्यक्तित्व और व्यवहार में कुछ परिवर्तन लाने के लिए समाजसेवी संस्थाओं से जुड़ना और सेवा कार्य करना बहुत ही उचित निर्ण...

और पढ़ें