• Hindi News
  • Db original
  • Taliban Afghanistan Situation After US Military Withdrawal | 5 Lakh People Displaced And Other Facing Food Insecurity In Afghanistan

अफगानिस्तान में जिंदगी की जद्दोजहद:हर तीन में से एक अफगानी भूखा, 8 महीने में 5 लाख से ज्यादा लोग विस्थापित; 4 ग्राफिक्स में देखिए दिल दहला देने वाले हालात

एक महीने पहले

कई महीने से जारी खूनी संघर्ष के बाद 15 अगस्त 2021 को तालिबान ने राजधानी काबुल पर कब्जा जमा लिया। इस दौरान सैकड़ों लोग मारे गए, हजारों घायल हुए और 5.70 लाख से ज्यादा लोग देश में विस्थापित हुए। विस्थापितों में करीब 80% महिलाएं और बच्चे हैं।

तालिबान की हिंसा से डरकर लाखों लोगों ने अफगानिस्तान छोड़ दिया है। पिछले दो हफ्ते में अमेरिका और उसके सहयोगी देशों ने 1 लाख 13 हजार 500 लोगों को काबुल एयरपोर्ट से दूसरे देशों में भेजा है। यूएन के रिफ्यूजी हाई कमिश्नर के मुताबिक राजनीतिक अस्थिरता की वजह से अगले चार महीने में 5 लाख से ज्यादा लोग देश छोड़ सकते हैं।

1.4 करोड़ लोगों के सामने खाने का संकट

अफगानिस्तान की आबादी 3.8 करोड़ है। यहां की एक तिहाई जनसंख्या यानी करीब 1.4 करोड़ लोग खाने के संकट का सामना कर रहे हैं। इसमें 20 लाख बच्चे भी शामिल हैं जो पहले से कुपोषण के शिकार हैं। देश में हर तीन में से एक अफगानी भूखा है। यहां सूखे की वजह से 40% फसल नष्ट हो गई है। बाहरी मदद नहीं मिली तो सितंबर के अंत तक यहां खाने के लिए अनाज नहीं बचेगा।

गरीबी में रह रहे हैं ज्यादातर अफगानी

अफगानिस्तान दुनिया के सबसे गरीब मुल्कों में से एक है। यहां पिछले 40 साल से जंग चल रही है। कोरोना वायरस से पहले अफगानिस्तान की 54.2% आबादी गरीबी रेखा के नीचे थी। अब ये बढ़कर 72% होने का अनुमान है। पिछले साल राष्ट्रपति अशरफ गनी ने कहा था कि अफगानिस्तान की 90% जनसंख्या प्रतिदिन 2 डॉलर से भी कम में जिंदगी गुजार रही है।