बिन लादेन के दान पर ब्रिटेन में बवाल:ओसामा फैमिली MYSTERY...कुली से किंग का नजदीकी बना पिता, मक्का पर हमले से जुड़ा था भाई

16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

ओसामा बिन लादेन को अमेरिकी नेवी सील्स की टीम ने 2 मई 2011 को मार दिया था, मगर आज 11 साल बाद भी दुनिया इस नाम को भूली नहीं है। ब्रिटिश राजगद्दी के वारिस प्रिंस चार्ल्स अब इस नाम से जुड़ने की वजह से विवादों में घिर गए हैं। 2013 में प्रिंस चार्ल्स की एक संस्था ने बिन लादेन ग्रुप से 1 मिलियन पाउंड (करीब 10 करोड़ रु.) चंदे में लिए थे। आज इस खुलासे पर वह आलोचना का शिकार हो रहे हैं। दुनिया भले ही बिन लादेन नाम को सिर्फ ओसामा से जोड़ती है, मगर यह नाम सऊदी अरब के सबसे बड़े बिजनेस घरानों में से एक है।

इस परिवार ने खुले तौर पर 1994 में ही ओसामा से सारे संबंध तोड़ने की घोषणा भी कर दी थी, लेकिन आज भी बिन लादेन घराने का नाम ओसामा से उबर नहीं पाया है। हालांकि सिर्फ ओसामा ही इस सऊदी बिजनेस घराने पर संदेह की अकेली वजह नहीं है।

ग्रुप की स्थापना करने वाले ओसामा के पिता मोहम्मद बिन अवाद बिन लादेन से लेकर परिवार के मौजूदा मुखिया बक्र बिन लादेन तक विवादों और रहस्य का गहरा नाता रहा है। 90 के दशक में फ्रांसीसी खुफिया एजेंसी ने इस ग्रुप पर एक कॉन्फिडेंशियल रिपोर्ट बनाई थी। अमेरिका में 9/11 के हमले से भी पहले बनी इस रिपोर्ट में भी रहस्य की परतों में लिपटे इस परिवार के राजनीतिक रिश्तों और कारोबारी विस्तार पर संदेह जताया गया था।

फ्रेंच इंटेलिजेंस की रिपोर्ट ने खोले बिन लादेन परिवार के कई राज

सऊदी अरब में धार्मिक निर्माण के ठेके सिर्फ बिन लादेन ग्रुप को ही मिलते हैं।
सऊदी अरब में धार्मिक निर्माण के ठेके सिर्फ बिन लादेन ग्रुप को ही मिलते हैं।
तस्वीर में लाल घेरे में 14 साल का ओसामा बिन लादेन है। अपने 21 भाई-बहनों के साथ छुटि्टयां मनाने के दौरान उसकी यह तस्वीर ली गई थी।
तस्वीर में लाल घेरे में 14 साल का ओसामा बिन लादेन है। अपने 21 भाई-बहनों के साथ छुटि्टयां मनाने के दौरान उसकी यह तस्वीर ली गई थी।
सलेम की अगुआई में बिन लादेन ग्रुप पूरे मिडिल ईस्ट, यूरोप और अमेरिका तक पहुंचा।
सलेम की अगुआई में बिन लादेन ग्रुप पूरे मिडिल ईस्ट, यूरोप और अमेरिका तक पहुंचा।
मक्का मस्जिद में घुसे अतिवादियों को निकालने में सऊदी फौज को दो हफ्ते लगे थे।
मक्का मस्जिद में घुसे अतिवादियों को निकालने में सऊदी फौज को दो हफ्ते लगे थे।
आज भी यह स्पष्ट नहीं है कि बिन लादेन परिवार ओसामा के प्रति क्या रुख रखता है।
आज भी यह स्पष्ट नहीं है कि बिन लादेन परिवार ओसामा के प्रति क्या रुख रखता है।
सलेम बिन लादेन अमेरिका और मिडिल ईस्ट में सत्ता का करीबी बन गया था।
सलेम बिन लादेन अमेरिका और मिडिल ईस्ट में सत्ता का करीबी बन गया था।
बक्र बिन लादेन ने ही प्रिंस चार्ल्स के फाउंडेशन को दान दिया था, जिस पर विवाद छिड़ा है।
बक्र बिन लादेन ने ही प्रिंस चार्ल्स के फाउंडेशन को दान दिया था, जिस पर विवाद छिड़ा है।
अमेरिकी जनता आज भी यह मानती है कि 9/11 के हमले को सऊदी सरकार का परोक्ष समर्थन मिला हुआ था।
अमेरिकी जनता आज भी यह मानती है कि 9/11 के हमले को सऊदी सरकार का परोक्ष समर्थन मिला हुआ था।
खबरें और भी हैं...