पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

जन्मभूमि आंदोलन की आंखों देखी:आडवाणी मंच से कारसेवकों को राम की सौगंध दिला रहे थे कि ढांचा नहीं तोड़ना, तुम लोग पीछे लौट जाओ, किसी को अंदेशा नहीं था कि ये लोग ढांचे पर चढ़ेंगे

अयोध्या2 महीने पहलेलेखक: इंद्रभूषण मिश्र
  • कॉपी लिंक
  • तब किसी को इस बात का अंदेशा नहीं था कि कारसेवक ढांचे पर चढ़ेंगे, क्योंकि कारसेवा तो प्रतीकात्मक थी, लेकिन तब तक वे उग्र हो चुके थे
  • हिंदुओं की तरफ से सबसे पहले गोपाल विशारद ने मुकदमा दायर किया था, वे राममंदिर के पहले पक्षकार थे
  • मुस्लिम पक्ष की तरफ से सबसे पहले हाशिम अंसारी ने मुकदमा दायर किया था, हाशिम अंसारी की मौत के बाद उनके बेटे इकबाल अंसारी इसके पक्षकार बने

भगवान राम की नगरी अयोध्या भूमिपूजन के लिए पूरी तरह तैयार है। 5 अगस्त को प्रधानमंत्री मोदी भूमिपूजन में शामिल होने के लिए अयोध्या पहुंच रहे हैं। राम मंदिर आंदोलन और कारसेवा से जुड़े रहे अयोध्या के कोशलेश सदन के पीठाधीश्वर और राम जन्मभूमि न्यास के उपाध्यक्ष रहे जगदगुरु स्वामी वासुदेवाचार्य हर उस घटना के गवाह रहे हैं जो पिछले 30 सालों में अयोध्या में हुई है। वे भूमिपूजन कार्यक्रम में शामिल भी हो रहे हैं।

1992 के बाबरी मस्जिद विध्वंस की घटना को याद करते हुए वे बताते हैं कि कारसेवक उग्र हो रहे थे और ढांचे की तरफ बढ़ रहे थे। तब लालकृष्ण आडवाणी मंच से कारसेवकों को ढांचे की तरफ बढ़ने से रोकने की कोशिश कर रहे थे। वे कह रहे थे कि तुमलोगों को राम की सौगंध है, पीछे लौट आओ। लेकिन, कारसेवक भी सौगंध राम की खाते हैं मंदिर वहीं बनाएंगे नारे के साथ आगे बढ़ रहे थे।

लालकृष्ण आडवाणी के साथ स्वामी वासुदेवाचार्य। राम मंदिर आंदोलन के समय वासुदेवाचार्य भी सक्रिय थे।
लालकृष्ण आडवाणी के साथ स्वामी वासुदेवाचार्य। राम मंदिर आंदोलन के समय वासुदेवाचार्य भी सक्रिय थे।

तब किसी को इस बात का अंदेशा नहीं था कि ये लोग ढांचे पर चढ़ेंगे। क्योंकि, कारसेवा तो प्रतीकात्मक थी, लेकिन तब तक वे उग्र हो चुके थे। 50 से अधिक कारसेवक गुम्बद के ऊपर चढ़ गए थे, और देखते ही देखते ढांचा ढह गया।

वासुदेवाचार्य कहते हैं कि 6 दिसंबर 1991 को कारसेवा सत्याग्रह शुरू किया गया। तब मैं इसकी अगुवाई कर रहा था। वे कहते हैं कि यह देशव्यापी जेल भरो आंदोलन था, कारसेवकों के बलिदान के बाद यह आंदोलन किया गया था। इसके एक साल बाद 6 दिसंबर 1992 को फिर से कारसेवा शुरू हुई।

उस समय लालकृष्ण आडवाणी, अशोक सिंघल, मुरली मनोहर जोशी, विनय कटियार, उमा भारती भी अयोध्या आईं थीं। हम सभी साथ में ही कारसेवा कर रहे थे। वे बताते हैं कि उस समय बड़ी संख्या में कारसेवक अयोध्या पहुंचे थे। उनमें बलिदानी जत्थे वाले भी शामिल थे जिन्होंने लाल रंग का पट्टा बांध रखा था। वे रामलला का जयघोष करते हुए ढांचे की तरफ बढ़ रहे थे।

तस्वीर 6 दिसंबर 1992 की है, राम विलास वेदांती, स्वामी वासुदेवाचार्य, ओम प्रकाश सिंघल और रामचंद्र परमहंस प्रतीकात्मक कारसेवा करते हुए।
तस्वीर 6 दिसंबर 1992 की है, राम विलास वेदांती, स्वामी वासुदेवाचार्य, ओम प्रकाश सिंघल और रामचंद्र परमहंस प्रतीकात्मक कारसेवा करते हुए।

उसी समय किसी ने अफवाह फैला दी कि नेवी वाले सरयू की तरफ से आक्रमण के लिए आ रहे हैं। सड़क मार्ग तो पहले ही कारसेवकों ने ब्लॉक कर दिया था। मैं तब अशोक सिंघल, मुरली मनोहर जोशी, विनय कटियार, राजमाता विजयाराजे सिंधिया के साथ एक कमरे में बैठा था। उसी कमरे की छत पर मंच बना था और भाषण चल रहा था। बाहर कारसेवा चल रही थी।

तब हम लोगों ने तय किया कि अगर नेवी आ जाएगी तो भूमि पर कब्जा कर लेगी। इसलिए वहां रामलला की मूर्ति होनी चाहिए। इसके बाद हम लोग रंगमहल गए। वहां के महंत से हमने रामलला की मूर्ति मांगी और उसे लेकर ढांचे के नीचे रख आए। उस समय पत्थर का एक हिस्सा मेरे ऊपर भी गिरा था, लेकिन मैं बच गया।

तस्वीर में भाजपा नेता मुरली मनोहर जोशी, लालकृष्ण आडवाणी और विजयाराजे सिंधिया। बाबरी मस्जिद विध्वंस के समय ये लोग अयोध्या में मौजूद थे।
तस्वीर में भाजपा नेता मुरली मनोहर जोशी, लालकृष्ण आडवाणी और विजयाराजे सिंधिया। बाबरी मस्जिद विध्वंस के समय ये लोग अयोध्या में मौजूद थे।

जब मैं वहां से वापस कमरे में आया, तो मूर्ति रखने के दौरान मेरे शरीर पर मंदिर के बालू-चूना लग गए थे। राजमाता विजयाराजे सिंधिया ने उस धूल को लेकर अपने मस्तक पर लगा लिया। मैंने उनसे पूछा कि ये क्या कर रहीं हैं आप माताजी? उन्होंने कहा कि यही धूल राम मंदिर का चंदन है। तब मैंने उनसे कहा कि मंदिर बनेगा तो प्रसाद के रूप में चंदन लगाइएगा। उन्होंने कहा कि पता नहीं जब बनेगा तब तक मैं जीवित रहूंगी कि नहीं।

6 दिसंबर को मस्जिद का ढांचा गिर गया। उसी रात रामलला को विराजमान कर दिया गया और तब से पूजा और दूर से दर्शन शुरू हो गया। हालांकि, उसके बाद भी आंदोलन जारी रहा।

तस्वीर राम मंदिर आंदोलन के समय की है। मुरली मनोहर जोशी, अशोक सिंघल और लालकृष्ण आडवाणी के साथ विनय कटियार।
तस्वीर राम मंदिर आंदोलन के समय की है। मुरली मनोहर जोशी, अशोक सिंघल और लालकृष्ण आडवाणी के साथ विनय कटियार।

वासुदेवाचार्य कहते हैं कि मंदिर के लिए संघर्ष बहुत पुराना है, सालों तक हिंदुओं ने इसके लिए संघर्ष किया है। हर 5-10 साल में इसको लेकर आंदोलन होते रहे, लेकिन सफलता नहीं मिली। सबसे पहले गोपाल विशारद ने मुकदमा दायर किया था। वे राममंदिर के पहले पक्षकार थे। उन्होंने रामलला दर्शन और पूजन के व्यक्तिगत अधिकार के लिए 1950 में फैजाबाद न्यायालय में मुकदमा दायर किया था। उसके बाद दिगंबर अखाड़ा के महंत रामचंद्र परमहंस ने मुकदमा दर्ज करवाया।

उसके कुछ साल बाद मुस्लिम पक्ष की तरफ से सबसे पहले हाशिम अंसारी ने मुकदमा दायर किया था। हाशिम अंसारी की मौत के बाद उनके बेटे इकबाल अंसारी इसके पक्षकार बने और मस्जिद के लिए संघर्ष करते रहे। अभी इकबाल अंसारी को भूमिपूजन के लिए निमंत्रण भी दिया गया है। वे कहते हैं कि रामचन्द्र परमहंस के साथ हाशिम अंसारी के काफी बेहतर संबंध थे।

अयोध्या से जुड़ी हुई ये खबरें भी आप पढ़ सकते हैं...

1. राम जन्मभूमि कार्यशाला से ग्राउंड रिपोर्ट / कहानी उसकी जिसने राममंदिर के पत्थरों के लिए 30 साल दिए, कहते हैं- जब तक मंदिर नहीं बन जाता, तब तक यहां से हटेंगे नहीं

2. अयोध्या से ग्राउंड रिपोर्ट / जहां मुस्लिम पक्ष को जमीन मिली है, वहां धान की फसल लगी है; लोग चाहते हैं कि मस्जिद के बजाए स्कूल या अस्पताल बने

3. अयोध्या में शुरू होंगे 1000 करोड़ के 51 प्रोजेक्ट / राम मंदिर के भूमि पूजन के बाद 251 मीटर ऊंची श्रीराम की प्रतिमा का भी होगा शिलान्यास; 14 कोसी परिक्रमा मार्ग पर 4 किमी लंबी सीता झील बनेगी

5. अयोध्या के तीन मंदिरों की कहानी / कहीं गर्भगृह में आज तक लाइट नहीं जली, तो किसी मंदिर को 450 साल बाद भी है औरंगजेब का खौफ

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप भावनात्मक रूप से सशक्त रहेंगे। ज्ञानवर्धक तथा रोचक कार्यों में समय व्यतीत होगा। परिवार के साथ धार्मिक स्थल पर जाने का भी प्रोग्राम बनेगा। आप अपने व्यक्तित्व में सकारात्मक रूप से परिवर्तन भ...

और पढ़ें