पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

दिनशॉ आइसक्रीम ब्रांड की कहानी:1932 में नागपुर में छोटी डेयरी से हुई शुरुआत; अब 500 करोड़ रुपए का टर्नओवर, HUL जैसी बड़ी कंपनियों की खरीदने में दिलचस्पी

आशुतोष तिवारी5 दिन पहले

'एक्सपीरियंस डिलाइट इन एवरी बाइट'....तपती गर्मी में ये लाइन सुनकर आपको थोड़ी तो ठंडक पहुंची होगी। इस लाइन के साथ ही दिनशॉ आइसक्रीम अपनी ब्रांडिंग और मार्केटिंग करती है। 90 साल से ये ब्रांड लोगों को गर्मी में भी ठंडक का अहसास दिला रहा है। महाराष्ट्र के नागपुर में इस कंपनी की शुरुआत छोटे से डेयरी बिजनेस शुरू हुई। आज टर्नओवर 500 करोड़ रुपए से ऊपर है। यही नहीं, दिनशॉ महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, गोवा, आंध्र प्रदेश, और कर्नाटक जैसे राज्यों का लीडिंग आइसक्रीम ब्रांड है।

दिनशॉ के उत्पाद
दिनशॉ के उत्पाद

90 साल पहले शुरू हुआ था सफर

दिनशॉ की स्थापना साल 1932 में हुई। नागपुर में रहने वाले 2 भाई, दिनशॉ राणा और ऐरिकशॉ राणा ने एक डेयरी बिजनेस की शुरुआत की। इस डेयरी में मिल्क प्रोडक्ट्स के अलावा हैंडमेड आइसक्रीम भी बेचनी शुरू की। धीरे-धीरे इसकी डिमांड बढ़ने लगी और 1950 तक दिनशॉ आइसक्रीम मार्केट में पॉपुलर होने लगा। 1970 में अलग-अलग शहरों में दिनशॉ के स्टोर्स खुलने लगे और इसके बिजनेस ने रफ्तार पकड़नी शुरू कर दी।

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री के साथ जिमी राणा (दाएं) और अस्पी बापूना (बाएं)
महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री के साथ जिमी राणा (दाएं) और अस्पी बापूना (बाएं)

जिमी राणा बने गेम चेंजर

1981 में जिमी राणा दिनशॉ के मैनेजिंग डायरेक्टर बने। उनके डायरेक्टरशिप के अंडर दिनशॉ का बिजनेस तेजी से बढ़ने लगा। प्रोडक्शन को बढ़ाने के लिए उन्होंने मॉडर्न मशीनरी का इस्तेमाल शुरू किया। 2002 में महाराष्ट्र के मशहूर इंडस्ट्रियलिस्ट ग्रुप, बापूना फॅमिली स्टेकहोल्डर के तौर पर दिनशॉ के साथ जुड़ गए। इन दोनों पार्टनर्स ने आइसक्रीम के रैपिड प्रोडक्शन और डिस्ट्रीब्यूशन पर फोकस किया और दिनशॉ देश के सबसे बड़े आइसक्रीम ब्रांड्स में शुमार हो गई। मार्केट में दिनशॉ की पकड़ को देखते हुए एफएमसीजी इंडस्ट्री के बड़े प्लेयर्स जैसे कार्लाइल, HUL और Lotte इसे खरीदने में अपनी रूचि दिखा चुके हैं.

नागपुर स्थित दिनशॉ की फैक्ट्री
नागपुर स्थित दिनशॉ की फैक्ट्री

दिनशॉ का घर: नागपुर की मेगा फैक्ट्री

दिनशॉ आइसक्रीम नागपुर स्थित फैक्ट्री में बनाई जाती है। ये फैक्ट्री देश की सबसे बड़ी आइसक्रीम फैक्ट्रीज में से एक है. यहां हर साल 250 लाख लीटर आइसक्रीम तैयार होती है। प्रोडक्ट की क्वालिटी और प्रोडक्शन रेट बढ़ाने के लिए इटली जैसे देशों से मशीनें मंगवाई गई हैं। ये मशीनें एक घंटे में 2 हजार फॅमिली पैक, 6 हजार कप, 15 हजार कुल्फी और 16 हजार कोन आइसक्रीम तैयार कर लेती हैं।

दिनशॉ के डेयरी उत्पाद
दिनशॉ के डेयरी उत्पाद

दूध का क्वालिटी चेक और डेयरी प्रोडक्शन

आइसक्रीम प्रोडक्शन की सबसे पहली जरूरत है ढेर सारा दूध। ये डिमांड पूरी होती है आसपास की लोकल डेयरीज से। प्रोडक्शन से पहले दूध को 3-स्टेप क्वालिटी चेक से गुजरना पड़ता है। इसके अलावा दिनशॉ का अपना डेयरी प्रोडक्शन भी है. दिनशॉ की डेयरी में हर दिन 5 लाख लीटर मिल्क प्रोडक्ट्स तैयार होते हैं।

फैक्ट्री में तैयार होती आइसक्रीम
फैक्ट्री में तैयार होती आइसक्रीम

दिनशॉ की कहानी एक उदाहरण है कि, अगर एक छोटा बिजनेस लोगों की डिमांड के अनुसार खुद को दिशा दे तो उसे बड़ा बनने में ज्यादा समय नहीं लगता। कोरोना ने बिजनेस की रफ्तार पर थोड़ा ब्रेक जरूर लगाया है लेकिन लोगों का चटोरापन आइसक्रीम पर कभी ब्रेक नहीं लगा सकता।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- दिन सामान्य ही व्यतीत होगा। कोई भी काम करने से पहले उसके बारे में गहराई से जानकारी अवश्य लें। मुश्किल समय में किसी प्रभावशाली व्यक्ति की सलाह तथा सहयोग भी मिलेगा। समाज सेवी संस्थाओं के प्रति ...

    और पढ़ें