• Hindi News
  • Db original
  • Subramanian Swamy Interview; Sonia Gandhi Rahul Gandhi National Herald Corruption Case

भास्कर एक्सक्लूसिवस्वामी बोले- नेशनल हेराल्ड केस में जेल जाएंगे सोनिया-राहुल:मेरी ED से बात हुई है, एकदम सही दिशा में जांच चल रही है

नई दिल्ली16 दिन पहलेलेखक: वैभव पलनीटकर

सोनिया गांधी और राहुल से घंटों पूछताछ और अब नेशनल हेराल्ड के दफ्तर में छापे। मामला वही नेशनल हेराल्ड मनी लॉन्ड्रिंग केस का। इस मामले को सबसे पहले BJP नेता सुब्रह्मण्यम स्वामी ने उठाया था, तो हम उन्हीं के पास पहुंचे।

स्वामी का दावा है कि अब ये, यानी सोनिया और राहुल जेल जाएंगे। वे BJP नेताओं पर भी तल्ख दिखे। बोले- BJP के भी कुछ लोग सोनिया-राहुल को बचाना चाहते थे। पर नेशनल हेराल्ड हाउस बिल्डिंग के चौथे माले पर भ्रष्टाचार के सबूत भरे पड़े हैं।

स्वामी की नाराजगी पार्टी प्रवक्ताओं से भी है। बोले- 'प्रवक्ता कहते हैं कि BJP ने ये सब किया है। जब मैं ये सारी मेहनत कर रहा था तब ये ऐशो-आराम कर रहे थे।’

तो उतरते हैं सीधे सवालों पर…

सवाल: नेशनल हेराल्ड मनी लॉन्ड्रिंग केस में सोनिया-राहुल ED की पूछताछ और अब नेशनल हेराल्ड के 10 से ज्यादा जगहों पर छापेमारी, क्या अब जांच सही चल रही है?
जवाब:
हां, जांच सही दिशा में जा रही है। सोनिया और राहुल से जो पूछताछ हुई उसमें उन्होंने यही कहा कि हमें कुछ पता नहीं है। उन्होंने पूरा ठीकरा मोतीलाल वोरा के माथे पर फोड़ दिया। अब वो इस दुनिया में नहीं रहे, इसलिए वो भी अपनी मर्यादा बचाने के लिए कुछ नहीं बोल सकते। ED अब सही रास्ते पर है, क्योंकि इस मामले में दस्तावेज देखना सबसे ज्यादा जरूरी है।

ये कहते हैं कि एसोसिएडेट जर्नल लिमिटेड (AJL) पर 90 करोड़ रुपए का कर्ज था, जबकि एक रुपए का भी कर्जा नहीं था। उन्होंने ये बहाना बनाया था। उन्होंने यंग इंडिया को सिर्फ 50 लाख रुपए में कंपनी बेच दी। नेशनल हेराल्ड हाउस बिल्डिंग के चौथे मंजिल पर इस भ्रष्टाचार के सबूत भरे पड़े हैं।

सवाल: लोग अब तक सीधे तौर पर समझ नहीं पाए हैं कि ये घोटाला है क्या? नेशनल हेराल्ड ने किया क्या है? आप इसका ABCD… सब जानते हैं, हमें समझा सकते हैं क्या?
जवाब:
सोनिया और राहुल ने पहले यंग इंडिया लिमिडेट (YIL) नाम की कंपनी 5 लाख शेयर कैपिटल पर बनाई। इसके बाद उन्होंने कांग्रेस की 90 करोड़ कर्ज वाली आर्म एसोसिएडेट जर्नल लिमिटेड (AJL) को सिर्फ 50 लाख देकर खरीद लिया। इनका दावा था कि AJL में कुछ नहीं बचा है सिर्फ कर्ज है, फिर भी हम 50 लाख देकर खरीद रहे हैं। इस तरह से AJL के ज्यादातर शेयर्स राहुल और सोनिया के हो गए।

अब घोटाला यही है- पहला, ये 90 करोड़ का कर्ज था ही नहीं, ये सब झूठ है। अगर 90 करोड़ होता, तो कांग्रेस नेशनल हेराल्ड की संपत्तियों को नीलाम कर सकती थी, तो आसानी से 2500 करोड़ मिल जाते। नीलामी होती तो ये रकम कर्जदारों और AJL को जाती। इन्होंने सिर्फ 50 लाख देकर इतनी बड़ी कंपनी अपने नाम कर ली। सब जानते हैं कि ये मनी लॉन्ड्रिंग कंपनी है। सोनिया और राहुल ये रकम विदेशी मुद्रा के रूप में लाए होंगे और उन्होंने ये रकम भारतीय रुपए में कन्वर्ट करवा ली, यही तो सारा माजरा है।

सवाल: सोशल मीडिया पर एक जोक चल रहा है कि सोनिया और राहुल गांधी के सपनों में सुब्रह्मण्यम स्वामी आते हैं?
जवाब:
हा हा हा। जिन लोगों ने देश के साथ भ्रष्टाचार करके गद्दारी की। लोगों ने अपना वोट देकर आपको सत्ता दी और आपने ये किया।

सवाल: आपने इस केस की कवायद 2013 से शुरू की। आज 2022 में केस पूछताछ और रेड पर ही पहुंचा है, कार्रवाई होने में इतना वक्त क्यों लग गया?
जवाब:
इसमें कोई नई बात नहीं है। हमने कोर्ट के हिसाब से सिद्ध कर दिया कि इस केस में घोटाला हुआ है। यहां बेइमानी, चार सौ बीसी, षड्यंत्र हुआ है। हमने इन्हें 4 बड़े अपराधों में खड़ा किया। इसके बाद उनको जमानत लेनी पड़ी। ये हर केस में हाईकोर्ट चले जाते थे। मुझे लगता है कि इसमें सबसे कम वक्त लगा है।

सवाल: नेशनल हेराल्ड केस में अगर आप ED की मदद करना चाहें, तो उनको क्या सलाह देंगे जिससे केस की जांच तेजी से पूरी हो?
जवाब:
मेरी तो ED से बात हुई है और मैंने ही ED को इस केस की पूरी शिकायत की थी। ED की जांच एकदम सही चल रही है।

सवाल: केस में अब आगे क्या होगा?
जवाब:
ये (सोनिया-राहुल) जेल जाएंगे। इनको पहले जेल में रखा जाएगा, फिर कोर्ट में आना होगा। बहस के बाद प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (PMLA) के तहत सजा होगी।

सवाल: जिस दिन सोनिया गांधी ED दफ्तर पहुंचीं, कांग्रेस ने खूब प्रदर्शन किया। राहुल ने इसे तानाशाही कहा। लोग कह रहे कि महंगाई और इकोनॉमिक मिसमैनेजमेंट से ध्यान भटकाना चाहती है सरकार…
जवाब:
वो अपराधी हैं।

सवाल: अपराधी तो तब होंगे जब साबित हो जाएगा, अभी तो सिर्फ आरोपी हैं ना?
जवाब-
एक ही बात है। मेरी नजर में वो अपराधी हैं। सारे दस्तावेजों को देखकर ही मैंने केस किया है और मैं एक-एक कदम पर जीतकर आया हूं। अरुण जेटली की वजह से थोड़ी देर हो गई। हमारी पार्टी में भी कुछ ऐसे लोग थे जो राहुल-सोनिया को बचाना चाहते थे, लेकिन मैंने अकेले ये लड़ाई लड़ी है। ED और इनकम टैक्स मेरे कहने से इस केस में आई है। इसमें सरकार का कोई क्रेडिट नहीं है। पार्टी के प्रवक्ता कहते हैं कि ये BJP ने किया है। जब मैं सारी मेहनत कर रहा था तब ये ऐशो-आराम कर रहे थे।

सवाल: एक सीधा सवाल- ये राहुल और सोनिया गांधी का करप्शन है, आपको लोगों के बीच इसे साबित करना है… कैसे करेंगे?
जवाब:
मैंने कोर्ट में जो याचिका लगाई है उसमें सारे सबूत हैं। कोर्ट ने उनको कटघरे में खड़ा किया और जमानत पर छोड़ा, इससे ज्यादा क्या प्रमाण चाहिए। अब कोर्ट में केस में सिद्ध करना है। अब उनको दंड मिलना ही बाकी है। अगर मेरे पास सबूत नहीं होता ये केस यहां तक पहुंचता ही नहीं।

सवाल: फर्ज करिये राहुल और सोनिया अब आपसे लीगल एडवाइस लेने आएं तो आप क्या कहेंगे? लीगली और पॉलिटिकली दोनों लिहाज से बोलिएगा।
जवाब: वो कभी नहीं आएंगे। कभी आने भी नहीं दूंगा।

सवाल: लोग कह रहे कि सरकार ED को सिर्फ विपक्षी नेताओं के यहां भेज रही। तो क्या भाजपाई दूध के धुले हो गए, और सारी जगहों पर सरकारें तो इन्हीं के हाथों में है, करप्शन भी हो ही रहा होगा…
जवाब:
विपक्ष कोई गलती करे तो क्या उन पर कार्रवाई नहीं होगी। ये सरकार ने नहीं किया है, मैंने इसकी शिकायत की इसलिए उनको कार्रवाई करनी पड़ी। नहीं तो मैं कोर्ट गया होता।

सवाल- प्रधानमंत्री से बातचीत हो रही है कि नहीं? आखिरी बातचीत कब और किस मुद्दे पर हुई?
जवाब:
ये मेरे और प्रधानमंत्री के बीच की बात है।

सवाल: चर्चा है कि अब आपकी ही पार्टी में बन नहीं रही। किसी पार्टी में जा सकते हैं क्या?
जवाब:
ऐसा कुछ नहीं है। मैं अभी भी BJP का कार्यकर्ता हूं, मुझसे पार्टी के लोग मिलने आते हैं। ये सब मीडिया बातें बनाता है। पार्टियों के अंदर भी लोकतंत्र होता है। पहले कांग्रेस में भी नेहरू की चीन के प्रति नीतियों की दूसरे नेता आलोचना करते थे।