करिअर फंडाएलेक्जेंडर द ग्रेट के जीवन से लीजिए 4 सबक:वैज्ञानिक सोच और सोशल इंटेलिजेंस से असंभव भी संभव होगा

3 महीने पहले

‘हम अपनी तलवार से जो कुछ भी हासिल करते हैं वह निश्चित या स्थायी नहीं हो सकता है, लेकिन दया और संयम से प्राप्त प्रेम निश्चित और टिकाऊ है।’

- एलेक्जेंडर द ग्रेट

करिअर फंडा में स्वागत!

एक युवा, विश्व विजय का सपना लिए

शायद एलेक्जेंडर के ऊपर दिए विचार और ऐसे ही दूसरे विचारों के कारण वह इतिहास के पन्नो में 'महान' कहलाता है। भारत में इस राजा को पोरस से लड़ाई के लिए जाना जाता है।

A. क्या आप यकीन कर सकते हैं कि एक बीस साल का युवा 40,000 सैनिकों की सेना के साथ, विश्व विजय का सपना लेकर अपने देश मेसेडोनिया से निकल, 20 बड़े युद्धों और सैकड़ों छोटी लड़ाइयों को जीतते हुए एक-एक कर रास्ते में आने वाले सभी राज्यों को हरा दे?

B. क्या आप यकीन कर सकते हैं कि उसकी सेना घोड़ों की पीठ पर बैठकर 17,000 मील का सफर तय कर उस समय तक दुनिया के अंत समझे जाने वाले किनारे अर्थात झेलम नदी तक पहुंच जाए? इतिहासकारों का मानना है ये आज के समय में इतने लोगो को चांद पर ले जाने के बराबर है।

C. क्या आप यकीन कर सकते हैं कि ऐसा युवा 32 वर्ष की उम्र तक उस समय तक का ज्ञात विश्व जीत ले? अच्छा, कई लोग तब पृथ्वी को चपटा समझते थे!

तो आइए, आज जानते हैं कि एक ऐसी ऐतिहासिक पर्सनालिटी से हम मॉडर्न लाइफ में क्या सीख सकते हैं।

युवा एलेक्जेंडर की यह प्रतिमा यूनान के एथेंस शहर में लगाई गई है।
युवा एलेक्जेंडर की यह प्रतिमा यूनान के एथेंस शहर में लगाई गई है।

एलेक्जेंडर ऑफ मैसेडोनिआ की लाइफ से 4 बड़े सबक

1) जीवन में अच्छे टीचर/मेंटर्स का महत्व: एलेक्जेंडर का जन्म मैसेडोनिया (वर्तमान में यूरोप का एक देश) के राजा फिलिप-II के यहां 356 ईसापूर्व हुआ।

A. उनके पिता एक सफल आर्मी कमांडर थे और युद्ध तथा आर्मी संचालन उन्होंने अपने पिता से ही सीखा।

B. एलेक्जेंडर की माता का नाम ओलम्पिया था तथा वे हमेशा को एलेक्जेंडर को महान बनने की प्रेरणा देती थी।

C. एक राजा के घर में जन्म लेने का एलेक्जेंडर को जो सबसे बड़ा फायदा हुआ वह यह था कि उन्हें उस समय के सबसे अच्छे टीचर्स से पढ़ने का अवसर प्राप्त हुआ – जी हां, उनके टीचर प्रसिद्ध दार्शनिक अरस्तु (एरिस्टोटल) थे।

D. खुद एलेक्जेंडर के शब्दों में ‘मैं जीवन के लिए अपने पिता का ऋणी हूं, लेकिन अच्छी तरह से जीने के लिए अपने शिक्षक का’।

E. अरस्तु की शिक्षाओं ने ही एलेक्जेंडर को लॉजिकली सोचना, कारणों और उपायों पर कार्य करना, और एक ऐसी सोच विकसित करने में मदद की जो समय से आगे की थी। इसी कारण वे अपना विश्व विजय का विजन तय कर पाए।

2) वैज्ञानिक सोच: एलेक्जेंडर ने कई सारी मिलिट्री इन्वेंशंस को सपोर्ट किया।

A. सीज मशीनरी जैसे सीज टावर इत्यादि उनके पिता के समय से ही आर्मी में उपयोग हो रही थी एलेक्जेंडर ने इसको अपडेट करवाया, टायर के युद्ध में उनका उपयोग उल्लेखनीय है।

B. उनके चीफ इंजीनियर के नाम डियोड्स था। डियोड्स ने किले की दीवारों को तोड़ने के लिए 'ट्रूपेनॉन' नाम का बोरर, डिफेन्स को पीछे धकेलने के लिए ग्रेपलिंग मशीन, सैनिकों के सीज टावर से किले की दीवार पर चढ़ने के लिए 'ड्रॉब्रिज' का उन्नत वर्जन, तथा 'स्टोन थ्रोअर', 'लिथोबोलोली' के उन्नत वर्जन तैयार किए।

C. इस तरह लगातार नए इन्वेंशंस करते रहने से उस समय एलेग्जेंडर को बहुत फायदा हुआ।

इटली के नेपल्स शहर के म्यूजियम में रखी इस पेंटिंग में बाईं तरफ एलेक्जेंडर पर्शिया के डेरियस-III की सेना से लड़ते दिख रहे हैं। यह पेंटिंग विसूवियस ज्वालामुखी से तबाह हुए शहर पॉम्पेई की एक दीवार पर बनी थी।
इटली के नेपल्स शहर के म्यूजियम में रखी इस पेंटिंग में बाईं तरफ एलेक्जेंडर पर्शिया के डेरियस-III की सेना से लड़ते दिख रहे हैं। यह पेंटिंग विसूवियस ज्वालामुखी से तबाह हुए शहर पॉम्पेई की एक दीवार पर बनी थी।

3) करिज्मा और सोशल इंटेलिजेंस: एलेक्जेंडर का व्यक्तित्व बेहद आकर्षक (करिज्मैटिक) था।

A. अपने सैनिकों के लिए वे भगवान के समान थे। जीतने पर वे अपने सैनिकों बहुत सारा धन पुरस्कार में देते थे - इतना कि उन्हें पर्शिया में 'दरियादिल सिकंदर' कहा गया।

B. वे अपने सैनिकों को नाम लेकर पुकारते और बहादुरी का सम्मान करते थे। उनके साथ कंधे से कन्धा मिलाकर लड़ते थे।

C. अधिकतर समय एलेक्जेंडर की सोशल इंटेलिजेंस बहुत सही रही, केवल एक बार को छोड़ कर जब उन्होंने अपने एक सीनियर मिलिट्री कमांडर 'पेर्मेनियन' का एक जलसे में छोटे से झगडे के बाद 'मर्डर' कर दिया था।

D. इसके बाद उनकी आर्मी में रिवोल्ट भी हुआ।

4) अधिक लचीली योजनाएं: एशिया माइनर से लेकर मिस्र और भारत तक, सिकंदर की विजय ने उसे विभिन्न प्रकार की सेनाओं के खिलाफ खड़ा किया और उसे कई विविध संस्कृतियों के संपर्क में लाया।

A. लगातार बदलते सैन्य, राजनीतिक, सांस्कृतिक और आर्थिक परिदृश्य से निपटने के लिए, उन्होंने सावधानीपूर्वक योजना बनाई, जानकारी के हर टुकड़े का विश्लेषण किया और जितना संभव हो उतने विकल्प तैयार किए, जिससे उन्हें अपनी स्थिति और पर्यावरण के आधार पर अपनी रणनीति बदलने की अनुमति मिली।

B. उदाहरण के लिए, 334 ईसा पूर्व में, ग्रैनिकस की लड़ाई के बाद, सिकंदर ने मिलिटस के तटीय शहर की घेराबंदी की। स्वीकृत सैन्य ज्ञान के अनुसार नौसैनिक हमला किया जाना होता। लेकिन एलेक्जेंडर ने इस बात का जायजा लेकर कि किले की दीवारें समुद्र के पास की पोली जमीन पर बनाई गई है नौसैनिक हमला नहीं किया।

C. इसके बजाय सीज इंजनों से मिलिटस के किले की दीवारों पर हमला किया गया। बमबारी के तहत दीवारें जल्द ही टूट गईं।

1886 में कार्ल वॉन पाइलोटी की बनाई यह एलेक्जेंडर की मौत दर्शाती है। उसके जनरल उसे आखिरी विदाई दे रहे हैं। एलेक्जेंडर को पहले मेम्फिस और बाद में एलेक्जेंड्रिया में दफनाया गया था। मगर उसका मकबरा चौथी सदी में तबाह हो गया।
1886 में कार्ल वॉन पाइलोटी की बनाई यह एलेक्जेंडर की मौत दर्शाती है। उसके जनरल उसे आखिरी विदाई दे रहे हैं। एलेक्जेंडर को पहले मेम्फिस और बाद में एलेक्जेंड्रिया में दफनाया गया था। मगर उसका मकबरा चौथी सदी में तबाह हो गया।

एलेक्जेंडर का प्रभाव

एलेक्जेंडर के अभियान के बाद विश्व पहले जैसा नहीं रह गया।

उसके अभियान से पूर्व और पश्चिम के बीच व्यापार संबंधों को खोलने के लिए रास्ता खुला। उसने इस रास्ते पर कई शहर बसाए थे, रोमन साम्राज्य की स्थापना भी सिकंदर की विजयों पर आधारित थी, सिकंदर की विजय ने लोगों में विज्ञान का अध्ययन करने के लिए प्रेरणा जगाई।

एलेग्जेंडर की मौत केवल 32 वर्ष की आयु में, 323 ईसा पूर्व में हो गई थी।

आज का करिअर फंडा है कि एलेक्जेंडर की तरह इंटेलिजेंस, साइंटिफिक अप्रोच, लॉजिकल थिंकिंग, दृढ़ता, विजन के बल पर उम्र से कहीं आगे बढ़कर सफलता हासिल की जा सकती है।

कर के दिखाएंगे!

इस कॉलम पर अपनी राय देने के लिए यहां क्लिक करें।

करिअर फंडा कॉलम आपको लगातार सफलता के मंत्र बताता है। जीवन में आगे रहने के लिए सबसे जरूरी टिप्स जानने हों तो ये करिअर फंडा भी जरूर पढ़ें...

1) मूवी ‘द ग्रेट एस्केप’ से जीवन के 4 सबक:सबसे मुश्किल हालात में भी लड़ने की इच्छा ही सफलता दिलाएगी

2) 7 अंग्रेजी शब्दों की कहानी से मजबूत कीजिए इंग्लिश:सैंडविच है इंग्लैंड का टाउन...अंग्रेजी में शैम्पू शब्द हिंदी से आया था

3) GK और GS की तैयारी के लिए 5 पावर कॉन्सेप्ट्स:इन्हें समझिए और हर कॉम्पीटिशन के लिए हो जाइए तैयार

4) खत्म होने वाले हैं ये 5 प्रोफेशन्स:सावधान रहिए, अपने स्किल्स को अपग्रेड कर पाएं जॉब सिक्योरिटी

5) कम्फर्ट जोन से बाहर निकलने के 5 पावर टिप्स:जानिए, कम्फर्ट जोन तोड़ने में डर क्यों लगता है…डर का इलाज निकालिए

6) बच्चों का स्क्रीन टाइम कम करने के 5 टिप्स:मोबाइल बैन न करें...स्क्रीन टाइम या फैमिली लिंक जैसे ऐप्स से कंट्रोल करें

7) दादाभाई नौरोजी…130 साल पहले बने थे ब्रिटिश सांसद:गांधी से भी पहले भारत की उम्मीद बने दादाभाई के जीवन से 5 सबक